PIB Headquarters

कोविड-19 पर पीआईबी का दैनिक बुलेटिन

Posted On: 08 SEP 2020 6:30PM by PIB Delhi

Coat of arms of India PNG images free downloadhttp://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image001ODEN.jpg

 श में कोविड-19 से ठीक होने वालों की संख्या 33 लाख के पार,देश में इस बीमारी से ठीक होने की दर बढ़कर 77

  • देश में कोविड-19 से ठीक होने वालों की संख्या 33 लाख के पार,देश में इस बीमारी से ठीक होने की दर बढ़कर 77 प्रतिशत से अधिक
  • भारत ने कुल 5 करोड़ कोविड जाँच करके एक नई ऊँचाई दर्ज की
  • प्रति मिलियन जाँच में निरंतर वृद्धि, आज 36,703 मामलों की जाँच हुई
  • कोविड से मरने वालों की दर विश्व औसत से कम, 1.70 प्रतिशत पर स्थिर
  • ईसंजीवनी’ टेलीमेडिसिन सेवा ने 3 लाख टेली-कंसल्‍टेशन का आंकड़ा छुआ, बीते 20 दिन में 1 लाख टेली-कंसल्‍टेशन पूरे हो गए हैं
  • पीएमजीकेपी के तहत 42 करोड़ से अधिक गरीब लोगों को 68,820 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता प्राप्‍त हुई

 

(पिछले 24 घंटों में जारी कोविड-19 से संबंधित प्रेस विज्ञप्तियां, पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां और पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य शामिल हैं)

 

http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image005NC5C.jpg

 

http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image0064RRN.jpg

 

देश में कोविड-19 से ठीक होने वालों की संख्या 33 लाख के पार, देश में इस बीमारी से ठीक होने की दर बढ़कर 77 प्रतिशत से अधिक

देश में कोविड -19 के कुल मामलों से अब तक 77 प्रतिशत से अधिक ठीक हो चुके हैं। देश में कोविड से ठीक होने वालों की संख्या 33 लाख (3,323,950) को पार कर गई। पिछले 24 घंटों के दौरान सबसे अधिक 73,521 रोगियों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। ठीक हुए लोगों की संख्या सक्रिय मामलों (8,83,697) से 24 लाख से अधिक है और यह सक्रिय मामले से 3.7 गुना अधिक है। भारत की मामला मृत्यु दर (सीएफआर) विश्व औसत से कम है और आज ये 1.70 प्रतिशत रही। 

 

भारत ने लगभग 5 करोड़ कोविड जांच करने का रिकॉर्ड बनाया, प्रति मिलियन जाँच में निरंतर वृद्धि, आज 36,703 मामलों की जाँच हुई

भारत ने 5 करोड़ संचयी जाँच की संख्या को पार करते हुए आज एक और ऊँचाई को छुआ है। भारत ने जनवरी 2020 में पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी लैब में मात्र एक टेस्ट से लेकर आज 5,06,50,128 तक का मार्ग तय किया है। देश में पिछले 24 घंटों में जाँच क्षमता में वृद्धि करते हुए 10,98,621 मामलों की जाँच की गई हैं। औसत दैनिक जाँच (सप्ताह वार) में निरंतर वृद्धि का प्रदर्शन दर्ज की हैं। इसने जुलाई के तीसरे सप्ताह के (3,26,971) से सितंबर के पहले सप्ताह तक (10,46,470) 3.2 गुना वृद्धि दर्ज की गई है। डायग्नोस्टिक लैब के विस्तार के साथ प्रति मिलियन जाँच में वृद्धि की गई है। टीपीएम में 1 जुलाई के 6396 से आज 36,703 तक की वृद्धि दर्ज की गई है। देश में परीक्षण प्रयोगशाला नेटवर्क को लगातार मजबूत किया जाता है, देश में आज 1668 प्रयोगशालाऐं हैं। इनमें इसमें सरकारी क्षेत्र में 1035 प्रयोगशालाऐं और 633 निजी प्रयोगशालाऐं शामिल हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1652298

