PIB Headquarters

कोविड-19 पर पीआईबी का दैनिक बुलेटिन

Posted On: 25 MAY 2020 6:31PM by PIB Delhi

 (पिछले 24 घंटे में कोविड-19 से संबंधित जारी प्रेस विज्ञप्तियां, पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां और पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य शामिल है)

 ● देश में अभी तक कोविड-19 के 57,720 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं, इस प्रकार सुधार की दर 41.57 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच गई है।

● कुल पुष्ट मामलों की संख्या 1,38,845 के स्तर पर पहुंच गई है और 77,103 मामले सक्रिय चिकित्सा निगरानी में हैं।

● गृह मंत्रालय ने देश में और विदेश जाने के इच्छुक भारतीयों की आवाजाही के लिए एसओपी जारी कर दिए हैं।

● भारत ने पीपीई और एन-95 मास्क की घरेलू उत्पादन क्षमता में खासी बढ़ोतरी की है।

● स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि अभी तक लगभग 30 लाख कोविड-19 परीक्षण किए जा चुके हैं।

● सरकारी एजेंसियां अभी तक 341.56 एमटी गेहूं की खरीद कर चुकी हैं, जो पिछले साल की तुलना में ज्यादा है।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय से कोविड-19 पर प्राप्त अपडेट; स्वस्थ  होने की दर अब 41.57 प्रतिशत हुई

अब तक कुल 57,720 लोग ठीक हो चुके हैं। पिछले 24 घंटों में 3,280 मरीजों का इलाज हो चुका है। इलाज के बाद स्वस्थ होने वाले लोगों की कुल दर 41.57 प्रतिशत हो गई है। पुष्ट मामलों की कुल संख्या अब 1,38,845 हो गई है। सक्रिय चिकित्सा निगरानी के अंतर्गत आने वाले मामलों की संख्या 77,103 है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-  

गृह मंत्रालय ने देश के बाहर फंसे भारतीय नागरिकों के साथ-साथ भारत में फंसे उन लोगों की आवाजाही के लिए भी एसओपीजारी किया है जो जरूरी कारणों से विदेश यात्रा करने के इच्छुक हैं

केंद्रीय गृह मंत्रालय (एमएचए) ने देश के बाहर फंसे भारतीय नागरिकों के साथ-साथ भारत में फंसे उन लोगों की आवाजाही के लिए भी एक मानक परिचालन प्रोटोकॉल (एसओपी) जारी किया है जो जरूरी कारणों से विदेश यात्रा करने के इच्छुक हैं। यह आदेश इसी विषय पर एमएचए के 05 मई, 2020 के आदेश का अधिक्रमण करेगा यानी उसका स्थान लेगा। ये एसओपी भूमि सीमाओं के जरिए आने वाले यात्रियों पर भी लागू होंगे।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

सख्त प्रोटोकॉल के माध्यम से पीपीई की गुणवत्ता सुनिश्चित की जा रही है

मीडिया में कुछ रिपोर्टें आईं हैं, जिसमें व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) कवरऑल की गुणवत्ता के बारे में चिंता व्यक्त की गयी है। उक्त उत्पाद, केंद्र सरकार द्वारा की जा रही खरीद के संदर्भ में प्रासंगिक नहीं है। एचएलएल लाइफकेयर लिमिटेड (एचएलएल), स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की खरीद एजेंसी है, जो वस्त्र मंत्रालय (एमओटी) द्वारा नामित आठ प्रयोगशालाओं में से एक द्वारा कवरऑल का परीक्षण करने और अनुमोदित करने के बाद निर्माताओं/आपूर्तिकर्ताओं से पीपीई कवरऑल खरीद रही है।

भारत ने पीपीई और एन-95 मास्क की अपनी घरेलू उत्पादन क्षमता में काफी वृद्धि की है, और राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों की आवश्यकताओं को पर्याप्त रूप से पूरा किया जा रहा है। देश में प्रति दिन 3 लाख से अधिक पीपीई और एन 95 मास्क का उत्पादन हो रहा है। राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों के साथ-साथ केंद्रीय संस्थानों को 111.08 लाख एन-95 मास्क और लगभग 74.48 लाख व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) प्रदान किए गए हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

