PIB Headquarters

पीआईबी का कोविड-19 पर दैनिक बुलेटिन

Posted On: 13 JAN 2021 5:30PM by PIB Delhi

Coat of arms of India PNG images free download

 

  • भारत में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्‍या घटकर आज 2,14,507 हुई
  • पिछले 24 घंटे में 15,968 नए मामले सामने आये, जबकि इसी दौरान स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या 17,817 रही
  • भारत में कोविड-19 के टीके की शुरुआत, केंद्र ने कोविड-19 टीकाकरण की शुरुआत की तैयारियों के क्रम में राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों को को-विन प्रबंधन के लिए दिशा-निर्देश दिए
  • प्रधानमंत्री ने कोविड-19 के टीकाकरण पर मुख्‍यमंत्रियों के साथ बैठक की अध्‍यक्षता की
  • देश में कोविड-19 टीकाकरण अभियान 16 जनवरी, 2021 से शुरू होगा

 

#Unite2FightCorona

#IndiaFightsCorona

 

Image

भारत में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्‍या में निरंतर गिरावट जारी, 197 दिनों के बाद मरीजों की संख्‍या 2.14 लाख हुई, पिछले 24 घंटों में 15,968 दैनिक नए मामले दर्ज किए गए

 

भारत ने कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्‍या घटकर आज 2.14 लाख (2,14,507) हो गई है। अब तक के कुल संक्रमित मामलों की तुलना में फिलहाल संक्रमित मरीजों की संख्‍या घटकर 2.04 प्रतिशत हो गई है, जो 197 दिनों के बाद सबसे कम है। 30 जून, 2020 को कुल संक्रमित मरीजों की संख्‍या 2,15,125 थी। पिछले 24 घंटे में कोरोना के कुल संक्रमित मरीजों की संख्‍या में 2,051 मामले कम हुए हैं। भारत में प्रतिदिन कोरोना के मामलों में निरंतर गिरावट दर्ज की जा रही है। पिछले 24 घंटे में 16,000 से भी कम (15,968) नए मामले जुड़े। दूसरी ओर, पिछले 24 घंटे में, 17,817 मरीज स्‍वस्‍थ हुए। अधिक संख्‍या में नए मरीजों के स्‍वस्‍थ होने से संक्रमित मरीजों की संख्‍या में निरंतर गिरावट सुनिश्चित हुई है। कोरोना से स्‍वस्‍थ होने वाले लोगों की कुल संख्‍या 10,129,111 हुई, जो संक्रमण से मुक्‍त होने की 96.51 प्रतिशत दर का सूचक है। कोरोना से स्‍वस्‍थ होने वाले लोगों तथा फिलहाल संक्रमित मरीजों की संख्‍या के बीच अंतर लगातार बढ़ रहा है, जो 99,14,604 है। 10 राज्‍यों/केन्‍द्र शासित प्रदेशों में कोरोना से स्‍वस्‍थ होने वाले नए मरीजों की संख्‍या का 81.83 प्रतिशत हिस्‍सा पाया गया है। केरल में एक दिन में अधिकतम 4,270 मरीज स्‍वस्‍थ हुए हैं। इसके बाद महाराष्ट्र में 3,282 नए मरीज स्‍वस्‍थ हुए, जबकि छत्तीसगढ़ में एक दिन में 1,207 मरीज स्‍वस्‍थ हुए। 7 राज्‍यों और केन्‍द्र शासित प्रदेशों में कोरोना के 74.82 प्रतिशत नए मामले पाए गए हैं। पिछले 24 घंटे में केरल में प्रतिदिन अधिकतम 5,507 नए मामले दर्ज किए गए। इसके बाद महाराष्‍ट्र में 2,936 नए मामले पाए गए, जबकि कर्नाटक में कल 751 नए मामलों की पुष्टि हुई। पिछले 24 घंटे में कोरोना से होने वाली कुल 202 मौतों के 70.30 प्रतिशत मामले 7 राज्‍यों/केन्‍द्र शासित प्रदेशों में पाए गए हैं। महाराष्‍ट्र में 50 मरीजों की मृत्‍यु हुई। इसके बाद 25 तथा 18 नई मौतों के साथ क्रमश: केरल और पश्चिम बंगाल का स्‍थान है। ब्रिटेन में पाए गए नए प्रकार के जीनोम से संक्रमित लोगों की कुल संख्या आज 102 हो गई हैं। कोविड-19 टीकाकरण अभियान 16 जनवरी, 2021 से शुरू होने वाला है। कोविड-19 टीकाकरण में स्वास्थ्य सेवा से जुड़े कर्मियों तथा अग्रणी कार्यकर्ताओं को प्राथमिकता दी जाएगी, जिनकी संख्‍या लगभग तीन करोड़ है, इसके बाद 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को तथा मरीजों के सम्‍पर्क में आए 50 वर्ष से कम उम्र के लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी, जो लगभग 27 करोड़ हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें :-

https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1688208

 

कोविड-19 के टीके की शुरुआत, भारत में कोविड-19 टीकाकरण की शुरुआत की तैयारियों के क्रम में केंद्र ने राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों को को-विन प्रबंधन के लिए दिशा-निर्देश दिए