 

केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की ‘ई संजीवनी’ टेलीमेडिसिन सेवा ने 3 लाख टेली-कंसल्‍टेशन का आंकड़ा छुआ, 1 लाख टेली-कंसल्‍टेशन सिर्फ 20 दिन में ही पूरे हो गए हैं

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के प्‍लेटफॉर्म ‘ई संजीवनी’ टेलीमेडिसिन सेवा के तहत अब 3 लाख टेली-कंसल्‍टेशन पूरे हो गए हैं। इस सेवा के तहत टेली-कंसल्‍टेशन की सुविधा मुहैया कराई जाती है। केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने इस प्‍लेटफॉर्म के तहत 1.5 लाख टेली-कंसल्‍टेशन पूरे होने पर 9 अगस्‍त को आयोजित की गई एक बैठक की अध्‍यक्षता की थी। इस प्‍लेटफॉर्म ने उस समय से लेकर अब तक एक माह के भीतर ही टेली-कंसल्‍टेशन के आंकड़े को सफलतापूर्वक दोगुना कर लिया है। इनमें से 1 लाख टेली-कंसल्‍टेशन तो पिछले 20 दिनों में ही पूरे हो गए हैं। इस प्‍लेटफॉर्म ने प्रथम 1 लाख टेली-कंसल्‍टेशन 23 जुलाई, 2020 को पूरे किए थे और उसके बाद के 1 लाख टेली-कंसल्‍टेशन 26 दिनों के भीतर ही 18 अगस्‍त को पूरे हो गए थे। टेलीमेडिसिन सेवा सामाजिक या शारीरिक दूरी सुनिश्चित करते हुए डॉक्‍टरों को मरीजों से कनेक्‍ट करती है। यह ऐसे महत्‍वपूर्ण समय में आवश्‍यक स्‍वास्‍थ्‍य सेवा मुहैया करा रही है जब संक्रामक बीमारी के कारण पारंपरिक चिकित्‍सा को जोखिम भरा माना जा रहा है। ईसंजी‍वनी प्‍लेटफॉर्म दो तरह की टेलीमेडिसिन सेवाओं यथा डॉक्‍टर से डॉक्‍टर कनेक्‍ट (ईसंजीवनी) और मरीज से डॉक्‍टर कनेक्‍ट (ईसंजीवनीओपीडी) में आवश्‍यक सहयोग प्रदान कर रहा है। डॉक्‍टर से डॉक्‍टर कनेक्‍ट (ईसंजीवनी) दरअसल आयुष्‍मान भारत स्‍वास्‍थ्‍य एवं वेलनेस सेंटर (एबी-एचडब्‍ल्‍यूसी) कार्यक्रम का एक महत्‍वपूर्ण स्‍तम्‍भ है। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कोविड-19 महामारी को ध्‍यान में रखते हुए 13 अप्रैल, 2020 को दूसरी टेली-कंसल्‍टेशन सेवा ‘ईसंजीवनीओपीडी’ शुरू की जिसके तहत मरीज से डॉक्‍टर टेलीमेडिसिन कनेक्‍ट सुलभ कराया जाता है। यह कोविड के फैलाव को रोकने में वरदान साबित हुई है। यही नहीं, इसके तहत ‘गैर-कोविड आवश्‍यक स्‍वास्‍थ्‍य सेवा’ भी मुहैया कराई जा रही है। ईसंजीवनी को अब तक 23 राज्‍यों में लागू किया गया है और अन्‍य राज्‍य भी इसकी शुरुआत करने की तैयारी में हैं। अकेले तमिलनाडु ने 97,204 कंसल्‍टेशन का योगदान दिया है और ये सभी ईसंजीवनीओपीडी ऐप पर हैं। कुल 65,173 कंसल्‍टेशन के साथ उत्तर प्रदेश दूसरे स्‍थान पर है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1652319

 

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज में अब तक हुई प्रगति, पीएमजीकेपी के तहत 42 करोड़ से अधिक गरीब लोगों को 68,820 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता प्राप्‍त हुई

