प्रधानमंत्री कार्यालय
azadi ka amrit mahotsav

चेन्नई में विभिन्न विकास परियोजनाओं के शिलान्यास समारोह में प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ

Posted On: 26 MAY 2022 8:58PM by PIB Delhi

तमिलनाडु के राज्यपाल श्री आर एन रवि, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री, श्री एम के स्टालिन, केन्द्रीय मंत्रिपरिषद में सहयोगीगण, तमिलनाडु सरकार के मंत्रीगण, संसद सदस्यगण, तमिलनाडु विधानसभा के सदस्यगण, तमिलनाडु की बहनों और भाइयों, वणक्कम! तमिलनाडु में आना हमेशा शानदार होता है! यह भूमि कुछ विशेष है। इस राज्य की जनता, यहां की संस्कृति और भाषा बेजोड़ है। महान भरतियर ने इसे खूबसूरती से व्यक्त किया जब उन्होंने कहा:

सेंतमिल नाडु एन्नुम पोथीनीले इन्बा तेन वन्तु पायुतु कादिनीले |

मित्रों,

जीवन के हर क्षेत्र में, तमिलनाडु से कोई न कोई हमेशा उत्कृष्ट निकलता है। अभी हाल ही में, मैंने अपने आवास पर भारतीय डीफलिंपिक दल की मेजबानी की थी। आपको पता ही होगा कि इस टूर्नामेंट में इस बार भारत का यह सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि हमने जो 16 पदक जीते हैं, उनमें से 6 पदकों की जीत में तमिलनाडु के युवाओं की भूमिका थी! यह टीम के लिए सर्वश्रेष्ठ योगदानों में से एक है। तमिल भाषा शाश्वत है और तमिल संस्कृति वैश्विक है। चेन्नई से कनाडा तक, मदुरै से मलेशिया तक, नमक्कल से न्यूयॉर्क तक, सलेम से दक्षिण अफ्रीका तक, पोंगल और पुथांडु के पर्व बड़े उत्साह के साथ मनाए जाते हैं। फ्रांस के कान्स में फिल्म फेस्टिवल चल रहा है। वहां, तमिलनाडु की इस महान धरती के सुपुत्र थिरु एल. मुरुगन ने पारंपरिक तमिल पोशाक में रेड कार्पेट पर वॉक किया। इसने दुनिया भर के तमिलों को बेहद गौरवान्वित किया।

मित्रों,

हम यहां तमिलनाडु की विकास यात्रा के एक और गौरवशाली अध्याय का जश्न मनाने के लिए एकत्रित हुए हैं। इकतीस हजार करोड़ रुपये से अधिक की लागत से विभिन्न परियोजनाओं का या तो उद्घाटन किया जा रहा है या उनकी आधारशिला रखी जा रही है। हमने अभी इन परियोजनाओं का विवरण देखा, लेकिन मैं आपको कुछ बातें बताना चाहता हूं। सड़क निर्माण पर जोर साफ दिखाई दे रहा है। हम ऐसा इसलिए कर रहे हैं क्योंकि यह सीधे तौर पर आर्थिक समृद्धि से जुड़ा है। बेंगलुरु - चेन्नई एक्सप्रेसवे विकास के दो प्रमुख केन्द्रों को आपस में जोड़ेगा। चेन्नई बंदरगाह को मदुरावॉयल से जोड़ने वाली चार- लेन की एलिवेटेड सड़क चेन्नई बंदरगाह को और अधिक कारगर बनाएगी तथा शहर के यातायात में भीड़भाड़ को कम करेगी। नेरालुरु से लेकर धर्मपुरी खंड और मीनसुरट्टी से लेकर चिदंबरम खंड के विस्तार से लोगों को कई लाभ होंगे। मुझे विशेष रूप से इस बात की खुशी है कि पांच रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास किया जा रहा है। यह आधुनिकीकरण और विकास भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखकर किया जा रहा है। साथ ही यह स्थानीय कला और संस्कृति को आत्मसात करेगा। मदुरै और थेनी के बीच आमान परिवर्तन से मेरे किसान बहनों और भाइयों को और अधिक बाजारों तक पहुंचने में मदद मिलेगी।

