PIB Headquarters

कोविड-19 पर पीआईबी का दैनिक बुलेटिन

Posted On: 27 APR 2020 6:57PM by PIB Delhi

अब तक  6,184 लोगों का इलाज हो चुका है, यानी लोगों के ठीक होने की दर 22.17 प्रतिशत है।

कल से अब तक 1396 नये मामले सामने आए हैं जिसके बाद कोविड-19 के कुल पुष्ट मामलों की संख्या  27,892 हो गई है। पिछले 24 घंटों में 48 और लोगों की मौत हो चुकी है।

सरकार आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति श्रृंखला की अड़चनों को दूर करने के लिए संबंधित नीतियों को सुगम बनाने और कार्यान्वित करने पर विशेष ध्यान दे रही है।

प्रधानमंत्री ने कोविड-19 से आगे मुकाबला करने की योजना के बारे में मुख्यमंत्रियों के साथ बातचीत की।

प्रधानमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन के सकारात्मक परिणाम निकले हैं, पिछले डेढ़ महीने में हजारों लोगों का जीवन बचा है।

डॉ. जितेन्द्र सिंह ने स्पष्ट रूप से कहा कि सरकारी कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति आयु कम करने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया है।

आईसीएमआर ने रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट किट की कीमतों को लेकर उठे विवाद पर कहा कि सरकार एक रुपया भी बेकार नहीं जाने देगी।

पूर्वोत्तर के 8 राज्यों में से 5 कोरोना मुक्त

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय से प्राप्त कोविड-19 पर अपडेट

अब तक 6,184 लोगों का इलाज हो चुका है यानी ठीक होने की दर 22.17 प्रतिशत है। कल से अब तक 1396 नये मामले सामने आए हैं। भारत में अब तक कोविड-19 के कुल पुष्ट मामलों की संख्या 27,892 पर पहुंच गई है। पिछले 24 घंटों में 48 और लोगों की मौत होने के बाद कोविड-19 से मरने वालों की संख्या 872 पर पहुंच चुकी है। देश के ऐसे 16 जिलों से पिछले 28 दिनों में कोरोना का एक भी नया मामला सामने नहीं आया है जहां इससे पहले इसके मामले थे। कुल 85 जिलों ने पिछले 14 दिन में एक भी नये मामले की जानकारी नहीं दी है। खाद्यान्न और दवाएं ले जाने वाले ट्रकों का प्रतिशत 30 मार्च को 46% था जिसे बढ़ाकर 25 अप्रैल 2020 को 76% कर दिया गया। इसी अवधि में चलने वाले रेलवे के रेकों की संख्या 67% से बढ़ाकर 76% कर दी गई। बंदरगाहों के नियंत्रण वाले परिवहन का प्रतिशत 70% से बढ़ाकर 87% कर दिया गया और काम कर रही मंडियों का प्रतिशत 61% से बढ़कर 79% पर पहुंच गया। सरकारी एजेंसियां, एनजीओ और उद्योग रोजाना 1.5 करोड़ से अधिक लोगों को पका हुआ भोजन प्रदान कर रही हैं। सरकार आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति श्रृंखला की अड़चनों को दूर करने के लिए संबंधित नीतियों को सुगम बनाने और कार्यान्वित करने, जमीनी स्तर की विशेष अड़चनों को दूर करने और प्रमुख संकेतकों पर नजर रखने तथा आपूर्ति योद्धाओं की सर्वश्रेष्ठ कार्य प्रणाली के प्रसार पर विशेष ध्यान दे रही है।

 

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-  

प्रधानमंत्री ने कोविड-19से निपटने हेतु आगे की योजना बनाने के लिए मुख्यमंत्रियों के साथ विचार-विमर्श किया

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने ‘कोविड-19’ से उत्पन्न स्थिति पर चर्चा करने और इस महामारी से निपटने हेतु आगे की योजना बनाने के लिए आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ विचार-विमर्श किया। प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा कि लॉकडाउन के सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं क्योंकि देश पिछले डेढ़ महीनों में हजारों लोगों की जान बचाने में कामयाब रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि भारत की आबादी कई देशों की संयुक्त जनसंख्या के बराबर है। भारत सहित कई देशों में इस दृष्टि से स्थिति मार्च की शुरुआत में कमोबेश एकसमान थी। लेकिन समय पर उठाए गए ठोस कदमों की बदौलत भारत अनगिनत लोगों की जिंदगी की रक्षा करने में सक्षम रहा है। हालांकि, उन्होंने आगाह करते हुए कहा कि वायरस का खतरा अभी खत्म नहीं हुआ है और निरंतर सतर्क रहना सबसे अधिक जरूरी है। प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों से अनुरोध किया कि आगे की रणनीति बनाते समय गर्मी और मानूसन के आगमन व इस मौसम में होने वाली बीमारियों को भी ध्यान में रखें।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-  

रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट की कीमत से संबंधित विवाद पर तथ्य

जांच पड़ताल कोविड-19 से लड़ने के सबसे महत्वपूर्ण हथियारों में से एक है और आईसीएमआर जांच-पड़ताल को बढ़ाने से संबंधित सभी प्रयास कर रही है। इसके लिए टेस्ट किटों की खरीद  और राज्यों को उनकी आपूर्ति करने की आवश्यकता होती है। यह खरीद तब की जा रही है जब वैश्विक रूप से इन जांच किटों की भारी मांग है और विभिन्न देश इन्हें खरीदने के लिए अपनी पूरी मौद्रिक और राजनयिक ताकत का उपयोग कर रहे हैं। उनके निष्पादन के वैज्ञानिक मूल्यांकन के आधार पर दूसरे निर्माण के संबंध में उन्हें कम प्रभावकारी पाते हुए विवादास्पद आर्डर (वोंडफो) को रद्द कर दिया गया है। आईसीएमआर ने इन आपूर्तियों के संबंध में अभी तक कोई भी भुगतान नहीं किया है। नियत प्रक्रिया का पालन करने के कारण (100 प्रतिशत अग्रिम भुगतान राशि के साथ खरीद न करने) भारत सरकार को एक भी रुपये का नुकसान नहीं होगा।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

सरकारी कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति की उम्र घटाने की दिशा में न तो कोई कदम उठाया गया और न ही सरकार में किसी स्तर पर ऐसे किसी प्रस्ताव पर विचार-विमर्श किया गया : डॉ. जितेंद्र सिंह

सरकार ने मीडिया के एक हिस्से में चल रही उन खबरों को सिरे से खारिज किया है, जिनमें सरकारी कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति की उम्र घटाकर 50 वर्ष करने का प्रस्ताव रखे जाने की बात कही गई है। केन्द्रीय राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने यहां स्पष्ट रूप से कहा कि न तो सेवानिवृत्ति की उम्र घटाने की कोई पहल की गई है और न ही सरकार के स्तर पर ऐसे किसी प्रस्ताव पर चर्चा की गई है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

डॉ. हर्षवर्धन ने समर्पित कोविड-19 अस्पताल: एम्स ट्रॉमा सेंटर की तैयारियों का जायजा लिया

केन्‍द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कोविड-19 से निपटने की तैयारियों और साथ ही साथ समर्पित कोविड अस्पताल में कोविड-19 के रोगियों को प्रदान किए जा रहे उपचार और सहायता का जायजा लेने के लिए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), नई दिल्ली के जय प्रकाश नारायण एपेक्स ट्रॉमा सेंटर (जेपीएनएटीसी) का दौरा किया।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

आठ पूर्वोत्तर राज्यों में से पांच कोरोना मुक्त हैं जबकि बाकी तीन राज्यों में भी पिछले कुछ दिनों में कोरोना का कोई नया मामला सामने नहीं आया हैः डॉ. जितेन्द्र सिंह

आठ पूर्वोत्तर राज्यों में से पांच कोरोना मुक्त हैं जबकि बाकी तीन राज्यों में भी पिछले कुछ दिनों में कोरोना का कोई नया मामला सामने नहीं आया है। यह जानकारी केन्द्रीय मंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से एक समीक्षा बैठक के बाद दी जिसमें पूर्वोत्तर परिषद (एनईसी) शिलांग के वरिष्ठ अधिकारी व विभिन्न सरकारी निकायों और पीएसयू के प्रतिनिधि शामिल थे।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

कभी रिपोर्ट नहीं मांगी, जांच शुरू की जा रही है: सीबीडीटी

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने आज कहा है कि कोविड-19 की स्थिति से निपटने के लिए कुछ आईआरएस अधिकारियों के सुझावों के बारे में सोशल मीडिया पर कोई रिपोर्ट प्रसारित या सर्कुलेट हो रही है। यह स्पष्ट किया जाता है कि सीबीडीटी ने आईआरएस एसोसिएशन या इन अधिकारियों से इस तरह की रिपोर्ट तैयार करने के लिए कभी भी नहीं कहा है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-  

