नीति आयोग
azadi ka amrit mahotsav

राष्ट्रीय बहुआयामी निर्धनता सूचकांक पर व्याख्यात्मक नोट

राष्ट्रीय बहुआयामी निर्धनता सूचकांक : एनएफएचएस-4 (2015-16) पर आधारित बेसलाइन रिपोर्ट

Posted On: 27 NOV 2021 9:20AM by PIB Delhi

 

1. कैबिनेट सचिव की सुधार एवं विकास हेतु वैश्विक सूचकांक (जीआईआरजी) पहल के तहत, मानव विकास सूचकांक (एचडीआई), वैश्विक भूख सूचकांक (जीएचआई), वैश्विक प्रतिस्पर्धात्मकता सूचकांक (जीसीआई), मानव पूंजी सूचकांक (एचसीआई), वैश्विक नवाचार सूचकांक (जीआईआई) सहित 29 वैश्विक सूचकांकों में देश के निष्पादन पर नजर रखी जा रही है। इस कार्य का लक्ष्य महत्वपूर्ण सामाजिक, आर्थिक और अन्य अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त सूचकांकों के निगरानी तंत्र का लाभ उठाना है, ताकि परिणामों में सुधार लाने के लिए इन सूचकांकों को औजार के रूप में इस्तेमाल किया जा सके तथा वैश्विक स्तर पर इन सूचकांकों में भारत के निष्पादन में उन्हें तदनुसार दर्शाया जा सके। इस पहल के तहत, नीति आयोग बहुआयामी निर्धनता सूचकांक (एमपीआई) के लिए नोडल मंत्रालय है। ग्लोबल एमपीआई 2021 के अनुसार भारत की रैंक 109 देशों में 66वें स्थान पर है। राष्ट्रीय एमपीआई परियोजना का उद्देश्य वैश्विक एमपीआई के अनुरूप वैश्विक एमपीआई रैंकिंग में भारत की स्थिति में सुधार के बड़े लक्ष्य के साथ व्यापक सुधार संबंधी कार्य योजनाओं को तैयार करने के लिए विश्व स्तर पर गठबंधन बनाने के साथ-साथ भारत के लिए एक व्यवस्थित एमपीआई बनाना है। एमपीआई के लिए नोडल मंत्रालय के रूप में, नीति आयोग सूचकांक की प्रकाशन एजेंसियों के साथ जुड़ने, राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों को उनके निष्पादन के आधार पर रैंकिंग प्रदान करने तथा प्रत्येक राष्ट्रीय एमपीआई संकेतक के लिए मैप किए गए बारह संबंधित मंत्रालयों से परामर्श करने के लिए एक अंतर-मंत्रालयी एमपीआई समन्वय समिति (एमपीआईसीसी) गठित के लिए भी उत्तरदायी है।

2. राष्ट्रीय बहुआयामी निर्धनता सूचकांक: एनएफएचएस-4 (2015-16) पर आधारित बेसलाइन रिपोर्ट नीति आयोग द्वारा 12 संबंधित मंत्रालयों के परामर्श से तथा राज्य सरकारों और सूचकांक प्रकाशन एजेंसियों - ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय की ऑक्सफोर्ड निर्धनता और मानव विकास पहल (ओपीएचआई) और संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) के साथ साझेदारी में विकसित की गई है।

3. राष्ट्रीय बहुआयामी निर्धनता सूचकांक: बेसलाइन रिपोर्ट राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-4 पर आधारित है, जिसे 2015-16 में संचालित किया गया था। एनएफएचएस का संचालन भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के तहत अंतर्राष्ट्रीय जनसंख्या विज्ञान संस्थान (आईआईपीएस) द्वारा किया जाता है।

4. राष्ट्रीय बहुआयामी निर्धनता सूचकांक: एनएफएचएस-4 (2015-16) पर आधारित बेसलाइन रिपोर्ट सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) के लक्ष्य-1.2 की दिशा में प्रगति को मापने के संदर्भ में एक योगदान है, जिसका उद्देश्य "सभी आयामों में गरीबी में जी रहे सभी उम्र के पुरुषों, महिलाएं और बच्चों के अनुपात को कम से कम आधा करना" है। स्वास्थ्य, शिक्षा और जीवन स्तर के तीन आयामों में, इसमें पोषण, बाल और किशोर मृत्यु दर, मातृ देखभाल, स्कूली शिक्षा के वर्ष, स्कूल में उपस्थिति, खाना पकाने का ईंधन, स्वच्छता, पेयजल, बिजली, आवास, बैंक खाते और संपत्ति पर आधारित संकेतक शामिल हैं।

