PIB Headquarters

कोविड-19 पर पीआईबी का दैनिक बुलेटिन

Posted On: 17 JUL 2020 6:24PM by PIB Delhi

(पिछले 24 घंटे में जारी कोविड-19 से संबंधित प्रेस विज्ञप्तियां, पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां और पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य शामिल हैं)

अब देश भर में कोविड-19 के मरीजों की संख्या सिर्फ 3,42,756 है।

कोविड-19 से 6.35 लाख (63.33%) से अधिक मरीज ठीक हो चुके हैं।

देश में प्रति दस लाख की आबादी पर 18.6 मौतों के साथ मृत्यु दर भी दुनिया में सबसे कम मृत्यु दर में से एक है।

कोविड संक्रमण के बिना किसी लक्षण वाले और हल्के स्तर के संक्रमण के लगभग 80 प्रतिशत मामलों में चिकित्सकीय देख-रेख में घर में ही आइसोलेशन में रखने की सलाह दी गई है।

देश में मेडिकल ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता, विनिर्माण, आपूर्ति एवं भंडारण क्षमता है।

इस वर्ष खरीफ फसलों का बुवाई क्षेत्र पिछले वर्ष की तुलना में 21.2 प्रतिशत अधिक है।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय से कोविड-19 पर प्राप्त अपडेट; देश में कोविड-19 के मरीजों की संख्या सिर्फ 3.42 लाख है; इस बीमारी से 6.35 लाख मरीज़ ठीक हो चुके हैं और इनकी संख्या बढ़ रही है।

देश भर में कोविड-19 के मरीजों की वास्तविक संख्या आज की तारीख में केवल 3,42,756 है। इस बीमारी से संक्रमित कुल लोगों में से अब तक 6.35 लाख (63.33%) से अधिक लोग स्वस्थ हो चुके हैं। 1.35 अरब लोगों के साथ दुनिया के दूसरे सबसे अधिक आबादी वाले देश भारत में प्रति दस लाख की आबादी पर कोविड संक्रमण के 727.4 मामले हैं। वैश्विक स्तर पर भारत में प्रति दस लाख की जनसंख्या पर कोविड संक्रमण के मामले कुछ यूरोपीय देशों की तुलना में चौथाई से 8वें हिस्से तक कम है। देश में प्रति दस लाख की आबादी पर 18.6 मौतों के साथ मृत्यु दर भी दुनिया में सबसे कम मृत्यु दर में से एक है। प्रभावी नैदानिक प्रबंधन कार्यनीतियों ने सकारात्मक परिणाम दिए हैं। कोविड संक्रमण के बिना किसी लक्षण वाले और हल्के स्तर के संक्रमण के लगभग 80 प्रतिशत मामलों में चिकित्सकीय देख-रेख में घर में ही आइसोलेशन में रखने की सलाह दी गई है। मध्यम और गंभीर रोगियों का उपचार या तो समर्पित कोविड अस्पतालों या समर्पित कोविड स्वास्थ्य केंद्रों में किया जा रहा है। अस्पतालों में भर्ती मरीजों को गुणवत्तापूर्ण उपचार सुनिश्चित करने के लिए देश भर में चिकित्सा आधारभूत संरचना को लगातार बढ़ाया जा रहा है। ठोस प्रयासों के परिणामस्वरूप कोविड-19 के मरीजों के इलाज के लिए कोविड-19 अस्पताल अवसंरचना आज अधिक मजबूत है। आज देश  में 1383 समर्पित कोविड अस्पताल, 3107 समर्पित कोविड स्वास्थ्य देखभाल केंद्र और 10,382 कोविड देखभाल केंद्र हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

इस वर्ष खरीफ फसलों का बुवाई क्षेत्र पिछले वर्ष की तुलना में 21.2 प्रतिशत अधिक है

17 जुलाई 2020 तक, पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 570.86 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल के मुकाबले इस बार कुल खरीफ फसलों को 691.86 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में बोया गया। इस प्रकार पिछले वर्ष की तुलना में इस साल बुवाई क्षेत्र में 21.20 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई। आज की तारीख तक खरीफ फसलों की बुवाई के रकबे पर कोविड-19 का कोई प्रभाव नहीं पड़ा है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

