PIB Headquarters

कोविड-19 पर पीआईबी का दैनिक बुलेटिन

Posted On: 22 JUL 2020 6:21PM by PIB Delhi

 (पिछले 24 घंटों में जारी कोविड-19 से संबंधित प्रेस विज्ञप्तियां, पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां और पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य शामिल हैं)

 • पिछले 24 घंटों में कोविड-19 से रोगियों के ठीक होने की अब तक की सबसे बड़ी संख्या दर्ज की गई; 28,472 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

• अब तक 7.5 लाख से अधिक कोविड मरीज स्वस्थ हो चुके हैं; रोगियों के ठीक होने (रिकवरी) की दर 63 प्रतिशत से अधिक हुई।

• 19 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों ने 63.13 प्रतिशत से अधिक की रिकवरी दर दर्ज की।

• दिल्ली में सबसे अधिक रिकवरी दर 84.83 प्रतिशत दर्ज की गई, इसके बाद लद्दाख में 84.31 प्रतिशत है।

• आज सक्रिय मामलों की संख्या 4,11,133 है।

• श्री अश्विनी कुमार चौबे ने सिंगापुर के टेमासेक फाउंडेशन से 4,475 ऑक्सीजन सांद्रक (कंसेंट्रेटर) की पहली खेप प्राप्त की।

पिछले 24 घंटों में कोविड-19 से रोगियों के ठीक होने की अब तक की सबसे बड़ी संख्या दर्ज की गई; 28,472 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई; अब तक 7.5 लाख से अधिक कोविड मरीज स्वस्थ हो चुके हैं; रोगियों के ठीक होने (रिकवरी) की दर 63 प्रतिशत से अधिक हुई; 19 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों ने 63.13 प्रतिशत से अधिक की रिकवरी दर दर्ज की गई

एक दिन में 28,472 रोगियों के ठीक होने का अब तक सबसे ऊंचा आंकड़ा दर्ज किया गया है। ये पिछले 24 घंटों में ठीक हो चुके/अस्पताल से छुट्टी दिए गए कोविड-19 रोगियों की सबसे अधिक संख्या भी है। इसके साथ ही ठीक हुए मरीजों की संख्या 7,53,049 हो गई है। इसने कोविड-19 रोगियों की रिकवरी दर को बढ़ाकर 63.13 प्रतिशत तक कर दिया है। ठीक हो चुके रोगियों की लगातार बढ़ती संख्या ने सक्रिय मामलों (आज 4,11,133) के साथ फर्क को 3,41,916 तक बढ़ा दिया है। यह फर्क उत्तरोत्तर बढ़ते हुए चलन को दिखाता है। जहां राष्ट्रीय स्तर पर रिकवरी दर में सुधार हुआ है, वहीं 19 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश राष्ट्रीय औसत से भी अधिक रिकवरी दर दर्ज करवा रहे हैं। दिल्ली में सबसे अधिक रिकवरी दर 84.83 प्रतिशत दर्ज की गई, इसके बाद लद्दाख में 84.31 प्रतिशत है। नई दिल्ली के एम्स के साथ-साथ राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में उत्कृष्टता के केंद्रों ने आईसीयू रोगियों की गंभीर देखभाल और नैदानिक उपचार को बल दिया है, जिससे भारत में मरीज मृत्यु दर को कम किया जा सका है। नई दिल्ली के एम्स का ई-आईसीयू कार्यक्रम केंद्र-राज्य सहयोग का एक और उपाय है जिसका उद्देश्य मृत्यु दर को कम करना है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

श्री अश्विनी कुमार चौबे ने सिंगापुर के टेमासेक फाउंडेशन से 4,475 ऑक्सीजन सांद्रक (कंसेंट्रेटर) की पहली खेप प्राप्त की

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री श्री अश्विनी कुमार चौबे ने आज सिंगापुर के टेमासेक फाउंडेशन से 4,475 ऑक्सीजन सांद्रक (कंसेंट्रेटर) की पहली खेप का प्राप्त की। टेमासेक फाउंडेशन ने भारत को कुल 20,000 ऑक्सीजन सांद्रक दान करने की पेशकश की है। शेष ऑक्सीजन सांद्रक अगस्त, 2020 में मिलेंगे। इन उपकरणों को कोविड-19 के मध्यम मामलों के इलाज में उपयोग के लिए राज्यों और संघ शासित प्रदेशों को उपलब्ध कराया जाएगा। सिंगापुर के टेमासेक फाउंडेशन के प्रति इस मदद के लिए आभार व्यक्त करते हुए श्री अश्विनी कुमार चौबे ने कहा कि ऑक्सीजन सांद्रक देश में कोविड-19 से निपटने की लड़ाई में काफी मदद करेंगे।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