केंद्र, राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों और सभी हितधारकों के साथ मिलकर कोविड-19 टीकाकरण के राष्ट्रव्यापी शुभारंभ की तैयारी की दिशा में गतिविधियों को निरंतर सक्रिय रूप से अंजाम दे रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने रविवार को टीकाकरण के मुख् आधार को-विन सॉफ्टवेयर पर चर्चा के लिए राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के प्रशासकों के साथ एक वीडियो कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया  बैठक की अध्यक्षता कोविड-19 से मुकाबला करने के लिए प्रौद्योगिकी और डेटा प्रबंधन पर गठित अधिकार प्राप् समूह के अध्यक्ष और कोविड-19 के टीकाकरण प्रशासन पर राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह के सदस्य श्री राम सेवक शर्मा ने की। बैठक में राज्य के प्रधान सचिवों, एनएचएम मिशन निदेशकों और राज्य टीकाकरण अधिकारियों एवं स्वास्थ्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया। बैठक के दौरान को-विन सॉफ्टवेयर पर राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों की प्रतिक्रिया और इसके परिचालन उपयोग पर विस्तार से चर्चा की गई। श्री आर.एस. शर्मा ने को-विन सॉफ्टवेयर की समग्र जानकारी देते हुए टीकाकरण अभ्यास के लिए प्रौद्योगिकी बैक-अप सिद्धांतों को भी रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि इस सक्षम, विश्‍वसनीय और त्‍वरित तकनीक से देश के कोविड-19 टीकाकरण के लिए आधार और बैक-अप दोनों तैयार होगा, जो दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण कार्यक्रम होगा।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें :-

https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1687454

 

कोविड-19 के टीके की शुरुआत, डॉ. हर्षवर्धन ने तैयारियों की समीक्षा करने और 8 जनवरी को बाधा मुक्‍त पूर्व परीक्षण में राज्यों/संघ शासित प्रदेशों के स्वास्थ्य मंत्रियों का सहयोग लेने के लिए उनसे बातचीत की

केन्‍द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने 8 जनवरी को निर्धारित कोविड टीकाकरण पर देशव्यापी मॉक ड्रिल की तैयारियों की समीक्षा करने के लिए वीरवार को राज्यों/संघ शासित प्रदेशों के स्वास्थ्य मंत्रियों और मुख्य सचिवों/अपर प्रधान सचिवों के साथ वीडियो कॉन्‍फ्रेंस के जरिये बातचीत की। उन्होंने स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रियों से आग्रह किया कि वे इसका नेतृत्व करने के लिए अपनी व्यक्तिगत दिलचस्‍पी लें। कोविड-19 टीकाकरण पर दूसरा राष्ट्रव्यापी मॉक ड्रिल 33 राज्यों/संघ शासित प्रदेशों के 736 जिलों में तीन सत्रों में आयोजित किया जाएगा। कोविड-19 टीकाकरण पर मॉक ड्रिल का उद्देश्य वास्तविक टीका लगाने के कार्य का अभ्यास करना है। लाभार्थी पंजीकरण, माइक्रोप्लानिंग और नियोजित सत्र स्थल पर टीकाकरण सहित टीकाकरण अभियान की पूरी योजना की जांच जिला कलेक्टर/जिला मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में की जाएगी। पूर्व परीक्षण (ड्राई रन) कोविड-19 टीके के शुभारंभ के सभी पहलुओं पर राज्य, जिला, ब्लॉक और अस्पताल स्तर के अधिकारियों को भी परिचित कराएगा। इस कार्य से प्रशासकों को नियोजन, कार्यान्वयन और रिपोर्टिंग तंत्र के बीच संबंधों को मजबूत करने, वास्तविक कार्यान्वयन से पहले बची हुई चुनौतियों की पहचान करने और टीकाकरण अभियान के सुचारू क्रियान्वयन के लिए सभी स्तरों पर कार्यक्रम प्रबंधकों को विश्वास प्रदान करने में मदद मिलेगी।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें :-

https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1686988

 

देशव्यापी अभ्यास के तहत 08 जनवरी को सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों में कोविड-19 टीकाकरण शुरू करने की तैयारियों को लेकर एक और मॉक ड्रिल का होगा आयोजन

केन्द्र सरकार ने देशभर के लोगों तक कोविड-19का टीका पहुंचाने के लिए कमर कस ली है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय कोविड-19 वैक्सीन को लोगों तक पहुँचाने के लिए काफी सक्रियता से काम कर रहा है। मंत्रालय पिछले कई महीनों से लगातार देशभर के विभिन्न राज्यों, केन्द्र शासित प्रदेशों और विभिन्न हितधारकों के साथ मिलकर यह सुनिश्चित कर रहा है कि कोविड-19 टीकाकरण को शुरू करने की तैयारियाँ सही दिशा में आगे बढ़ें।

भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने हाल ही में दो कोविड टीकों को आपात स्थिति में उपयोग करने की अनुमति दी है। जल्द ही टीकाकरण शुरू होने की उम्मीद है। ऐसे में यह ज़रूरी है कि देशभर में टीकाकरण अभियान के संचालन से जुड़ी सभी सुनियोजित प्रणालियों का कम से कम एक बार परीक्षण अवश्य किया जाए। टीकाकरण की वास्तविक तैयारियों का परीक्षण करने के लिए देशभर के विभिन्न राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के 700 से अधिक ज़िलों (हरियाणा और उत्तर प्रदेश को छोड़कर, यहाँ या तो पहले ही ड्राई रन संचालित किया जा चुका है, या फिर क्रमशः 5 और 7 जनवरी को आयोजित किया जाएगा) में 8 जनवरी को दूसरे चरण का ड्राई रन (मॉक ड्रिल) चलाया जाएगा। इसका उद्देश्य राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के सभी ज़िलों में वैक्सीन आपूर्ति के लिए कुशल योजना और प्रबंधन को सुनिश्चित करना है। पिछले ड्राई रन की तरह इस बार भी प्रत्येक ज़िले में तीन स्तरों पर टीकाकरण स्थान निर्धारित किए जाएंगे। इनमें सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाएं (ज़िला अस्पताल/मेडिकल कॉलेज), निजी स्वास्थ्य सेवाएं और ग्रामीण अथवा शहरी पहुँच वाले स्थान शामिल हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें :-

https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1686740

 

प्रधानमंत्री ने कोविड-19 के टीकाकरण पर मुख्‍यमंत्रियों के साथ बैठक की अध्‍यक्षता की

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 11 जनवरी, 2021 को कोविड-19 के टीकाकरण की स्थिति और तैयारियों की समीक्षा के लिए सभी राज्यों और संघ शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों और प्रशासकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से एक उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। उन्होंने केन्‍द्र और राज्यों के बीच निरंतर समन्वय और संवादतथा समय पर निर्णय लेने की सराहना की, जिसने वायरस के खिलाफ लड़ाई में एक बड़ी भूमिका निभाई है। नतीजतन, अनेक अन्य देशों की तुलना में वायरस को फैलने से रोका जा सका है। प्रधानमंत्री ने कहा कि महामारी की शुरुआत में नागरिकों को जो भय और आशंका थी, वह अब समाप्त हो गई है, और बढ़ते आत्मविश्वास की झलक सकारात्मक रूप से आर्थिक गतिविधियों पर भी दिखाई देने लगी है। उन्होंने इस लड़ाई में उत्साह से काम करने के लिए राज्य सरकारों की भी सराहना की। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश 16 जनवरी से दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान की शुरुआत के साथ, इस लड़ाई के निर्णायक चरण में है। उन्होंने जोर देकर कहा कि यह गर्व की बात है कि दोनों टीके, जिनके आपातकालीन उपयोग का अधिकार दिया गया है, भारत में बनाए गए हैं। उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि दोनों स्वीकृत टीके दुनिया भर के अन्य टीकों की तुलना में अत्यधिक सस्‍ते हैं। उन्‍होंने कहा कि भारत को बड़ी कठिनाई का सामना करना पड़ता यदि वह विदेशी टीकों पर निर्भर रहता। मुख्यमंत्रियों ने टीकाकरण की शुरुआत पर खुशी जाहिर की। उन्होंने टीकों के बारे में कुछ मुद्दों और चिंताओं पर चर्चा की, जिन्हें बैठक में स्पष्ट किया गया।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें :-

https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1687732

कोविड-19 स्थिति और टीकाकरण रोलआउट पर मुख्‍यमंत्रियों के साथ बैठक में प्रधानमंत्री के सम्‍बोधन का मूल पाठ

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें :-

https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1687710

प्रधानमंत्री ने कोविड-19 की स्थिति और कोविड-19 टीकाकरण के लिए तैयारियों की समीक्षा की

प्रधानमंत्री ने कोविड टीकाकरण के लिए राज्य/केंद्र शासित प्रदेशों की तैयारियों के साथ देश में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा करने के लिए आज एक उच्च-स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में, कैबिनेट सचिव, प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव, स्वास्थ्य सचिव और अन्य संबंधित वरिष्ठ अधिकारियों ने हिस्सा लिया। प्रधानमंत्री ने विभिन्न मुद्दों को कवर करते हुए कोविड प्रबंधन की स्थिति की विस्तृत और व्यापक समीक्षा की। राष्ट्रीय नियामक द्वारा दो टीकों (कोविशील्ड और कोवैक्सीन) के लिए आपात उपयोग की अनुमति या त्वरित अनुमोदन प्रदान किया गया है, जो कि रोग से बचाव और प्रतिरोधक क्षमता को मजूबती देगा। माननीय प्रधानमंत्री को निकट भविष्य में टीकाकरण आरम्भ करने के लिए राज्य और केन्द्र शासित प्रदेशों की सरकारों के साथ मिलकर केंद्र की तैयारी की स्थिति के बारे में भी अवगत कराया गया। टीकाकरण अभियान जनभागीदारी; चुनावों (मतदान केन्द्र रणनीति) और सार्वभौमिक प्रतिरक्षण कार्यक्रम (यूआईपी) के अनुभव के उपयोग; वर्तमान स्वास्थ्य सेवाओं, विशेष रूप से राष्ट्रीय कार्यक्रमों और प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं के साथ बिना किसी समझौते; वैज्ञानिक और नियामकीय मानदंडों, अन्य एसओपी पर बिना कोई समझौता किए; तथा प्रौद्योगिकी द्वारा संचालित एक व्यवस्थित और सुचारु कार्यान्वयन के सिद्धांतों पर आधारित है। कोविड-19 टीकाकरण के अभियान में लगभग 3 करोड़ स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों, जिसके बाद 50 वर्ष से अधिक आयु के लोगों तथा सह-रुग्णता वाले 50 वर्ष से कम आयु के जनसंख्या समूहों, जिनकी संख्या लगभग 27 करोड़ है, को प्राथमिकता दी जाएगी।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें :-

