PIB Headquarters

कोविड-19 पर पीआईबी का दैनिक बुलेटिन

Posted On: 19 AUG 2020 6:21PM by PIB Delhi

 

(पिछले 24 घंटों में जारी कोविड-19 से संबंधित प्रेस विज्ञप्तियां, पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां और पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य शामिल हैं)

भारत लगातार अधिक परीक्षण करने के मार्ग पर आगे बढ़ रहा है: लगातार दूसरे दिन एक दिन में 8 लाख से अधिक परीक्षण किए गए।

प्रति दस लाख की आबादी पर परीक्षण (टीपीएम) में बढ़ोतरी जारी है जिसकी संख्या बढ़कर 23,002 से अधिक हो गई है जबकि पॉजिटिव मामलों की दर लगभग 8 प्रतिशत ही बनी हुई है।

भारत ने एक और मुकाम हासिल किया: कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या 20 लाख से अधिक हुई।

पिछले 24 घंटों में एक ही दिन में अब तक सबसे अधिक 60,091 रोगी ठीक हुए, भारत में रोगियों के ठीक होने की दर बढ़कर 73 प्रतिशत से अधिक हो गई।

स्वास्थ्य मंत्रालय की ई-संजीवनीटेली मेडिसिन सेवा ने दो लाख टेली-परामर्श पूरे किए।

मंत्रिमंडल ने कोविड-19 के कारण बिजली क्षेत्र पर आए वित्तीय संकट को दूर करने के लिए पूंजी उपलब्धता के उपायों को मंजूरी दी।

 

 

भारत लगातार अधिक परीक्षण करने के मार्ग पर आगे बढ़ रहा है: लगातार दूसरे दिन एक दिन में 8 लाख से अधिक परीक्षण किए गए; प्रति दस लाख की आबादी पर परीक्षण (टीपीएम) में बढ़ोतरी जारी है जिसकी संख्या बढ़कर 23,002 से अधिक हो गई है जबकि पॉजिटिव मामलों की दर लगभग 8 प्रतिशत ही बनी हुई है

भारत ने लगतार दूसरे दिन 8 लाख से अधिक कोविड-19 नमूनों का परीक्षण किया गया है। 10 लाख प्रति दिन परीक्षण क्षमता पर पहुंचने के लिए परीक्षण की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी करने के मजबूत संकल्प के साथ पिछले 24 घंटों में 8,01,518 नमूनों का परीक्षण किया गया। आज संचयी परीक्षणों की संख्या 3,17,42,782 पर पहुंच गई है। प्रति दस लाख की आबादी पर परीक्षण (टीपीएम) की संख्या बढ़कर 23,002 पर पहुंच गई है। भारत ने वर्गीकृत और विकसित रणनीति का पालन किया है और सार्वजनिक व निजी क्षेत्र में प्रयोगशालाओं के अपने राष्ट्रकव्यापी नेटवर्क को मजबूत किया है। जनवरी, 2020 में केवल एक प्रयोगशाला थी आज देश में 1486 प्रयोगशालाएं हैं जिनमें 975 सरकारी क्षेत्र में और 511 निजी क्षेत्र में हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1647052

भारत ने एक और मुकाम हासिल किया: कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या 20 लाख से अधिक, पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के 60,091 मरीज स्वस्थ हुए है जो एक दिन में ठीक होने वालों की अब तक की सबसे बड़ी संख्या है, भारत में कोरोना से ठीक होने (रिकवरी) की दर भी बढ़कर 73 प्रतिशत से अधिक हुई

