PIB Headquarters

कोविड-19 पर पीआईबी का दैनिक बुलेटिन

Posted On: 03 JUL 2020 6:32PM by PIB Delhi

Description: Coat of arms of India PNG images free download

 (पिछले 24 घंटे में जारी कोविड-19 से संबंधित प्रेस विज्ञप्तियां, पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां और पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य शामिल हैं)

  कोविड-19 के मरीजों के ठीक होने की दर 60.73 प्रतिशत पर पहुंच गई है। पिछले 24 घंटे के दौरान 20,033 कोविड-19 मरीज ठीक हुए है, जिसके बाद ठीक होने वाले मरीजों की कुल संख्या 3,79,891 पर पहुंच गई है।

वर्तमान में, 2,27,439 सक्रिय मामले हैं और सभी चिकित्सकीय देख-रेख में हैं।

रोजाना नमूनों की जांच में धीरे-धीरे बढ़ोतरी के साथ अब तक 93 लाख नमूनों की जांच की जा चुकी हैं; पिछले 24 घंटों के दौरान 2,41,576 नमूनों की जांच की गई।

केन्द्र सरकार ने राज्यों को 2 करोड़ से अधिक एन 95 मास्क और 1 करोड़ से अधिक पीपीई किट मुफ्त वितरित किए।

केन्द्रीय गृह मंत्री ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के लिए एक एकीकृत कोविड-19 रणनीति बनाने के लिए दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्रियों से मुलाकात कीं। 

कोविड-19 महामारी के बीच 20 लाख से अधिक आय करदाताओं को 62,361 करोड़ रुपये रिफंड किए गए।

लॉकडाउन के दौरान 19 लाख परिवारों को नल कनेक्शन प्रदान किए गए।

 

Description: Image

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय से कोविड-19 पर प्राप्त अपडेट: ठीक होने (रिकवरी) की दर 60 प्रतिशत के पार; रोजाना ठीक होने वालों की संख्या में तेजी से वृद्धिः पिछले 24 घंटो में 20,033 लोग ठीक हुए; ठीक होने वालों की संख्या सक्रिय मामलों से 1.5 से भी अधिक हुई; पिछले 24 घंटों में 2.4 लाख से अधिक लोगों की जांच की गई

कोविड-19 की तैयारियों पर एक उच्च-स्तरीय समीक्षा बैठक आज राज्यों/संघ शासित प्रदेशों के साथ कैबिनेट सचिव द्वारा आयोजित की गई। कोविड-19 के रोगियों के ठीक होने (रिकवरी) की दर आज 60.73 प्रतिशत है। कोविड-19 के मामलों के प्रारंभ में पता लगने और समय पर नैदानिक प्रबंधन के परिणामस्वरूप रोजाना ठीक होने वाले लोगों की संख्या बढ़ रही है। पिछले 24 घंटों के दौरान, 20,033 कोविड-19 रोगियों के ठीक होने के साथ ठीक होने वालों की संख्या में तेजी से वृद्धि देखी गई, जिसके बाद संचयी आंकड़ा 3,79,891 पर पहुंच गया है। वर्तमान में, 2,27,439 सक्रिय मामले हैं और सभी चिकित्सकीय देख-रेख में हैं। अब तक, कोविड-19 के सक्रिय मामलों की तुलना में 1,52,452 ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं।

हर दिन नमूनों की जांच में बढ़ोतरी की गई है जिससे अब तक 93 लाख नमूनों की जांच की जा चुकी है। पिछले 24 घंटों के दौरान 2,41,576 नमूनों की जांच की गई। अब तक कुल जांचे गए नमूनों की संख्या 92,97,749 है। देश में परीक्षण प्रयोगशालाओं के लगातार बढ़ते नेटवर्क के कारण यह संभव हुआ है। सरकारी क्षेत्र में 775 प्रयोगशालाओं और 299 निजी प्रयोगशालाओं के साथ, आज 1074 प्रयोगशालाएं हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

केन्द्र सरकार ने राज्यों को 2 करोड़ से अधिक एन-95 मास्क और 1 करोड़ से अधिक पीपीई किट मुफ्त वितरित किए