https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1687336

भारत-जर्मनी के नेताओं के बीच वीडियो-टेलीकॉन्फ्रेंसिंग

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को अपनी जर्मनी की समकक्ष संघीय चांसलर डॉ. एंजेला मर्केल के साथ एक वीडियो-टेलीकॉन्फ्रेंसिंग की। प्रधानमंत्री ने यूरोपीय और वैश्विक मंच पर स्थिर एवं मजबूत नेतृत्व प्रदान करने में चांसलर मर्केल द्वारा लंबे समय से निभाई जा रही भूमिका की सराहना की। साथ ही भारत-जर्मनी रणनीतिक साझेदारी के विकास में मार्गदर्शन करने के लिए उन्हें धन्यवाद दिया। दोनों नेताओं ने कोविड-19 महामारी पर प्रतिक्रिया, द्विपक्षीय संबंधों, क्षेत्रीय एवं वैश्विक मुद्दों, विशेष रूप से भारत-यूरोपीय संघ संबंधों सहित पारस्परिक महत्व के अहम मुद्दों पर चर्चा की। प्रधानमंत्री ने भारत में वैक्सीन (टीके) विकसित करने के संबंध में चांसलर मर्केल को जानकारी दी और वैश्विक लाभ के लिए अपनी क्षमताओं को लगाने की भारत की प्रतिबद्धता का चांसलर मर्केल को आश्वासन दिया। उन्होंने जर्मनी और अन्य यूरोपीय देशों में संक्रमण की नई लहर की शुरुआती रोकथाम के लिए अपनी शुभकामनाएं दीं। प्रधानमंत्री ने अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) में शामिल होने के जर्मनी के फैसले का स्वागत किया और जर्मनी के साथ आपदा रोधी बुनियादी ढांचे के लिए गठबंधन (सीडीआरआई) के मंच के तहत सहयोग को मजबूत करने की इच्छा व्यक्त की।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें :-

https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1686725

शिक्षा मंत्रालय ने प्रवासी बच्चों की पहचान, नामांकन व उनकी शिक्षा जारी रखने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए

स्कूली शिक्षा के दायरे से बाहर हो चुके बच्चों के सामने कोविड-19 महामारी की वजह से आ रही चुनौतियों के प्रभाव को कम करने के लिए प्रत्येक राज्य/केन्द्र शासित प्रदेशों के लिए यह आवश्यक समझा गया कि वे हाल के वर्षों में स्कूल छोड़ने की दर (ड्रॉप आउट) में वृद्धि, निम्न नामांकन, सीखने में कमी तथा व्यापक पहुंच, गुणवत्ता और समानता उपलब्ध कराने में हुई कमी को रोकने के लिए एक उचित कार्यनीति तैयार करें।  इसलिए, शिक्षा मंत्रालय ने प्रवासी बच्चों की पहचान, नामांकन और उनकी शिक्षा जारी रखने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए थे। यह सुनिश्चित करने के लिए कि स्कूल जाने वाले बच्चों को गुणवत्तापूर्ण और समान शिक्षा की सुविधा प्राप्त हो और देश भर में स्कूली शिक्षा पर महामारी के प्रभाव को कम किया जा सके, शिक्षा मंत्रालय ने स्कूल की बंदी के दौरान और स्कूल के फिर से खुलने पर राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा उठाए जाने वाले कदमों के बारे में विस्तृत दिशा-निर्देश तैयार किए और जारी किए हैं। इन दिशा-निर्देशों की मुख्य विशेषताएं इस प्रकार हैं: स्कूली शिक्षा के दायरे से बाहर हुए बच्चों (ओओएससी) तथा विशिष्ट आवश्यकताओं वाले बच्चे (सीडब्ल्यूएसएन) के लिए शिक्षा जारी रखने, स्कूल से बाहर हुए बच्चों को चिन्हित करना, नामांकन और जागरूकता अभियान, छात्रों की सहायता जब स्कूल बंद हों, विद्यालयों के फिर से खुलने पर छात्र सहायता, शिक्षक क्षमता निर्माण।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें :-

https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1687523

 

केन्द्रीय मंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह ने कहा, कोरोना भारत को वापस इसके मूल लोकाचार पर ले आया