तेजी से 3 करोड़ से अधिक लोगों के परीक्षण के साथ ही भारत ने एक और मिसाल दर्ज की है। कोविड-19 से ठीक होने वाले मरीजों की कुल संख्या (20,37,870) आज 2 मिलियन को पार कर गई है। इसके अलावा देश में पिछले 24 घंटों में एक ही दिन में अब तक सबसे अधिक 60,091 से ज्यादा लोगों के ठीक होने की एक और उपलब्धि दर्ज की गई है। इतनी बड़ी संख्या में कोविड-19 रोगियों के ठीक होने और अस्पतालों तथा घरों में आइसोलेशन (बीमारी के हल्के और मध्यम मामले में) से छुट्टी मिलने के साथ ही इस बीमारी से ठीक होने की दर 73 प्रतिशत (73.64%) से अधिक हो गई है। इससे भी मृत्यु दर (केस फेटलिटी रेट) में गिरावट दर्ज की गई है, जो आज 1.91 प्रतिशत के अब तक के निम्न स्तर पर है। कोविड-19 बीमारी से ठीक होने की रिकॉर्ड संख्या से यह सुनिश्चित हुआ है कि देश पर इस बीमारी का वास्तविक भार कम हुआ है यानी सक्रिय मामलों की संख्या में कमी आई है और यह वर्तमान में कुल पॉजिटिव मामलों के एक चौथाई (केवल 24.45 प्रतिशत) से भी कम है। भारत में कोविड-19 के सक्रिय मामलों (6,76,514) की तुलना में ठीक होने वाले की संख्या 13,61,356 अधिक है। भारत सरकार ने राज्य/केंद्र शासित प्रदेश सरकारों के प्रयासों के साथ-साथ देश भर में अस्पतालों में देखभाल के बुनियादी ढांचे में सुधार किया है ताकि समर्पित कोविड देखभाल केंद्र (डीसीसीसी), समर्पित कोविड स्वास्थ्य केंद्र (डीसीएचसी) और समर्पित कोविड अस्पताल (डीसीएच) के जरिए कोविड-19 के पॉजिटिव मामलों की विभिन्न श्रेणियों के मरीजों के लिए चिकित्सा देखभाल सुनिश्चित की जा सके। इनकी संख्या में भी काफी वृद्धि हुई है। आज 1667 डीसीएच, 3455 डीसीएचसी और 11,597 डीसीसीसी हैं। इन सभी के पास कुल मिलाकर 15,45,206 आइसोलेशन बेड, 2,03,959 ऑक्सीजन युक्त बेड और 53,040 आईसीयू बेड उपलब्ध हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1646917

डिजिटल इंडिया की बड़ी जीत : स्वास्थ्य  मंत्रालय की ई-संजीवनीटेली मेडिसिन सेवा ने दो लाख टेली-परामर्श पूरे किए

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याiण मंत्रालय के ई-संजीवनीडिजिटल प्लेटफॉर्म ने दो लाख टेली-परामर्श पूरे कर लिए हैं। यह कीर्तिमान 9 अगस्त के बाद केवल 10 दिनों की छोटी अवधि में ही हासिल कर लिया गया है। 9 अगस्त को केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने 1.5 लाख टेली-परामर्श पूरे होने के उपलक्ष्य‍ में आयोजित बैठक की अध्यपक्षता की थी। इसे प्रधानमंत्री की डिजिटल इंडियापहल के लिए एक बड़ी सफलता के रूप में देखा जा सकता है। ई-संजीवनीप्लेरटफॉर्म ने कोविड महामारी के समय अपनी उपयोगिता, स्वास्थ्य कर्मियोंचिकित्सा समुदाय और चिकित्सा सेवाएं चाहने वालों के लिए आसान पहुंच उपलब्ध करवाई है। ई-संजीवनीप्लेटफॉर्म ने दो प्रकार की टेली मेडिसिन सेवाएं अर्थात डॉक्टर से डॉक्टर (ई-संजीवनी) और मरीज से डॉक्टर (ई-संजीवनी ओपीडी) टेली परामर्श को सक्षम बनाया है। ई-संजीवनीको आयुष्मान भारत स्वास्थ्य एवं कल्याण केंद्र (एबी- एचडब्ल्यूसी) के तहत लागू किया जा रहा है। इसका उद्देश्य हब एंड स्पोकमॉडल में पहचान किए गए मेडिकल कॉलेज अस्पतालों के साथ मिलकर सभी 1.5 लाख स्वास्थ्य एवं कल्याण केंद्रों में टेली परामर्श लागू करना है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने अप्रैल, 2020 में कोविड महामारी को देखते हुए रोगी से डॉक्टर टेली मेडिसिन को सक्षम बनाने वाली दूसरी टेलीपरामर्श सेवा ई-संजीवनी ओपीडीशुरू की। यह सेवा गैर-कोविड आवश्यक स्वास्थ्य देखभाल के लिए भी लगातार प्रावधान करते हुए कोविड महामारी के प्रसार को रोकने में वरदान साबित हुई। ई-संजीवनीको अभी तक 23 राज्यों ने लागू किया है और अन्य राज्य इसे शुरू करने की प्रक्रिया में हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1646932