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज (पीएमजीकेपी) की 1.70 लाख करोड़ रुपये के हिस्से के रूप में, सरकार ने महिलाओं और गरीब वरिष्ठ नागरिकों और किसानों को मुफ्त अनाज और नकद भुगतान की घोषणा की। इस पैकेज के तेजी से कार्यान्वयन की केन्द्र और राज्य सरकारों द्वारा लगातार निगरानी की जा रही है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत लगभग 42 करोड़ गरीब लोगों को 68,820 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता प्राप्‍त हुई है। 8.94 करोड़ लाभार्थियों को पीएम-किसान की पहली किश्‍त के भुगतान के लिए 17,891 करोड़ रुपये की राशि स्‍वीकृत की गई है। 20.65 करोड़ (100%)  महिला जन धन खाताधारकों को पहली किश्त के रूप में 10,325 करोड़ रुपये जमा किए गए। 20.63 करोड़ (100%)  महिला जन धन खाताधारकों को दूसरी किश्त के रूप में 10,315 करोड़ रुपये जमा किए गए। 20.62 करोड़ (100%)  महिला जन धन खाताधारकों को तीसरी किश्त के रूप में 10,312 करोड़ रुपये जमा किए गए। लगभग 2.81 करोड़ बुजुगों, विधवाओं और दिव्‍यांगजनों को दो किश्‍तों में कुल 2,814.5 करोड़ रुपये वितरित किए गए। इस प्रकार 2.81 करोड़ लाभार्थियों दो किश्‍तों में लाभ हस्तांतरित किए गए।  1.82 करोड़ भवन एवं निर्माण श्रमिकों को 4,987.18 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता प्राप्त हुई।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1652383

 

ईएसआईसी अस्पताल और डिस्पेंसरी, नोएडा में कथित रूप से अनुचित सेवाओं की रिपोर्टिंग पर ईएसआईसी का स्पष्टीकरण

ईएसआईसी अस्पताल और डिस्पेंसरी, नोएडा में ईएसआई बीमित व्यक्तियों और उनके लाभार्थियों का उचित इलाज नहीं मिलने के संदर्भ में कुछ समाचार पत्रों में प्रकाशित हुई खबरों के जवाब में, ईएसआईसी ने स्पष्टीकरण देते हुए कहा है कि ईएसआईसी अस्पताल, नोएडा बीमित व्यक्तियों ​​और उनके लाभार्थियों के लिए समर्पित रूप से चिकित्सा देखभाल और सभी प्रकार का उपचार संबंधी सेवाओं को प्रदान करता रहा है। इस बात को प्रासंगिक डेटा के माध्यम से और ज्यादा पुष्ट किया जा सकता है जो दर्शाता है कि ईएसआईसी अस्पताल ने इस कोविड-19 महामारी के दौरान चिकित्सा देखभाल प्रदान करने में उल्लेखनीय रूप से बहुत अच्छा काम किया है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1652353

 

भारतीय रेलवे ने गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत 4 सितंबर, 2020 तक 8,09,000 से भी अधिक कार्यदिवस सृजित किए

भारतीय रेलवे ने गरीब कल्याण रोज़गार अभियान के तहत 4 सितंबर, 2020 तक प्रवासी श्रमिकों के लिए बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, ओडिशा, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में कुल 8,09,046 कार्यदिवस सृजित किए हैंI रेल एवं वाणिज्य और उद्योग मंत्री श्री पीयूष गोयल इस परियोजना के तहत इन राज्यों में प्रवासी मजदूरों के लिए काम के अवसरों में हुई प्रगति की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं। इन राज्यों में लगभग 164 रेलवे अवसंरचना परियोजनाओं का निष्पादन किया जा रहा है। इस अभियान में 4 सितंबर, 2020 तक करीब 12,276 श्रमिकों को जोड़ा जा चुका है और इन परियोजनाओं के कार्यान्वयन के लिए ठेकेदारों को 1,631.80 करोड़ रुपये का भुगतान जारी किया गया है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1652358