इस महामारी से लड़ने के लिए स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत बनाने में केन्द्र सरकार बड़ी भूमिका  है। पहली अप्रैल 2020 से लेकर अब तक केन्द्र की ओर से राज्यों, केन्द्र शासित प्रदेशों और केन्द्रीय संस्थानों को 2.02 करोड़ से ज्यादा एन-95 मास्क1 करोड़ 18 लाख से अधिक पीपीई किट वितरित किए जा चुके हैं। साथ ही हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की 6 करोड़ 12 लाख टैबलेट उन्हें वितरित की गई। इसके अलावा 11300मेक इन इंडियावेंटिलेटर भी राज्यों, केन्द्र शासित प्रदेशों और केन्द्रीय संस्थानों को भेजे गए हैं। इनमें से 6154 वेंटिलेटर विभिन्न अस्पतालों तक पहुंचाए भी जा चुके हैं। इससे कोविड के उपचार के लिए बनाए गए गहन चिकित्सा‍ कक्ष सुविधाओं में वेंटिलेंटरों की कमी को पूरा किया जा सकेगा। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को 1.02 लाख ऑक्सीजन सिलेंडर भी उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इनमें से 72,293 की आपूर्ति अस्पतालों में ऑक्सीजन की सुविधा वाले बिस्तरों के लिए की जा चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा अब तक दिल्ली में 7.81 लाख पीपीई किट और 12.76 लाख एन-95 मास्क की आपूर्ति की जा चुकी हैं। इसके अलावा महाराष्ट्र सरकार को 11.78 लाख पीपीई किट और 20.64 लाख एन-95 मास्क दिए गए हैं। तमिलनाडु को 5.39 लाख पीपीई किट और 9.81 लाख एन-95 मास्क की आपूर्ति की गई है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

आयकर विभाग ने कोविड-19 महामारी के बीच 20 लाख से अधिक करदाताओं को 62,361 करोड़ रुपये के रिफंड जारी किए

कोविड-19 महामारी की मौजूदा स्थिति में करदाताओं की मदद करने के उद्देश्य से सरकार द्वारा लंबित पड़े आयकर रिफंड को जारी करने के संबंध में आयकर विभाग ने 8 अप्रैल से 30 जून,2020 तक प्रति मिनट 76 मामलों की गति से रिफंड जारी किए हैं। इस अवधि के दौरान केवल 56 कार्य दिवसों में केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने 20.44 लाख से अधिक मामलों का निपटारा करते हुए 62,361 करोड़ रुपये से अधिक का आयकर रिफंड जारी किया। यह कहा गया है कि देश के करदाता आयकर विभाग के इस पहलू का अनुभव कर रहे हैं जो न केवल करदाता के अनुकूल है,बल्कि यह कोविड-19 महामारी के इस कठिन समय में धन उपलब्ध कराने वाले एक सहायक का भी रूप है। इस अवधि के दौरान करदाताओं को 19,07,853 मामलों में कुल 23,453.57 करोड़ रुपये आयकर रिफंड और 1,36,744 मामलों में कुल 38,908.37 करोड़ रुपये कॉर्पोरेट कर रिफंड जारी किए गए।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

केंद्रीय गृह मंत्री ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के लिए एक एकीकृत कोविड-19 रणनीति बनाने के लिए दिल्ली, हरियाणा और उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की

केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने कल राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में कोविड-19 के प्रबंधन और इस महामारी से निपटने की एकीकृत रणनीति बनाने के लिये दिल्ली, हरियाणा और उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। उन्होंने कोविड-19 के संदिग्ध लोगों के अधिक परीक्षण पर ध्यान देने की आवश्यकता पर जोर दिया ताकि एनसीआर क्षेत्र में संक्रमण की दर को कम किया जा सके। श्री अमित शाह ने कहा कि रैपिड एंटीजन टेस्ट किट के माध्यम से अधिक परीक्षण करने से विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा सुझाए गए संक्रमण के फैलने की दर को 10 प्रतिशत से कम करने में मदद मिलेगी। उन्होंने गरीबों और जरूरतमंदों की जान बचाने के लिए मानवीय दृष्टिकोण के महत्व पर जोर देते हुए कहा कि मरीजों को जल्द से जल्द अस्पताल में भर्ती किया जाना चाहिए, ताकि मृत्यु दर को कम किया जा सके। श्री अमित शाह ने एनसीआर में कोरोना संक्रमण की मैपिंग में आरोग्य सेतु और इतिहास ऐप के व्यापक उपयोग की बात कही। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कोविड रोगियों के लिए दिल्ली में इस्तेमाल होने वाले एम्स टेलीमेडिसिन परामर्श मॉडल का उत्तर प्रदेश और हरियाणा को भी अनुसरण करना चाहिए। इस बैठक में केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, केंद्र सरकार, उत्तर प्रदेश व हरियाणा तथा दिल्ली के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