केन्द्रीय पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास (डोनर) राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक, लोक शिकायत, पेंशन, परमाणु ऊर्जा एंव अंतरिक्ष राज्य मंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह ने आज कहा कि कोरोना ने हमें वापस हमारे मूल भारतीय लोकाचार और अभ्यासों की ओर लौटने में सक्षम बनाया है और नमस्ते नये उत्साह के साथ प्रचलन में आ गया है। उन्होंने कहा, कोविड ने हमें एक राष्ट्रीय प्राथमिकता के रूप में स्वास्थ्य के महत्व के प्रति जागरूक बनाया है और विश्व को भी सोशल डिस्टेंसिंग, सफाई, स्वच्छता, योग, आयुर्वेद एवं पारम्परिक औषधि आदि के गुणों के बारे में अवगत करा दिया। अब वे पहले की तुलना में और अधिक इस पर विश्वास करने लगे हैं और योग, आयुर्वेद इत्यादि के प्रति फिर से दिलचस्पी उत्पन्न हो गई है, जो हमेशा से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के लिए महत्व का क्षेत्र रहा है। वह भारतीय लोक प्रशासन संस्थान (आईआईपीए) में ‘कल्याण के लिए आंतरिक अभियांत्रिकी-प्रौद्योगिकियां’ पर सद्गुरु के साथ एक सत्र को संबोधित कर रहे थे।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें :-

https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1687310

 

 

सीबीआईसी ने एमएसएमई के लिए लिबरलाइज्ड ऑथराइज्ड इकोनॉमिक ऑपरेटर पैकेज लागू किया

कोविड-19 महामारी जैसे कठिन समय में सूक्ष्म, लघु तथा मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) द्वारा अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान को मानते हुए केंद्रीय प्रत्यक्ष कर तथा सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) ने सूक्ष्म, लघु तथा मध्यम उद्योगों के लिए एमएसएमई एईओ पैकेज लागू किया है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें :-

https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1686895

 

स्वास्थ्य मंत्रालय ने केरल तथा हरियाणा के एविएन इंफ्लूएंजा प्रभावित जिलों में बहुविषयी टीमों की तैनाती की

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने एविएन इंफ्लूएंजा प्रभावित केरल के अलपुझा तथा कोट्टयम जिले तथा हरियाणा के पंचकूला जिला में बहुविषयी टीमों की तैनाती की है। पशुपालन विभाग ने 4 जनवरी 2021 में केरल के अलपुझा तथा कोट्टयम जिलों में मरी हुई बतखों के नमूनों में एविएन इंफ्लूंजा (एच5 एन8) पाये जाने की अधिसूचना जारी की। हरियाणा के पंचकूला जिले में पॉलट्री नमूमों से एविएन इंफ्लूएंजा की रिपोर्ट भी मिली है। 4 जनवरी 2021 को स्वास्थ्य मंत्रालय ने एविएन इंफ्लूएंजा नियंत्रण योजना में राज्य के स्वास्थ्य विभाग को मदद देने के लिए दो बहुविषयी टीमों को प्रभावित जिलों में तैनात किया। इन दोनों टीमों में राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वाइरोलॉजी, पीजीआईएमईआर चंडीगढ़, डॉ. राममनोहर लोहिया अस्पताल नई दिल्ली तथा लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज नई दिल्ली के विशेषज्ञ हैं। 6 जनवरी 2021 को एनसीडीसी के निदेशक तथा कोविड-19 नोडल अधिकारी, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग की उच्चस्तरीय टीम केरल में एविएन इंफ्लूएंजा नियंत्रण कार्य की देखरेख करने तथा इस बीमारी से निपटने में राज्य स्वास्थ्य विभागों को निर्देश देने के लिए की गई है। इसके अतिरिक्त यह उच्चस्तरीय टीम राज्य में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा भी करेगी।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें :-

https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1686614

 