मित्रों,

मैं उन सभी लोगों को बधाई देना चाहता हूं जिन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत ऐतिहासिक चेन्नई लाइट हाउस परियोजना के तहत घर मिलेगा। यह हमारे लिए एक बेहद संतोषप्रद परियोजना रही है। हमने किफायती, टिकाऊ और पर्यावरण के अनुकूल घरों के निर्माण में सर्वोत्तम प्रथाओं को अपनाने की एक वैश्विक चुनौती स्वीकार की थी। रिकॉर्ड समय में, इस किस्म की पहली लाइट हाउस परियोजना को साकार किया गया है और मुझे खुशी है कि यह परियोजना चेन्नई में स्थित है। तिरुवल्लूर से बेंगलुरु और एन्नोर से चेंगलपट्टू तक प्राकृतिक गैस पाइपलाइन के उद्घाटन के साथ तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में आम लोगों के लिए एलएनजी की उपलब्धता आसान होगी। देश के आर्थिक विकास को बढ़ावा देने और चेन्नई बंदरगाह को आर्थिक विकास का एक केन्द्र बनाने की दृष्टि से आज चेन्नई में मल्टी मॉडल  लॉजिस्टिक पार्क की आधारशिला रखी गई है। हमारी सरकार देश के अन्य हिस्सों में ऐसे मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक पार्क विकसित करने के लिए प्रतिबद्ध है। ये मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक पार्क हमारे देश के माल परिवहन से जुड़े इकोसिस्टम में एक आदर्श बदलाव लायेंगे। विभिन्न क्षेत्रों से संबद्ध इनमें से प्रत्येक परियोजना रोजगार सृजन और आत्मनिर्भर बनने के हमारे संकल्प को प्रोत्साहित करेगी।

मित्रों,

मुझे विश्वास है कि आप सभी यह चाहते हैं कि आपके बच्चे आपके जीवन की तुलना में कहीं बेहतर गुणवत्ता वाला जीवन व्यतीत करें। आप सभी अपने बच्चों के लिए एक शानदार भविष्य चाहते हैं। उच्च गुणवत्ता वाले बुनियादी ढांचे की उपलब्धता इसकी सबसे महत्वपूर्ण पूर्व- शर्त है। इतिहास ने हमें सिखाया है कि जिन देशों ने बुनियादी ढांचे को सबसे ज्यादा महत्व दिया, वे विकासशील देश की श्रेणी से निकलकर विकसित देश बन गए। भारत सरकार का पूरा ध्यान उच्च गुणवत्ता वाले और टिकाऊ बुनियादी ढांचे के निर्माण पर केन्द्रित है। जब मैं बुनियादी ढांचे के बारे में बात करता हूं, तो मेरा आशय सामाजिक और भौतिक बुनियादी ढांचे दोनों से होता है। हमारा लक्ष्य सामाजिक बुनियादी ढांचे को उन्नत करके गरीब कल्याण सुनिश्चित करना है। सामाजिक बुनियादी ढांचे पर हमारा जोर ‘सर्व जन हिताय, सर्व जन सुखाय’ के सिद्धांत के प्रति हमारे समर्पण को दर्शाता है। हमारी सरकार प्रमुख योजनाओं के संतृप्ति स्तर तक का कवरेज हासिल करने के लिए काम कर रही है। शौचालय, आवास, वित्तीय समावेशन किसी भी क्षेत्र को लेंहम पूर्ण कवरेज की दिशा में काम कर रहे हैं। हम हर घर में पीने का पानी- नल से जल - सुनिश्चित करने पर काम कर रहे हैं। जब हम ऐसा करते हैं, तो बहिष्कार या भेदभाव के लिए कोई गुंजाइश नहीं बचती है। और, भौतिक अवसंरचना पर ध्यान देने से भारत के युवाओं को सबसे अधिक लाभ होगा। यह युवाओं की आकांक्षाओं को पूरा करने में मदद करेगा और युवाओं द्वारा इसका उपयोग धन एवं मूल्य अर्जित करने के लिए किया जाएगा।

