PIB Headquarters

कोविड-19 पर पीआईबी का दैनिक बुलेटिन

Posted On: 23 JUL 2020 6:37PM by PIB Delhi

 

Coat of arms of India PNG images free download

 

 

 

 

 

 

 

(पिछले 24 घंटों में जारी कोविड-19 से संबंधित प्रेस विज्ञप्तियां, पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां और पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य शामिल हैं)

अब तक एक दिन में सर्वाधिक लगभग 30,000 मरीजों के ठीक होने के साथ ही कोविड-19 से ठीक होने वाले लोगों की कुल संख्या 7.82 लाख से अधिक हुई।

रोगियों के ठीक होने (रिकवरी) की दर बढ़कर 63.18 प्रतिशत हुई।

अभी देश भर में केवल 4,26,167 सक्रिय मरीज हैं।

आज की तारीख में मृत्यु दर 2.41 प्रतिशत है और इसमें लगातार गिरावट आ रही है।

भारत में निवेश करने का इससे बेहतर समय कभी नहीं रहाः प्रधानमंत्री

भारत के डिजिटल नवाचारों ने कोविड-19 से लड़ने में मदद कीः श्री रविशंकर प्रसाद

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय से कोविड-19 पर प्राप्त अपडेट; अब तक एक दिन में सर्वाधिक लगभग 30,000 मरीजों के ठीक होने के साथ ही कोविड-19 से ठीक होने वाले लोगों की कुल संख्या 7.82 लाख से अधिक हुई

आज लगातार दूसरे दिन भी कोविड-19 से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या में बड़ी तेजी दर्ज की गई। पिछले 24 घंटों में एक दिन के दौरान अब तक के सर्वाधिक यानी 29,557 मरीज कोविड-19 बीमारी से ठीक हुए हैं और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। इसके साथ ही कोविड-19 बीमारी से ठीक होने वाले लोगों की कुल संख्या बढ़कर 7,82,606 हो गई है और इस तरह इस बीमारी से ठीक होने की दर में भी सराहनीय वृद्धि दर्ज की गई है जो अभी 63.18 प्रतिशत है। इस बीमारी से ठीक होने और अस्पताल से छुट्टी पाने वाले रोगियों की अधिक संख्या की वजह से अब तक ठीक होने वाले कुल मरीजों और इसके कुल सक्रिय मामलों के बीच का अंतर बढ़ता ही जा रहा है। यह अंतर आज 3,56,439 हो गया है। अभी देश भर में केवल 4,26,167 सक्रिय मरीज हैं। केंद्र और राज्य/केंद्र शासित प्रदेश की सरकारों के इन संयुक्त प्रयासों से मृत्यु दर को निम्न स्तर पर रखने में मदद मिल रही है। आज की तारीख में मृत्यु दर 2.41 प्रतिशत है और इसमें लगातार गिरावट आ रही है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1640674

प्रधानमंत्री ने इंडिया आइडियाज समिट को किया संबोधित

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कल इंडिया आइडियाज समिट को संबोधित किया। यह सम्मलेन अमेरिका-भारत व्यापार परिषद (यूएसआईबीसी) द्वारा आयोजित किया गया। प्रधानमंत्री ने विकास के एजेंडे के मूल में गरीबों और कमजोरों को रखने की जरूरत के बारे में बात की। उन्होंने जोर देकर कहा कि 'ईज ऑफ लिविंग' उतना ही महत्वपूर्ण है जितना 'ईज ऑफ बिजनेस'। उन्होंने कहा कि महामारी ने हमें बाहरी झटकों के खिलाफ वैश्विक अर्थव्यवस्था के लचीलेपन की महत्ता की याद दिलाई है, जो मजबूत घरेलू आर्थिक क्षमताओं द्वारा हासिल की जा सकती है। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि 'आत्मनिर्भर भारत' के आह्वान के जरिए भारत एक समृद्ध और सशक्त दुनिया बनाने में अपना योगदान  दे रहा है। उन्होंने कहा कि पिछले छह वर्षों में हमारी अर्थव्यवस्था को ज्यादा खुली और सुधार उन्मुख बनाने के प्रयास किए गए हैं। उन्होंने आगे कहा कि सुधारों से प्रतिस्पर्धात्मकता, ज्यादा पारदर्शिता, डिजिटलीकरण का विस्तार, ज्यादा नवाचार और ज्यादा नीतिगत स्थिरता सुनिश्चित हुई है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1640555