पीआईबी के स्थानीय कार्यालयों से प्राप्त जानकारी

  • अरुणाचल प्रदेश : अरुणाचल प्रदेश में मंगलवार को 5 नए कोविड -19 मामलों का पता चला। राज्य में कुल 61 सक्रिय मामले हैं।
  • असम : असम में, कोविड के 55 नए मामलों के साथ राज्य में कुल मामलों की संख्या बढ़ कर  2,16,690 हो गई है। 2,12,632 मरीज ठीक हुए हैं और 1,064 मौतें दर्ज की गई है।
  • नागालैंड : राज्य में मंगलवार को कोविड - 19 के 10  नए मामलों का पता चला। नागालैंड में कुल मामले बढ़कर 11,997 हो गए है।
  • सिक्किम : सिक्किम में, मंगलवार को 7 नए मामले आने के साथ राज्य में कोविड -19 के मामलों की संख्या बढ़ कर 5,996 हो गई है, राज्य में कुल डिस्चार्ज किए गए मरीज 5,459, हैं और सक्रिय मामले 313 है जबकि कोविड - 19 से होने वाली मौतों की कुल संख्या 129 हुईं।
  • केरल : केरल में टीकाकरण के पहले चरण के लिए, कोविड टीके ले जाने वाली पहली उड़ान आज सुबह कोचीन अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुँची। केरल कोरोनावायरस के कारण होने वाली बीमारी की रिपोर्ट करने वाला देश का पहला राज्य था। केरल को पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा निर्मित कोविशिल्ड वैक्सीन की 4,33,500 खुराकें मिलेंगी। पुणे से पहली उड़ान के द्वारा एर्नाकुलम और कोझीकोड जिलों के लिए वैक्सीन की खुराक भेजी गई है। तिरुवनंतपुरम के लिए टीका आज पहुँच जाएगा। इन टीकों को तीनों जिलों में क्षेत्रीय वैक्सीन स्टोर में संग्रहित किया जाएगा। तिरुवनंतपुरम को वैक्सीन की 1,34,000 खुराकें मिलेंगी, एर्नाकुलम और कोझिकोड को क्रमशः 1,80,000 और 1,19,500 खुराकें मिलेंगी। टीकाकरण के लिए अब तक 3,62,870 लोगों ने अपना पंजीकरण कराया है, जो 16 जनवरी से शुरू होगा। राज्य भर में कुल 133 केंद्र बनाए गए हैं। प्रत्येक केंद्रों में एक दिन में 100 खुराक दी जाएगी। राज्य की स्वास्थ्य मंत्री के.के. शैलजा ने कहा है कि वैक्सीन की उपलब्धता के आधार पर, शॉट्स और केंद्रों की संख्या बढ़ाई जाएगी।
  • तमिलनाडु : राज्य में आज तक कुल 8,27,614, मामले सामने आये है, राज्य में कोविड से होने वाली मौतों की संख्या 12,236 है, सक्रिय मामले 6,807 है और 8,08,571 मामले ठीक हुए हैं।
  • कर्नाटक : कर्नाटक में आज तक कुल 9,28,806 मामले दर्ज किये गए है, राज्य में कोविड से 12,149 मौतें हुई है, जबकि 8,909 सक्रिय मामले है और 9,07,729 लोग स्वस्थ हुए है।
  • आंध्र प्रदेश : आंध्र प्रदेश ने मंगलवार को कोरोनावायरस वैक्सीन की पहली खेप प्राप्त की।  भारत में आपातकालीन उपयोग के लिए स्वीकृत दो टीकों में से एक  कोविशिल्ड को पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा पहले बैचों में भेजा गया है। इस शनिवार से शुरू होने वाले सबसे बड़े टीकाकरण अभियान के लिए लगभग 4.77 लाख खुराकें प्राप्त हुईं। टीके की शीशियों को उच्च सुरक्षा के तहत गन्नवरम सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के कोल्ड स्टोरेज केंद्र में ले जाया गया। पहले चरण के लिए राज्य में कुल 4,97,000 शीशियों को मंजूरी दी गई है। पहले चरण में 332 स्थानों पर समेकित बाल विकास सेवा कर्मचारियों सहित 3.8 लाख स्वास्थ्य कर्मचारियों-को टीका लगाना निर्धारित किया गया है। बाद में, राज्य और केंद्र सरकार के कर्मचारियों, सशस्त्र बलों के कर्मियों, होमगार्ड, जेल कर्मचारियों, आपदा प्रबंधन स्वयंसेवकों, नागरिक सुरक्षा कर्मचारियों, नगरपालिका कर्मचारियों और राजस्व कर्मचारियों जैसे नौ लाख फ्रंटलाइन श्रमिकों के लिए इस प्रक्रिया का पालन किया जाएगा। फिर, 50 वर्ष से अधिक आयु के 90 लाख लोगों को टीका लगाया जाएगा। ग्राम स्वयंसेवकों को निर्देश दिया गया है कि वे सह-रुग्णता वाले व्यक्तियों का एक डेटाबेस तैयार करने के लिए घर-घर जा कर सर्वेक्षण करें। राज्य में एक राज्य स्तरीय और चार क्षेत्रीय शीत भंडारण केंद्र (कुरनूल, कडप्पा, गुंटूर और विशाखापत्तनम में एक), 13 जिला टीका भंडारण इकाइयाँ और 1,659 कोल्ड चेन पॉइंट हैं। इस बीच, आंध्र प्रदेश में कोविड -19 मामलों की संख्या मंगलवार को 8,85,234 हो गई। ठीक होने वालों की संख्या 8,75,690 और 7,133 लोगों की मौत हुई है। राज्य में 2,411 सक्रिय मामले हैं। कुल 1.23 करोड़ सैंपल परीक्षणों के बाद राज्य में समग्र पॉजिटिव दर घटकर 7.14 प्रतिशत पर आ गई।