मंत्रिमंडल ने कोविड-19 के कारण बिजली क्षेत्र पर आए वित्तीय संकट को दूर करने के लिए पूंजी उपलब्धता के उपायों को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने उदय योजना के तहत पावर फाइनेंस कॉर्पोरेशन (पीएफसी) और रूरल इलेक्ट्रीफिकेशन कॉरपोरेशन लिमिटेड (आरईसी) को बिजली वितरण कंपनियों को पिछले वर्ष अर्जित राजस्व के 25 प्रतिशत की निर्धारित सीमा से अधिक की कार्यशील पूंजी उपलब्ध कराने के लिए एकबारगी छूट की स्वीकृति दी। इससे बिजली क्षेत्र के लिए पर्याप्त पूंजी उपलब्ध हो सकेगी और राज्य सरकारों द्वारा बिजली पारेषण कंपनियों का बकाया चुकाया जाना सुनिश्चित हो सकेगा। कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण हुए राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की वजह से बिजली क्षेत्र में पूंजी का बड़ा संकट पैदा हो चुका है। उपभोक्ताओं द्वारा बिजली के बिलों का भुगतान करने में असमर्थ रहने और दूसरी ओर आवश्यक सेवाओं के रूप में बिजली आपूर्ति जारी रखने की बाध्यता के कारण बिजली वितरण कंपनियों का राजस्व बुरी तरह प्रभावित हुआ है। इस बीच बिजली की खपत में भी काफी गिरावट आई है। गतिविधियों और बिजली की मांग सुधरने में कुछ और वक्त लगने को देखते हुए आने वाले कुछ और दिनों तक बिजली क्षेत्र का संकट खत्म होता नहीं दिखता। ऐसे में बिजली की आपूर्ति बनाए रखने के वास्ते इस क्षेत्र के लिए तत्काल पूंजी उपलब्धता सुनिश्चित करना जरूरी हो गया है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1646981

'धनवंतरी रथ' आयुर्वेद को दिल्ली पुलिस के परिवारों के लिए सुलभ बनायेगा, एआईआईए और दिल्ली पुलिस के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए

दिल्ली पुलिस की आवासीय कॉलोनियों में आयुर्वेद के प्रतिरोधात्मक एवं प्रोत्साहक स्वास्थ्य सेवाओं का विस्तार करने के लिए, कल अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान (एआईआईए) और दिल्ली पुलिस के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। इन सेवाओं को धनवंतरी रथनामक मोबाइल इकाई और पुलिस कल्याण केंद्र के माध्यम से प्रदान किया जाएगा हैं और एआईआईए, आयुष मंत्रालय द्वारा समर्थित, द्वारा पूरा किया जाना है। दिल्ली पुलिस आयुक्त  श्री एस. एन. श्रीवास्तव और आयुष मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव श्री प्रमोद कुमार पाठक के बीच हस्ताक्षर किए गए एमओयू का आदान-प्रदान किया गया। एआईआईए की निदेशक प्रो. तनुजा नेसरी की उपस्थिति में धनवंतरी रथ को रवाना किया गया। आयुरक्षा, आयुष मंत्रालय के अंतर्गत आनेवाला एक स्वायत्त संस्थान एआईआईए और दिल्ली पुलिस का एक संयुक्त उपक्रम है, जिसका उद्देश्य आयुर्वेद प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपायों के माध्यम से दिल्ली पुलिस जैसे फ्रंटलाइन कोविड-19 योद्धाओं के स्वास्थ्य को बनाए रखना है। योजना की निरंतरता को बनाए रखने के लिए, आयुर्वेद प्रतिरोधात्मक और प्रोत्साहक स्वास्थ्य देखभाल सेवा को अब दिल्ली पुलिसकर्मियों के परिवारों तक पहुंचाने की योजना है। 2 महीने में लगभग 80,000 पुलिसकर्मियों के बीच आयुरक्षा किट वितरित करने के बाद, दिल्ली पुलिस कर्मियों में कोविड-19 की घटनाएं और मृत्यु दर में काफी कमी दर्ज की गई है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1646822

