PIB Headquarters

कोविड-19 पर पीआईबी का दैनिक बुलेटिन

Posted On: 25 SEP 2020 6:21PM by PIB Delhi

Coat of arms of India PNG images free download

 

 (पिछले 24 घंटों में जारी कोविड-19 से संबंधित प्रेस विज्ञप्तियां, पीआईबी केक्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां और पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य शामिल हैं)

 

·         पहली बार एक दिन में 15 लाख के करीब कोविड जांच हुई, कुल जांच बढ़ कर 7 करोड़ के करीब पहुंची

·         अब तक 47.5 लाख (47,56,164) से अधिक मरीज ठीक हुए, पिछले 24 घंटे में 81,177 मरीज ठीक हुए

·         राष्ट्रीय रिकवरी दर में लगातार बढ़ोत्तरी, आज यह 81.74 प्रतिशत रही

·         10 राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों का रिकवरी के नए मामलों में 73 प्रतिशत योगदान

·         चिकित्सा शिक्षा में ऐतिहासिक सुधार: राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) के गठन के साथ 4 स्वायत्त बोर्डों का भी गठन

·         घरेलू उड़ानों का परिचालन बहाल होने को बाद से अब तक 1 करोड़ से अधिक यात्री हवाई यात्रा कर चुके हैं

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image005JYW5.jpg

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image006STJG.jpg

भारत में स्वस्थ होने की दर में लगातार बढ़ोत्तरी जारी, अब तक कुल 47.5 लाख मरीज ठीक हुए,10 राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों का रिकवरी के नए मामलों में 73 प्रतिशत योगदान

अब तक कुल 47.5 लाख (47,56,164) मरीज ठीक हुए हैं। पिछले 24 घंटे में 81,177 मरीज ठीक हुए हैं। रिकवरी के मामले सक्रिय मामले (9,70,116) से करीब 38 लाख (37,86,048) अधिक हो गई। बहुत अधिक संख्या में रिकवरी के कारण राष्ट्रीय रिकवरी दर बढ़ती जा रही है। आज यह 81.74 प्रतिशत रहा। ठीक होने वाले 73 प्रतिशत नए मामले दस राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, ओडिशा, दिल्ली, केरल, पश्चिम बंगाल और असम से सामने आए हैं। महाराष्ट्र में 17,000 से अधिक नई रिकवरी हुई है। आंध्र प्रदेश में एक दिन में 8,000 से अधिक लोग ठीक हुए हैं। देश में पिछले 24 घंटे में 86,052 नए मामलों की पुष्टि हुई है। नए मामलों में 75 प्रतिशत दस राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों से सामने आए हैं। महाराष्ट्र से 19,000 से अधिक नए मामले सामने आए हैं। आंध्र प्रदेश और कर्नाटक दोनों राज्यों में 7,000 से अधिक मामले सामने आए हैं। पिछले 24 घंटों में 1,141 मौत दर्ज की गई हैं। इसमें से 83 प्रतिशत, 10 राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों के हैं।

अधिक जानकारी के लिए यहां पढ़े https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1659054

 

भारत एक दिन में सबसे अधिक जांच के ऐतिहासिक शिखर पर पहुंचा, पहली बार एक दिन में 15 लाख के करीब कोविड जांच हुई, कुल जांच 7 करोड़ के करीब पहुंची

भारत कोविड-19 के विरूद्ध लड़ाई में ऐतिहासिक शिखर पर पहुंचा। एक ऐतिहासिक घटना में पहली बार एक दिन में लगभग 15 लाख कोविड की जांच करी गई। बीते 24 घंटे में 14,92,409 नमूनों की जांच के़ साथ अब तक कुल लगभग 7 करोड़ (6,89,28,440) जांच की जा चुकी है। दैनिक जांच क्षमता में वृद्धि कोविड-19 की जांच के बुनियादी ढांचे के विस्तार और विकास को प्रदर्शित करता है। अंतिम 1 करोड़ जांच सिर्फ 9 दिन में की गई। प्रति 10 लाख व्यक्तियों में जांच (टीपीएम) 49,948 लोगों की हुई। राष्ट्रीय संचयी पॉजिटिविटी दर आज 8.44 प्रतिशत रही। जांच करने के बुनियादी ढांचे में विस्तार के साथ राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में प्रतिदिन होने वाली जांच में भी बढ़ोत्तरी हुई है। प्रति दस लाख व्यक्तियों में से जांच के राष्ट्रीय औसत (49,948) से अधिक जांच 23 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में हो रही है। जांच करने वाली प्रयोगशालाओं की संख्या आज बढ़कर 1818 हो गई। इनमें 1084 सरकारी और 734 निजी प्रयोगशाला हैं।

