PIB Headquarters

कोविड-19 पर पीआईबी का दैनिक बुलेटिन

Posted On: 11 AUG 2020 6:28PM by PIB Delhi

Description: Coat of arms of India PNG images free download

 

 

(पिछले 24 घंटों में जारी कोविड-19 से संबंधित प्रेस विज्ञप्तियां, पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां और पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य शामिल हैं)

लगभग 16 लाख रोगियों के ठीक होने से भारत की रिकवरी दर करीब 70 प्रतिशत हुई।

कोरोना के मामलों में मृत्यु दर (सीएफआर) घटकर 2 प्रतिशत से कम हुई।

देश में सक्रिय मामलों की वास्तविक संख्या 6,39,929 है जो कुल पॉजिटिव मामलों का केवल 28.21 प्रतिशत है।

प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों के साथ कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए मौजूदा स्थिति और भविष्य की योजना बनाने के बारे में चर्चा की।

Description: C:\Users\VARUN\Desktop\image005K5D4.jpg

Description: C:\Users\VARUN\Desktop\image006XL6F.jpg

 

लगभग 16 लाख रोगियों के ठीक होने से भारत की रिकवरी दर करीब 70 प्रतिशत हुई; कोरोना के मामलों में मृत्यु दर (सीएफआर) घटकर 2 प्रतिशत से कम हुई

ठीक होने (रिकवरी) की दर में तेज बढ़ोतरी हुई है, जो आज लगभग 70 प्रतिशत है। अधिक रोगियों के ठीक होने और अस्पतालों से छुट्टी होने तथा घर में आइसोलेशन (हल्के और मध्यम रोगियों के मामले में) से कुल रिकवरी बढ़कर 15,83,489 तक पहुंच गई है। इसमें पिछले 24 घंटों में अस्पातालों से छुट्टी दे दिए गए कोविड-19 के 47,746 रोगी भी शामिल हैं। देश में सक्रिय मामलों की वास्ताविक संख्या  6,39,929 है जो कुल पॉजिटिव मामलों का केवल 28.21 प्रतिशत है। ये रोगी सक्रिय चिकित्सा देख-रेख में हैं। रिकवरी में लगातार और निरंतर बढ़ोतरी होने से ठीक हुए रोगियों और सक्रिय कोविड-19 रोगियों के बीच अंतर लगभग 9.5 लाख हो गया है। इसलिए प्रतिशत रिकवरी और प्रतिशत सक्रिय मामलों के मध्य अंतर दिन-प्रतिदिन बढ़ रहा है। अस्पतालों में बेहतर और प्रभावी नैदानिक उपचार पर ध्यान दिए जाने, शीघ्र और समय पर मरीजों को अस्पतालों में लाने के लिए एंबुलेंसों की नॉन-इनवेसिव, बेहतर और समन्वित सेवाओं के उपयोग से कोविड-19 रोगियों का सहज कुशल रोगी प्रबंधन करने में मदद मिली। इसके परिणामस्वरूप कोरोना के मामलों में मृत्यु् दर (सीएफआर) वैश्विक औसत की तुलना में कम रही। यह दर आज 2 प्रतिशत से घटकर 1.99 प्रतिशत पर आ गई है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1645040

प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों के साथ कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए मौजूदा स्थिति और भविष्य की योजना बनाने के बारे में चर्चा की

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, पंजाब, बिहार, गुजरात, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश सहित दस राज्यों के मुख्यमंत्रियों और प्रतिनिधियों के साथ आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए मौजूदा स्थिति और भविष्य की योजना बनाने के बारे में चर्चा की। कर्नाटक का प्रतिनिधित्व उप मुख्यमंत्री ने किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि सभी ने बेहद सहयोग दिखाया है और टीम इंडिया ने मिलकर काम करने का उल्लेखनीय प्रदर्शन किया है। उन्होंने अस्पतालों और स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों के सामने उत्पन्‍न चुनौतियों और दबाव की चर्चा की। उन्होंने कहा कि लगभग 80 प्रतिशत सक्रिय मामले चर्चा में भाग ले रहे 10 राज्यों से हैं, और अगर इन दस राज्यों में वायरस पर काबू पा लिया जाता है, तो पूरा देश कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में विजयी होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि दैनिक जांच की संख्या लगभग 7 लाख तक पहुंच गई है और इसमें लगातार बढ़ोतरी हो रही है, जिससे रोग की शुरुआत में पहचान करने और रोकथाम में मदद मिली है। देश में कोरोना के मामले में औसत मृत्यु दर सबसे कम है और यह लगातार घट रही है। सक्रिय मामलों का प्रतिशत कम हो रहा है, जबकि ठीक होने (रिकवरी) की दर बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि इन कदमों से लोगों का विश्वास बढ़ा है और मृत्यु दर को 1 प्रतिशत से नीचे लाने का लक्ष्य जल्द प्राप्त किया जा सकता है। प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा कि चर्चा से यह स्पष्ट है कि बिहार, गुजरात, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और तेलंगाना में जांच में तेजी लाने की तत्काल आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि इस लड़ाई में कंटेनमेंट, संपर्क का पता लगाना और निगरानी सबसे प्रभावी हथियार हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1645037

कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए मौजूदा स्थिति और भविष्य की योजना बनाने के लिए मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री की बातचीत का मूल पाठ

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1645042

डॉ. हर्षवर्धन ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के साथ राज्य की महत्वपूर्ण स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं के बारे में डिजिटल माध्यम से बातचीत की

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कल डिजिटल माध्यम से केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन से मध्यप्रदेश में स्वास्थ्य और चिकित्सा के क्षेत्र में सुधार के बारे में राय ली। मध्य प्रदेश सरकार के अधिकारियों ने वर्ष 2023 तक मध्यप्रदेश को आत्मनिर्भरबनाने के लिए स्वास्थ्य के क्षेत्र में सुधार के लिए एक रोडमैप डिजिटल माध्यम से प्रस्तुत किया। डॉ. हर्षवर्धन ने इस संबंध में अपने महत्वपूर्ण सुझाव दिए। श्री चौहान ने आश्वासन दिया कि उनके सभी सुझावों को पूरी तरह लागू किया जाएगा। डॉ. हर्षवर्धन ने श्री चौहान को महामारी के दौरान शपथ लेने के बावजूद मध्य प्रदेश में कोविड-19 परिदृश्य के प्रबंधनऔर उनके स्वयं के कोविड से स्वस्थ होने परबधाई दी। डॉ. हर्षवर्धन ने उन्हें ई-संजीवनी टेली-मेडिसिन प्लेटफॉर्म को अपनाने की सलाह दी जो कि अधिकारियों को बेतरतीब ढंग से फैली जनसंख्या के स्वास्थ्य का प्रबंधन करने में मदद करेगा।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1644887

नियमित यात्री और उप नगरीय ट्रेन सेवाएं अग्रिम सूचना तक निलंबित रहेंगी

जैसा कि पहले फैसला लिया गया और सूचित किया गया था, उसी क्रम में नियमित यात्री और उप नगरीय ट्रेन सेवाएं अग्रिम सूचना तक निलंबित रहेंगी। गौरतलब है कि वर्तमान में परिचालित 230 विशेष ट्रेनों का परिचालन जारी रहेगा। मुंबई में लोकल ट्रेनों, जो वर्तमान में राज्य सरकार की मांग पर सीमित रूप से परिचालित हो रही हैं, उनका भी परिचालन जारी रहेगा। विशेष ट्रेनों में यात्रियों की संख्या (ऑक्यूपैंसी) की नियमित आधार पर निगरानी की जा रही है। इसके अलावा आवश्यकता के आधार पर विशेष ट्रेनों का परिचालन किया जा सकता है। हालांकि, लॉकडाउन से पहले चल रही सभी अन्य नियमित ट्रेनों और उप नगरीय ट्रेनों की सेवाएं फिलहाल निलंबित रहेंगी।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1645115

केन्द्रीय मंत्री श्री प्रकाश जावडेकर ने उपराष्ट्रपति के तीन वर्ष के कार्यकाल पर ई-बुक कनेक्टिंग, कम्युनिकेटिंग, चेन्जिंगका विमोचन किया