  • तेलंगाना : इस महीने की 16 तारीख से शुरू होने वाले कोविड टीकाकरण कार्यक्रम के उचित कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए तेलंगाना में सभी व्यवस्थाएं की गई हैं। मुख्यमंत्री श्री के.चंद्रशेखर राव ने इस महीने की 11 तारीख को सभी राज्यों के सीएम के साथ आयोजित पीएम के वीडियो सम्मेलन में भाग लिया और उसी दिन सभी मंत्रियों और जिला कलेक्टरों के साथ समीक्षा बैठक की और जमीनी हालात का जायजा लिया। कोविशील्ड वैक्सीन की कुल 3.64 लाख खुराकें मंगलवार को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, पुणे से हैदराबाद पहुंची हैं और उन्हें गुरुवार शाम तक राज्य की 866 कोल्ड चेन इकाइयों में भेज दिया जाएगा। पहले दिन यानी इस महीने की 16 तारीख को - 139 चयनित केंद्रों में टीकाकरण शुरू होगा और पहले दिन इन केंद्रों पर 30 लोगों का टीकाकरण किया जाएगा और लाभार्थियों और केंद्रों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ाई जाएगी। रंगा रेड्डी जिले में दो टीकाकरण केंद्रों यानी गांधी अस्पताल, हैदराबाद और नरसिंगी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को 16 तारीख को स्लेटेड वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए स्वास्थ्य कर्मचारियों के साथ पीएम की बातचीत के लिए चुना गया है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने टीकाकरण के बाद प्रतिकूल घटनाओं के मामले में लोगों के इलाज के लिए 235 अस्पतालों (57 सरकारी और 178 निजी अस्पतालों) और 720 एम्बुलेंस में 1200 बेड तैयार रखे हैं। स्वास्थ्य मंत्री श्री ईतलराजेंद्र ने राज्य के सभी सरपंचों (ग्राम पंचायत अध्यक्षों) को पत्र लिखकर उनसे टीकाकरण कार्यक्रम में सक्रिय रूप से शामिल होने का आग्रह किया है और यह सुनिश्चित किया है कि पंजीकृत व्यक्ति टीकाकरण केंद्र पर अनुसूची के अनुसार पहुँचें ताकि टीकाकरण कार्यक्रम सुचारू रूप से चले। मुख्य सचिव ने मंगलवार को टीकाकरण कार्यक्रम के लिए की गई व्यवस्थाओं की समीक्षा के लिए सभी जिला कलेक्टरों के साथ एक बैठक की। राज्य में कोविड मामलों की कुल संख्या 2,90,640 और 1,571 लोगों की मौत हुई है। ठीक होने वालों की संख्या 2,84,611 तक पहुंच गई है। जबकि राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या 4,458 है, जिनमें से 2,461 घर में आइसोलेट हैं।
  • महाराष्ट्र : राज्य में कोविशिल्ड वैक्सीन की 9.63 लाख खुराक प्राप्त हुई है। कोविशिल्ड वैक्सीन की पहली खेप आज मुंबई पहुंची। सभी में कुल 1,39,500 खुराकें प्राप्त हुईं। वैक्सीन की खेप परेल स्थित एफ / साउथ वार्ड ऑफिस में स्टोरेज सुविधा पर संग्रहीत की जा रही है और इसे 16 जनवरी को निर्धारित राष्ट्रीय टीकाकरण अभियान के लिए निर्धारित टीकाकरण केंद्रों पर मुंबई में वितरित किया जाएगा। स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा है कि अभियान शुरू करने की तैयारीयां जोरों पर है और अभियान के लिए सभी इंतजाम किए गए हैं। उन्होंने कहा कि कोविन पोर्टल पर सात लाख 84 हजार से अधिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता पंजीकृत हैं और खुराक उन श्रमिकों को दी जाएगी जिन्हें पिछले आधी रात तक पंजीकृत किया गया है। अगले तीन महीनों में 511 केंद्रों पर टीकाकरण किया जाएगा। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य सचिव प्रदीप व्यास ने कहा है कि इनमें से प्रत्येक केंद्र पर कम से कम 100 लोगों का टीकाकरण किया जाएगा, जिन्हें राज्य भर में प्राथमिक स्वास्थ्य इकाइयों, जिला और नागरिक अस्पतालों में स्थापित किया गया है। मुंबई में 72 केंद्रों के बाद पुणे में सबसे अधिक 55 टीकाकरण केंद्र हैं जबकि ठाणे में 42, नासिक में 23 और अहमदपुर में 21 केंद्र हैं। महाराष्ट्र के 17,749 लोगों ने कोविन ऐप पर वैक्सीनेटर के रूप में पंजीकरण किया है। महाराष्ट्र में मंगलवार को कोरोनोवायरस के 2,936 नए मामले दर्ज किए गए, जो राज्य के कुल मामलों की संख्या 19,74,488 तक ले गए। राज्य के सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, एक ही दिन में 3,282 रोगियों को छुट्टी दी गई, राज्य में ठीक होने वालों की कुल संख्या 18,71,270 है। 50 लोगों की मौत के साथ, राज्य में मरने वालों की संख्या बढ़कर 50,151 हो गई है। राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या 51,892 है। महाराष्ट्र में ठीक होने वालों की दर 94.77 प्रतिशत है, जबकि मामलों की दर 2.54 प्रतिशत है। महाराष्ट्र में अब तक 1.35 करोड़ परीक्षण किए गए हैं और सकारात्मकता दर 14.63 प्रतिशत है। 473 नए मामलों के साथ, मुंबई में मामलों की संख्या 2,99,799 हो गयी है। शहर में दिन के दौरान 441 लोग ठीक हुए और सात लोगों की मौत हुईं।