इंडिया आइडियाज समिट 2020 में प्रधानमंत्री का संबोधन

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1640573

प्रधानमंत्री ने मणिपुर में जल आपूर्ति परियोजना की आधारशिला रखी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से मणिपुर में जल आपूर्ति परियोजना की आधारशिला रखी। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि ऐसे समय में जब कि देश कोविड-19 के खिलाफ अथक संघर्ष कर रहा है, पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत को भारी बारिश और बाढ़ की दोहरी चुनौतियों से जूझना पड़ रहा है जिसके कारण कई लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है और कई लोग बेघर हो गए हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि मणिपुर सरकार ने लॉकडाउन के दौरान सभी आवश्यक व्यवस्थाएं कीं और प्रवासियों की वापसी के भी पूरे इंतजाम किए। उन्होंने कहा कि मणिपुर में लगभग 25 लाख गरीबों को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत मुफ्त अनाज मिला है। इसी तरह से 1.5 लाख से अधिक महिलाओं को उज्ज्वला योजना के तहत मुफ्त गैस सिलेंडर की सुविधा दी गई है। 3000 करोड़ रुपये की लागत से कार्यान्वित की जा रही जल आपूर्ति परियोजना का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि यह राज्य में पेयजल की समस्याओं को कम करेगा जिससे विशेष रूप से राज्य की महिलाओं को बड़ी राहत मिलेगी।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1640670

डीआरडीओ ने उच्च उन्नतांश अनुसंधान रक्षा संस्थान (डीआईएचएआर), लेह में कोविड-19 परीक्षण सुविधा की स्थापना की

डीआरडीओ ने केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में कोरोना मामलों की पहचान के उद्देश्य से परीक्षण की दर को बढ़ाने के लिए लेह स्थित प्रयोगशाला, उच्च उन्नतांश अनुसंधान रक्षा संस्थान (डीआईएचएआर) में कोविड-19 परीक्षण सुविधा की स्थापना की है। परीक्षण सुविधा से संक्रमित व्यक्तियों पर निगरानी रखने में भी मदद मिलेगी। यह सुविधा भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के सुरक्षा मानकों और दिशा-निर्देशों के अनुरूप है। लद्दाख के लेफ्टिनेंट गवर्नर श्री आर के माथुर ने कल इस सुविधा केंद्र का उद्घाटन किया था। डीआईएचएआर की परीक्षण सुविधा, प्रति दिन 50 नमूनों की जांच करने में सक्षम है। इस सुविधा का उपयोग लोगों को कोविड परीक्षण का प्रशिक्षण देने के लिए भी किया जा सकता है। भविष्य के जैव-खतरों से निपटने में और कृषि-पशुओं की बीमारियों के लिए आर एंड डी गतिविधियों को पूरा करने में इस सुविधा से बहुत मदद मिलेगी।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1640651

वित्त मंत्री ने सीपीएसई के पूंजी व्यय पर दूसरी समीक्षा बैठक की

केन्द्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने इस वित्त वर्ष (एफवाई) में पूंजी व्यय की समीक्षा के लिए आज नागर विमान और इस्पात मंत्रालयों के सचिवों, चेयरमैन रेलवे बोर्ड (सीआरबी) के साथ ही इन मंत्रालयों से संबंधित सार्वजनिक क्षेत्र के केन्द्रीय उपक्रमों (सीपीएसई) के सीएमडी के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बैठक की। यह समीक्षा बैठकों की श्रृंखला की दूसरी बैठक थी, जो वित्त मंत्री कोविड-19 महामारी की पृष्ठभूमि में आर्थिक विकास को गति देने के लिए विभिन्न हितधारकों के साथ काम कर रही हैं। भारतीय अर्थव्यवस्था को गति देने में सीपीएसई की महत्वपूर्ण भूमिका का उल्लेख करते हुए वित्त मंत्री ने इन लक्ष्यों को हासिल करने के लिए बेहतर प्रदर्शन सीपीएसई को प्रोत्साहित किया और वित्त वर्ष 2020-21 के लिए उपलब्ध कराए गए पूंजी परिव्यय का उचित तथा समयबद्ध तरीके से व्यय सुनिश्चित करने के लिए कहा। श्रीमती सीतारमण ने कहा कि सीपीएसई के बेहतर प्रदर्शन से अर्थव्यवस्था को कोविड-19 के प्रभाव से व्यापक स्तर पर उबरने में सहायता मिल सकती है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1640718