अधिक जानकारी के लिए यहां पढ़े-https://pib.gov.in/PressReleseDetail.aspx?PRID=1658910

 

डॉ. हर्ष वर्धन ने नई दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के 65वें स्थापना दिवस समारोह का उद्घाटन किया

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री और अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के अध्यक्ष डॉ. हर्ष वर्धन ने नई दिल्ली स्थित एम्स के 65वें स्थापना दिवस समारोह की अध्यक्षता की। इस अवसर पर स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री श्री अश्विनी कुमार चौबे भी उपस्थित थे। यह दिन एम्स में स्नातक शिक्षण की शुरुआत का प्रतीक है और 1956 में एमबीबीएस कक्षाओं का पहला बैच आयोजित किया गया था। मानव संसाधन विकास मंत्रालय के नेशनल इंस्टीट्यूट रैंकिंग फ्रेमवर्क (एनआईआरएफ) द्वारा चिकित्सा संस्थानों में नंबर एक के रूप में स्थान पाने के लिए डॉ. हर्ष वर्धन ने नई दिल्ली के एम्स परिवार को शुभकामनाएं दीं। डॉ. हर्षवर्धन ने एम्स-नई दिल्ली की स्थापना का उद्देश्य पूरा करने के लिए संतोष व्यक्त किया। भारतीय संसद द्वारा इस संस्थान की स्थापना 1956 में की गयी थी। इस दौरान एम्स ने स्वास्थ्य सेवाओं, शिक्षा और अनुसंधान में लगातार उच्च मानक प्राप्त किये हैं। डॉ. हर्ष वर्धन ने कोविड महामारी के दौरान संस्थान के महत्वपूर्ण योगदान के लिए भी आभार व्यक्त किया। कोविड-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई पर, डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा, भारत में स्वस्थ होने वालों की लगातार बढ़ती दर और इसके विपरीत महामारी से होने वाली मृत्यु की गिरती दर ने यह साबित कर दिया है कि हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की कोविड-19 की रोकथाम की रणनीति को सफलता प्रदान की है। हमने सफलतापूर्वक अपनी परीक्षण क्षमता को बढ़ाया है और आज देश भर में फैली 1800 से अधिक जांच प्रयोगशालाओं के साथ लगभग 15 लाख कोविड नमूनों की जांच का लक्ष्य प्राप्त कर लिया है। मुझे कोविड-19 के इलाज और टीके के क्षेत्र में हो रहे वैज्ञानिक विकास पर भरोसा है और जल्द ही भारत कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में और अधिक सफलता प्राप्त करेगा। अधिक जानकारी के लिए यहां पढ़े https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1659114

 

चिकित्सा शिक्षा में ऐतिहासिक सुधार: राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) का गठन

चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में केंद्र सरकार द्वारा राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) के संविधान सहित बड़े बदलाव किए गए हैं। साथ ही 4 स्वायत्त बोर्डों का गठन भी किया गया है। इसके साथ ही दशकों पुरानी संस्था भारतीय चिकित्सा परिषद को खत्म कर दिया गया है। एनएमसी के साथ-साथ स्नातक और परास्नातक चिकित्सा शिक्षा बोर्डों, चिकित्सा आकलन और मानक बोर्ड, और नैतिक एवं चिकित्सा पंजीकरण बोर्ड का गठन किया गया है, जो एनएमसी को दिन प्रतिदिन के कम काज में मदद करेंगे। इस ऐतिहासिक सुधार के चलते भारतीय चिकित्सा शिक्षा क्षेत्र में पारदर्शिता आएगी और गुणवत्तापूर्ण उत्तरदायी व्यवस्था बनेगी। इसके तहत सबसे बड़ा बदलाव यह आया है कि नियामक नियंत्रक का चयन योग्यता के आधार पर किया जाएगा ना कि चुने गए नियामक नियंत्रक द्वारा। महिला एवं पुरुषों के शुचिता पूर्ण एकीकरण, व्यवसायीकरण, अनुभव और व्यक्तित्व को महत्त्व मिलेगा इससे चिकित्सा शिक्षा में और सुधार होंगे।

अधिक जानकारी के लिए यहां पढ़े-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1659142

 

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा के बीच फोन पर बातचीत 

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा से फोन पर बातचीत की। प्रधानमंत्री ने जापान के प्रधानमंत्री के रूप में सुगा की नियुक्ति पर उन्हें बधाई दी और अपने लक्ष्यों को हासिल करने में सफलता के लिए शुभकामना दी। दोनों नेताओं ने सहमति व्यक्त की कि दोनों देशों के बीच साझेदारी आज के समय में कोविड-19 महामारी सहित वैश्विक चुनौतियों को देखते हुए और भी अधिक प्रासंगिक है। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि एक स्वतंत्र, खुले और समावेशी इंडो-पैसिफिक क्षेत्र की आर्थिक आर्किटेक्चर को लचीला आपूर्ति श्रृंखलाओं पर आधारित बनाया जाना चाहिए और इस संदर्भ में उन्होंने भारत, जापान और अन्य समान विचारधारा वाले देशों के बीच सहयोग का स्वागत किया। प्रधानमंत्री ने वैश्विक कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न स्थिति में सुधार के बाद प्रधानमंत्री सुगा को वार्षिक द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन के लिए भारत आने का आमंत्रण दिया।

अधिक जानकारी के लिए यहां पढ़े-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1658969

 

आयुष मंत्रालय ने कार्य स्थल पर ‘योग हेतु अवकाश’(योग ब्रेक) की शुरुआत की

आयुष मंत्रालय के योग ब्रेक प्रोटोकॉल से जुड़ी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए आज से योग ब्रेक की शुरुआत हो रही है, जिसे कोविड-19 महामारी के कारण अस्थाई तौर पर स्थगित कर दिया गया था। 5 मिनट के इस प्रोटोकॉल का उद्देश्य कार्य स्थलों पर लोगों का योग से परिचय करवाना है और काम के बोझ से ब्रेक दिला कर फिर से तरोताजा बनाना है।आयुष मंत्रालय ने एमडीएनआईवाई के साथ मिलकर वर्ष 2019 में 5 मिनट का ‘योग ब्रेक प्रोटोकॉल’ विकसित किया था जिसका उद्देश्य था कार्य स्थलों पर लोगों के मन मस्तिष्क को तरोताजा करना और काम पर फिर से ध्यान केंद्रित करने योग्य बनाना। 5 मिनट के इस प्रोटोकॉल को जाने-माने योग विशेषज्ञों ने तैयार किया है जिसमें कुछ योग अभ्यास शामिल हैं, जैसे तड़ासन, कटिचक्रासन इत्यादि तथा नाड़ी शोधन, भ्रामरी, प्राणायाम और ध्यान। प्रोटोकॉल की शुरुआत परीक्षण आधार पर जनवरी 2020 में की गई थी और इसमें भाग लेने वाले प्रतिभागियों की प्रतिक्रिया के आधार पर पाया गया कि यह प्रभावी है। आयुष मंत्रालय आने वाले हफ्तों में जीपीओ कॉम्प्लेक्स आईएनए, नई दिल्ली क्षेत्र के कार्यालयों में अधिकारियों और कर्मचारियों को यह सुविधा निशुल्क उपलब्ध कराने जा रहा है। वर्तमान में स्वास्थ्य संबंधी आपात स्थिति को देखते हुए सांस लेने के योग अभ्यास यानी प्राणायाम की क्रिया पर अतिरिक्त ध्यान केंद्रित किया गया है क्योंकि प्राणायाम की मदद से फेफड़ों की कार्य क्षमता को बढ़ाया जा सकता है।