प्रवासियों के लिए आत्म़निर्भर भारत योजना- एक समग्र दृष्टिकोण

देश में नोवेल कोरोनावायरस (कोविड-19) के प्रकोप के बीच भारत सरकार ने देश भर में प्रवासी मजदूरों के लिए मई 2020 के मध्य में आत्मकनिर्भर भारत पैकेज (एएनबीपी) के तहत विभिन्न आर्थिक उपायों की घोषणा की थी। इसी क्रम में खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग ने 15 मई 2020 को 'आत्मनिर्भर भारत योजना (एएनबीएस)' के तहत सभी राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों को कुल करीब 8 लाख मीट्रिक टन खाद्यान्न का आवंटन किया ताकि देश भर में प्रवासियों/फंसे हुए प्रवासियों की खाद्य-सुरक्षा संबंधी आवश्यकताओं को कम करने में मदद की जा सके। इस प्रकार, खाद्य विभाग ने प्रति माह लगभग 4 एलएमटी खाद्यान्न का आवंटन किया और दो महीने की अवधि यानी मई एवं जून 2020 के लिए कुल 8 एलएमटी खाद्यान्न आवंटित किया। 17 अगस्त, 2020 तक उपलब्ध रिपोर्टों के अनुसार, इस योजना के तहत प्रवासियों/फंसे हुए प्रवासियों की पहचान कर उनके बीच खाद्यान्न वितरण के लिए राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा कुल 6.38 एलएमटी खाद्यान्न में से लगभग 2.49 एलएमटी (39 प्रतिशत) खाद्यान्न का उठाव किया गया। वितरण के 31 अगस्त 2020 तक जारी रहने के साथ ही उम्मीद की जा रही है कि तब तक कुछ और प्रवासी व्यक्ति एएनबीएस के तहत मुफ्त खाद्यान्न का लाभ उठा सकते हैं। साथ ही यह उल्लेख करना भी आवश्यसक है कि एएनबीएस के तहत मुफ्त खाद्यान्न वितरण के अलावा उत्तर प्रदेश, बिहार, त्रिपुरा, मणिपुर, जम्मू्-कश्मीर आदि राज्यों ने उन लाभार्थियों को मार्च, 2020 के बाद नए राशन कार्ड जारी किए हैं जिन्हें पहले कवर नहीं किया गया था। इससे इन राज्यों में क्रमश: लगभग 45 लाख, 15 लाख, 25,000, 10,000 और 35,000 व्यक्तियों को एनएफएसए/पीएमजीकेएवाई के तहत शामिल किया गया है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1646891

स्ट्रीट विक्रेताओं से ऋण हेतु आवेदन मंगाने के लिए उपयोगकर्ता के अनुकूल डिजिटल इंटरफ़ेस प्रदान करने के लिए मोबाइल ऐप का शुभारम्भ किया

आवासन एवं शहरी कार्य राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री हरदीप सिंह पुरी ने शहरी विकास मंत्रियों, मुख्य सचिवों, यूडी सचिवों/प्रमुख सचिवों, पुलिस महानिदेशकों (डीजीपी), कलेक्टरों/एसपी/एसएसपी/नगर आयुक्तों/ 125 शहरों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के साथ प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर्स आत्म-निर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना के संदर्भ में बातचीत की। इस योजना को रेहड़ी वालों (स्ट्रीट विक्रेताओं) को अपने व्यवसाय को फिर से शुरू करने के लिए कार्यशील पूंजी के लिए ऋण उपलब्ध कराने के लिए शुरू किया गया है। यह योजना विक्रेताओं को ऋण सुविधा प्रदान करती है, लेकिन यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि वे उत्पीड़न मुक्त वातावरण में व्यापार करने में सक्षम हो सकें। बैठक में आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय में सचिव श्री दुर्गा शंकर मिश्रा भी उपस्थित थे।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1646929