उप-राष्ट्रपति ने मीडिया उद्योग में कोविड के कारण उत्पन्न वित्तीय कठिनाइयों पर चिंता व्यक्त की

उप-राष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने मीडिया उद्योग में कोविड के कारण उत्पन्न वित्तीय कठिनाइयों पर चिंता व्यक्त की और सभी से अपील करते हुए कहा कि इस कठिन समय में अपने कर्मचारियों के साथ सहानुभूति और जिम्मेदारी के साथ पेश आएं तथा उनके साथ खड़े रहें। कल स्वर्गीय श्री एम.पी. वीरेंद्र कुमार के सम्मान में आयोजित वर्चुअल स्मरणीय बैठक में श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए, उपराष्ट्रपति ने श्री वीरेन्द्र कुमार से प्रेरणा लेने और अपने साथी नागरिकों के प्रति अधिक संवेदनशील रवैया अपनाने की अपील की। उप-राष्ट्रपति ने इस महामारी के दौरान सही और प्रामाणिक जानकारी प्रदान करने के महत्व पर भी प्रकाश डाला। उन्होंने इस कार्य में शामिल जोखिमों के बावजूद महामारी पर जानकारी और सावधानियों के बारे में लोगों को सशक्त बनाने के लिए मीडिया की सराहना की। हालांकि, उन्होंने कोविड-19 के उपचार के बारे में असत्यापित और निराधार दावों के खिलाफ मीडिया को सतर्क रहने के प्रति आगाह भी किया।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1640577

डिजिटल प्लेटफॉर्मों को देश की संप्रभु के प्रति उत्तरदायी और जवाबदेह होना चाहिए: श्री रविशंकर प्रसाद

जी-20 डिजिटल अर्थव्यवस्था मंत्रियों की कल एक वर्चुअल बैठक आयोजित की गई। केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री श्री रविशंकर प्रसाद ने इस वर्चुअल बैठक के दौरान भारत का प्रतिनिधित्व किया। कोविड-19 जैसी वैश्विक महामारी के मद्देनजर श्री प्रसाद ने एक लचीली वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला बनाने की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने भारत को वैश्विक आपूर्ति श्रृंखलाओं के साथ करीबी तौर पर संबद्ध एक आकर्षक निवेश गंतव्य बनाने के लिए भारत के प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण को साझा किया। श्री प्रसाद ने इस वैश्विक सभा में बताया कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत ने किस प्रकार कोविड-19 संकट को अन्य देशों के मुकाबले बेहतर तरीके से प्रबंधित किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने शुरुआती राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का साहसिक निर्णय लिया जिससे देश में वायरस के प्रसार को रोकने और आगामी चुनौतियों से निपटने के लिए प्रभावी तौर पर तैयारी करने में मदद मिली। केंद्रीय मंत्री ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में मददगार साबित होने वाले भारत के डिजिटल नवाचारों को साझा किया। उन्होंने इस बैठक के दौरान आरोग्य सेतु मोबाइल ऐप, क्वारंटाइन रोगियों की निगरानी के लिए जियो-फेंसिंग प्रणाली और बल्क मैसेजिंग प्रणाली कोविड-19 सावधान जैसी पहल के बारे में बात की। उन्होंने यह भी बताया कि कैसे डिजिटल तकनीक ने इस संकट के दौरान समाज के आर्थिक रूप से कमजोर तबकों को राहत देने में भारत सरकार की मदद की। प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण और डिजिटल भुगतान जैसे भारत के डिजिटल नवाचारों का उपयोग करते हुए समाज के सबसे कमजोर लोगों को लॉकडाउन के दौरान विभिन्न वित्तीय राहत प्रदान की गई।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1640581