अधिक जानकारी के लिए यहां पढ़े-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1658952

 

आयुष मंत्रालय आयुष फॉर इम्युनिटी अभियान के भाग के रूप में एक अनूठे ई-मैराथन का समर्थन कर रहा है

आयुष मंत्रालय ने, मंत्रालय के तीन महीने के आयुष फॉर इम्युनिटी नामक अभियान के अंतर्गत,एक अनूठे ई-मैराथन का आयोजन करने के लिए राजगिरी कॉलेज ऑफ सोशल साइंसेज और राजगिरी बिजनेस स्कूल, कोच्चि के साथ हाथ मिलाया है, जिसका उद्देश्य वांछनीय स्वास्थ्य-प्रचार और रोग निवारक उपायों पर ध्यान केंद्रित करना है। प्रौद्योगिकी, शारीरिक दौड़, चैरिटी और कल्याण कार्यक्रमों के संयोजन से, इस ई-कार्यक्रम के द्वारा प्रतिभागियों के जीवन को सकारात्मकता और अच्छे स्वास्थ्य से जोड़ने की उम्मीद है। इस ई-मैराथन का आयोजन कोविड-19 से प्रभावित बच्चों की शिक्षा मे सहायता प्रदान करने के लिए और वर्तमान महामारी संकट के दौरान प्रतिभागियों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए किया जा रहा है। ई-मैराथन के प्रतिभागी अपनी पसंद के समय और सुरक्षित स्थानों पर इस आयोजन में भाग ले सकते हैं। उन्हें दौड़ने की चुनौतियों को पूरा करने के लिए 10 दिनों की एक लंबी अवधि प्रदान की गई है। एक स्वास्थ्य ऐप प्रतिभागियों के व्यक्तिगत दौड़ माप को एक केंद्रीय सर्वर (कंप्यूटर) में एकीकृत करेगा, जिससे कि सभी प्रतिभागियों को केंद्रीकृत सॉफ्टवेयर एप्लिकेशन के माध्यम से जोड़ा जा सके।इस अनूठे कार्यक्रम में देश और विदेश के लगभग 8,000 प्रतिभागियों के शामिल होने का अनुमान है। 

अधिक जानकारी के लिए यहां पढ़े-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1658814

 

आयुष मंत्रालय कोविड-19 का प्रबंधन करने के लिए वासा (अडाटोडा वासिका) और गुडूची की क्षमता का नैदानिक अध्ययन करेगा

कोविड-19 के लिए यथाशीध्र समाधानों की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए, आयुष मंत्रालय ने कई माध्यमों द्वारा विभिन्न संभावित समाधानों पर व्यवस्थित रूप से अध्ययन करना शुरू कर दिया है। इन प्रयासों के भाग के रूप में, कोविड-19 के सकारात्मक मामलों में लक्षणों के चिकित्सीय प्रबंधन में वासा घाना, गुडूची घाना और वासा-गुडूची घाना की भूमिका का आकलन करने के लिए एक नैदानिक अध्ययन के प्रस्ताव को हाल ही में मंजूरी प्रदान की गई गई है। यह एक "यादृच्छिक, ओपन लेबल थ्री आर्म्ड" अध्ययन होगा और इसका आयोजन अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान (एआईआईए), नई दिल्ली में सीएसआईआर की आईजीआईबी इकाई के सहयोग से किया जाएगा। इसकी कार्यप्रणाली के साथ विस्तृत प्रस्ताव तैयार की गई है जिसमें उपायों के परिणाम, नैदानिक और प्रयोगशाला मापदंडों, अनुसंधान का संचालन और क्रियान्वयन भी शामिल किए गए हैं। इस अध्ययन  में आयुष प्रणाली के अनुसंधान के लिए उपयुक्त एक अद्वितीय केस रिपोर्ट फोरम (सीआरएफ) का उपयोग किया जाएगा। सीआरएफ और अध्ययन प्रोटोकॉल की आधुनिक चिकित्सा जगत सहित विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों द्वारा समीक्षा की गई है और उनके सुझावों को भी शामिल किया गया है। अध्ययन अंतर्राष्ट्रीय आचरण समिति(आईईसी) की आवश्यक अनुमति को ध्यान में रखते हुए किया जाएगा। 