कर्नाटक में 42 हजार आशाकर्मियों ने कोविड संक्रमण के जाखिम वाले लगभग 1.59 करोड़ परिवारों को सर्वेक्षण में शामिल किया

कर्नाटक की 42,000 आशा कार्यकर्ता कोविड-19 का मुकाबला करने में राज्य के सफल प्रयासों की एक महत्वपूर्ण स्तंभ बनकर उभरी हैं। ये कार्यकर्ता दूसरे राज्यों से आने वाले यात्रियों, प्रवासी श्रमिकों और समुदाय के अन्य लोगों में कोविड-19 के लक्षणों का पता लगाने के लिए सक्रिय रूप से घरेलू सर्वेक्षण और स्क्रीनिंग के कार्यों में भाग ले रही हैं। इन्होंने आबादी के कुछ विशेष समूहों में कोविड संक्रमण के खतरे की ज्यादा संभावना का पता लगाने के लिए घर-घर जाकर वहां रहने वाले बुजुर्गों, पहले से कई बीमारियों से पीडि़त लोगों और इम्यूनो वाले व्यक्तियों की पहचान करने के लिए करीब 1 करोड़ 59 लाख परिवारों का सर्वेक्षण किया। आशा कार्यकर्ता नियमित रूप से अपने क्षेत्रों में ऐसे उच्च जोखिम वाले समूहों की निगरानी करती हैं और इसके तहत कंटेनमेंट जोन वाले इलाकों में प्रति दिन एक बार और गैर कंटेनमेंट जोन वाले इलाकों में पन्द्रह दिन में एक बार हालात का जायजा लेने जाती हैं। इस दौरान वे आईएलआई/एसएआरआई लक्षणों और उच्च-जोखिम वाले ऐसे व्यक्तियों की स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का पता लगाने के लिए भी उनके घर जाते हैं जिन्होंने राज्य के स्वास्थ्य विभाग को फोन कर मदद मांगी हो।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

जल जीवन मिशन: लॉकडाउन के दौरान 19 लाख घरों में नल कनेक्शन दिए गए

जब पूरा देश कोविड-19 महामारी से मुकाबला रहा है, केंद्र सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में नल कनेक्शन प्रदान करके सुरक्षित पेयजल की व्यवस्था' के लिए सभी प्रयास कर रही है, ताकि लोगों को अपने घरों में पानी मिल सके। इससे लोग सार्वजनिक जगहों पर पानी लाने के लिए जमा नहीं होंगे। मिशन को लागू करने से स्थानीय लोगों व अपने घरों को लौटे प्रवासी श्रमिकों को रोजगार मिलेगा। इससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था को भी बढ़ावा मिलेगा। 2020-21 की पहली तिमाही में, देश भर के गांवों में 19 लाख नल कनेक्शन प्रदान किए गए हैं। कोविड-19 महामारी के कारण पैदा हुई प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद राज्यों के ठोस प्रयासों से यह संभव हुआ है। यह मिशन राज्यों के साथ साझेदारी में कार्यान्वित किया जा रहा है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री ने प्राथमिक स्तर के लिए 8 सप्ताह का वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर जारी किया

शिक्षकों और माता-पिता की मदद से घर पर शैक्षिक गतिविधियों के माध्यम से कोविड-19 के कारण घर पर रहने के दौरान छात्र-छात्राओं को सार्थक ढंग से जोड़ने के लिए प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्तर पर छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) के मार्गदर्शन में एनसीईआरटी द्वारा वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर विकसित किए गए हैं। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने कल प्राथमिक स्तर के लिए 8 सप्ताह का वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर जारी किया। इस अवसर पर बोलते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मज़ेदार और दिलचस्प ढंग से शिक्षा प्रदान करने के लिए ये कैलेंडर शिक्षकों को विभिन्न तकनीकी साधनों और सोशल मीडिया टूल्स का उपयोग करने के लिए दिशा-निर्देश प्रदान करते हैं, जिनका उपयोग छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों द्वारा घर पर रहते हुए भी किया जा सकता है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

कोविड-19 आत्मनिर्भर भारत का लक्ष्य हासिल करने के लिए एक आह्वान की तरह है: डॉ. रघुनाथ माशेलकर

