प्रधानमंत्री कार्यालय

19 जून 2020 की सर्व दलीय बैठक पर वक्तव्य

Posted On: 20 JUN 2020 1:40PM by PIB Delhi

      कल आयोजित सर्व दलीय बैठक में प्रधान मंत्री द्वारा की गई टिप्पणियों की तोड़ मरोड़ कर व्याख्या करने के लिए कुछ हलक़ों में प्रयास किए जा रहे हैं।

      प्रधान मंत्री ने स्पष्ट किया था कि भारत वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) को स्थानांतरित करने के किसी भी प्रयास का दृढ़ता से जवाब देगा। वास्तव में उन्होंने विशेष रूप से जोर दिया कि ऐसी चुनौतियों के अतीत में की गई उपेक्षा के विपरीत, भारतीय सेना एलएसी के किसी भी उल्लंघन का मुकाबला निर्णायक रूप से और दृढ़ता से करती है।

      सर्व दलीय बैठक को यह भी सूचित किया गया था कि इस बार, चीनी सेना एलएसी पर बहुत अधिक ताकत के साथ आ गई और उस पर भारतीय प्रतिक्रिया भी उसके अनुरूप रही। जैसा कि एलएसी के उल्लंघन का सवाल है उसके संबंध में यह स्पष्ट रूप से कहा गया कि 15 जून को गलवान में हिंसा इसलिए हुई क्योंकि चीनी पक्ष एलएसी के नजदीक संरचनाएं खड़ी करना चाह रहा था और इस तरह के कार्य न करने की बात नहीं मान रहा था।

      सर्व दलीय बैठक की चर्चा में प्रधानमंत्री की टिप्पणियों का फोकस 15 जून की गलवान की घटनाओं पर था जिसके कारण 20 भारतीय सैन्य कर्मियों की जान चली गई थी। प्रधान मंत्री ने हमारे सशस्त्र बलों को उनकी वीरता और देशभक्ति के लिए श्रद्धांजलि अर्पित की जिन्होंने वहां चीन के इरादों को नाकामयाब किया। प्रधान मंत्री की यह टिप्पणी कि वास्तविक नियंत्रण रेखा के हमारी तरफ चीन की कोई उपस्थिति नहीं है हमारे सशस्त्र बलों की बहादुरी के परिणामस्वरूप बनी स्थिति से संबंधित थी। 16 बिहार रेजिमेंट के सैनिकों के बलिदान ने संरचनाएं खड़ी करने की चीनी पक्ष की कोशिश को नाकाम कर दिया और उस दिन इस जगह पर एलएसी के उल्लंघन के प्रयास को भी निष्फल कर दिया।

      प्रधान मंत्री के शब्द कि "जिन लोगों ने हमारी भूमि पर कब्जा करने की कोशिश की उन्हें हमारे बहादुर धरती पुत्रों द्वारा मुंहतोड़ सबक सिखाया गया" हमारे सशस्त्र बलों के मूल्यों और चरित्र को अभिव्यक्त करते हैं। प्रधान मंत्री ने यह भी जोर देकर कहा कि "मैं आपको आश्वस्त करना चाहता हूं, कि हमारी सशस्त्र सेना हमारी सीमाओं की रक्षा करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी"।

      भारतीय क्षेत्र क्या है यह भारत के नक्शे से स्पष्ट है। यह सरकार इसके प्रति दृढ़ता और सख्ती से संकल्पबद्ध है। जहां तक कुछ अवैध कब्जों का सवाल है ऑल पार्टी मीटिंग को बड़े विस्तार से बताया गया कि पिछले 60 वर्षों में, 43,000 वर्ग किलोमीटर से अधिक इलाके को किन परिस्थितियों में खोना पड़ा जिससे यह देश अच्छी तरह से वाकिफ है। यह भी स्पष्ट किया गया कि यह सरकार एलएसी के किसी एकतरफा परिवर्तन की अनुमति नहीं देगी।

      ऐसे समय में जब कि हमारे बहादुर सैनिक हमारी सीमाओं की रक्षा कर रहे हैं यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि उनका मनोबल कम करने के लिए अनावश्यक विवाद खड़ा किया जा रहा है। हालांकि सर्व दलीय बैठक में प्रमुख भावना राष्ट्रीय संकट के समय सरकार और सशस्त्र बलों के लिए अप्रतिम समर्थन की थी। हमें विश्वास है कि प्रेरित प्रचार से भारतीय लोगों की एकता में कोई कमी नहीं आएगी।

******

VRRK/PP



(Release ID: 1632889) Visitor Counter : 198


Read this release in: Punjabi , Marathi , Gujarati , Urdu , Assamese , Bengali , Telugu , English , Manipuri , Odia , Kannada , Malayalam