देश में मेडिकल ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता, विनिर्माण, आपूर्ति एवं भंडारण क्षमता है

केन्द्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री श्री पीयूष गोयल ने आज कोविड-19 के बाद देश में मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति एवं भंडारण क्षमता में बढोतरी की समीक्षा की। अभी तक मेडिकल ऑक्सीजन के विनिर्माण, भंडारण, परिवहन तथा आपूर्ति में कोई बड़ी समस्या नहीं है। उल्लेख किया गया कि मेडिकल ऑक्सीजन का औसतन मासिक उपभोग अप्रैल 2020 में 902 एमटी/प्रति दिन था जो बढ़कर 15 जुलाई तक 1512 एमटी/प्रति दिन पहुंच गया था। वर्तमान में, 15 हजार एमटी से अधिक का पर्याप्त भंडार है। ऐसा देखा गया कि मेडिकल ऑक्सीजन के वर्तमान उत्पादन एवं आपूर्ति की समग्र स्थिति, इस महीने के आखिर तक की आवश्यकता के कुल अनुमान की तुलना में, सभी राज्यों में सुविधाजनक है। ऐसे राज्यों, मेट्रो शहरों एवं जिलों में जहां, सक्रिय मामले बड़ी संख्या में हैं, मेडिकल ऑक्सीजन की उपलब्धता और आपूर्ति पर्याप्त है। इसी प्रकार, सुदूर स्थानों पर मेडिकल ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए उपयुक्त व्यवस्थाएं की जा रही हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

कोविड-19 से मुकाबले के लिए एआरसीआई और वीहंत टेक्नोलॉजीज ने साथ मिलकर सामानों के कीटाणुशोधन के लिए यूवी सिस्टम विकसित किया

घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय यात्रा कोविड-19 संक्रमण के प्रसार का एक प्रमुख कारण है। यात्री-सामानों के माध्यम से संक्रमण के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए, भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के स्वायत्त आर एंड डी केंद्र, इंटरनेशनल एडवांस्ड रिसर्च सेंटर फॉर पाउडर मेटलर्जी एंड न्यू मटीरियल्स (एआरसीआई), हैदराबाद और वीहंत टेक्नोलॉजीज, नोएडा ने साथ मिलकर कृतिस्कैन यूवी कीटाणुशोधन प्रणाली को विकसित किया है। विकसित कॉम्पैक्ट यूवीसी कन्वेयर सिस्टम कुछ ही सेकेंड के भीतर कन्वेयर से गुजरने वाले सामान को कुशलता से कीटाणुरहित कर सकता है। सामानों के तेजी से कीटाणुशोधन के लिए यह प्रणाली हवाई अड्डों, रेलवे और बस स्टेशनों, होटलों, वाणिज्यिक और निजी प्रतिष्ठानों में उपयोग के लिए उपयुक्त है। यूवीसी आधारित कीटाणुशोधन प्रणाली तेजी से कीटाणुशोधन क्षमता के लिए जानी जाती है, और कीटाणुशोधन प्रक्रिया शुष्क और रसायन मुक्त होती है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

भारत के निर्वाचन आयोग द्वारा कोविड-19 के कारण संचालन, जनशक्ति, सुरक्षा प्रोटोकॉल की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए, निकट भविष्य में होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव और उपचुनावों में 65 वर्ष से ज्यादा उम्र के मतदाताओं को डाक मतपत्र की सुविधा नहीं प्रदान करने का निर्णय लिया गया