5. एनएफएचएस-4 (डेटा अवधि: 2015-16), आवास, पेयजल, स्वच्छता, बिजली, खाना पकाने के ईंधन, वित्तीय समावेशन पर आधारित फ्लैगशिप योजनाएं शुरू करना और स्कूल में उपस्थिति, पोषण, मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य, आदि में सुधार के उपाय करना शामिल है। इसलिए यह आधारभूत स्तर पर यानी राष्ट्रीय स्तर की महत्वपूर्ण योजनाओं के बड़े पैमाने पर शुरू होने से पहले स्थिति के मापन के लिए एक उपयोगी स्रोत के रूप में कार्य करता है। प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई), जल जीवन मिशन (जेजेएम), स्वच्छ भारत मिशन (एसबीएम), प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना (सौभाग्य), प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूवाई), प्रधानमंत्री जन धन योजना (पीएमजेडीवाई), पोषण अभियान और समग्र शिक्षा उनमें से कुछ योजनाएं और कार्यक्रम हैं।

6. एनएफएचएस के लिए इकाई-स्तर पर एकत्रित घरेलू माइक्रोडेटा राष्ट्रीय एमपीआई की गणना के आधार के रूप में कार्य करता है। 2015-16 में एकत्र किए गए इस इकाई स्तर के माइक्रो डेटा का उपयोग वर्तमान एमपीआई रिपोर्ट में आधारभूत बहुआयामी निर्धनता संबंधी राय प्राप्त करने के लिए किया गया है, जहां उपर्युक्त योजनाओं के व्यापक तौर पर शुरू होने से पहले राष्ट्रीय एमपीआई के संबंध में था। इस बेसलाइन के संबंध में देश की प्रगति को 2019-20 में एकत्र किए गए एनएफएचएस-5 डेटा का उपयोग करके मापा जाएगा। सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए एनएफएचएस-5 (2019-20) का सारांश तथ्य-पत्रक 24 नवंबर, 2021 को आईआईपीएस और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी किया गया था। डेटा अवधि 2019-20 के एनएफएचएस-5 पर आधारित राष्ट्रीय एमपीआई की गणना तब की जाएगी, जब इकाई स्तर के माइक्रो डेटा की गणना की जाएगी। इसे अगले साल आईआईपीएस और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी किया गया है।

7. एनएफएचएस-5 (2019-20) के सारांश डेटा फैक्टशीट से प्राप्त प्रारंभिक अवलोकन उत्साहजनक हैं। वे स्वच्छ खाना पकाने के ईंधन, स्वच्छता और बिजली तक पहुंच में सुधार का सुझाव देते हैं, जो अभाव में कमी का संकेत देता है। इसके अतिरिक्त, 22 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए जारी राज्य की रिपोर्ट में स्कूल में उपस्थिति, पेयजल, बैंक खातों और आवास में कमी को कम करने का सुझाव दिया गया है। ये सुधार एनएफएचएस-5 (2019-20) के घरेलू माइक्रो डेटा पर आधारित आगामी सूचकांक में बहुआयामी निर्धनता के मामलों में उल्लेखनीय कमी का संकेत देते हैं।

8. एनएफएचएस-4 (2015-16) के बाद से फोकस्ड प्रोग्रामेटिक इंटरवेंशन्‍स और फ्लैगशिप योजनाओं के माध्यम से प्राप्त महत्वपूर्ण लाभ एनएफएचएस-5 (2019-20) फैक्टशीट और राष्ट्रीय एमपीआई के दायरे में संकेतकों के लिए रिपोर्ट में परिलक्षित होता है। प्रगति रिपोर्ट, आधारभूत राष्ट्रीय एमपीआई रिपोर्ट की अनुवर्ती, 2015-16 (एनएफएचएस-4) और 2019-20 (एनएफएचएस-5) के बीच बहुआयामी निर्धनता में इस कमी को दर्ज करेगी। यह रिपोर्ट एनएफएचएस-5 का इकाई स्तरीय माइक्रो डाटा उपलब्ध होने के बाद जारी की जाएगी।

राष्ट्रीय एमपीआई (राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-4 पर आधारित, डेटा अवधि- 2015-16): आयाम, संकेतक और निष्कर्ष

भारत का राष्ट्रीय एमपीआई स्वास्थ्य, शिक्षा और जीवन स्तर के तीन वृहद आयामों में परिवारों द्वारा सामना किए जाने वाले कई और एक साथ अभावों को शामिल करता है। राष्ट्रीय एमपीआई आयाम, संकेतक और मापन नीचे दिए गए हैं:

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001QBX3.jpg

 

राष्ट्रीय एमपीआई हेडकाउंट अनुपात और तीव्रता के अनुमान न केवल राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए बल्कि सभी जिलों के लिए भी प्रस्तुत किए गए हैं, जो इस रिपोर्ट की एक अनूठी विशेषता है। यह न केवल राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के बीच, बल्कि एक राज्य के जिलों के बीच तुलनात्मक और सापेक्ष प्रदर्शन के विश्लेषण को प्रस्तुत करेगा। यह देश के संघीय ढांचे और हस्तक्षेपों तथा योजनाओं के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए जिला प्रशासन की भागीदारी को महत्वपूर्ण मानता है।