पद्म विभूषण डॉ. रघुनाथ अनंत माशेलकर ने कहा कि कोविड-19 ने आत्मनिर्भर भारत का लक्ष्य हासिल करने के लिए हम सबके पुनर्निर्माण, पुनर्प्राप्ति और अपनी पुन: कल्पना करने के लिए सभी का आह्वान किया है। डॉ. रघुनाथ अनंत माशेलकर ने आत्म-विश्वास के साथ आत्म-निर्भर भारत के निर्माणविषय पर बोलते हुए कहा कि स्वावलंबी या आत्म-निर्भर भारत का लक्ष्य हासिल करने के प्रयास में हम खुद को दुनिया से अलग नहीं कर सकते बल्कि खुद को वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला के साथ जोड़ना जरूरी है। उन्होंने आत्म-निर्भर भारत के पांच स्तंभों -'खरीदने, बनाने, बेहतर बनाने के लिए खरीदने, बेहतर खरीदने के लिए बनाने और मिलकर बनाने (सार्वजनिक-निजी भागीदारी का निर्माण) पर ज़ोर दिया।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

एएसआई के सभी केंद्र संरक्षित स्मारक 6 जुलाई, 2020 से खुलेंगे: श्री प्रहलाद सिंह पटेल

केंद्रीय संस्कृति और पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने कहा कि संस्कृति मंत्रालय और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने सुरक्षा प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन करते हुए, सभी केंद्र संरक्षित स्मारकों को 6 जुलाई, 2020 से खोलने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि केवल वे स्मारक/संग्रहालय जो नियंत्रण क्षेत्र में नहीं हैं, आगंतुकों के लिए खुले रहेंगे। सभी केंद्र संरक्षित स्मारकों और स्थलों में गृह मंत्रालय और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी किए गए स्वच्छता, सामाजिक दूरी बनाये रखने और अन्य स्वास्थ्य प्रोटोकॉल जैसे दिशा-निर्देशों का पालन किया जायेगा। उन्होंने कहा कि राज्य और/ या जिला प्रशासन द्वारा जारी किये गए किसी विशेष आदेश को भी सख्ती से लागू किया जाना चाहिए।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

पीआईबी के क्षेत्र अधिकारियों से प्राप्त जानकारियां

केरल: राज्य स्पष्ट स्रोतों के बिना कोविड-19 के पॉजिटिव मामलों को देखते हुए जल्दी, ही राजधानी तिरुवनंतपुरम जिले में एंटीजन टेस्ट शुरू करेगा। शहर के 18 वार्डों को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। वीएसएससी में अधिक परीक्षण किए जाएंगे, जहां स्टॉफ के दो सदस्य वायरस से संक्रमित पाए गए। एक नन सहित छह केरलवासी राज्य के बाहर- तीन में से प्रत्येक विभिन्न राज्यों में और खाड़ी क्षेत्र में कोरोनोवायरस के शिकार हुए। कोविड के मरीजों की ठीक होने की संख्या नए मामलों से अधिक है इसमें स्वस्थ होने वाले मामले 202 और 160 नए मामले हैं। 2,088 मरीजों का अभी भी विभिन्न जिलों में इलाज चल रहा है।

तमिलनाडु: पुडुचेरी में कोविड-19 से संक्रमित 93 वर्षीय महिला की मृत्यु  हो गई, 24 नए मामले दर्ज किए गए, जिसके बाद इनकी कुल संख्या 824 हो गई; नए मामलों में, 23 पुडुचेरी में हैं और एक कराईकल में है। मदुरै में, कोविड-19 मामलों में वृद्धि के साथ, मामूली लक्षणों वाले रोगियों का अब घर में एकांतवास में इलाज किया जा रहा है। तमिलनाडु में चेन्नाई में 2027 नये मामलों के सा‍थ एक दिन में सबसे अधिक 4,343 मामले सामने आए और कल 57 लोगों की मौतों की जानकारी मिली। नए मामलों के साथ ही राज्य में कोविड के मामलों की संख्या अब 98,392 है जिनमें से 41,047 सक्रिय हैं। राज्य में अब तक इस महामारी से कुल 1321 लोग दम तोड़ चुके हैं।