कोविड-19 महामारी और लॉकडाउन दिशा-निर्देशों को ध्यान में रखते हुए, निर्वाचन आयोग ने मतदान केंद्रों पर 65 वर्ष से ज्यादा उम्र के मतदाताओं की संवेदनशीलता और उपस्थिति को कम करने और कोविड-19 के सकारात्मक मतदाताओं और क्वारंटाइन के अंतर्गत आने वाले मतदाताओं के लिए वैकल्पिक डाक मतपत्र की सुविधाओं का विस्तार करने की सिफारिश की थी, जिससे वे अपने मताधिकार से वंचित न हो सकें। आयोग द्वारा इस अभूतपूर्व माहौल को ध्यान में रखते हुए बिहार में होने वाले विधानसभा के आम चुनाव और उपचुनावों की तैयारियों पर लगातार नजर रखी जा रही है। आयोग द्वारा पहले से ही मतदान को आसान बनाने के लिए प्रत्येक मतदान केंद्र पर मतदाताओं की संख्या को 1000 तक सीमित कर दिया गया है, विशेष रूप से कोविड-19 स्थिति के मद्देनजर बुजुर्गों और कमजोर वर्गों के मतदाताओं के लिए। इसको ध्यान में रखते हुए, राज्य द्वारा लगभग 34,000 अतिरिक्त मतदान केंद्रों (45% से ज्यादा) का निर्माण किया जा रहा है, जिससे मतदान केंद्रों की कुल संख्या बढ़कर लगभग 1,06,000 हो जाएगी। इससे बिहार राज्य में ज्यादा संख्या में वाहनों की आवश्यकता सहित 1.8 लाख ज्यादा मतदान कर्मियों और अन्य अतिरिक्त संसाधनों को जुटाने वाली गंभीर परिचालन चुनौतियां सामने आयेंगी। आने वाले उपचुनावों के लिए भी ऐसी ही चुनौतियां होंगी। इन सभी मुद्दों, चुनौतियों और बाधाओं और प्रत्येक मतदान केंद्र पर निर्वाचकों की संख्या को 1000 तक सीमित रखने के निर्णय को ध्यान में रखते हुए, आयोग ने बिहार में होने वाले आम चुनावों और निकट भविष्य में होने वाले उपचुनावों में 65 वर्ष से ज्यादा आयु के मतदाताओं के लिए डाक मतपत्रों की सुविधा बढ़ाने के लिए अधिसूचना को जारी नहीं करने का निर्णय लिया है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

सरकार वैश्विक महामारी का मुकाबला करने में देश की मदद कर रही है, प्लास्टिक उद्योग की रक्षा के लिए जो भी संभव होगा वह करेंगे : मांडविया

केंद्रीय रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री श्री मनसुख मांडविया ने आश्वासन दिया है कि सरकार कानून के दायरे में प्लास्टिक उद्योग को कोविड-19 के प्रभाव से बचाने के लिए जो भी संभव होगा वह करेगी। श्री मांडविया कल एक वेबिनार को संबोधित कर रहे थे। श्री मांडविया ने कहा कि भारतीय प्लास्टिक उद्योग को दुनिया में पर्यावरण की दृष्टि से टिकाऊ, अभिनव और प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए हमें उन चुनौतियों को स्वीकार और परिभाषित करना होगा, जो आगे आने वाले समय में हमारे सामने खड़ी होंगी। उन्होंने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) का अनुमान है कि कोविड-19 के खत्म होने तक इसके खिलाफ संघर्ष में हर महीने 89 मिलियन मेडिकल मास्क, 76 मिलियन परीक्षण दस्ताने और 1.6 मिलियन काले चश्मे की आवश्यकता होगी। इसलिए, इससे संकेत मिलता है कि भारत को कोरोना वायरस से मुक्त करना सुनिश्चित करने के लिए प्लास्टिक उद्योग को आगे बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हम आंतरिक अवरोध या प्रतिस्पर्धी असंतुलन पैदा करके आंतरिक बाजार को विखंडित नहीं करना चाहते हैं बल्कि हमें एक राष्ट्र और शक्ति के रूप में एक साथ जुड़ना होगा।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

जैव प्रौद्योगिकी विभाग और इसके अनुसंधान संस्थानों ने कोविड-19 वैक्सीन, थैरेपी और निदानों के विकास के प्रयासों को गति दी