एनपीपीए द्वारा जारी परामर्श के बाद एन-95 मास्क की कीमतें आयातकों/निर्माताओं/ आपूर्तिकर्ताओं के द्वारा कम की जा रही हैं

सरकार ने आवश्यक वस्तु अधिनियम, 1955 के तहत एन-95 मास्क को आवश्यक वस्तु के रूप में अधिसूचित किया है। इस प्रकार, आवश्यक वस्तु की जमाखोरी और कालाबाजारी अधिनियम के तहत दंडनीय अपराध है। एनपीपीए ने आवश्यक वस्तु की जमाखोरी व कालाबाजारी पर नियंत्रण रखने के लिए सभी राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेश सरकारों को सर्जिकल और सुरक्षात्मक मास्क, हैंड सैनिटाइज़र और दस्ताने की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने का निर्देश दिया था। सरकार देश में पर्याप्त मात्रा में एन-95 मास्क की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए प्रयासरत है। इसके लिए, सरकार निर्माताओं/आयातकों/ आपूर्तिकर्ताओं से सीधे व बड़ी मात्रा में एन-95 मास्क, थोक दरों पर खरीद रही है। इस संबंध में, देश में किफायती कीमत पर एन-95 मास्क की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए एनपीपीए ने एन-95 मास्क के सभी निर्माताओं/आयातकों/आपूर्तिकर्ताओं के लिए 21 मई 2020 को परामर्श जारी किया। परामर्श में गैर सरकारी खरीद के लिए भी कीमतों में उचित समानता बनाये रखने और किफायती मूल्य पर उत्पादों को उपलब्ध कराने के लिए कहा गया था।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

डॉ. हर्षवर्धन ने समर्पित कोविड-19 स्वास्थ्य केंद्र चौधरी ब्रह्म प्रकाश आयुर्वेद चरक संस्थान, नजफगढ़ का दौरा किया

 केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री  डॉ. हर्षवर्धन ने चौधरी ब्रह्म प्रकाश आयुर्वेद चरक संस्थान, नजफगढ़, नई दिल्ली में समर्पित कोविड-19 स्वास्थ्य केंद्र का दौरा किया। डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि "आयुर्वेद भारत की एक पारंपरिक औषधीय ज्ञान का स्रोत है और इसमें अपार संभावनाएं हैं। इस डीसीएचसी में, कोविड-19 के रोगियों के उपचार के क्रम में समग्र चिकित्सा और तंदुरुस्ती की अंतर्निहित शक्ति का बेहतर प्रयोग किया जा रहा है। यह ज्ञान और अनुभव निश्चित रूप से दुनिया भर के लोगों के लिए फायदेमंद साबित होगा, विशेष रूप से कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई का मुकाबला करने के लिए में सहायक होगा।” कोविड-19 के लिए भारत की प्रतिक्रिया का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा, “आज हमारे पास 422 सरकारी प्रयोगशालाओं और 177 निजी प्रयोगशालाओं की श्रृंखला हैं। दोनों में ही जांच क्षमता को बढ़ाया गया है, और आज के समय में, प्रत्येक दिन लगभग 1,50,000 जांच की जा सकती है। कल ही हमने 1,10,397 जांच की है। कल तक हमने 29,44,874 जांच की है।”

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

सरकारी एजेंसियों ने पिछले साल की तुलना में इस बार अधिक गेहूं खरीदा

कोविड-19 की वजह से देश व्यापी लॉकडाउन के कारण उत्पन्न तमाम बाधाओं के बावजूद सरकारी एजेंसियों ने इस बार 24 मई 2020 तक 341.56 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की जबकि पिछले साल यह आंकड़ा 341.31 लाख मीट्रिक टन था। गेहूं की कटाई आम तौर पर मार्च के अंत में शुरू होती है और अप्रैल के पहले सप्ताह में सरकारी एजेंसियों द्वारा इसकी खरीद शुरू हो जाती है। हालांकि 24 और 25 मार्च की आधी रात से देशव्यापी लॉकडाउन शुरू हो जाने की वजह से सभी गतिविधियां रुक गई थीं। इस बीच फसल पक चुकी थी और कटाई के लिए तैयार थी। ऐसे हालात को देखते हुए भारत सरकार ने लॉकडाउन अवधि के दौरान कृषि और उससे संबंधित गतिविधियां शुरू करने की छूट दे दी। ऐसे में अधिकांश राज्यों में 15 अप्रैल 2020 से गेहूं की खरीद प्रक्रिया शुरू कर दी गई। हरियाणा में थोड़ी देरी के साथ 20 अप्रैल 2020 से शुरू हुई है।