अधिक जानकारी के लिए यहां पढ़े-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1658981

 

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 - चुनाव का कार्यक्रम

भारत निर्वाचन आयोग ने आज बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के लिए चुनावी कार्यक्रम की घोषणा की।

अधिक जानकारी के लिए यहां पढ़े-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1659017

 

इस वर्ष खरीफ फसलों की बुआई 1116.88 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में हुई जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि में खरीफ फसलों की बुआई 1066.06 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में हुई थी

 

कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय और राज्य सरकारों ने मिशन कार्यक्रमों और फ्लैगशिप योजनाओं का सफल कार्यान्वयन करने के लिए हर संभव प्रयास किए हैं। भारत सरकार द्वारा बीज, कीटनाशक, उर्वरक, मशीनरी और ऋण जैसे इनपुटों का समय पर पूर्व-निर्धारण करने से महामारी के कारण हुए लॉकडाउन के दौरान भी बड़े कवरेज को संभव बनाया गया है। खरीफ फसलों के अंतर्गत आने वाले क्षेत्रों की प्रगति पर वर्तमान समय में कोविड-19 का कोई प्रभाव नहीं पड़ा है। इसका श्रेय किसानों को जाता है जिन्होंने समय पर कार्रवाई की, तकनीकों को अपनाया और सरकारी योजनाओं का लाभ उठाया। इस वर्ष खरीफ फसल का क्षेत्र कवरेज 1116.88 लाख हेक्टेयर है जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि में यह 1066.06 लाख हेक्टेयर था। खरीफ फसलों की अंतिम बुवाई के आंकड़े 1 अक्टूबर 2020 को बंद हो जाने की संभावना है।

अधिक जानकारी के लिए यहां पढ़े-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1659087

 

भारत ने दुनिया के देशों से कोविड 19 के बाद उबरने की योजना के केन्द्र में प्रकृति को रखने का आग्रह किया

पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री प्रकाश जावडेकर ने दुनिया के देशों से उबरने की हमारी योजना के केन्द्र में प्रकृति को रखने तथा प्रकृति के साथ सदभाव में रहने के दृष्टिकोण पर अमल करने के लिए सतत विकास के लिए कार्रवाई एवं वितरण के संयुक्त राष्ट्र दशक" की शुरुआत में हाथ मिलाने का आग्रह किया। श्री जावडेकर 2020 से परे जैव विविधता: पृथ्वी के सभी जीवों के लिए एक साझा भविष्य का निर्माण विषय पर एक मंत्रिस्तरीय आभासी गोलमेज संवाद में भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। इस मंत्रिस्तरीय संवाद की मेजबानी चीन द्वारा जैव – विविधता पर संयुक्त राष्ट्र की आगामी बैठक से एक सप्ताह पहले जैव - विविधता संरक्षण एवं सतत विकास के बारे में विचारों के आदान-प्रदान के उद्देश्य से की गयी। पर्याप्त क्षेत्रीय प्रतिनिधित्व वाले देशों के कुल 15 प्रतिनिधि मंत्रियों के साथ–साथ प्रासंगिक अंतरराष्ट्रीय संगठनों के प्रमुखों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया। इस अवसर पर बोलते हुए, श्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि कोविड-19 महामारी ने इस तथ्य पर जोर दिया है कि प्राकृतिक संसाधनों के अनियंत्रित दोहन के साथ-साथ खानपान संबंधी अनियमित आदत एवं उपभोग का ढर्रा मानव जीवन के लिए उपयोगी प्रणालियों के विनाश का कारण बनता है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़े-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1658942

 