जैव प्रौद्योगिकी विभाग और इसके 16 अनुसंधान संस्थान कोविड-19 संकट से निपटने के लिए निरंतर काम कर रहे हैं और संभावित कोविड-19 समाधानों के लिए बहुआयामी अनुसंधान एवं विकास में लगे हुए हैं। डीबीटी-एआई (स्वायत्त संस्थान) ने अपने शोध प्रयासों को आत्मनिर्भर होने के लिए स्वदेशी नैदानिक परीक्षणों के विकास पर केंद्रित किया है। डीबीटी-टीएचएसटीआई द्वारा विकसित एक कम लागत वाली वर्णमापीय पीसीआर आधारित परख-प्रौद्योगिकी और एप्टामेर आधारित सार्स-कोव-2 एंटीजन डिटेक्शन तकनीक को जिनी और मोल्बियो डायग्नोस्टिक प्राइवेट को हस्तांतरित किया गया। डीबीटी-टीएचएसटीआई द्वारा आईजीजी एलिसा तकनीक भी एक्ससाइटन डायग्नोस्टिक लिमिटेड को हस्तांतरित की गई। पीओसीटी सेवाओं के साथ डीबीटी-आरजीसीबी, नई दिल्ली ने कम लागत वाली वायरल ट्रांसपोर्ट माध्यम और आरएनए निष्कर्षण किट विकसित की, जो वाणिज्यिक उपयोग के लिए तैयार है। जैव-नमूनों को साझा करने से किट, चिकित्सा और टीके के विकास के लिए कोविड-19 संबंधित अनुसंधान को गति मिलती है। डीबीट-टीएचएसटीआई ने उद्योग, स्टार्टअप्स और शिक्षाविदों के अनुरोधों के जवाब में 2500 से अधिक नमूनों को वितरित किया है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

वित्त मंत्रालय ने 28 राज्यों के 2.63 लाख ग्रामीण स्थानीय निकायों को 15,187.50 करोड़ रुपये की अनुदान सहायता जारी की

केंद्रीय मंत्री श्री तोमर ने बताया कि पंचायती राज मंत्रालय तथा पेयजल और स्वच्छता विभाग (जल शक्ति मंत्रालय) की सिफारिश पर, वित्त मंत्रालय द्वारा 28 राज्यों में फैले 2.63 लाख ग्रामीण स्थानीय निकायों के लिए, अनुदान के रूप में 15,187.50 करोड़ रुपये की राशि की एक और किस्त 15 जुलाई 2020 को जारी कर दी गई है। यह अनुदान, बद्ध (टाइड) अनुदान है, जैसा कि वित्त वर्ष 2020-21 की अवधि के लिए 15वें वित्त आयोग ने प्रथम किस्त के रूप में अनुशंसित किया है और इसका उपयोग आरएलबी द्वारा पेयजल की आपूर्ति, वर्षा जल संचयन, जल पुनर्चक्रण, स्वच्छता और खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) स्थिति के रख-रखाव इत्यादि विभिन्न विकासात्मक कार्यों की सुविधा के लिए करना है। केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने आभार जताते हुए कहा कि इस फंड को, आरएलबी को इस समय जारी करना, निःसंदेह सर्वाधिक उपयुक्त है, जब आरएलबी कोविड-19 महामारी की स्थिति से उत्पन्न चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। इसमें कोई संदेह नहीं है कि इस कोष की उपलब्धता आरएलबी को, ग्रामीण नागरिकों को बुनियादी सेवाओं को प्रदान करने में उनकी प्रभावशीलता को बढ़ावा देगी और उन्हें प्रवासी मजदूरों को लाभकारी रोजगार प्रदान करने में भी सशक्त बनाएगी जो कोविड-19 के कारण मूल स्थानों पर लौट आए हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद ने 92वां स्थापना दिवस मनाया