अधिक जानकारी के पढ़ें-

डाक विभाग का बिहार पोस्टल सर्किल लोगों के घरों तक शाही लीचीऔर जर्दालु आमपहुंचाएगा

कोरोना वायरस को सीमित करने के लिए लॉकडाउन के कारण लीची और आम के उत्पादकों को फलों को बेचने के लिए बाजार तक ले जाने/परिवहन की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लोगों के बीच इसकी आपूर्ति एक बड़ी चुनौती बन गई है इसलिए आम लोगों की मांग को पूरी करने और किसानों को उनका फल बेचने के लिए बिना किसी बिचौलिये के सीधे उनका बाजार उपलब्ध कराने के लिए बिहार सरकार के बागवानी विभाग एवं भारत सरकार के डाक विभाग ने इस पहल के लिए हाथ मिलाया है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

पीआईबी के क्षेत्रीय अधिकारियों से मिली जानकारियां

पंजाब : मुख्यमंत्री ने सभी उप आयुक्तों और जिला पुलिस प्रमुखों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं कि किसी भी प्रवासी को देश के किसी अन्य राज्य को जाने के लिए मजबूर नहीं किया जाए, या पंजाब में रहने के दौरान कोई भी भूखा नहीं रहे। सड़क पर पैदल जाते किसी भी मजदूर को पुलिस द्वारा बस से ऐसे नजदीकी स्थान पर भेजना चाहिए, जहां से वह अपने गृह राज्य की ट्रेन या बस ले सके। प्रवासियों से नहीं घबराने का अनुरोध करते हुए मुख्यमंत्री ने भरोसा दिलाया कि राज्य सरकार ऐसे हर प्रवासी को उनके राज्य में भेजने में सहयोग करेगी, जो वापस जाना चाहता है। इसके लिए मुफ्त यातायात और खाने की व्यवस्था की जाएगी।

हरियाणा : मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण राज्य सरकार प्रवासी कामगारों को अपने गृह राज्य वापस जाने में सहायता करने के लिए विभिन्न रेलवे स्टेशनों से प्रति दिन श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चला रही है। इसी कड़ी में हरियाणा से 24 मई 2020 को पांच विशेष श्रमिक ट्रेनों को रवाना किया गया। हरियाणा सरकार लॉकडाउन में फंसे मजदूरों और अपने घर जाने के इच्छुक मजदूरों को बिना किसी खर्च के भेजना शुरू कर दिया है।

महाराष्ट्र : रविवार को महाराष्ट्र में कोविड-19 के कुल 3,041 नए मामले सामने आए और 58 लोगों की मृत्यु हो गई। इसके साथ राज्य में कुल मामले बढ़कर 50,231 के स्तर पर पहुंच गए और अभी तक 1,635 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। मुंबई में सबसे ज्यादा 39 लोगों की मृत्यु दर्ज की गई और 1,725 नए मामले सामने आए, वहीं झुग्गी क्षेत्र धारावी में 27 नए मामलों के साथ कोविड पॉजिटिव मामले बढ़कर 1,541 के स्तर पर पहुंच गए। लॉकडाउन के नियमों में ढील के बीच मुंबई से व्यवस्थित तरीके से आज सुबह घरेलू व्यावसायिक उड़ानों का परिचालन शुरू हो गया। पहले दिन 45 उड़ानों का परिचालन होना है, जिनमें से 10 उड़ान दिल्ली-मुंबई के व्यस्त रूट के लिए होंगी।

गुजरात : पिछले 24 घंटों में 394 नए मामलों के साथ गुजरात में नोवेल कोरोना वायरस का आंकड़ा 14,000 के पार निकल गया, जिससे राज्य में कुल मामले 14,063 के स्तर पर पहुंच गए। इसके साथ ही राज्य में मृतकों की संख्या 858 हो गई।