 

केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने कहा, कोविड के बाद की अर्थव्यवस्था में इंडियन मर्चेंट्स चैम्‍बर (आईएमसी) की भूमिका महत्वपूर्ण होगी

केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा है कि कोविड के बाद की अर्थव्यवस्था में इंडियन मर्चेंट्स चैम्‍बर (आईएमसी) की भूमिका काफी महत्‍वपूर्ण है। उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत मिशन को साकार करने के लिए यह काफी अहम है। डॉ. जितेंद्र सिंह ने आईएमसी चैम्‍बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के 114वें स्थापना दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर अपने ऑनलाइन संबो‍धन में कहा कि देश के सबसे पुराना चैम्‍बर ऑफ कॉमर्स होने के नाते आईएमसी का गौरवशाली अतीत और एक महान विरासत है और भविष्य के लिए भी उससे उतनी ही अधिक उम्मीदें हैं। डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत की अवधारणा के लिए आत्‍मनिर्भरता महत्वपूर्ण है और आईएमसी जैसे प्रतिष्ठित व्यापारिक संगठनों से उम्मीद की जाती है कि वह इस ओर पहल करेगा। उन्होंने कहा कि कोविड के बाद की परिस्थिति में जब पूरी दुनिया इससे उबरने की कोशिश कर रही है, भारत के लिए यह एक चुनौती के साथ-साथ एक अवसर भी है। डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने कहा कि स्थानीय स्तर पर जो भी उपलब्ध है उसका उपयोग करना और स्थानीय स्तर पर जो उपलब्ध नहीं है उसे बनाना अथवा तैयार करना ही 'लोकल फॉर वोकल' का सार है। डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने कहा कि आत्‍मनिर्भर भारत की अवधारणा का आधुनिकता, विकास और उन्नति के साथ कोई टकराव नहीं है, बल्कि यह एक शांतिपूर्ण, प्रगतिशील और समृद्ध तरीके से भारत के लिए आत्‍मनिर्भता के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए है। डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कोरोना वैश्विक महामारी के मद्देनजर सभी क्षेत्रों की मदद करने और अर्थव्‍यवस्‍था को गति देने के लिए 20 लाख करोड़ रुपये से अधिक के आत्‍मनिर्भर पैकेज की घोषणा की है जो कि देश के सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी का लगभग 10 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि श्री नरेन्‍द्र मोदी द्वारा दिया गया 'लोकल फॉर वोकल' का मंत्र भारत में तेजी से एक जन आंदोलन बन रहा है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1652214

 

ईपीएफओ ने कोविड-19 महामारी के दौरान 1 अप्रैल से अब तक 94.41 लाख दावों का निपटारा किया

कोविड-19 महामारी के दौरान रोक के बावजूद कर्मचारी भविष्य निधि संगठन( ईपीएफओ) अप्रैल-अगस्त 2020 के दौरान 94.41 लाख दावों का निपटारा करते हुए अपने सदस्यों को 34,445 करोड़ रुपए का भुगतान करने में सफल रहा। इस अवधि में ईपीएफओ ने गत वर्ष की समान अवधि (अप्रैल-अगस्त 2019) की तुलना में लगभग 32 प्रतिशत अधिक दावों का निपटारा किया और 13 प्रतिशत अधिक भुगतान किया। इस संकट के दौरान अपने सदस्यों की नकदी के संकट में मदद करने के लिए कोविड-19 अग्रिम राशि दावे और बीमारी संबंधी अग्रिम राशि दावों का भी तेजी से निपटारा किया। इन दोनों श्रेणियों में अग्रिम भुगतान के लिए दावों के आटो मोड निपटारे की शुरुआत की गई। इसके कारण 20 दिनों के भीतर दावो का निपटारा करने की वैधानिक आवश्यकता के विरुद्ध ज्यादातर दावों का सिर्फ तीन दिनों के भीतर निपटारा किया गया। अप्रैल-अगस्त 2020 के दौरान निपटारे किए गए 55 प्रतिशत अग्रिम राशि दावे हाल ही में शुरू किए गए कोविड-19 अग्रिम राशि दावे से जुडे थे जबकि लगभग 31 प्रतिशत अग्रिम राशि दावे बीमारी के दावे से जुडे थे।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1652291