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) ने कल अपना 92वां स्थापना दिवस मनाया। इस अवसर पर केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कृषि वैज्ञानिकों की सराहना की, जिनके कारण आईसीएआर ने पिछले नौ दशकों के दौरान देश में कृषि के विकास में उल्लेखनीय योगदान दिया है। उन्होंने कहा कि अनुसंधान में वैज्ञानिकों के अंशदान और किसानों की कड़ी मेहनत के चलते भारत आज अतिरिक्त खाद्यान्न उत्पादन वाला देश बन गया है। उन्होंने कोविड-19 महामारी के चलते लागू लॉकडाउन के दौरान भी फसलों के रिकॉर्ड उत्पादन के लिए देश के किसानों को बधाई दी।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

कोविड19 के मद्देनजर पूर्व रेलवे की पार्सल एक्सप्रेस ट्रेनें इस वर्ष 14 दिसम्बर तक चलेंगी

पूर्व रेलवे (ईआर) ने विभिन्न मार्गों पर अलग-अलग चरणों में समयबद्ध पार्सल एक्सप्रेस ट्रेनों को चलाया है, इसने देश के विभिन्न जगहों के लिए सामग्री के त्वरित परिवहन को सुनिश्चित करते हुए कोविड-19 लॉकडाउन अवधि के दौरान उपभोग की वस्तुएं, जल्दी खराब होने वाली चीजें, चिकित्सा उपकरण, दवाओं आदि सहित आवश्यक वस्तुओं को पहुंचाया। वर्तमान में पूर्व रेलवे से चलने वाली पार्सल एक्सप्रेस ट्रेनें हावड़ा और गुवाहाटी, सियालदह और गुवाहाटी व हावड़ा और अमृतसर के बीच चल रही हैं। पूर्व रेलवे ने अब आवश्यक वस्तुओं के तेजी से परिवहन को सुविधाजनक बनाने के लिए हावड़ा-गुवाहाटी, सियालदह-गुवाहाटी-सियालदह और हावड़ा-अमृतसर-हावड़ा पार्सल एक्सप्रेस की सेवा को 14 दिसंबर 2020 तक के लिए बढ़ा दिया है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां

पंजाबः मौजूदा महामारी के दौरान निजी अस्पतालों की मुनाफाखोरी को रोकने के लिए राज्य सरकार ने इन अस्पतालों के लिए कोविड उपचार दर निर्धारित की है। निजी अस्पतालों और मेडिकल कॉलेजों के लिए दर को अंतिम रूप डॉ. के.के. तलवार समिति देगी जिसमें आइसोलेशन वार्ड, आईसीयू और अस्पताल में भर्ती होने के दौरान लगने वाला प्रति दिन का प्रवेश शुल्क आएगा। निजी अस्पतालों द्वारा कोविड के इलाज के दौरान मिली अधिक शुल्क की कई शिकायतों के बाद राज्य सरकार ने यह कदम उठाया है।

हरियाणाः हरियाणा सरकार ने कोविड-19 महामारी के प्रसार को रोकने के लिए दिव्यांगजनों के संरक्षण और सुरक्षा के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। यह निर्णय लिया गया है कि नियमित आधार/अनुबंध/दिहाड़ी पर काम करने वाले राज्य सरकार के कर्मचारी जो 50% या उससे अधिक की शारीरिक अक्षमता से चलने में असमर्थ हैं और जो दोनों आंखों से अंधे हैं, उन्हें घर से काम करने की अनुमति दी जा सकती है।