एसएनबीएनसीबीएस द्वारा विकसित सक्रिय श्वासयंत्र मास्क और नैनो-सैनिटाइजर, कोविड - 19 का मुकाबला करने में मदद कर सकते हैं

कोविड-19 महामारी ने फेस मास्क के उपयोग को दैनिक जीवन का अनिवार्य हिस्सा बना दिया है। हालांकि लोग मास्क का उपयोग कर रहे हैं, लेकिन इसके कारण उन्हें कुछ असुविधाओं का भी सामना करना पड़ रहा है जो वायरस के प्रसार को रोकने के लिए इसके उपयोग को प्रभावित करता है। मास्क के उपयोग में आने वाली कुछ समस्याएं हैं – छोड़े गए कार्बन डाइऑक्साइड (सीओ2) का फिर से सांस लेना, लंबे समय तक ऐसा होने से मानव दक्षता कम हो सकती है और यह मस्तिष्क-हाइपोक्सिया का भी कारण बन सकता है, सांस की नमी, जो चश्मे को धूमिल करती है, मास्क के अंदर पसीने और गर्म वातावरण जैसे सुरक्षा मुद्दे, चेहरे का मास्क के कारण व्यक्ति की बातचीत में अस्पष्टता आदि। भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के तहत एक स्वायत्त अनुसंधान संस्थान एस एन बोस नेशनल सेंटर फॉर बेसिक साइंसेज (एसएनबीएनसीबीएस), कोलकाता द्वारा स्वच्छ व आराम से सांस लेने के लिए एक सक्रिय श्वासयंत्र मास्क विकसित किया है, जिसमें सांस छोड़ने के लिए वाल्व और सूक्ष्म कण नियंत्रण के लिए फ़िल्टर लगा हुआ है। सक्रिय श्वासयंत्र मास्क कार्बन डाइऑक्साइड को पुनः सांस लेने, उत्सर्जित नमी तथा पसीने और गर्म वातावरण की समस्या के लिए एक अभिनव समाधान है। इसके अलावा, संस्थान द्वारा एक सूक्ष्मजीव-रोधी परत के साथ नैनो-सैनिटाइजर भी विकसित किया गया है।

जल जीवन मिशन : अच्छे प्रदर्शन के लिए राज्यों के बीच तेज हुई प्रतिस्पर्धा; 7 राज्यों ने 2020-21 के लक्ष्य का 10 प्रतिशत से ज्यादा हासिल किया

अगस्त, 2019 में लॉन्च किए गए जल जीवन मिशन के तहत वित्त वर्ष 2019-20 के 7 महीनों में लगभग 85 लाख ग्रामीण घरों में नल कनेक्शन उपलब्ध कराए गए हैं। इसके अलावा, कोविड-19 महामारी के बीच अनलॉक-1 के बाद से अभी तक वर्ष 2020-21 में लगभग 55 लाख नल कनेक्शन उपलब्ध कराए जा चुके हैं। अभी तक, 7 राज्यों बिहार, तेलंगाना, महाराष्ट्र, हरियाणा, गुजरात, हिमाचल प्रदेश और मिजोरम ने घरों में नल कनेक्शन के लिए अपने लिए निर्धारित लक्ष्य का 10 प्रतिशत से ज्यादा हासिल कर लिया है। देश में 18.93 करोड़ ग्रामीण घरों में से 4.60 करोड़ (24.30 प्रतिशत) को पहले ही नल कनेक्शन उपलब्ध कराए जा चुके हैं। इसका उद्देश्य समयबद्ध तरीके से शेष 14.33 करोड़ घरों को नल कनेक्शन उपलब्ध कराने के साथ ही सभी नल कनेक्शनों की क्रियाशीलता सुनिश्चित करना है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

श्री धर्मेंद्र प्रधान ने भारत के अनलॉक चरण में प्रवेश के बाद जीवन और आजीविका के बीच संतुलन की अपील की