पीएमजीकेएवाई-2 के अंतर्गत राज्यों और संघ शासित प्रदेशों ने 19.32 एलएमटी खाद्यान्न का उठाव किया

लॉकडाउन के बाद से, लगभग 139.97 एलएमटी खाद्यान्न का उठाव किया गया और 4,999 रेल रैक्स के माध्यम से इसकी ढुलाई हो चुकी है, वहीं 30 जून, 2020 तक कुल 285.07 एलएमटी खाद्यान्न पहुंचाया जा चुका है। 1 जुलाई, 2020 के बाद, 26.69 एलएमटी खाद्यान्न का उठाव हो चुका है और 953 रेल रैक्स के माध्यम से ढुलाई हो चुकी है। रेल मार्ग के अलावा, सड़क और जल मार्गों के माध्यम से भी ढुलाई की गई थी। 1 जुलाई, 2020 के बाद कुल 50.91 एलएमटी खाद्यान्न की ढुलाई हो चुकी है। 1 जुलाई, 2020 के बाद पूर्वोत्तर राज्यों को कुल 1.63 एलएमटी खाद्यान्न पहुंचाया जा चुका है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1640496

पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां

पंजाब: राज्य में कोविड परीक्षण क्षमता बढ़ाने के लिए, पंजाब सरकार पटियाला, अमृतसर और फरीदकोट में तीन सरकारी मेडिकल कॉलेजों में वायरल जांच प्रयोगशालाओं के लिए सात स्वचालित आरएनए निष्कर्षण मशीने खरीदेंगी, यह मोहाली, लुधियाना और जालंधर में नई स्थापिक वायरल जांच प्रयोगशालाओं में चार के अलावा होंगी। इस कदम का उद्देश्य राज्य में जांच क्षमता को बढ़ाते हुए मिशन फतेह के तहत महामारी के प्रसार को नियंत्रित करना है।

हिमाचल प्रदेश: अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य आरडी धीमान ने कहा कि राज्य में कोरोना महामारी के प्रसार को रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में कोरोना की स्थिति अन्य राज्यों की तुलना में बेहतर है। उन्होंने कहा कि राज्य में नियमित रूप से कोविड-19 की जांच की जा रही है। उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएचओ और भारत सरकार के मानकों के अनुसार कोरोना संक्रमण की दर 5 प्रतिशत से कम होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि व्यापक जांच के बावजूद, कोरोना मामलों की पुष्टि की दर 1.3 प्रतिशत रही, जबकि राज्य में मृत्यु दर 0.84 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि देश में की जा रही 11000 प्रति मिलियन जांच की तुलना में राज्य में प्रति मिलियन पर 17000 नमूने लिए जा रहे हैं।

केरल: राज्य सरकार ने राज्य में कोविड-19 के तेजी से प्रसार के मद्देनजर 27 जुलाई को होने वाले विधानसभा सत्र को रद्द कर दिया है। अगले सोमवार को एक विशेष कैबिनेट की बैठक में यह तय किया जाएगा कि राज्य में एक और लॉकडाउन किया जाए या नहीं। आईएमए ने कहा है कि राज्य में पूर्ण लॉकडाउन की बजाय क्षेत्रीय लॉकडाउन सामुदायिक प्रसार को रोकने में प्रभावी होगा। राज्य में कोविड के कारण तीन और मत्यु दर्ज हुई हैं। तिरुवनंतपुरम, कोझिकोड और मलप्पुरम में हुई इन मृत्युओं के साथ मृतकों की संख्या 48 पहुंच गई हैं। राज्य में एक दिन में कल 1038 नए मामले दर्ज किए गए हैं, जिनमें से 785 स्थानीय संपर्क से थे। वर्तमान में, 8,818 मरीजों का इलाज चल रहा है और 1.59 लाख लोग विभिन्न जिलों में निगरानी में हैं।