महाराष्ट्रः महाराष्ट्र में गुरुवार को कोरोना के 8641 नए पॉजिटिव केस मिले जो राज्य में संक्रमितों के आंकड़ों में अब तक का सबसे बड़ा उछाल है। राज्य में संक्रमितों का आंकड़ा 2,84,281 तक पहुंच गया है। हालांकि राज्य में गुरुवार को 5527 मरीज ठीक हुए जबकि 266 संक्रमितों की मौत हो गई। फिलहाल राज्य में 1,14,648 एक्टिव केस हैं। राज्य में अभी तक 1,58,140 कोरोना संक्रमित मरीज ठीक हुए हैं जबकि 11,194 लोगों की मौत हो चुकी है। ग्रेटर मुंबई क्षेत्र में 1498 नये मामले मिले जबकि 707 मरीज ठीक हुए और 56 ने दम तोड़ दिया। नवीनतम आंकड़ों के मुताबिक मुंबई में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 97751 हो चुकी है। मुंबई में 23,694 एक्टिव केस हैं। वहीं इस महानगर में अब तक 68,537 संक्रमित लोग ठीक हुए हैं। मुंबई में कोरोना की चपेट में आने से अब तक 5520 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। पूरे राज्य में ठीक होने वाले मरीजों की दर 55.63 प्रतिशत है वहीं मुंबई जिले में यह दर 70 प्रतिशत है।

गुजरातः राज्य में 45,481 कोरोना मामले हैं। इनमें 11,289 एक्टिव केस हैं जबकि राज्य में अब तक 32,103 कोविड संक्रमित मरीज ठीक हो चुके हैं। राज्य में गुरुवार को 10 कोरोना मरीजों की मौत हो गई जिसके साथ कोरोना की चपेट में आकर मरने वालों की संख्या बढ़कर 2089 हो गई। चार सदस्यीय केंद्रीय टीम ने आज सूरत का दौरा किया जो कि राज्य में नया हॉटस्पॉट बनकर उभरा है। इस टीम में एम्स नई दिल्ली के निदेशक श्री रणदीप गुलेरिया, नीति आयोग के सदस्य विनोद पॉल, आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की अतिरिक्त सचिव आरती आहूजा शामिल थीं। टीम ने राज्य के अधिकारियों के साथ गुरुवार रात मुलाकात की। टीम के सदस्यों ने आज कोविड अस्पताल में काम करने वाले डॉक्टर्स, नर्स और पैरा मेडिकल स्टॉफ से बातचीत की। केंद्रीय टीम ने कोरोना उपचार के बारे में स्वास्थ्य टीमों को आवश्यक मार्गदर्शन भी प्रदान किया। टीम के सदस्यों ने कटारगाम और वरछाचा क्षेत्रों का दौरा किया, जो शहर में नए कोविड हॉटस्पॉट के रूप में उभरे हैं। डॉ. गुलेरिया ने कहा कि शहर में बढ़ते मामलों को नियंत्रित करने के लिए टेस्टिंग, कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग से उचित उपचार से मदद मिलेगी।

राजस्थानः राज्य में आज सुबह कोरोना के 159 नए मरीज मिले। राज्य में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 27,333 हो चुकी है। साथ ही गुरुवार रात तक 737 पॉजिटिव केस मिले। राहत की बात ये है कि ठीक होने वाले मरीजों का आंकड़ा 20,000 को पार कर चुका है। यानी राज्य में अब तक 20,028 कोरोना संक्रमित मरीज ठीक हो चुके हैं। राज्य में कोरोना के 6,666 सक्रिय मामले हैं। आज बीकानेर से सबसे ज्यादा 32 मामले मिले जबकि नागौर में 26 और जयपुर में 22 मामले मिले।

मध्य प्रदेशः राज्य में गुरुवार को 735 नए पॉजिटिव केस मिले जो कि राज्य में अब तक का सबसे बड़ा उछाल है। राज्य में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 20,000 के अंक को पार कर चुका है। रिपोर्ट के मुताबिक राज्य में संक्रमितों की संख्या 20,378 हो चुकी है। हालांकि राज्य में अभी एक्टिव केस 5562 है जबकि अब तक राज्य में 14,127 मरीज ठीक हो चुके हैं। गुरुवार को 219 मरीज ठीक हुए जिन्हें अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई। गुरुवार को राज्य में कोरोना संक्रमित 7 मरीजों की मौत हो गई जिसके साथ ही मध्यप्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या बढ़कर 689 हो गई।