एससीटीआईएमएसटी और आईआईटी मद्रास स्टार्टअप ने कोविड-19 मरीजों के लिए पोर्टेबल अस्पताल का ढांचा तैयार किया

भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के तहत स्वायत्त संस्थान श्री चित्रा तिरुनल इंस्टीट्यूट फॉर मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी (एससीटीआईएमएसटी) और आईआईटी मद्रास मोडुलस हाउसिंगको एक समाधान के तौर पर लेकर आए हैं। इसमें पोर्टेबल माइक्रोस्ट्रक्चर के माध्यम से स्थानीय समुदायों में कोविड-19 के मरीजों का पता लगाने, प्रबंधन और उपचार के लिए विकेंद्रीकृत दृष्टिकोण के साथ समाधान मुहैया कराया जा सकेगा। इस पोर्टेबल माइक्रोस्ट्रक्चर को "मेडीकैब (MediCAB)" नाम दिया गया है। इस मॉड्यूलर, पोर्टेबल, टिकाऊ और सुलभ सेट अप को ग्राहक की आवश्यकताओं के अनुसार तैयार किया जा सकता है। यह फोल्डेबल है और इसे हिस्सों में बनाया गया है जिसमें डॉक्टर्स के लिए कमरा, एक आइसोलेशन रूम, एक मेडिकल रूम/वार्ड और दो बेड वाला आईसीयू कमरा तैयार किया गया है। इसे आसानी से कहीं भी ले आयाले जाया जा सकता है और साथ ही महज चार लोगों की मदद से इस ढांचे को दो घंटे में ही तैयार किया जा सकता है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1647266

5 केन्द्रित क्षेत्रों में 49 नवाचारों को मिलेनियम एलायंस राउंड 6 एवं कोविड-19 इनोवेशन चैलेंज अवॉर्ड मिले

मिलेनियम एलायंस राउंड 6 एवं कोविड-19 इनोवेशन चैलेंज-अवॉर्ड समारोह, जिसने भारत के 5 केन्द्रित क्षेत्रों में 49 नवाचार समाधानों को मान्यता दी, ने एक व्यापक विकेंद्रीकृत नवाचार परितंत्र के निर्माण की आवश्यकता पर प्रकाश डाला। इस बात की घोषणा करते हुए कि विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) जल्द ही एक नया कार्यक्रम शुरू करने जा रहा है जिसमें व्यापक विकेंद्रीकृत नवाचार परितंत्र शामिल होगा, डीएसटी सचिव प्रोफेसर आशुतोष शर्मा ने कहा कि एक नवाचार में संलग्न एक स्टार्टअप शुरू करने के लिए नेटवर्किंग, सहयोग, शुरुआती धन, प्रोटोटाइप करने की सुविधा का होना बेहद जरूरी है और जो इन इनक्यूबेटरों को भौतिक स्थान के बाहर प्रदान किया जा सकता है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1647203

डॉ. हर्षवर्धन ने एफएसएसएआई के ईट राइट चैलेंज ओरिएंटेशन वर्कशॉप को वर्चुअल माध्यम से संबोधित किया

केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) के अपने सही खाओ चुनौती (ईट राइट चैलेंज) के अंतर्गत प्राधिकरण द्वारा आयोजित ऑनलाइन अभिविन्यास (ओरिएंटेशन) कार्यशाला की अध्यक्षता की। उन्होंने देश भर में ईट राइट इंडियापहल करने के उद्देश्य) से विभिन्न हितधारकों की मदद करने के लिए एफएसएसएआई की ईट राइट इंडियाहैंडबुक और वेबसाइट eatrightindia.gov.in की भी शुरुआत की। डॉ. हर्षवर्धन ने रुग्णता का मुकाबला करने में स्वस्थ भोजन और पोषण द्वारा निभाई गई महत्वपूर्ण भूमिका की विस्तार से चर्चा की। यह कहते हुए कि आहार किसी में भी विभिन्न प्रकार के रोगों के प्रति लचीलापन और प्रतिरक्षा कायम करने में मदद करता है, उन्होंने कहा गैर-संचारी रोगों जैसे मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय संबंधी जटिलताओं आदि से होने वाली 61.8 प्रतिशत मौतों पर जोर दिया, जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से दोषपूर्ण आहार से संबंधित हैं। यहां तक कि संक्रामक रोग जैसे तपेदिक उन लोगों को बुरी तरह से प्रभावित करते हैं जो अल्पपोषित हैं। एक ही घर के लोग पोषण के माध्यम से प्राप्त प्रतिरक्षा के आधार पर कोविड के प्रति अलग-अलग प्रतिक्रियाएं दिखा रहे हैं।"

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1647072

पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां

चंडीगढ़ : केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ के प्रशासक ने कहा कि प्रशासन को कोविड-19 के मामलों का शीघ्र पता लगाने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए तथा सह-रुगण्ता वाले रोगियों पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए। इससे कोविड-19 से होने वाली मृत्यु को कम किया जा सकेगा। उन्होंने जीएमएसएच-16 को सचल परीक्षण सुविधा शुरू करने का निर्देश दिया ताकि परीक्षण दल मोबाइल वैन में जाकर नमूने जमा कर सके और मौके पर ही परीक्षण के परिणाम दे सके। इससे परीक्षण के लिए अस्पताल जाने के इच्छुक वरिष्ठ नागरिकों को सहायता मिलेगी।

केरल : राज्य सरकार ने कोविड रोगियों के कॉल विवरण जमा करने के मुद्दे पर केरल उच्च न्यायालय को बताया कि उसे केवल पॉजिटिव रोगी के टॉवर की लोकेशन जरूरत है और अन्य व्यक्तिगत कॉल विवरण की आवश्यकता नहीं है। न्यायालय को सूचित किया गया कि इस समय कॉल विवरण जमा नहीं किए जा रहे हैं। इस बीच राज्य में दोपहर तक कोविड-19 से पांच ओर लोगों की मृत्यु हुई,जिससे राज्य में मृतको की संख्या बढ़कर 174 हो गई है। कारिपुर विमान दुर्घटना स्थल का दौरा करने के बाद मुख्यमंत्री और छह अन्य मंत्रियों के स्वतः एकांतवास में होने के कारण आज मंत्रिमंडल की साप्ताहिक बैठक आयोजित नहीं हुई। कल केरल में कोविड-19 के 1,758 मामले सामने आए। इस समय 16,274 रोगियों का अस्पतालों में उपचार चल रहा है और 1.65 लाख लोग विभिन्न जिलों में निगरानी में हैं।

तमिलनाडु : राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से विभिन्न जल परियोजनाओं की गति को देने का अनुरोध किया है। तमिलनाडु में संशोधित ई-पास प्रणाली के तहत बड़ी संख्या में लोगों के  आवेदन करने के कारण राजमार्गों पर भारी यातायात और प्रमुख टोल प्लॉजा पर भीड़ देखी जा रही है। चेन्नई में राज्य विपणन कॉर्पोरेशन (टीएएसएमएसी) की दुकानों के फिर से खुलने के बाद स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने एहतियात बरतने की सलाह दी है। राज्य में कल कोविड-19 के 5,709 नए मामले सामने आए, 5,850 लोग स्वस्थ हुए और 121 लोगों की मृत्यु हुई। चेन्नई में 1,182 नए मामले सामने आए। राज्य में अब कुल मामले: 3,49,654, सक्रिय मामले : 53,860, मृत्यु: 6,007, अस्पताल से छुट्टी दी गई: 2,89,787, चेन्नई में सक्रिय मामले: 12,103.