इस्पात एवं पेट्रोलियम तथा प्राकृतिक गैस मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने कल इस्पात मंत्रालय द्वारा ‘कोविड-19 की अवधि में काम-काज‘ पर आयोजित एक वेबिनार को संबोधित किया। इस अवसर पर श्री प्रधान कहा कि पिछले कुछ महीनों के दौरान हमने कोविड-19 महामारी से लड़ने के लिए उल्लेखनीय सफलता के साथ नवाचार एवं प्रक्रियाएं स्थापित की हैं और संक्रमण का प्रसार रोकने के लिए विशेषज्ञों की सभी अनुशंसाओं का अनुपालन करने, सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने, मास्क पहनने, अपने हाथों को धोते रहने की आवश्यकता की चर्चा की है। इस अवसर पर इस्पात राज्य मंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने महामारी से लड़ने में इस्पात सीपीएसई की भूमिका, भारत में उच्च रिकवरी दर, सरकार द्वारा घोषित आर्थिक पैकेज और एक अधिक स्वस्थ जीवन शैली का अनुसरण करने की आवश्यकता की चर्चा की। दिल्ली स्थित एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप सिंह गुलेरिया ने उन कदमों की चर्चा की जिन्हें काम पर वापस जाते समय संक्रमण के जोखिम को न्यूनतम बनाने के लिए उठाये जाने की जरूरत है। इनमें संक्रमण के प्रसार के जोखिम को रोकने के लिए मास्क पहनने की नई सामान्य आदत, सामाजिक दूरी सुनिश्चित करना, हाथों को धोते रहना, स्व निगरानी करना, संक्रमित व्यक्तियों के संपर्क में आये लोगों का पता लगाना और कार्यस्थल अभ्यासों में तालमेल बिठाना शामिल है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां

हरियाणा: हरियाणा सरकार ने राज्य में एक केंद्रीय कारावास और तीन जिला कारावासों को विशेष कारावास (अस्थाई कारवास) घोषित करने का फैसला किया है, ताकि हरियाणा में न्यायिक हिरासत में भेज गए नए पुरुष कैदियों को उनकी कोविड-19 रिपोर्ट प्राप्त होने तक इनमें रखा जाए। यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि कोविड-19 के लिए कैदियों की जांच और रिपोर्ट की प्रस्तुति को प्राथमिकता के आधार पर किया जाए।

हिमाचल प्रदेश: राज्यपाल ने कहा कि महामारी के दौरान, कृषि क्षेत्र पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि अन्य राज्यों से वापस आए हिमाचलवासी अब खेती करने के लिए अपने गांवों में वापस जाना चाहते हैं और जिला प्रशासन को उनकी सहायता के लिए आगे आना चाहिए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में जारी तीन अध्यादेशों के व्यापक प्रचार-प्रसार की भी आवश्यकता है ताकि किसानों को उनका लाभ मिल सके। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा अनुमोदित तीन अध्यादेशों को ऐतिहासिक फैसले के रूप में उल्लिखित किया गया है जिससे भारतीय किसानों को लाभ होगा और कृषि क्षेत्र में सकारात्मक बदलाव होगा।

केरल: कोविड मामलों में जबरदस्त वृद्धि के मद्देनजर अलुवा नगर पालिका और 7 पंचायतों में आज मध्यरात्रि से कर्फ्यू लगाया गया है। राज्य में आज कोविड-19 के कारण चार और मृत्यु होने के बाद मृतकों की संख्या 48 तक पहुंच गई है। यह मृत्यु कोल्लम, कोझिकोड, कन्नूर और कासरगोड जिलों में हुईं। इस बीच, राज्य सरकार ने जांच परिणामों में देरी से बचने के लिए कोविड-19 उपचार के तरीकों को बदल दिया है। अब से, आरटी-पीसीआर जांच परिणाम के बजाय रोगियों को छुट्टी देने के लिए केवल एंटीजन जांच परिणाम की आवश्यकता होगी। एक गर्भवती महिला सहित तीन मेडिकल कॉलेजों में दस से अधिक रोगियों में संक्रमण की पुष्टि की गयी है और लगभग तीस चिकित्सकों को निगरानी में रखा गया हैं। मुख्यमंत्री ने वर्तमान स्थिति पर चर्चा के लिए शुक्रवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई है। कल कुल 720 नए मामले सामने आए जिनमें से 528 संपर्क मामले थे और 34 अज्ञात स्रोतों से थे। वर्तमान में 8,056 मरीजों का उपचार चल रहा हैं और 1.54 लाख लोग निगरानी में हैं।

तमिलनाडु: निजी यात्री परिवहन ऑपरेटरों का प्रतिनिधित्व करने वाली बस और कार ऑपरेटर्स कन्फेडरेशन ऑफ इंडिया (बीओसीआई) और तमिलनाडु ओमनी बस ओनर्स एसोसिएशन (टीओबीओए) ने राज्य सरकार से कोविड लॉकडाउन के कारण हुई आय हानि के लिए तत्काल राहत प्रदान करने का आग्रह किया है। मंगलवार को कुड्डालोर जिले के 58 नए मामलों में कुड्डलोर, विल्लुपुरम और कल्लाकुरिची उप-कारावास के 18 कैदी भी शामिल है। राजपालयम के विधायक एस थंगापांडियन में भी कोविड-19 की पुष्टि होने के बाद उन्हें मदुरै के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। राज्य में 4965 नए मामले और 75 लोगों की मृत्यु हुईं। अब तक कुल मामले: 1,80,643; सक्रिय मामले: 51,344; मृत्यु: 2626; चेन्नई में सक्रिय मामले: 14,952। हैं।