छत्तीसगढ़ः राज्य में गुरुवार को 197 नए केस मिले जो कि राज्य में अब तक का सबसे बड़ा उछाल है। राज्य में अब तक संक्रमितों की संख्या 4,754 हो चुकी है। जबकि छत्तीसगढ़ में सक्रिय मामले 1,282 है। गुरुवार को राज्य के विभिन्न अस्पतालों में इलाज के बाद 127 मरीज ठीक होने के बाद घर चले गए। राज्य में अब तक 3,451 संक्रमित मरीज ठीक हो चुके हैं।

गोवाः गोवा में गुरुवार को टेस्टिंग में 157 नमूने कोरोना पॉजिटिव पाए गए। राज्य में कोविड से संक्रमितों की संख्या 3,108 हो चुकी है। राज्य में इस हफ्ते सक्रिय मामले 127 है।

असमः असम के मुख्यमंत्री श्री सर्बानंद सोनोवाल ने नौगांव के सिविल अस्पताल में चल रहे कोविड-19 उपचार को लेकर डॉक्टरों और नर्सों से बातचीत की। उन्होंने कोविड रोकथाम के उपायों को अपग्रेड करने के बारे में चर्चा करने के लिए डीसी, एसपी और अन्य जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ बैठक की।

मणिपुरः एक प्रधान और चार अन्य लोगों के संक्रमित पाए जाने के बाद मणिपुर के थोउबल जिले के मोइजिंग अवांग लीकाई में डोर टू डोर रैपिड एंटीजन टेस्ट किया गया।

मिजोरमः मिजोरम में कुल 194 चर्च हॉल को क्वारंटीन सुविधाओं के रूप में उपयोग किया जा रहा है।

नागालैंडः नागालैंड में मोन जिला टास्क फोर्स ने मोन जिले की अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने और लौटने वालों के लिए रोजगार के अवसर सृजित करने के लिए समिति का गठन किया है। नागालैंड में, पारेन जिला टास्क फोर्स ने कोरोना पर काबू पाने के लिए मुख्यमंत्री कार्यालय की बिल्डिंग, आरएसईटीआई बिल्डिंग और टूरिस्ट हट्स को केयर सेंटर बनाया है। जबकि सेंट जेवियर कॉलेज ऑडिटोरियम हॉल और वेट कॉलेज हॉस्टल को आइसोलेशन केंद्र बनाया गया है।

केरलः राज्य सरकार ने स्थानीय प्रशासन के तहत कोविड फर्स्ट-लाइन ट्रीटमेंट सेंटर्स (एफएलटीसी) के संचालन के संबंध में एक आदेश जारी किया है। इन उपचार केंद्रों को स्वास्थ्य विभाग द्वारा अनुशंसित प्रत्येक क्षेत्र में स्थापित किया जाएगा। इस बीच, राज्य में कोरोना की चपेट में आने से दो और मौतें हुई हैं। राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या बढ़कर 39 हो गई है। हाल में हुई दो लोगों के बाद पता चला कि उन्हें कोरोना का संक्रमण था। दो पुलिसकर्मियों के कोविड पॉजिटिव पाए जाने के बाद से अपराध शाखा मुख्यालय के संचालन को निलंबित कर दिया गया है। इस बीच, राजधानी शहर में वायरस का प्रसार बढ़ रहा है। पांच नए कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित किए गए हैं। स्थानीय प्रसार की जांच के लिए जिले की सभी तटवर्ती सड़कों को सील कर दिया गया है। राज्य में कल कोरोना के 722 नए कोरोना मामले मिले। 5,372 मरीजों का इलाज चल रहा है। विभिन्न जिलों में 1.83 लाख लोगों पर निगरानी रखी जा रही है।