तमिलनाडु: पुडुचेरी में तीन मृत्यु के साथ कोविड-19 के 123 नए मामलें दर्ज किए गए हैं, इससे गुरुवार को कुल मामलों की संख्या 2,420 और सक्रिय मामलों की संख्या 987 और मृतकों की कुल संख्या 33 तक पहुंच गई हैं। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री सी विजयभास्कर ने राजीव गांधी राजकीय अस्पताल में 2.34 करोड़ रुपये की लागत से स्थापित एक प्लाज्मा बैंक का उद्घाटन किया। राज्य ने छात्रों को मार्कशीट प्राप्त करने के लिए 24-30 जुलाई तक स्कूल जाने की अनुमति दे दी है। राज्य ने अंतिम वर्ष के कॉलेज के छात्रों के अलावा सभी लिए सेमेस्टर परीक्षा भी रद्द कर दी हैं। कल 5,849 नए मामले दर्ज हुए और 74 मृत्यु हुईं। कुल मामले: 1,86,492; सक्रिय मामले: 51,765; मृत्यु: 3144; चेन्नई में सक्रिय मामले: 13,941.

कर्नाटक: कोविड-19 मामलों की प्रतिदिन तेजी से बढ़ती संख्या में अब बीमारी की डबलिंग दर के मामले में कर्नाटक भी आंध्र प्रदेश और मेघालय के साथ शीर्ष में शामिल हो गया है। कर्नाटक ने कल एक दिन में सबसे ज्यादा 4,764 कोविड-19 मामलें दर्ज किए गए और अब यहां कुल मामलों की संख्या 75,833 तक पहुंच गयी है। बेंगलुरु शहर में 2050 मामले सामने आए। कल तक के कुल मामले: 75,834; सक्रिय मामले: 47,069; मृत्यु: 1519; ठीक हुए रोगी: 27,239।

अरुणाचल प्रदेश: अरुणाचल प्रदेश की राजधानी इटानगर के विभिन्न स्थानों पर कोविड-19 के लिए त्वरित एंटीजन जांच की जा रही है। इस त्वरित जांच के लिए 20 टीमें काम कर रही हैं और उन्होंने कल दो हज़ार से अधिक एंटीजन जांच की जिसमें 28 मामलों की पुष्टि हुई है। राजधानी इटानगर क्षेत्र के सभी मुख्य तीन अस्पताल सैनिटाइजेशन के लिए बंद किये गए हैं। राज्य का एकमात्र मेडिकल कॉलेज अस्पताल टीआरआईएचएमएस (तोमो रिबा इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ एंड मेडिकल सांइसेज) तत्कालीन मामले और कैंसर के इलाज के लिए संचालन में रहेगा।

मणिपुर: मणिपुर में, सप्ताह भर के लॉकडाउन के दिशा-निर्देश जारी कर दिये गए हैं। आवश्यक सेवाएं, आवश्यक वस्तुएं, कृषि और संबंधित गतिविधियों व सार्वजनिक उपयोगिताओं की आपूर्ति सामान्य रूप से जारी होगी।

नागालैंड: नागालैंड में, कोविड-19 के 90 मामलों की पुष्टि की गई है। जिसमें से कोहिमा से 61, दीमापुर से 26, पेरेन से 2 और फेक से 1 मामले की पुष्टि की गई है। नागालैंड में 688 सक्रिय मामलों और 486 ठीक हुए मामलों के साथ कुल मामले 1174 हो गए हैं।

मिजोरम: मिजोरम में पांच कोविड-19 रोगियों को आज छुट्टी दे दी गई। राज्य में सक्रिय मामले 142 हैं जबकि 184 रोगी अब तक ठीक हो चुके हैं।

आंध्र प्रदेश: विशाखापत्तनम का किंग जॉर्ज अस्पताल (केजीएच) अभी भी चिकित्सा शिक्षा निदेशालय से कोवाक्सिन के नैदानिक परीक्षण को प्रारंभ करने की अनुमति की प्रतीक्षा कर रहा है। केजीएच क्लीनिकल परीक्षण करने के लिए आईसीएमआर द्वारा चुने गए 12 अस्पतालों में से एक है। राज्य के जिलाधिकारियों ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में सेवाओं का लाभ देने के लिए निजी चिकित्सकों सहित राज्य के सभी चिकित्सकों और चिकित्सा पेशेवरों की पहचान करने के निर्देश दिये हैं। 15 जुलाई से 22 जुलाई तक लगाए गए प्रतिबंध समाप्त हो जाने के बाद राज्य सड़क परिवहन निगम ने आज आंध्र प्रदेश और कर्नाटक के बीच अंतर-राज्य बस सेवाओं का संचालन फिर से प्रारंभ कर दिया है। राज्य में कल 6045 नए मामले और 65 मृत्यु दर्ज हुईं। राज्य में कुल मामले 64,713; सक्रिय मामले 31,763 और मृतकों की संख्या 823 हो गई है।