कर्नाटक: कोविड टास्क फोर्स समिति की कल हुई बैठक में जांच को बढ़ाने के लिए 4 लाख एंटीजन टेस्ट किट और 5 लाख स्वाब टेस्ट किट खरीदने का फैसला किया गया है। सरकार ने निजी प्रयोगशालाओं में कोविड जांच के लिए दर तय कर दी हैं; सरकार द्वारा संदर्भित मामलों के लिए 2,000 रुपये और स्व-संदर्भित मामलों के लिए 3,000 रुपये। जांच को बढ़ाने के लिए 16 आरटीपीसीआर और 15 स्वचालित आरएनए निष्कर्षण इकाइयां स्थापित की जाएंगी। यह प्रति दिन 50,000 जांच के लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद करेगा। वर्तमान में सरकारी अस्पतालों में उपलब्ध रेमडेसिवीर दवा की कालाबाजारी को रोकने के लिए इसकी सरकार के माध्यम से निजी अस्पतालों में आपूर्ति की जाएगी। बीबीएमपी ने शहर के 291 निजी अस्पतालों को बेड उपलब्धता का विवरण उपलब्ध नहीं कराने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया है। कल 3647 नए मामले दर्ज किए गए और 61 मृत्यु हुईं; बेंगलुरु शहर में 1714 मामले और राज्य में 44,140 सक्रिय मामले हैं।

आंध्र प्रदेश: आंध्र प्रदेश के गवर्नर ने राज्य के अधिकारियों को विभिन्न कोविड-19 अस्पतालों में जरूरतमंदों के लिए बिस्तरों की उपलब्धता के बारे में जानकारी देने के लिए एक ऑनलाइन सूचना प्रणाली प्रदान करने की सलाह दी हैं। आगामी दो महीनों में वायरस के फैलने की संभावना को देखते हुए नैल्लोर के जिलाधिकारी ने जिले में निजी अस्पतालों को आईसीयू में कोविड-19 मरीजों के लिए बेड उपलब्ध कराने को कहा है। विशाखापत्तनम में व्यापारियों ने कोरोनो वायरस मामलों में तेजी और मृत्यु दर में वृद्धि के मद्देनजर स्वयं-लॉकडाउन करने का फैसला किया है। कल 4944 नए मामले और 62 मृत्यु दर्ज की गईं। राज्य में कुल 58,668 मामले, 32,336 सक्रिय मामले और मृतकों की संख्या 758 हो गई है।

तेलंगाना: बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (आईआरडीए) ने नेटवर्क अस्पतालों को हैदराबाद में कोविड-19 रोगियों को कैशलेस उपचार से इनकार करने के मामले में चेतावनी दी है। राज्य में कुल 1430 नए मामले और 07 मृत्यु दर्ज की गई है। राज्य में कुल 47,705 मामले, 10,891 सक्रिय मामले और मृतकों की संख्या 429 हो गई है।

महाराष्ट्र: उद्धव ठाकरे सरकार में पांचवें मंत्री, पशुपालन राज्यमंत्री अब्दुल सत्तार, में भी कोविड-19 की पुष्टि की गई है। इस बीच एनसीपी की राज्यसभा सदस्य फौजिया खान में भी कोरोना की पुष्टि की गई है। राज्य में कोविड-19 मामलों की संख्या 3,27,031 तक पहुंच गई है। हालांकि, मंगलवार को सक्रिय मामलों की संख्या 1,32,236 थी। मुंबई में 995 मामले दर्ज किए गए और यहां जांच को बढ़ाकर 6,000-7,000 प्रतिदिन कर दिया गया है।

गुजरात: गुजरात में कोविड के मामलों की संख्या 50,000 के पार हो गई है। राज्य में पिछले 24 घंटों में 1026 मामलों की पुष्टि की गई, जो अभी तक का एक दिन का उच्चतम स्तर है। वायरस के कारण मंगलवार को 34 मरीजों की मृत्यु हो गई, जिससे राज्य में मृतकों की संख्या 2,201 हो गई है। सूरत में सबसे अधिक 298 मामले दर्ज किये गए, इसके बाद अहमदाबाद (199 मामले), वडोदरा (75 मामले) और राजकोट (58 मामले) दर्ज किए गए।