घरेलू उड़ानों का परिचालन बहाल होने को बाद से अब तक 1 करोड़ से अधिक यात्री हवाई यात्रा कर चुके हैं

देश में 25 मई 2020 से घरेलू उड़ानें बहाल होने के बाद संचालित की गई कुल 1,08,210 उड़ानों के जरिए अब तक एक करोड़ से अधिक लोग यात्रा कर चुके हैं।  केन्द्रीय नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी ने आज यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि घरेलू विमानन सेवा अब कोविड-19 से पूर्व की स्थिति में लौट रही है। श्री पु​री ने कहा कि 24 सितंबर, 2020 को एक दिन में घरेलू उड़ानों से प्रस्थान करने वाले यात्रियों की कुल संख्या 1,19,702 और वापसी यात्रा करने वाले यात्रियों की संख्या 1,21,126 थीं। इस दौरान प्रस्थान करने वाली कुल उड़ानों की संख्या 1393 जबकि आगमन वाली उड़ानों की संख्या 1394 रही।कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर घरेलू यात्री उड़ानों का संचालन 25 मार्च 2020 से पूरी तरह से बंद कर दिया गया था। इन्हें 25 मई 2020 से दोबारा बहाल कर दिया गया है।

अधिक जानकारी के लिए यहां पढ़े-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1659082

 

डीबीटी-आईसीएआर ने नोवल ब्रूसेला वैक्सीन पर प्रौद्योगिकी का हस्तांतरण किया 

बॉयोटेक्नालाजी विभाग (डीबीटी) ने इस सप्ताह वीडियो कांफ्रेंसिग के द्वारा नोवल ब्रूसेला वैक्सीन की प्रौद्योगिकी का हस्तांतरण किया और सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए। इस वैक्सीन का विकास उत्तरप्रदेश में इज्जतनगर स्थित आईसीएआर-भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान (आईवीआरआई) द्वारा डीबीटी के सहयोग से ब्रूसलोसिस पर नेटवर्क परियोजना द्वारा किया गया।

अधिक जानकारी के लिए यहां पढ़े-https://pib.gov.in/PressReleseDetail.aspx?PRID=1659034

 

पत्र सूचना कार्यालय के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां

केरल : केरल प्रतिदिन कोविड-19 रोगियों की संख्या बढ़ने के मामले में देश में अब चौथे स्थान पर है। जांच पॉजिटिविटी के आधार पर राज्य में कोरोना का प्रसार राष्ट्रीय अनुपात से अधिक है। देश के अन्य राज्यों के मुकाबले में केरल में एक सप्ताह में रोगियों की संख्या तीस प्रतिशत अधिक बढ़ी है। केरल वर्तमान में उपचार करने वाले लोगो की संख्या के मामले में देश में छठे स्थान पर है। पॉजिटिव मामलों में बढ़ोत्तरी के बाद विभिन्न जिला प्रशासन ने कोविड नियमों को कड़ाई से पालन कराने का आदेश जारी किया है। वायरस के अधिक प्रसार वाले जिले जैसे कोझिकोड़ में त्वरित प्रतिक्रिया दल तैनात किए गए हैं। राज्य में वर्तमान में 45,919 लोगों का उपचार चल रहा है और 2.12 लाख लोग पृथकवास में हैं। केरल में कोरोना वायरस से अब तक 613 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। 

तमिलनाडु : राज्य में एक अक्टूबर से 10वी से 12वीं कक्षा के लिए स्कूल खुल जाएंगे। इसके लिए छात्रों को अपने अभिवावक या संरक्षक से लिखित अनुमति लेनी होगी। ऑनलाइन क्लास और दूरस्थ शिक्षा जारी रहेंगी। त्रिरूची में स्वास्थ्य अधिकारी वरिष्ठ नागरिकों की स्वास्थ्य की स्थिति की पता लगाने के लिए मतदान सूची का प्रयोग कर रहे हैं। वर्तमान में स्वास्थ्य अधिकारी हर दिन 3 हजार लोगों के स्वास्थ्य की जांच कर रहे हैं और इन शिविर में 750 लोगों के स्वाब के नमूने एकत्र कर रहे हैं। कोयंबटूर शहर नगर निगम (सीसीएमसी) ने गुरूवार को एक 27 वर्षीय व्यक्ति को गलत रूप से कोविड-19 पॉजिटिव बताने पर निजी प्रयोगशाला को सील कर दिया।  