कर्नाटक : राज्य सरकार ने गणेश चतुर्थी समारोह के लिए संशोधित दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इसके अनुसार प्रत्येक वार्ड या गांव में सिर्फ एक सार्वजनिक समारोह के आयोजन की अनुमति दी गई है और समारोह संबंधी जुलूस और सांस्कृतिक कार्यक्रमों पर प्रतिबंध रहेगा। आज स्वास्थ्य शिक्षा मंत्री ने लक्ष्य के अनुरूप कोविड परीक्षण करने को लेकर सरकारी और निजी प्रयोगशालाओं के प्रमुखों से विचार-विमर्श किया।

आंध्रप्रदेश : 9 अगस्त को विजयवाड़ा में स्वर्ण पैलेस होटल में आग लगने की घटना में 10 कोविड रोगियो की मृत्यु के बाद आंध्र प्रदेश सरकार ने राज्य भर में कोविड देखभाल केंद्रों पर विशेष ध्यान केंद्रित किया है। अस्पतालो में निगरानी बढ़ाने के साथ-साथ सतर्कता मजबूत करने के लिए भी कई कदम उठाए गए हैं। स्वास्थ्य आयुक्त द्वारा कोविड स्वास्थ्य सुविधा प्रदान कर रहे 13 चुने हुए अस्पतालो में सीसीटीवी लगाने के आदेश जारी करने के बाद कृष्णा जिले में युद्धस्तर पर कार्य किया है। कडप्पा जेल में बंद टीडीपी के पूर्व विधायक जे सी प्रभाकर रेड्डी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। कडप्पा जेल में 317 बंदी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। राज्य में कल कोरोना के 9,652 नए मामले सामने आए, 9,211 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई और 88 लोगों की मृत्यु हुई। राज्य में कुल मामले: 3,06,261, सक्रिय मामले : 85,130, मृत्यु : 2,820.

तेलंगाना : राज्य में बीते 24 घंटो में कोरोना के 1763 नए मामले सामने आए,1789 लोग स्वस्थ हुए और 8 लोगों की मृत्यु हुई। 1763 मामलो में से 484 मामले जीएचएमसी में सामने आए। राज्य में इस समय कोरोना के कुल 95,700 मामले हैं। इनमें 20,990 सक्रिय मामले हैं। कुल 719 लोगों की मृत्यु हुई है और 73,991 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। कोविड-19 महामारी के मध्य 7 सितंबर से शुरू हो रहे राज्य विधानसभा के मानसून सत्र के दौरान एक नए नियम के अनुसार एक बेंच में केवल एक सदस्य ही बैठेगा।

अरुणाचल प्रदेश : राज्य में एक दिन में कोविड-19 के सबसे ज्यादा 133 मामले सामने आए। इनमें ऊपरी सुबनसिरी में सबसे अधिक 65 कोरोना के नए मामले मिले जबकि  पश्चिमी केमेंग में 22 मामले मिले।

असम : राज्य के स्वास्थ्य मंत्री हेमंत बिस्वा सरमा  ने ट्वीट कर कहा कि तेजपुर मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में आयोजित प्लाज्मा दान शिविर में 40 कोरोना योद्धाओं ने अपना प्लाज्मा दान किया।

मणिपुर : राज्य में कोविड-19 के 78 नए मामले सामने आए हैं और 55 लोग स्वस्थ हुए। मणिपुर में अब कोविड-19  से ठीक होने की दर 58 प्रतिशत है। मणिपुर में 1,958 सक्रिय मामले हैं। कोविड संबंधी परेशानी के चलते एक व्यक्ति की मृत्यु के बाद राज्य में कोरोना से अब तक 18 लोगों की मृत्यु हो चुकी है।

मिजोरम : राज्य में कल कोविड-19 के 45 नए मामले सामने आए। मिजोरम में अब कोविड-19 के कुल मामले 860 और सक्रिय मामले 481 हैं।

नागालैंड : कोविड-19 के पॉजिटिव मामले सामने आने के बाद पेरेन जिले के अंतर्गत अतिबंग उपखंड में 5 घरों को सील करने का आदेश जारी किया गया है। मोन जिले के अबोई उपखंड में पूर्ण लॉकडाउन हटा लिया गया है।