रेलवे के कोविड-19 आपातकालीन प्रकोष्ठ से लगभग 13,000 प्रश्नों, अनुरोधों और सुझावों का प्रतिदिन जवाब दिया जा रहा है

भारतीय रेल कोविड-19 के कारण लॉकडाउन की अवधि के दौरान यात्रियों और सभी वाणिज्यिक ग्राहकों के हितों को ध्यान में रखने और राष्ट्रीय आपूर्ति श्रृंखला बनाये रखना सुनिश्चित करने के लिए हर संभव उपाय कर रही है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

श्री नितिन गडकरी ने प्रवासी भारतीय छात्रों से कोविड-19 महामारी को एक अवसर में बदलने में बड़ी भूमिका निभाने का आह्वान किया

श्री नितिन गडकरी ने विभिन्न देशों जैसे ब्रिटेन, कनाडा, सिंगापुर, अन्य यूरोपीय देशों और आस्ट्रेलिया के भारतीय प्रवासी छात्रों के साथ इंडियन रिस्पांस टू ग्लोबल पैनडेमिकः रोडमैप फॉर इंडिया विषय पर बातचीत की। छात्रों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि भारत के लिए आगे का रास्ता स्पष्ट रूप से सकारात्मक और इस प्रतिकूल स्थिति को एक अवसर में बदलने के ठोस प्रयास करने का है। 

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान लाइफलाइन उड़ान के तहत देश भर में 684 टन से अधिक आवश्यक सामग्री और मेडिकल कार्गो की आपूर्ति की गई

कोविड-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई का समर्थन करने के लिए देश के दूर दराज के हिस्सों में आवश्यक चिकित्सा सामग्री पहुंचाने के लिए नागरिक उड्डयन मंत्रालय द्वारा 'लाइफलाइन उड़ान’ की उड़ानें संचालित की जा रही हैं। एयर इंडिया, अलायंस एयर, आईएएफ और निजी विमान वाहकों द्वारा लाइफलाइन उड़ान के तहत 383 उड़ानें संचालित की गई हैं। अब तक ले जाया गया सामान लगभग 684.08 टन है। लाइफलाइन उड़ान द्वारा अब तक तय की गई हवाई दूरी 3,76,952 किमी है। पवन हंस लिमिटेड सहित अन्य हेलीकॉप्टर सेवाएं जम्मू एवं कश्मीर, लद्दाख, द्वीप और पूर्वोत्तर क्षेत्रों में परिचालन करते हुए महत्वपूर्ण चिकित्सा सामग्री और रोगियों को पहुंचा रही हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

भारतीय वायुसेना द्वारा कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में मदद जारी

भारतीय वायुसेना (आईएएफ) ने नोवेल कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई के दौरान भारत सरकार की सभी उभरती जरूरतों को पूरा करने की दिशा में अपने प्रयास को तेज कर दिया है। भारतीय वायुसेना ने देश के अंदर, चिकित्साकर्मियों के साथ-साथ चिकित्सा और राशन की आवश्यक आपूर्तियों को जारी रखा हुआ है, जिससे राज्य सरकारों और सहायक एजेंसियों को इस संक्रमण के खिलाफ प्रभावी ढंग से मुकाबला करने के लिए मजबूत किया जा सके।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

 

पीआईबी के क्षेत्र अधिकारियों से प्राप्त जानकारियां

पंजाब: पंजाब में सरकारी एजेंसियों और निजी व्यापारियों ने 6,79,220 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की है। कारखाने के श्रमिकों की सुरक्षा और उनका कल्याण सुनिश्चित करने के लिए, स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के बड़े उद्देश्य के साथ कार्य स्थल पर सफाई और स्वच्छता बनाए रखने के लिए विस्तृत परामर्श जारी किया है। कर्मचारियों से स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का ईमानदारी से पालन करने का आग्रह करते हुए, परामर्श में कहा गया है कि वे किसी भी लक्षण की स्वेच्छा से जानकारी दें ताकि जल्द उपचार हो सके। साथ ही उनसे यह भी कहा गया है कि वे कोविड-19 के संबंध में तथ्यों को सत्यापित किए बिना किसी भी प्रकार की व्यर्थ बातचीत /अफवाहों में लिप्त नहीं हों।

हरियाणा: राज्य सरकार ने कोविड-19 के मद्देनजर चिकित्सा पेशेवरों और अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए राज्य और जिला स्तर पर नोडल अधिकारी नियुक्त किए हैं ताकि उनके खिलाफ हिंसा की किसी भी घटना को रोका जा सके। नोडल अधिकारी राज्य और जिला स्तर पर चिकित्सा पेशेवरों के कामकाज के बारे में सुरक्षा मुद्दे के समाधान के लिए हमेशा उपलब्ध रहेंगे। पिछले पांच दिनों में राज्य में 130707 किसानों से कुल 19.26 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदा गया है।