 

पत्र सूचना कार्यालय के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां

पंजाब : मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शहरी क्षेत्रों में लॉकडाउन के दौरान ओर राहत देने की घोषणा की है। अब शनिवार को भी गैर-जरूरी सामान की दुकाने खोलने की अनुमति होगी। संशोधित निर्णय के अनुसार गैर-जरूरी सामान की दुकाने सोमवार से शनिवार तक रात 9 बजे तक खुलेगी। इसके साथ ही सभी शहरों और कस्बों में रात का कर्फ्यू रात 9.30 बजे से सुबह 5 बजे तक लागू रहेगा।

हरियाणा : कोविड-19 महामारी को एक अवसर के रूप में बदलते हुए मुख्यमंत्री ने नए शैक्षणिक सत्र के दौरान सरकारी सहायता प्राप्त और स्ववित्त पोषित कॉलेज में स्नातक पाठ्यक्रमों के लिए ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया की वर्चुअल शुरुआत की है। इस नए प्लेटफॉर्म से छात्र घर में बैठे-बैठे प्रवेश प्रकिया को पूरा कर सकेंगे। मुख्यमंत्री ऩे इसके साथ ही छात्रों की प्रवेश संबंधी किसी भी समस्या का समाधान करने के लिए अपनी तरह के अनूठे शैक्षणिक वाटसएप चैटबोट आपका मित्र की भी शुरुआत की। छात्रोको प्रवेश और छात्रवृत्ति संबंधी किसी भी जानकारी के लिए वाटसएप चैटबोट नंबर 7419444449 पर एक संदेश भेजना होगा।

हिमाचल प्रदेश : नई शिक्षा नीति पर राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद के राज्यपालो, उपराज्यपाल और कुलपतियों के साथ वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के दौरान राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि हिमाचल प्रदेश ने नई शिक्षा नीति को सबसे पहले लागू करने का संकल्प लिया है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के कारण ऑनलाइन शिक्षा का विस्तार हुआ है, लेकिन इसके लिए अध्यापकों और छात्रों को प्रशिक्षित होना पड़ेगा और इस दिशा में कार्य करना होगा। जनजातीय और दुर्गम क्षेत्रों में टेलीफोन और इंटरनेट प्रणाली के कमजोर होने के कारण छात्रों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

अरुणाचल प्रदेश : राज्य में कोविड-19 के 180 नए मामले सामने आए हैं और 124 रोगियों को अस्पताल से छुट्टी दी गई। राज्य में 69 प्रतिशत की रिकवरी दर के साथ 1576 सक्रिय मामले हैं।

असम : राज्य में बीते 24 घंटो के दौरान 2250 कोविड-19 रोगियों को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई। राज्य में अब कोविड-19 के 128244 मामले हैं। इनमें से 99073 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दी गई है और 28798 सक्रिय मामले हैं।

मणिपुर : राज्य में 84 ओर लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। 75 प्रतिशत स्वस्थ होने की दर के साथ राज्य में 194 लोग स्वस्थ हुए और 1710 सक्रिय मामले हैं। मणिपुर सरकार सातों दिन चौबीसों घंटे कोविड नियंत्रण कक्ष सहायता नंबर( 18003453818) का संचालन कर रही है। 

मेघालय : राज्य में अब कोविड-19 के 1457 सक्रिय मामले हैं। इनमे से 314 सीमा सुरक्षा बल और सशस्त्र बलों से जुडे हैं। अब तक 1560 कोविड रोगी उपचार के बाद स्वस्थ हो चुके हैं।

मिजोरम : राज्य में कल कोविड-19 के नौ और मामले सामने आए। मिजोरम में अब कोरोना के 1123 मामले हैं। इनमें से 391 सक्रिय मामले हैं।