तेलंगाना: राज्य कोविड-19 की जांच प्रति दिन 25,000 नमूनों तक बढ़ाएगा। वर्तमान में, निजी प्रयोगशालाएं, प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं पर त्वरित जांच और सरकारी प्रयोगशालाओं में पीसीआर जांच एक दिन में 15,000 स्वाब नमूनों तक की जांच करने में सक्षम हैं। राज्य में कल 1554 नए मामले और 09 मृत्यु दर्ज की गई हैं। 1554 मामलों में से, 842 मामले जीएचएमसी में दर्ज किए गए हैं। राज्य में कुल 49,259 मामले, 11,155 सक्रिय मामले, 438 मृत्यु और ठीक हुए मरीजों की संख्या 37,666 हो गई है।

महाराष्ट्र: बुधवार को राज्य में एक दिन में अब तक के सर्वाधिक 10,576 मामलों के दर्ज होने के साथ कुल कोविड मामलों की संख्या 3,37,607 हो गई है। राज्य में 5,552 रोगियों के ठीक होने के साथ सक्रिय मामलों की संख्या 1,36,980 है जबकि मृतकों की संख्या 12,556 है। महाराष्ट्र सरकार मुंबई महानगर क्षेत्र के अस्पतालों में 'कोरोना वायरस बेड प्रबंधन' की देख-रेख के लिए एक एकल कमान केन्द्र स्थापित करने की योजना बना रही है जिसमें मुंबई, ठाणे, पालघर और नवी मुंबई शामिल हैं। यह भी स्पष्ट किया गया है कि राज्य में अब व्यापक स्तर पर लॉकडाउन नहीं होगा, क्योंकि लोगों के जीवन में सुधार लाने के लिए सामान्य स्थिति बहाल करने के प्रयास किये जा रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि जिम और शॉपिंग मॉल के साथ विभिन्न व्यापार और सेवाओं को फिर से शुरू करने के लिए राज्य एसओपी पर काम कर रहा है।

गुजरात: पिछले 24 घंटों में 1,020 नए मामलों के दर्ज होने के बाद राज्य में कोविड-19 मामलों की संख्या बढ़कर 51,485 हो गई। सूरत में मामलों की बढ़ती संख्या चिंता का विषय है; जिले में बुधवार को सबसे अधिक 256 मामलों की पुष्टि की गई है। सूरत में अब 11,128 सक्रिय मामले हैं, जबकि जिले में मृतकों की संख्या 500 का आंकड़ा पार कर चुकी है।

राजस्थान: राज्य में 961 नए कोविड-19 मामलों की पुष्टि की गई जिससे राज्य में कुल मामले 32,334 हो गए हैं। जोधपुर (212), अलवर (180) जयपुर (85) जिलों से कल अधिकतम नए मामलों की पुष्टि की गई। हालांकि, सक्रिय मामलों की संख्या केवल 8,387 है।

मध्य प्रदेश: मध्य प्रदेश के सहकारिता मंत्री अरविंद सिंह भदौरिया कोविड-19 पॉजिटिव पाये गए। राज्य में गुरुवार को 747 नए मामलों दर्ज किये गए, जिससे राज्य में अब कुल मामलों की संख्या 24,842 हो गई है हालांकि, इनमें सक्रिय मामलों की संख्या 7,236 है।

छत्तीसगढ़: छत्तीसगढ़ में बुधवार को 230 नए कोविड-19 मामलों दर्ज किये गए। अधिकांश नए मामले रायपुर (70) इसके बाद सुखमा (36) और दुर्ग (28) में दर्ज किये गए। इस बीच पुलिस की निगरानी में रायपुर और राज्य के सात अन्य शहरी केंद्रों पर सख्त लॉकडाउन लागू किया जा रहा है।

एसजी/एएम/एसके/एसएस



(Release ID: 1640840) Visitor Counter : 43