कर्नाटक: राज्य सरकार के नए दिशा-निर्देशों के अनुसार, स्पर्शोन्मुख कोविड-19 रोगी जो 50 से कम हैं और जिनकी ऑक्सीजन परिपूर्णता 95 प्रतिशत या उससे अधिक है उन्हें घर में एकांतवास में रखा जाएगा। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग में कॉन्ट्रेक्ट पर रखे गए डॉक्टरों द्वारा सेवा नियमित करने की मांग को पूरा करने में हो रही देरी को लेकर 8 जुलाई से हड़ताल पर जाने की धमकी देने के साथ, राज्य सरकार ने गुरुवार को एक आदेश जारी कर उनका वेतन 45,000 रुपये से बढ़ाकर 60,000 रुपये प्रति माह कर दिया। राज्य में कल कोविड के 1502 नए मामले सामने आए, 271 को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई और 19 मौतें कल दर्ज की गईं। कुल पॉजिटिव मामले: 18,016, सक्रिय मामले: 9,406, मृत्यु: 272।

आंध्र प्रदेश: आईसीएमआर ने  विशाखापत्तनम स्थित किंग जॉर्ज अस्पताल को देश भर के उन 12 केन्‍द्रों में से चुना है, जिनकी आईसीएमआर और भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड द्वारा संयुक्त रूप से विकसित स्वदेशी कोविड-19 टीके (बीबीवी152 कोविड वैक्सीन) के नैदानिक परीक्षणों के लिए पहचान की गई है। सभी नैदानिक परीक्षणों के पूरा होने के बाद टीके को 15 अगस्त, 2020 तक सार्वजनिक स्वास्थ्य उपयोग के लिए लॉन्च करने की परिकल्पना की गई है। डीजल लोको शेड, विशाखापत्तनम, मुद्रा नोटों, कागजों और उपकरणों को साफ करने के लिए पराबैंगनी विकिरण-आधारित कीटाणुनाशक लाया है। उपकरण कीटाणुनाशक पराबैंगनी प्रकाश से उत्सर्जित यूवी विकिरण के सिद्धांत पर काम करता है जो 99.9 प्रतिशत वायरस, वायुजनित बैक्टीरिया और फफूंदी वाले जीवाणुओं को मारता है। पिछले 24 घंटों के दौरान 38,898 नमूनों का परीक्षण करने के बाद 837 नए मामले सामने आए, 258 रोगियों को अस्पाताल से छुट्टी दे दी गई और पांच लोगों की मौत हो गई। 837 मामलों में से, 46 अंतर-राज्यीय मामले हैं और दो विदेश से हैं। कुल मामले: 16,934, सक्रिय मामले: 9,096, अस्पताल से छुट्टी प्राप्त: 7,632, मृत्यु: 206।

तेलंगाना: राज्य सरकार ने उच्च न्यायालय को सूचित किया कि उसकी राज्य में मोबाइल जांच प्रयोगशालाएं शुरू करने की कोई योजना नहीं है और कहा कि वह आरटी-पीसीआर जांच जारी रखेगा जो अधिक सटीक हैं। हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक द्वारा विकसित कोविड-19 से लड़ने का पहला टीका, आईसीएमआर द्वारा 15 अगस्त तक लॉन्च किए जाने की कल्पना की गई है। कोवैक्सीन नामक टीके के लिए मनुष्य में नैदानिक परीक्षण को फास्ट-ट्रैक पर रखा गया है। निम्स, पुंजागुट्टा परीक्षण स्थलों में से एक है। कल तक रिपोर्ट किए गए कुल मामले: 18,570, सक्रिय मामले: 9,226, मृत्यु: 275, अस्पपताल से छुट्टी प्राप्त : 9069।

महाराष्ट्र: राज्य में गुरुवार को इलाज के बाद स्वस्थ हो चुके कोविड-19 के एक लाख से अधिक रोगियों को देखा गया, यहां तक कि 6,330 नए मामलों को मिलाकर कुल मामले 1,86,626 हो गए। राज्य में कुल सक्रिय मामले 77,260 हैं। मुंबई में 1554 नए मामले सामने आए जिसके बाद कुल दर्ज मामलों की संख्या 80,262 हो गई।

गुजरात: गुजरात में, पिछले 24 घंटों के दौरान 681 नए मामलों के साथ कोविड-19 मामलों की संख्या 33,999 तक पहुंच गई है। राज्य में 19 मरीजों की जान जाने के बाद कोविड-19 के कारण कुल मौतों की संख्या 1,888 हो गई है। अहमदाबाद शहर से अधिकतम 202 नए मामले सामने आए हैं, जबकि सूरत में 191 नए मामले दर्ज किए गए हैं। राज्य में 7,510 सक्रिय मामले हैं। राज्य ने अब तक 3.88 लाख लोगों की जांच की गई है।