नगालैंड : कोहिमा में बसो में यात्री जिग्जैग रुप में बैठेंगे। बस में खड़े होकर यात्रा करने की अनुमति नहीं होगी। अधिकारी बसों की सामान्य जांच करेंगे।

सिक्किम : राज्य में आज कोविड-19 के 19 नए मामले मिले। राज्य में अब 538 सक्रिय मामले हैं और 1403 लोगों को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई है।

केरल : अनलॉक-4 के तहत कई राज्यों में बॉर खोलने की सिफारिश होने के बाद केरल में भी आबकारी विभाग ने बॉर खोलने की सिफारिश की है। राज्य में आज कोविड-19 से प्रसिद्ध मलयालयम नाटककार केए उमरकुट्टी सहित चार लोगों की मृत्यु हुई। राज्य में अब तक 363 लोगों की कोरोना वायरस से मृत्यु हो चुकी है। आईएमए की केरल इकाई ने राज्य सरकार पर अवैज्ञानिक प्रयासों के कारण संक्रमण का तेजी से विस्तार करने का आरोप लगाया है। आईएमए ने कहा कि ओणम के दौरान जांच में तेजी से कमी आई और सरकार ने इसे उचित ठहराने का प्रयास किया। सरकार ने इस बात को नजरअंदाज किया कि संक्रमण से प्रभावित लोग इधर-उधर घूमकर दूसरों को प्रभावित कर सकते हैं। इस बीच राज्य सरकार ने कोविड के मामलों में बढ़ोत्तरी होने के चलते विधानसभा उपचुनावों को रद्द करने का अनुरोध करने का निर्णय लिया है। राज्य में कल कोविड-19 के 1,648 नए मामले सामने आए। केरल में इस समय 22,066 लोग उपचार प्राप्त कर रहे हैं और 2,00,651 लोग एकांतवास में हैं।

तमिलनाडु : पुडुचेरी में बीते 24 घंटो में 12 और लोगों की मौत के साथ मृत्यु दर बढ़कर 1.9 प्रतिशत हो गई है और 440 नए मामले सामने आए। राज्य में अब तक 17749 लोग कोरोना वायरस से प्रभावित हुए हैं। इनमे से 12581 लोगों को उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई है और 337 लोगों की मृत्यु हुई है। पुडुचेरी में 4831 सक्रिय मामले हैं। राज्य विधानसभा के आगामी सत्र का आयोजन 14 से 16 सितंबर तक चेन्नई के कलाविनार अर्नरगम में होगा। सदन की कार्यवाही में भाग लेने वाले सभी लोगों से सदन की शुरुआत होने से 72 घंटे पहले कोविड-19 की जांच कराने का अनुरोध किया गया है। बुधवार से पर्यटक कोडईकेनाल का दौरा कर सकते हैं।

कर्नाटक : कोविड-19 के कारण राज्य सरकार ने इस वर्ष मैसूरू दशहरा समारोह सादगी से मनाने का निर्णय लिया है। सरकार ने इसके साथ ही चामुंश्वेरी देवी को पूजा अर्पित कर दशहरा का उद्घाटन करने के लिए कोरोना योद्धा डॉक्टर, नर्स, पोरकर्मिक, आशा कर्मी और पुलिसकर्मियों आदि को आंमत्रित करने का फैसला भी किया है। राज्य वकालात परिषद ने उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश से अगले सप्ताह से न्यायालयों में नियमित कार्य शुरू कराने का अनुरोध किया है। मांडया जिला प्रशासन ने ग्रामीण आंतरिक क्षेत्रों में कोविड जांच के लिए ग्रामीणों की झिझक को देखते हुए डोरस्टेप जांच संग्रह की शुरुआत की है। जिले में 2,222 सक्रिय मामले हैं। 