राजस्थान : राज्य स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि राजस्थान में सोमवार को कोविड-19 के 145 नए पॉजिटिव मामले सामने आए, जिससे राज्य में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 7,173 हो गई। अभी तक इस जानलेवा कोरोना वायरस के संक्रमण से कम से कम 163 मरीजों की मृत्यु हो चुकी है। हालांकि पिछले 24 घंटों में कोई मृत्यु नहीं दर्ज की गई। आज जयपुर शहर के ऊपर से 10 लाख से ज्यादा टिड्डियों का दल गुजरा। राजस्थान के 33 जिलों में से आधे से ज्यादा जिले इन कीटों के हमले से प्रभावित हैं, जिन्होंने लगभग 5 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में लगी फसल को नष्ट कर दिया है।

मध्य प्रदेश : मध्य प्रदेश में कुल मामलों की संख्या 6,371 हो गई है। अभी तक जहां 3,267 लोग स्वस्थ हो चुके हैं, वहीं 281 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। इंदौर में 3,064 मामले सामने आ चुके हैं, जो राज्य के कुल मामलों में से लगभग आधे हैं। वहीं भोपाल से 1,241 पॉजिटिव मामले दर्ज किए गए हैं।

छत्तीसगढ़ :  राज्य में कोविड-19 के 36 नए मामले सामने आए, जिनमें से ज्यादातर दूसरे राज्यों से लौटे प्रवासी कामगार हैं। इस प्रकार छत्तीसगढ़ में कुल मामलों की संख्या बढ़कर 252 के स्तर पर पहुंच गई है। राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या 185 है, हालांकि राज्य में कोरोना वायरस से किसी की मृत्यु नहीं हुई है।

असम : गुवाहाटी में एलजीबीआई हवाई अड्डे पर पहुंचने वाले सभी यात्रियों की कोविड-19 जांच की जाएगी। असम के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि असम के लोगों को अलग किया जाएगा और उन्हें संबंधित जिलों को भेज दिया जाएगा।

मेघालय : हरियाणा से 139 लोग मेघालय पहुंच गए हैं। जांच के बाद नतीजों के आधार पर उन्हें या तो होम क्वारंटाइन के लिए भेजा जाएगा या कोरोना केयर सेंटर में भेजा जाएगा। वर्तमान में पैस्टोरल केन्द्र शिलांग में राज्य में वापस लौटने वाले 22 लोग मौजूद हैं। इसके अलावा एक अन्य व्यक्ति कोविड-19 जांच में पॉजिटिव पाया गया, जिसने 14वें मामले के साथ चेन्नई से यहां तक की यात्रा की थी। वह व्यक्ति यहां आने के बाद से ही आइसोलेशन (एकांत) में था, जो वर्तमान में संस्थागत आइसोलेशन और स्वास्थ्य निगरानी में है। राजस्थान और आंध्र प्रदेश से विशेष ट्रेनें कल चलेंगी, जबकि दिल्ली और केरल से मेघालय के फंसे लोगों को ट्रेनें लेकर दो दिन बाद यानी 27 मई, 2020 को चलेंगी।

मणिपुर : मणिपुर ने हवाई यात्रियों के लिए एसओपी में संशोधन कर दिया है; हवाई अड्डे पर जांच, आकलन के आधार पर जांच और क्वारंटाइन को अनिवार्य कर दिया गया है।

मिजोरम : मिजोरम ने जोरम मेडिकल कॉलेज की प्रयोगशाला में कोविड-19 के लिए आरटी-पीसीआर परीक्षण को पूलिंग विधि शुरू कर दी है। इसके तहत प्रति दिन कोविड-19 के लिए 100 नमूनों की जांच की जाएगी।

नागालैंड : नागालैंड में कोविड-19 के 3 मामले सामने आए, जिनमें 2 पुरुष और 1 महिला हैं। ये सभी लोग चेन्नई से वापस लौटे थे। मोन जिले में 40 एसएसए शिक्षकों के एक समूह ने नागालैंड में आईटीआई- मोन टाउन में एक क्वारंटाइन केन्द्र की स्थापना में सहायता की।

 

http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image004UGJU.jpg

*******

एसजी/एएम/एमपी/एसके



(Release ID: 1626851) Visitor Counter : 127