अरुणाचल प्रदेश: ईटानगर के उपायुक्त ने कहा कि असम से सब्जियों की आपूर्ति उपयोग के लिए सुरक्षित है।

मणिपुर: प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस बैठक में भाग लेने के बाद मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया कि सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने राज्यों और केन्द्र के सामूहिक प्रयास की आवश्यकता पर चर्चा की; ग्रीन जोन और गैर कोविड-19 प्रभावित जिलों में छूट संभव।

मेघालय: मुख्यमंत्री कॉनराड संगमा ने वीडियो कॉन्फ्रेंस बैठक के बाद घोषणा की कि लॉकडाउन जारी रह सकता है, लेकिन कुछ और ढीलें दी जाएगी। उन्होंने आज प्रधानमंत्री को "रैपिड रिस्पांस सिस्टम" के मेघालय मॉडल का सुझाव दिया, जिसमें कोविड-19 के नये मामलों का पता लगने पर निर्दिष्ट समय-सीमा के भीतर स्वास्थ्य, प्रशासन और पुलिस द्वारा कार्रवाई शुरू कर दी जाती है।

मिजोरम: मिजोरम के मुख्यमंत्री ने आज प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस बैठक में राज्य सरकार द्वारा उठाए गए कदमों और मिजोरम के लोगों के अनुशासन और सहयोग के बारे में बात की। वीडियो कॉन्फ्रेंस बैठक में अन्य राज्यों के मुख्यमंत्री भी मौजूद थे। 

नागालैंड: सरकार ने कहा कि सीमावर्ती क्षेत्रों में पर्याप्त संख्या में सुरक्षाकर्मियों को भेजा गया है और सभी प्रवेश बिंदुओं को पूरी तरह से सील कर दिया गया है।

सिक्किम: मुख्यमंत्री ने जानकारी दी कि प्रधानमंत्री ने उचित पारदर्शिता बनाए रखते हुए वायरस को रोकने में राज्य सरकार के प्रयासों की सराहना की; राज्य द्वारा उपलब्ध कराए गई जानकारी देश के कुछ क्षेत्रों में बीमारी से निपटने में केन्द्र सरकार के लिए उपयोगी रही।

त्रिपुरा: मुख्य्मंत्री ने कहा कि राज्य के बाजारों में थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। और नागरिकों से आग्रह किया कि वे सार्वजनिक स्थानों पर थूकने और पेशाब करने से बचें।

केरल: केन्‍द्रीय गृह मंत्री के साथ एक टेलीकॉन्फ्रेंस में, मुख्यामंत्री की राय थी कि हॉटस्पॉट के अलावा लॉकडाउन को अन्य स्थानों पर छूट के साथ धीरे-धीरे हटाया जाना चाहिए। राज्य में कोरोना वायरस के सामूहिक संचरण का अभी तक कोई संकेत नहीं मिला है। इदुक्की में ट्रिपल लॉकडाउन लागू कर दिया गया है और कोट्टायम में नियंत्रण के उपाय किए गए हैं। विभिन्न देशों में फंसे डेढ़ लाख से अधिक केरलवासियों ने राज्य में लौटने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कराया है। कल तक कुल पुष्ट मामलों की संख्या: 469, सक्रिय मामले: 123 और 342 इलाज के बाद स्वस्थ हो गए।

तमिलनाडु: राज्य ने जुलाई 2021 तक मौजूदा दर पर डीए रोक दिया है; एक वर्ष के लिए ईएल नकदीकरण निलंबित कर दिया गया है। तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्री का कहना है कि राज्य को एक सप्ताह के भीतर रक्त प्लाज्मा उपचार परीक्षणों के लिए केन्द्र से अनुमति मिलने की उम्मीद है। मद्रास मेडिकल कॉलेज के 2 और पोस्ट ग्रेजुएट छात्रों के कोविड-19 पॉजिटिव होने की जानकारी मिली है। कल तक कुल मामले: 1885, सक्रिय मामले: 838, मृत्यु: 24, इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी: 1020, अधिकतम 523 मामले चेन्नई में सामने आए।