आंध्रप्रदेश : राज्य में कोरोना के 5 लाख से अधिक मामले हो गए हैं और कुल 5,06,493 मामले हैं। सोमवार को मृतकों की संख्या बढ़कर 4,487 हो गई। राज्य में सकल संक्रमण पॉजिटिविटी दर बढ़कर 12.16 प्रतिशत और रिकवरी दर बढ़कर 79.78 प्रतिशत हो गई जबकि मृत्युदर 0.89 प्रतिशत पर स्थिर है। राज्य में 12 मार्च को कोरोना का पहला मामला सामने आने के बाद कुल 5 लाख मामले होने में 180 दिन का समय लगा जबकि अंतिम 2 लाख मामले केवल 20 दिनों में सामने आए। इस बीच मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्‍फ्रेंस के द्वारा कोरोना वायरस के निपटने के प्रयासों की समीक्षा की और लोगों से सतर्क रहने के लिए कहा।

तेलंगाना : राज्य में बीते 24 घंटो में कोरोना वायरस के 2392 नए मामले सामने आए, 2346 लोग स्वस्थ हुए और 11 लोगों की मृत्यु हुई। 2392 मामलों में से 304 मामले जीएचएमसी में मि्ले। राज्य में अब कोरोना के कुल 1,45,163 मामले है। इनमें से 31,670 सक्रिय मामले हैं। अब तक 906 लोगों की मृत्यु हो चुकी है और 1,12,587 लोगों को उपचार के बाद छुट्टी दी गई है। राज्य सरकार के स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार तेलंगाना के सरकारी अस्पतालों और निजी शिक्षण अस्पतालों में कोविड रोगियों के लिये 17,734 बेड उपलब्ध हैं। देशभर में तेलंगाना के स्वास्थ्य कर्मियों की कोविड-19 पॉजिटिविटी दर के सबसे अधिक होने पर चिंता व्यक्त करते हुए प्रदेश कांग्रेस ने घटिया पीपीई किट की जांच की मांग की है।

महाराष्ट्र : राज्य में लॉकडाउन में छूट मिलने के बाद जांच किट की उत्पादन लागत में कमी आने के बाद सरकार ने निजी प्रयोगशालाओं द्वारा किए जाने जाने वाले आरटी-पीसीआर जांच की दर में ओर कमी की है। सरकार द्वारा लिए गए निर्णय के अनुसार संग्रहण स्थल से जांच के नमूने एकत्र करने के लिए अब 1900 रुपए की जगह 1200 रुपए देने होंगे। कियोस्क, कोविड-19 देखभाल संग्रहण केंद्र, अस्पताल, क्लीनिक, प्रयोगशाला के एकांतवास केंद्र से पहले के 2200 रुपए के मुकाबले अब 1600 रुपए की लागत आएगी।

मध्यप्रदेश : राज्य सरकार ने 31 अक्टूबर तक कोरोना वायरस के उपचार के लिए 3600 ऑक्सीजन बेड और 564 आईसीयू बेड बढ़ाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। कोरोना वायरस की समीक्षा करने के लिए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आयोजित एक बैठक के बाद स्वास्थ्य शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने बताया कि कोविड-19 रोगियों का उपचार करने वाले निजी अस्पताल महामारी के विस्तार पहले की दर से केवल 40 प्रतिशत अधिक शुल्क ले सकते हैं।

छत्तीसगढ़: राज्य में कोरोना वायरस से 2,017 ओर लोगों के प्रभावित होने के बाद कुल 47,280 मामले हो गए हैं। 15 और लोगों की कोविड-19 से मृत्यु होने के बाद छत्तीसगढ़ में अब तक 395 लोगों की कोरोना वायरस से मृत्यु हो चुकी है। 2,017 ताजा मामलों में से रायपुर जिले में सबसे ज्यादा 654 मामले सामने आए हैं। रायपुर जिले में कोरोना के सबसे अधिक 16,866 मामले हैं और अब तक यहां 207 लोगों की मौत हो चुकी है।

FACTCHECK

http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image007BZ0L.jpg

***

एमजी/एएम/एजे/एसएस



(Release ID: 1652549) Visitor Counter : 13