कर्नाटक : आशा कार्यकर्ता की हड़ताल के बाद लगभग 30 हजार संविदा और आउटसोर्स स्वास्थ्य कर्मचारी गुरूवार को अपने कार्य में शामिल नहीं हुए। एक अनूठे भाव में बेल्लारी जिले के कोविड-19 योद्धा का कुछ अभिभावको ने सम्मान किया जो डॉक्टर और नर्स के नाम पर अपने बच्चो का नाम रखने की योजना बना रहे हैं। यह कदम पीएम मोदी के कर्नाटक के सात जिलों में मृत्यु दर में बढ़ोत्तरी पर पीड़ा व्यक्त करने के बाद सामने आया है।   

आंध्र प्रदेश : प्रति दस लाख की जनसंख्या पर 1 लाख से अधिक लोगों की जांच कराने पर आंध्र प्रदेश ने अपनी जनसंख्या के 10 प्रतिशत की जांच कराने का रिकार्ड बनाया है। राज्य में अब तक कुल 53,78,367 नमूनों की जांच की जा चुकी है। आंध्रप्रदेश ने बीते छह माह में जांच की क्षमता में बढ़ोत्तरी कर देश में पहले स्थान पर है। कोवि़ड-19 के मद्देनज़र चिकित्सा और स्वास्थ्य विभाग को मजबूत कर और रोगियों के लिए सेवाओं को बढ़ाने के लिए राज्य सरकार ने चिकित्सा और स्वास्थ्य विभाग में नए कर्मचारियों की भर्ती की है। कोविड महामारी के कारण राज्य सड़क परिवहन कार्पोरेशन की कार्गो सेवा को अच्छी प्रतिक्रिया मिली है। आरटीसी राज्य भर में और हैदराबाद के लिए कार्गो सेवा प्रदान कर रही है। 

तेलंगाना : बीते चौबीस घंटे में कोरोना के 2381 नए मामले सामने आए, 2021 लोग स्वस्थ हुए और 10 लोगो की मृत्यु हुई। 2381 मामलो में से 386 मामले जीएचएमसी में मिले। राज्य में अब कोरोना के कुल 1,81,627 मामले 30,387 सक्रिय मामले और 1080 लोगों की मृत्यु हुई है। राज्य में अब तक 1,50,160 लोगो को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई है। सभी आवश्यक सावधानियों के साथ बस 25 प्रमुख मार्ग पर संचालित हो रही हैं। नक्सलियो ने कथित फर्जी मुठभेड़ के विरोध में 28 सितंबर को तेलंगाना बंद का आह्वान किया है। 

अरूणाचल प्रदेश : राज्य में कोरोना के 283 नए मामले सामने आए। वर्तमान में अरूणाचल प्रदेश में 2,331 सक्रिय मामले हैं।

असम : राज्य के स्वास्थ्य मंत्री श्री हेमंत बिस्वा शर्मा ने टवीट कर बताया कि कल 2,432 लोगों को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई। अब तक कुल 1,35,141 रोगियों को उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई है और कुल 29,830 सक्रिय मामले हैं। 

मणिपुर : राज्य में कोरोना के 161 नए मामले सामने आने के बाद कुल 9,537 मामले हो गए हैं। मणिपुर में बीमारी से 77 प्रतिशत की स्वस्थ होने की दर के साथ 2,106 सक्रिय मामले हैं। 

मेघालय : राज्य में आज 199 लोग कोरोना वायरस से स्वस्थ हुए। मेघालय में अब कुल 1,977 सक्रिय मामले हैं। इनमें बीएसएफ और सशस्त्र बलो से जुड़े 219 और 1,758 अन्य मामले हैं। राज्य में अब तक 3,058 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। 