कर्नाटक: आज 8 नए मामलों की पुष्टि हुई; विजयपुरा, बगलकोट और दक्षिण कन्नड़ में 2-2 मामले सामने आए; बैंगलोर और मांड्या प्रत्येक में एक-एक मामला सामने आया। बेंगलुरु के विक्टोरिया अस्पताल में एक 50 वर्षीय कोविड के मरीज ने कथित रूप से आत्महत्या कर ली। कुल मामले: 511, मृत्यु: 19 और अब तक 188 लोग इलाज के बाद स्वस्थ हुए हैं।

आंध्र प्रदेश: पिछले 24 घंटों में 80 नए मामले दर्ज किए गए, जिसके बाद कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या: 1177 हो गई। सक्रिय मामले: 911, इलाज के बाद ठीक होने वालों की संख्या : 235 और 31 लोगों की मृत्यु हो गई। आंध्र प्रदेश के राज्यपाल के सीएसओ सहित स्टॉफ के 4 सदस्य कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए;  राजभवन के सभी कर्मचारियों को क्वारंटाइन में भेज दिया गया है। राज्य ने कडप्पा के 4 क्षेत्रों को रेड जोन घोषित कर दिया। पॉजिटिव मामलों में अग्रणी जिले: कुरनूल (292), गुंटूर (237), कृष्णा (210), नेल्लोर (79), चित्तूर (73) हैं।

तेलंगाना: एक अंतर-मंत्रिस्तरीय केन्द्रीय टीम (आईसीएमटी) ने संपर्कों को ढूंढने में तेलंगाना पुलिस के प्रयासों की सराहना की और पुलिस को सलाह दी कि वह नियंत्रण वाले क्षेत्रों और क्वारंटाइन केन्द्रों में मौजूदा सुरक्षा व्यवस्था को जारी रखे। गाछीबावली स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में 1500 बिस्तरों वाले विशिष्ट कोविड-19 अस्पताल को चिकित्सा और अनुसंधान संस्थान के रूप में नामित किया गया है। अब तक कुल पॉजिटिव मामले 1001 हैं।

मध्य प्रदेश: पिछले 24 घंटों में 175 नए मामलों के साथ कोविड-19 के कुल मामलों की संख्या 2,120 हो गई है। जबकि 302 रोगियों को विभिन्न अस्पतालों से इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई है और 103 रोगियों को अपनी जान गंवानी पड़ी। राज्य स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन के अनुसार, 1,650 मरीजों की हालत स्थिर है, जबकि 35 मरीज वेंटिलेटर पर हैं।

गुजरात: राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने सूचित किया है कि राज्य के 61 समर्पित कोविड विशेष अस्पतालों में कुल 10,500 बिस्तर उपलब्ध हैं। राज्य में एचसीक्यूएस और एज़िथ्रोमाइसिन दवाएं, एन-95 और 3 लेयर मास्क और पीपीई किट के पर्याप्त भंडार हैं। सरकारी अस्पतालों में 1061 वेंटिलेटर उपलब्ध हैं, जबकि 1700 वेंटिलेटर निजी अस्पतालों में उपलब्ध हैं। राज्य सरकार ने एक हजार और वेंटिलेटरों का ऑर्डर भी दिया है। मध्य प्रदेश के 1.10 लाख से अधिक प्रवासी श्रमिक अन्य राज्यों में फंसे हुए हैं। गुजरात में विभिन्न क्षेत्रों में काम करने वाले सबसे अधिक 35,000 कामगार हैं जबकि महाराष्ट्र में 25,000 और राजस्थान में लगभग 15,000 कामगार हैं। राजस्थान में कार्यरत अधिकांश श्रमिक घर लौट आए हैं, जबकि गुजरात में फंसे लोग वापस आने लगे हैं। महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश प्रवासी श्रमिकों को घर भेजने की व्यवस्था करने के लिए बातचीत कर रहे हैं।

महाराष्ट्र: मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कहा है कि शहर के रोकथाम वाले अनेक क्षेत्रों में स्थिति में सुधार हो रहा है। उन्होंने कहा कि शहर भर में रोकथाम वाले 1,036  क्षेत्रों में से, 231 ने पिछले 14 दिनों के दौरान किसी भी नए कोरोना वायरस के मामले की जानकारी नहीं दी है। इस बीच, जिन 53 पत्रकारों को जांच के बाद पॉजिटिव पाया गया था उनमें से 31 को 24 घंटे में दो बार नैगेटिव जांच के बाद छुट्टी दे दी गई है। उन्हें 14 दिन के लिए घर पर क्वारंटाइन में रखा गया है।

पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य

*******

एएम/केपी/एसके



(Release ID: 1618864) Visitor Counter : 121