  • गुजरात : गुजरात में, पुणे से मंगलवार सुबह अहमदाबाद हवाई अड्डे पर दो लाख 76 हजार खुराक के साथ टीके का पहला बैच पहुंचा। राज्य के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल के साथ स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने टीकों का पहला बैच प्राप्त किया। पुणे संस्थान से प्राप्त वैक्सीन के पहले बैच को गांधीनगर में क्षेत्रीय भंडारण केंद्र में संरक्षित किया गया है। गांधीनगर के अलावा, अहमदाबाद, वडोदरा, राजकोट, सूरत और भावनगर में भी इसी तरह के क्षेत्रीय भंडारण केंद्र स्थापित किए गए हैं। प्रत्येक क्षेत्रीय केंद्र में आठ से दस लाख वैक्सीन खुराक को संरक्षित और संग्रहीत करने की क्षमता है। शनिवार को राज्य भर में 256 बूथों पर पहले चरण का टीकाकरण शुरू होगा। स्वास्थ्य कर्मचारियों और फ्रंटलाइन कोरोना वारियर्स को पहले चरण के दौरान टीका लगाया जाएगा। इस बीच, गुजरात ने पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड - 19 के 602 नए मामले दर्ज किए हैं। राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, ठीक होने की दर में सुधार हुआ है और यह 95.34 प्रतिशत हो गया है। गुजरात में अब तक पाए गए कोविड - 19 मामलों की कुल संख्या 2 लाख 53 हजार 161 तक पहुंच गई है। इनमें से 2 लाख 41 हजार 372 मरीज ठीक हुए हैं। पिछले 24 घंटों के दौरान 855 मरीज ठीक हुए हैं। अहमदाबाद से अधिकतम 133 नए मामले सामने आए, जबकि सूरत में 121 नए मामले दर्ज किए गए है। वर्तमान में राज्य में कुल सक्रिय मामले 7439 हैं।
  • मध्य प्रदेश : मध्य प्रदेश 16 जनवरी से देश के बाकी हिस्सों के साथ कोविद टीकाकरण शुरू करने के लिए तैयार है। राज्य में आज वैक्सीन की 5.06 लाख खुराकें मिली हैं, जिन्हें राज्य स्तर पर 1,200 भंडारण प्रणालियों में रखा जाएगा। डॉ. संतोष शुक्ला, राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी, मध्य प्रदेश ने कहा कि यह वैक्सीन 8 जिलो में जाएगी। इस बीच राज्य ने मंगलवार को 471 कोरोना-पॉजिटिव मामलों की सूचना दी। कोविड टीकाकरण के पहले चरण में, सभी स्वास्थ्य कर्मचारियों के साथ 85 हजार निजी स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं सहित 4 लाख 16 हजार स्वास्थ्य कर्मचारियों का पंजीकरण किया गया है। पुलिस कर्मियों, सुरक्षा कर्मियों, होमगार्डों और स्वच्छता कर्मचारियों सहित फ्रंटलाइन श्रमिकों के कोविद टीकाकरण के लिए पंजीकरण का कार्य चल रहा है। पंजीकरण की अंतिम तिथि 25 जनवरी है। इस बीच कोविड सकारात्मक दर मंगलवार को 2 प्रतिशत से नीचे चली गयी है। कोविड की सकारात्मक दर 1.9 प्रतिशत थी। लगातार, राज्य में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या घट रही है। दो प्रमुख शहरों भोपाल और इंदौर ने मंगलवार को 100 कोविड मामलों की सूचना दी। इंदौर में 76 कोविड के मामले सामने आए, जबकि भोपाल में 97 कोविड पॉजिटिव मामले सामने आए।
  • छत्तीसगढ़ : छत्तीसगढ़ में मंगलवार को 729 पॉजिटिव मामलों की सूचना मिली, जिससे पॉजिटिव मामलों की संख्या 2,90,813 हो गई है। साथ ही 1039 मरीज संक्रमण से ठीक हुए, इससे ठीक होने वालों की संख्या 2,79,236 हो गई है।  मंगलवार को संक्रमण से 10 मौतें भी हुईं, वर्तमान में कुल सक्रिय मामले 8060 हैं। रायपुर में अधिकतम 121 मामलों की सूचना मिली, इसके बाद दुर्ग में 102 मामले सामने आए।
  • राजस्थान : राजस्थान को आज दोपहर तक 20,000 कोविड -19 खुराक की पहली खेप मिली। वैक्सीन को तीन बक्सों में पैक किया गया था जिसे जयपुर में राज्य स्तर के भंडारण केंद्र में ले जाया गया। राजस्थान में मंगलवार को 429 नए कोविड -19 मामले सामने आए, 568 मरीज ठीक हुए और 2 मौतें हुईं। वर्तमान में 6585 सक्रिय मामले हैं। अब कुल मामलों की संख्या 3,13,425 हो गई है, जबकि कुल ठीक होने वाले मामले 3,04,104 है। इसके अलावा, संक्रमण से 2736 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।
  • गोवा : गोवा में कोविड-19 वैक्सीन आज सुबह पहुंच गई है। 10 में प्रत्येक के साथ 2350 शीशियों वाले दो बाक्स, टीके के कुल 23,500 शॉट्स स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को सौंप दिए गए हैं। गोवा के सीएम प्रमोद सावंत ने कहा कि टीके अधिकारियों द्वारा उचित रूप से संग्रहीत किए जा रहे हैं, और टीकाकरण दिवस से 24 घंटे पहले सभी केंद्रों पर वितरित किए जाएंगे। गोवा में मंगलवार को 92 नए मामले सामने आए जिससे राज्य में कुल मामले 51,983 हो गए हैं। इसके अलावा, एक ही दिन में 94 मामले ठीक हुए और कोई मौत नहीं हुई। इसके साथ, ठीक होने वालों की संख्या 50,437 हो गई है, जबकि राज्य में ठीक होने की दर 97.03% है। राज्य में वर्तमान में 797 सक्रिय मामले हैं।

पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य

Image

Image

***********

एमजी/एएम/डीवी/डीए

 



(Release ID: 1688493) Visitor Counter : 484