चित्र 2: हेडकाउंट अनुपात (एमपीआई के तहत निर्धन जनसंख्या का प्रतिशत)

राज्यों को उनके संबंधित एमपीआई हेडकाउंट अनुपात के आरोही क्रम में नीचे दर्शाया गया है:

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0027S71.jpg

 

चित्र 3:

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0042NUV.jpg

एनएफएचएस-5 में सकारात्मक रुझान (डेटा अवधि- 2019-20): एनएफएचएस फैक्टशीट और रिपोर्ट से प्रारंभिक अवलोकन

पोषण, शिशु और किशोर मृत्यु दर, मातृ स्वास्थ्य, स्कूली शिक्षा के वर्षों और संपत्ति पर संकेतकों की गणना केवल एनएफएचएस-5 (2019-20) के घरेलू स्तर के माइक्रो डेटा आईआईपीएस और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी किए जाने के बाद ही की जा सकती है। एमपीआई स्कोर की गणना किसी दिए गए राज्य या जिले में प्रत्येक सैंपल किए गए परिवार को सभी 12 संकेतकों पर एक साथ स्कोर करके की जाती है। इसलिए, इसके लिए एनएफएचएस के घरेलू इकाई स्तर के माइक्रोडेटा की आवश्यकता होती है।

24 नवंबर, 2021 को आईआईपीएस और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी एनएफएचएस-5 (2019-20) फैक्टशीट में सभी 36 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए बिजली, खाना पकाने के ईंधन और स्वच्छता संकेतकों पर प्रारंभिक अनुमान उपलब्ध हैं।

स्कूल में उपस्थिति, पेयजल, आवास और बैंक खातों पर प्रारंभिक अनुमान केवल 22 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए एनएफएचएस-5 (2019-20) की राज्य की रिपोर्ट में उपलब्ध हैं।

नीचे दिए गए ग्राफ़ में पीले रंग की पट्टियां 2015-16 (एनएफएचएस 4) में राष्ट्रीय एमपीआई के एक संकेतक में वंचित जनसंख्या के प्रतिशत को दर्शाती हैं। हरे रंग की पट्टी 2019-20 (एनएफएचएस-5) में एक संकेतक में वंचित जनसंख्या के प्रतिशत को दर्शाती है।

अभाव = 100 - एक विशेष संकेतक में उपलब्धि। उदाहरण के लिए: यदि घरों में बिजली की सुविधा वाली जनसंख्या = 99 प्रतिशत, तो अभाव= 1 प्रतिशत

 

ए. बिजली की कमी को कम करने में एनएफएचएस-5 (2019-20) में सकारात्मक रुझान (एनएफएचएस-4 2015-16 पीले रंग में और एनएफएचएस-5 2019-20 हरे रंग में)

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image005ZTCC.jpg

बी. एनएफएचएस-5 (2019-20) में बेहतर और विशिष्ट स्वच्छता में अभाव को कम करने में सकारात्मक रुझान (पीले रंग में एनएफएचएस-4 (2015-16) और हरे रंग में एनएफएचएस-5 (2019-20)

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image006DSTW.jpg

सी. खाना पकाने के लिए स्वच्छ ईंधन के उपयोग में कमी को कम करने में एनएफएचएस-5 (2019-20) में सकारात्मक रुझान (पीले रंग में एनएफएचएस-4 (2015-16) और हरे रंग में एनएफएचएस-5 (2019-20)

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0072T6G.jpg

डी. पीने के पानी में कमी को कम करने में एनएफएचएस-5 (2019-20) में सकारात्मक रुझान (एनएफएचएस-4 (2015-16) पीले रंग में और एनएफएचएस-5 (2019-20) हरे रंग में)

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image008PH5G.jpg

 

ई. एनएफएचएस-5 (2019-20) में प्राथमिक विद्यालय में उपस्थिति में कमी को कम करने में सकारात्मक रुझान (एनएफएचएस-4 (2015-16) पीले रंग में और एनएफएचएस-5 (2019-20) हरे रंग में)

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image009D2LL.jpg

 

  • . बैंक खातों में कमी को कम करने में एनएफएचएस-5 (2019-20) में सकारात्मक रुझान (एनएफएचएस-4 (2015-16) पीले रंग में और एनएफएचएस-5 (2019-20) हरे रंग में)

                                      

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image010M24M.jpg

 

जी. आवास के अभाव को कम करने में एनएफएचएस-5 (2019-20) में सकारात्मक रुझान (एनएफएचएस-4 (2015-16) पीले रंग में और एनएफएचएस-5 (2019-20) हरे रंग में)

 

*एमपीआई एक व्यक्ति को आवास से वंचित बताता है, यदि वे एनएफएचएस-5 द्वारा परिभाषित कच्चे या अर्ध-पक्के घर में रह रहे हैं।

                                   

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image011JKTM.jpg

***

एमजी/एएम/एसकेएस/एसएस



(Release ID: 1775565) Visitor Counter : 1372