राजस्थान: राज्य में आज प्रातः 10:30 बजे तक कोविड-19 के 226 नए मामले दर्ज किये गए हैं। मंगलवार को रात 8:30 बजे तक 983 मामलों की पुष्टि की गई है। राज्य में कुल मामलों की संख्या अब 31,599 है, जिसमें 8,129 सक्रिय मामले हैं और 22,889 व्यक्ति ठीक हुए है और 581 मृत्यु हुई हैं। राज्य मंत्रिमंडल ने कोविड-19 संकट से निपटने के लिए 35 लाख जरूरतमंद परिवारों को प्रति परिवार 1,000 रुपये देने के प्रस्ताव को मंजूरी दी है। मंत्रिमंडल ने राजस्थान निवेश प्रोत्साहन योजना के तहत पर्यटन, होटल, और मल्टीप्लेक्स क्षेत्र की इकाइयों को एक और वर्ष के लिए लाभ देने का निर्णय लिया है।

मध्य प्रदेश: मध्य प्रदेश में 785 नए मामलों की पुष्टि की गई है, जिससे राज्य में मामलों की संख्या 24,095 तक हो गई है। हालांकि, मंगलवार को सक्रिय मामलों की संख्या 7,082 थी। मंगलवार को ही 573 रोगियों के ठीक होने के साथ, कुल ठीक हुए मामलों की संख्या बढ़कर 16,257 हो गई है।

छत्तीसगढ़: छत्तीसगढ़ के रायपुर, सरगुजा, रायगढ़ और बलौदा बाजार जिलों में आज से सात दिनों के लिए संपूर्ण लॉकडाउन फिर से लागू किया गया है, आज मध्यरात्रि से मध्य प्रदेश के दुर्ग, कोरबा और बिलासपुर जिलों के शहरी इलाकों में भी प्रतिबंध लागू होंगे। छत्तीसगढ़ में सक्रिय मामलों की संख्या 1,588 हैं।

गोवा: गोवा में बढ़ते कोविड-19 मामलों के मद्देनजर, मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने बुधवार को कहा कि राज्य सरकार कोविड-संक्रमित लक्षणरहित रोगियों को घर में ही पृथक रूप से रखने की अनुमति देने के लिए तैयार है। अद्यतन, गोवा में 1,552 सक्रिय मामले हैं, जिसमें पिछले 24 घंटों के दौरान 174 नए मामले दर्ज किये गए हैं।

अरुणाचल प्रदेश: मुख्य सचिव ने कहा कि पापुम-पारे,मिडपू में पहले से तैयार समर्पित कोविड अस्पताल को इस महीने के अंत तक परिचालन के लिए खोल दिया जाएगा।

मेघालय: मेघालय सरकार ने स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे के उन्नयन के लिए राज्य में 186 पीएचसी और सीएचसी में 75 करोड़ रुपये का निवेश करने का निर्णय लिया है।

मणिपुर: कोविड राहत समिति के सदस्यों और मीरापाइबी नेताओं ने निरीक्षण करने के बाद कोविड देखभाल केन्द्र को बिष्णुपुर के जिला अस्पताल से तत्काल प्रभाव से बिष्णुपुर के लौकीपट्ट में ओल्ड डीसी ऑफिस परिसर में स्थानांतरित करने का निर्णय लिया है। मणिपुर क्षेत्रीय आयुर्विज्ञान संस्थान (रिम्स), इंफाल ने बुखार और खांसी के लक्षण वाले सभी कर्मचारियों को कार्यालय नहीं आने का निर्देश दिया है।

मिजोरम: सुरक्षा बलों के बीच कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए, लुंगलेई जिला प्रशासन और सुरक्षा बलों के वरिष्ठ अधिकारियों ने एक बैठक में फैसला किया है कि इस मुद्दे पर एसओपी का सख्ती से पालन किया जाएगा।

नागालैंड: मोन जिला प्रशासन ने अनिवार्य रूप से आवश्यकता पड़ने पर कोविड-19 से प्रभावित व्यक्तियों से संपर्क में आए लोगों पर नज़र रखने के लिए किसी भी प्रकार के आयोजन में उपस्थित होने वाले आगंतुकों/अतिथियों के रिकॉर्ड को अनिवार्य रूप से पंजीकृत करने की अधिसूचना जारी की है।

****

एसजी/एएम/एसके/एसएस



(Release ID: 1640621) Visitor Counter : 41