महाराष्ट्र : देश में सबसे अधिक कोविड पॉजिटिव दर वाले दस जिलो में से सात जिले महाराष्ट्र के हैं। यह राज्य में वायरस के तेजी से विस्तार करने और परीक्षण सुविधाओं को बढा़ने की ओर संकेत करता है। इन सात जिलों में रायगढ़, ठाणे, नासिक, धुले, पुणे, जलगांव और सतारा शामिल हैं। 31.7 प्रतिशत पॉजिटिविटी दर के साथ रायगढ़ इस सूची में सबसे ऊपर है जबकि 19.7 प्रतिशत दर के साथ मुंबई पहले 10 जिलो में शामिल नहीं है। सूची में शामिल अन्य तीन जिले बिहार से हैं। जन स्वास्थ्य विशेषज्ञ बीमारी के प्रसार को मापने के लिए पॉजिटिविटी दर को अहम मानते हैं जोकि कुल परीक्षण में से पॉजिटिव मामलों के अनुपात को दर्शाता है। बॉम्बे उच्च न्यायालय ने कोविड महामारी के दौरान निजी अस्पतालो और नर्सिंग होम द्वारा पीपीई किट और अन्य सहायक सामान के लिए अधिक मूल्य न वसूलने संबंधी कोई नियामक प्रक्रिया होने के संबंध में राज्य सरकार से जवाब मांगा है।  महाराष्ट्र सरकार ने जिलाधिकारियो को महात्मा ज्योतिबा फुले जन आरोग्य योजना के अंतर्गत आने वाले अस्पतालों द्वारा अधिक दाम लेने के मामलो पर कड़ी कार्रवाई करने के लिए कहा है। भारी दंड लगाने के साथ-साथ सरकार ने जिलाधिकारों को ऐसे अस्पतालों का पंजीकरण रद्द करने और पुलिस शिकायत दर्ज कराने के लिए कहा है।

गुजरात : राज्य में कल कोविड-19 के 1,126 नए मामले सामने आए। सूरत में सबसे अधिक 175 मामले सामने आए। अहमदाबाद शहर में पिछले 24 घंटे में 149 नए मामले मिले। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार राज्य में बीमारी से ठीक होने की दर में ओर सुधार हुआ है और अब यह 78.71 प्रतिशत हो गई है।

राजस्थान : राज्य सरकार ने सभी जिला अस्पतालों और मेडिकल कॉलेज के साथ संबद्ध अस्पतालों में ऑक्सीजन सुविधा के साथ बिस्तर बढ़ाने का निर्णय लिया है। इसके साथ ही रात्रि सेवा में कार्य कर रहे नर्सिंग कर्मियो को प्रोत्साहित करने का फैसला भी लिया गया है। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि कोरोना का संक्रमण तेजी से फैलाने वाले लोगों के कारण राज्य में कुछ स्थानों पर कोरोना के मामले बढ़े हैं। उन्होंने कहा कि दूध, सब्जी विक्रेताओ तथा दुकानदारों के यादृच्छिक नमूने (Random Sample) लिए जा रहे हैं, जिससे कोविड-19 के संक्रमण को नियंत्रित किया जा सके।

मध्यप्रदेश : देश में सक्रिय रोगियों की तुलनात्मक स्थिति के आधार पर राज्य 16वें स्थान पर है। कोरोना संक्रमण के बीच छतरपुर पुलिस ने  एक संकल्प-बुजुर्गों के नामनामक एक अनूठे अभियान की शुरुआत की है। यह अभियान वैश्विक कोविड-19 महामारी के दौरान घर में अकेले रह रहे वरिष्ठ नागरिको के लिए वरदान बनकर सामने आया है। इसके अंतर्गत छतरपुर पुलिस वरिष्ठ नागरिको के लिए भोजन के प्रबंध से लेकर उनके स्वास्थ्य तक की देखभाल कर रही है।

पीआईबी के द्वारा जांचे गए तथ्य

****

एमजी/एएम/एसके/एजे



(Release ID: 1647324) Visitor Counter : 17