मित्रों,

हमारी सरकार पारंपरिक रूप से आधारभूत संरचना कहलाने वाले क्षेत्र से भी आगे बढ़ गई है। कुछ साल पहले तक बुनियादी ढांचे को सड़क, बिजली और पानी के संदर्भ में लिया जाता था। आज हम भारत के गैस पाइपलाइन के नेटवर्क का विस्तार करने के लिए काम कर रहे हैं। आई-वे पर काम हो रहा है। हाई स्पीड इंटरनेट को हर गांव तक पहुंचाना हमारा विजन है। इसकी परिवर्तनकारी क्षमता की कल्पना करें। कुछ महीने पहले हमने पीएम-गति शक्ति कार्यक्रम शुरू किया था। यह कार्यक्रम आने वाले वर्षों में भारत के पास उच्च गुणवत्ता वाला बुनियादी ढांचा सुनिश्चित करने के उद्देश्य से सभी हितधारकों और मंत्रालयों को एकजुट करेगा। मैंने लाल किले से नेशनल इंफ्रास्ट्रक्चर पाइपलाइन के बारे में बात की थी। यह एक सौ लाख करोड़ रुपये से अधिक की परियोजना है। इस विजन को हकीकत में बदलने के लिए काम किया जा रहा है। इस वर्ष के बजट के दौरान, पूंजीगत व्यय के लिए सात दशमलव पांच लाख करोड़ रुपये आवंटित किए गए, जोकि एक ऐतिहासिक वृद्धि है। बुनियादी ढांचों का निर्माण करते हुए हम यह भी सुनिश्चित कर रहे हैं कि ये परियोजनाएं समय पर और पारदर्शी तरीके से पूरी हों।

मित्रों,

भारत सरकार तमिल भाषा एवं संस्कृति को और अधिक लोकप्रिय बनाने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है। इस साल जनवरी में, चेन्नई में सेंट्रल इंस्टीच्यूट ऑफ क्लासिकल तमिल के नए परिसर का उद्घाटन किया गया। यह नया परिसर पूरी तरह से केन्द्र सरकार द्वारा वित्त पोषित है। यह एक विशाल पुस्तकालय, एक ई-लाइब्रेरी, सेमिनार हॉल और एक मल्टीमीडिया हॉल से सुसज्जित है। बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में तमिल अध्ययन से संबंधित एक 'सुब्रमण्य भारती पीठ' की घोषणा हाल ही में की गई थी। चूंकि बीएचयू मेरे निर्वाचन क्षेत्र में स्थित है, इसलिए इसकी खुशी और भी खास थी। राष्ट्रीय शिक्षा नीति भारतीय भाषाओं को बढ़ावा देने को विशेष महत्व देती है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति की वजह से तकनीकी और चिकित्सा पाठ्यक्रमों की पढ़ाई स्थानीय भाषाओं में की जा सकेगी। इसका फायदा तमिलनाडु के युवाओं को मिलेगा।

मित्रों,

श्रीलंका मुश्किल दौर से गुजर रहा है। मैं जानता हूं कि आप वहां के घटनाक्रमों से चिंतित हैं। एक घनिष्ठ मित्र और पड़ोसी के रूप में, भारत श्रीलंका को हरसंभव सहायता प्रदान कर रहा है। इसमें वित्तीय सहायता, ईंधन की सहायता, खाद्यान्न, दवाएं और अन्य आवश्यक वस्तुएं शामिल हैं। कई भारतीय संगठनों और व्यक्तियों ने श्रीलंका के अपने भाइयों एवं बहनों, जिनमें उत्तर, पूर्व और ऊपरी इलाकों में रहने वाले तमिल शामिल हैं, के लिए सहायता भेजी है। भारत ने श्रीलंका को आर्थिक सहायता देने के लिए अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भी दृढ़ता से बात रखी है। भारत श्रीलंका के लोगों के साथ खड़ा रहेगा और श्रीलंका में लोकतंत्र, स्थिरता एवं आर्थिक सुधार का समर्थन करेगा।

मित्रों,

मैं कुछ साल पहले जाफना की अपनी यात्रा को कभी नहीं भूल सकता। मैं जाफना का दौरा करने वाला पहला भारतीय प्रधानमंत्री था। भारत सरकार श्रीलंका में तमिल लोगों की सहायता के लिए कई परियोजनाएं चला रही हैं। इन परियोजनाओं में स्वास्थ्य सेवा, परिवहन, आवास और संस्कृति शामिल हैं।

मित्रों,

आज हम आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं। 75 वर्ष पहले हमने एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में अपनी यात्रा शुरू की थी। हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने अपने देश के लिए कई सपने देखे थे। उन सपनों को पूरा करना हमारा कर्तव्य है और मुझे विश्वास है कि हम खुद को योग्य साबित करते हुए उन सपनों को साकार करेंगे। हम सब मिलकर भारत को मजबूत और अधिक समृद्ध बनायेंगे। एक बार फिर से, आप सबों को इन शुरू हुए विकास कार्यों के लिए बधाई।

वणक्कम!

धन्यवाद!

***

एमजी/एएम/आर/एसएस



(Release ID: 1836202) Visitor Counter : 39