मिजोरम : राज्य में कल कोविड-19 के 26 नए मामले सामने आए। मिजोरम में अब कोरोना के कुल 1,786 मामले और 681 सक्रिय मामले हैं। 

 

नगालैंड : कोविड-19 पॉजिटिव मामलों में सशस्त्र बलों से जुडे सबसे अधिक 47 प्रतिशत (2,716) मामले हैं। राज्य में बाहर से लौटे लोगों मे 1,462 मामले, ढूंढे गए संबंधी में से 1,216 और फ्रंटलाइन कार्यकर्ता से 336 मामले हैं।   

सिक्किम : राज्य में 95 नए मामले, 679 सक्रिय मामले और 1,994 लोगों को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई। 

महाराष्ट्र : राज्य में गुरुवार को कोविड-19 संक्रमण के 19,164 नए मामले सामने आने के बाद कुल मामले 12.82 लाख हो गए हैं। महाराष्ट्र में अब तक 32,284 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो चुकी है। आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि राज्य के 36 जिलों में 92.91 प्रतिशत और 11.92 लाख मामले तथा 94 प्रतिशत और 32,284 मृत्यु 20 जिलों में हुई है। मुंबई, पुणे और ठाणे के अलावा सतारा, शोलापुर, सांगली, चंद्रपुर और नागपुर बुरी तरह से प्रभावित जिलों में शामिल हैं। इन जिलों में विशेष कोविड प्रबंधन कार्यक्रम चलाया जाएगा। प्रधानमंत्री द्वारा आयोजित समीक्षा बैठक के बाद इन जिलों में स्थिति को शीघ्र नियंत्रण में लाने के लिए निगरानी करने के लिए विशेष  अधिकारियों की नियुक्ति की जा रही है। इन जिलों को पर्याप्त मात्रा में बेड, ऑक्सीजन आपूर्ति, वेटिलेंटर के साथ स्वास्थ्य सुविधा बढ़ाने के साथ-साथ लोगों की पहचान बड़े स्तर पर करने के लिए कहा गया है। 

गुजरात : स्वास्थ्य विभाग के अनुसार गुरुवार को 1,408 नए मामले आने के साथ कुल मामले 1,28,949 हो गए हैं। इसके साथ ही अस्पताल से 1,410 रोगियों को अस्पताल से छुट्टी दी गई। राज्य में अब तक 1,09,211 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। इसके साथ ही राज्य में स्वस्थ होने की दर 84.69 प्रतिशत हो गई है। 

राजस्थान : स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना वायरस रोगियों के लिए पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित कराने के लिए जयपुर में ऑक्सीजन निर्माण पर नजर रखने के लिए ऑक्सीजन उत्पादन करने वाली फर्म और कंपनी में ड्रग नियंत्रण अधिकारियों की नियुक्ति की है। जिले में स्थापित मेडिकल गैस निर्माण इकाई प्रतिदिन संबंधित ड्रग अधिकारियों को ऑक्सीजन के उत्पादन,बिक्री और संयंत्र में अन्य गतिविधियों की जानकारी प्रस्तुत करेंगे।

छत्तीसगढ़ : राज्य में कोरोना संक्रमण बढ़ने के साथ कोविड-19 की जांच में बढ़ोत्तरी की गई है। अस्पताल और स्वास्थ्य केंद्रों के साथ-साथ सचल दल भी कोरोना की जांच कर रहे हैं। रैपिड एंटीजन किट द्वारा कोरोना संक्रमित व्यक्ति की पहचान करने के लिए जांच सुविधा 832 केंद्र में मौजूद है। इस बीच आईसीएमआर ने राज्य के सात जिलों में सीरो निगरानी के लिए नमूने एकत्र का काम पूरा कर लिया है।

 

FACT CHECK

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image007SQY5.jpg

A stamp with the word true on a Whatsapp screenshot inquiring about eSanjeevani OPD. The headline states that eSanjeevani OPD launched by the government provides free medical teleconsultation to public.

***

एमजी/एएम/एजे/एसएस



(Release ID: 1659253) Visitor Counter : 182