तमिलनाडुः पुडुचेरी में पिछले 24 घंटों में तीन लोगों की मौत के साथ ही कोरोना से मरने वालों की संख्या 25 हो गई है। पुडुचेरी में संक्रमितों की संख्या 1,832 हो चुकी है जबकि अभी 793 लोगों का इलाज चल रहा है। इनमें 684 मरीज पुडुचेरी में हैं जबकि कराईकल में 74 और यानम में 35 मरीज हैं। आईआईटी मद्रास में शुरू किए गए एक स्टार्ट-अप ने मेडिकैब नामक एक 15-बेड प्री-फैब्रिकेटेड यूनिट विकसित की है, जिसमें इंटेंसिव केयर यूनिट के अलावा डॉक्टरोंआइसोलेशन और चिकित्सा जांच के लिए अलग-अलग कमरे हैं। राज्य में गुरुवार को मिले कोरोना के 4,549 नए मामलों में आधे से अधिक चेन्नई, उत्तरी जिलों में से छह जिलों में हैं। राज्य में कल तक की रिपोर्ट के मुताबिक अब तक 1,56,369 कोरोना संक्रमण के मामले मिले हैं। सक्रिय मामले 46,714; और 2236 लोगों की मौत हो चुकी हैचेन्नई में 15,038 सक्रिय मामले हैं।

कर्नाटकः उच्च न्यायालय ने राज्य को आपदा प्रबंधन अधिनियम लागू करने और कोविड के इलाज से इनकार करने वाले निजी अस्पतालों को दंडित करने का निर्देश दिया है। कर्नाटक में कल मिले 4169 नए मामलों के बाद कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 50 हजार के आंकड़े को पार कर चुका है। बेंगलुरु में 2344 नये मामले मिले। कल तक के आंकड़ों के मुताबिक राज्य में संक्रमितों की संख्या 51,422 हो चुकी है जबकि सक्रिय मामले 30,655 है। वहीं कोरोना की चपेट में आने से अब तक 1032 लोगों की मौत हो चुकी है।

आंध्र प्रदेशः राज्य सरकार ने सार्वजनिक स्थानों, कार्य स्थानों और यात्रा के दौरान मास्क पहनना अनिवार्य करने का निर्णय लिया है; इस आशय के आदेश आज जारी किए गए हैं। तिरुपति नगर आयुक्त विभिन्न विश्वविद्यालयों के कर्मचारियों को अगले आदेश तक घर से काम करने का निर्देश दिया है। जीवीएमसी (ग्रेटर विशाखापत्तनम नगर निगम) मुख्यालय में काम करने वाले 15 लोग अब तक संक्रमित हो चुके हैं और कुछ विभागों को अस्थायी रूप से बंद कर दिया गया है; सभी कर्मचारियों का कोरोना जांच किया जा रहा है। गुंटूर जिला कलेक्टर ने मामलों को बढ़ता देख जिले भर में लॉकडाउन लागू कर दिया है। राज्य में बीते 24 घंटों में कोरोना के 2602 नए केस मिले हैं, 837 संक्रमितों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। हालांकि 42 संक्रमितों ने दम तोड़ दिया। राज्य में अभी तक 40,646 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। राज्य में सक्रिय मामले 19,814 है जबकि  534 की मौत हो चुकी है।

तेलंगानाः विशेषज्ञों के मुताबित अगले 15 दिनों में कोरोना के मामलों में कमी की उम्मीद है। पिछले एक सप्ताह के दौरान अधिक टेस्ट किए जाने के बावजूद तेलंगाना में मामलों की संख्या में कमी आई है। राज्य में, संक्रमित पाए जाने वाले मरीजों की दर पिछले कुछ दिनों में 20% से 10% तक कम हो गई है, खासकर जब प्रति दिन 10,000 से अधिक टेस्ट किए जा रहे है और एंटीजेन टेस्ट भी किए जा रहे हैं। राज्य में कल 1676 नए कोरोना के मामले मिले जबकि 10 लोगों की मौत हो गई। राज्य में अब तक 41,018 कोरोना केस मिले हैं; वहीं 13,328 सक्रिय मामले हैं। अभी तक 396 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 27,295 मरीजों को डिस्चार्ज किया जा चुका है।

***

एसजी/एएम/एसके/वीएस



(Release ID: 1639656) Visitor Counter : 37