राजस्थान: राजस्थान में आज सुबह तक कोविड-19 के 123 नए पॉजीटिव मामले सामने आए और 5 लोगों की मौत हुई हैं। गुरुवार को 350 नए मामले और 9 मौतें की जानकारी मिली। कुल मामलों की संख्या 18,785 है जबकि सक्रिय मामलों की संख्या केवल 3,307 है।

मध्य प्रदेश: 245 नए मामले सामने आए हैं, जिसमें कुल मामलों की संख्या 14,106 है। राज्य में 2,702 सक्रिय मामले हैं। मौत का आंकड़ा 589 है।

छत्तीसगढ़: छत्तीसगढ़ में 72 नए मामलों की पहचान होने के बाद कोविड-19 से संक्रमित लोगों की संख्या 3,013 हो गई है। नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार, 637 सक्रिय मामले हैं।

गोवा: राज्य में गुरुवार को जांच के बाद 95 नमूने पॉजिटिव पाए गए, जिसके बाद राज्य में कोविड-19 के रोगियों की संख्या 1,482 हो गई है। सक्रिय रोगियों की संख्या 744 है।

असम: जीएमसीएच, गुवाहाटी में प्लाज़्मा बैंक की शुरुआत की गई, पहला स्वास्थ्य लाभ करने वाला डोनर डॉ. लिथिकेश एक डॉक्टर है।

मणिपुर: मणिपुर से बॉक्सिंग में प्रतिष्ठा हासिल कर चुके और एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता डिंगको सिंह अब स्वस्थ हो गए हैं और अब कोविड-19 नेगेटिव हैं।

मेघालय: मेघालय में कोविड-19 जांच के बाद तीन और व्यक्ति पॉजीटिव पाए गए, दो पूर्वी खासी पहाडि़यों (बीएसएफ) से और री भोई में एक उच्च जोखिम वाला संपर्क सामने आया। राज्य में कुल सक्रिय मामले 18 हैं और अब तक 43 लोग इलाज के बाद स्वस्थ हो चुके हैं।

मिजोरम: मिजोरम में आज कोविड-19 के इलाज के बाद स्वस्थ हुए एक मरीज को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। अब सक्रिय मामले 35 हैं जबकि अब तक 127 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। राज्य में कोविड-19 से संक्रमित लोगों की संख्या 162 पर पहुंच गई है।

नागालैंड: नागालैंड में कोविड-19 पॉजिटिव के ताजा मामलों का पता चला है, जिसमें 342 सक्रिय मामलों के साथ राज्य में कुल पॉजीटिव मामलों की संख्या 539 हो गई है, जबकि 197 इलाज के बाद स्वस्थ हो चुके हैं।

पंजाब: पंजाब के मुख्यमंत्री ने सभी स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के लिए एक आसान संदर्भ पुस्तिका के रूप में पंजाब कोविड-19 क्लीनिकल मैनेजमेंट मैनुअल जारी किया, जिसका उद्देश्य महामारी के सभी पक्षों से निपटने के लिए एक सामंजस्यपूर्ण और समन्वित दृष्टिकोण के जरिये मृत्यु दर को कम करना है। अपनी सरकार के 'मिशन फतेह' के लिए पुस्तिका का ताकत बढ़ाने वाले यंत्र के रूप में वर्णन करते हुए, मुख्यमंत्री ने कहा कि यह राष्ट्रीय प्रोटोकॉल और कोविड प्रबंधन पर राज्य की आवश्यकताओं के बीच एक सेतु का काम करेगा। उन्होंने कहा कि यह स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं की कोरोनोवायरस पॉजिटिव रोगियों की देखभाल और प्रबंधन से संबंधित उपकरणों तक पहुंच प्रदान करेगा जो महामारी से बेहतर तरीके से निपटने के लिए आवश्यक हैं।

पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य

http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image007BOLI.jpg

http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image00802MX.jpg

*******

एसजी/एएम/केपी/एसके



(Release ID: 1636367) Visitor Counter : 41


Read this release in: English , Marathi , Assamese , Manipuri , Bengali , Punjabi , Gujarati , Tamil , Telugu , Kannada , Malayalam