केन्द्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री श्री प्रकाश जावडेकर ने आज भारत के उपराष्ट्रपति के तीन वर्ष के कार्यकाल पर एक पुस्तक के ई-संस्करण कनेक्टिंग, कम्युनिकेटिंग, चेन्जिंगका विमोचन किया। ई-बुक का उसके कॉफी टेबल संस्करण प्रिंट के साथ विमोचन किया गया, जिसका विमोचन केन्द्रीय रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने किया। ई-पुस्तक का विमोचन करते हुए श्री जावडेकर ने कहा कि पुस्तक संवाद के जरिए लोगों से जुड़ने और बदलते भारत के बारे में है और पुस्तक का यह तीसरा संस्करण उन छात्रों के लिए एक खजाना है जो उपराष्ट्रपति के भाषणों का अनुसरण करना चाहते हैं। इस अवसर पर रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि वाकपटुता एक कला है। उपराष्ट्रपति अपने दिल से बोलते हैं तथा उनके भाषण उनके विचारों और भावनाओं का प्रतिबिंब हैं। उन्होंने कहा कि एक अच्छी पुस्तक ऐसा सबसे बड़ा उपहार है जो एक पीढ़ी दूसरी पीढ़ी को दे सकती है और पाठक इस पुस्तक को बार-बार पढ़ते रहेंगे।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1645021

रक्षा मंत्री ने सार्वजनिक क्षेत्र की रक्षा ईकाइयों और ओएफबी द्वारा सुविधा केन्द्रों के आधुनिकीकरण/उन्नयन और नये बुनियादी ढांचे के निर्माण का शुभारंभ किया

रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने डिजिटल लिंक के माध्यम से रक्षा मंत्रालय के आत्म-निर्भर सप्ताह समारोह के एक भाग के रूप में सार्वजनिक क्षेत्र की रक्षा ईकाइयों और ओएफबी द्वारा नए बुनियादी ढांचे के निर्माण के साथ-साथ सुविधाओं के आधुनिकीकरण और उन्नयन की पहलों का शुभारंभ किया। श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आत्म-निर्भर भारत अभियान के लिए एक स्पष्ट आह्वान किया और उनका 5-I अर्थात इरादे, समावेश, निवेश, बुनियादी ढांचे और नवाचार का यह सूत्र अर्थव्यवस्था को समग्र उच्च विकास के पथ पर आगे बढ़ाएगा। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने कोविड-19 के दौरान समय पर और विवेकपूर्ण हस्तक्षेप किए जिनमें आयात के लिए नकारात्मक सूची जारी करना, प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की सीमा में वृद्धि, घरेलू सैन्य खरीद के लिए अलग बजट और स्वदेशीकरण पर जोर देना शामिल है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1645025

पीएफसी ने उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर के जिला अस्पताल में मॉड्यूलर ऑपरेशन थिएटर के निर्माण के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किए

भारत की प्रमुख गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (एनबीएफसी) पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन लिमिटेड (पीएफसी) ने आज जिला अस्पताल में दो मॉड्यूलर ऑपरेशन थियेटर रूम के निर्माण के लिए उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर के जिला प्रशासन के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए। इस समझौते के अंतर्गत पीएफसी अपनी सीएसआर पहल के तहत जिला प्रशासन को प्रोजेक्ट के क्रियान्वयन के लिए करीब 94 लाख रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करेगा। यह समझौता सिद्धार्थनगर जिले में शिशु मृत्यु दर (आईएमआर) और मातृ मृत्यु दर (एमएमआर) को कम करने में जरूरी बुनियादी ढांचे के निर्माण में संबंधित जिला प्रशासन की सहायता करेगा।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1644827

डीएसटी सचिव ने कोविड के दौरान उत्पन्न व्यवधानों के दौर में उभरे डिजिटल बदलाव के अवसरों पर प्रकाश डाला

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव, प्रोफेसर आशुतोष शर्मा ने जोर दिया कि भविष्य सभी डिजिटल प्रौद्योगिकियों के समन्वय का है और कोविड-19 वायरस ने देश को उसका प्रतिरोध करने के बजाय परिवर्तन का हिस्सा बनने का अवसर प्रदान किया है। कोविड-19 में डिजिटल बदलाव विषय पर आयोजित वेबिनार में प्रोफेसर शर्मा ने कहा, “डिजिटल तकनीकों और मशीनों का उपयोग देश को नई ऊंचाइयों पर ले जा सकता है और हमारे प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भरभारत के सपने को पूरा कर सकता है।प्रोफेसर शर्मा ने स्पष्ट किया कि कोविड से पहले ही भविष्य हमारी ओर तेजी से आता हुआ दिखाई देने लगा था। लेकिन अब कोरोना वायरस ने सब कुछ बदल दिया है। इसने कल्पना से परे जीवन के हर क्षेत्र को प्रभावित किया है। इसका प्रभाव सभी चीजों- चाहे वह श्रम की उपलब्धता हो, आपूर्ति श्रृंखला, या लॉजिस्टिक- पर दिखाई दे रहा है। हालांकि, चुनौती जितनी बड़ी होती है उपलब्धि भी उतनी ही बड़ी होती है। यह सोचने का बहुत अच्छा समय है कि हम कहां हैं और हमें कहां होना चाहिए ।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1645020

पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां

पंजाब: पंजाब में उत्तर क्षेत्र के लिए राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान के एक केन्द्र की स्थापना के लिए भारत सरकार ने सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, जिन्होंने कोविड महामारी के कारण कुछ सप्ताह पहले केंद्र को यह प्रस्ताव दिया था, ने इस अनुमोदन का स्वागत करते हुए कहा कि यह विषाणु विज्ञान केंद्र, विषाणु विज्ञान के क्षेत्र में अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए एक मील का पत्थर साबित होगा। इससे भारत को भविष्य के लिए तैयार रहने में मदद मिलेगी और साथ ही भविष्य में जल्द से जल्द वायरस का पता लगाकर उसके लिए आवश्यक निवारक के कदम उठाने में भी मदद मिलेगी।

हरियाणा: हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीरो-सर्वे की बैठक की समीक्षा करते हुए कहा कि हरियाणा सरकार सीरो-सर्वेक्षण करने के लिए पूरी तरह तैयार है और इसके लिए रोडमैप (खाका) तैयार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 की पहुंच की पहचान करने और इसके प्रसार के रुझानों पर नजर रखने के उद्देश्य से सीरो-सर्वेक्षण किया जा रहा है।

हिमाचल प्रदेश: मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत देश के 8.5 करोड़ किसानों के बैंक खातों में 17 हजार करोड़ रुपये से अधिक की राशि की एक और किस्त जारी करने के लिए धन्यवाद दिया है, इससे कृषक समुदाय को सशक्त बनाने में मदद मिल रही है।

अरुणाचल प्रदेश: अरुणाचल प्रदेश के मुख्य सचिव का कहना है कि राज्य में कोविड-19 से संबंधित प्रबंधन के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष से 15 करोड़ रुपये से अधिक खर्च किए गए हैं।

मणिपुर: मणिपुर में आज सुबह कोविड-19 से संक्रमित 60 वर्षीय व्यक्ति की जेएनआईएमएस में मौत हो गई। मृतक के स्वास्थ्य की सह-रुग्ण वाली स्थिति थी। इसके साथ, राज्य में कोविड-19 से संबंधित मृतकों की संख्या 12 तक पहुंच गई है।

मिजोरम: कल मिजोरम में 3 नए मरीजों में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि हुई। राज्य में कोविड-19 के कुल मामले 623 तक पहुंच गए, उनमें से 300 सक्रिय मामले हैं। कोविड-19 मामलों में वृद्धि के कारण छात्र निकायों और प्रिंसिपल परिषद की अपील के बाद मिजोरम विश्वविद्यालय ने स्नातक परीक्षाओं को अगले आदेश तक स्थगित कर दिया है।

केरल: राज्य में कल 5 कोविड-19 मरीजों की मौत हो गई, जिसके बाद मृतकों का संख्या बढ़कर 120 हो गई। मलप्पुरम में रविवार को पूर्ण रूप से लॉकडाउन लगा दिया गया, जहां अब सबसे ज्यादा मरीज हैं। दोपहर तक दर्ज आंकड़ों के अनुसार, 20 नए मामलों के साथ राजधानी जिले में वायरस का प्रसार जारी है। राज्य के पुलिस महानिदेशक ने एक समीक्षा बैठक में भीड़ बढ़ने से रोकने के लिए सड़कों पर अधिक पुलिसकर्मियों को तैनात करने का निर्णय लिया है। कोविड प्रोटोकॉल को बनाए रखते हुए भक्तों को 17 अगस्त से देवासवोम बोर्ड के तहत आने वाले मंदिरों में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। केरल में कल 1,184 नए कोविड मामलों की पुष्टि हुई। वर्तमान में कुल 12,737 मरीजों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है और विभिन्न जिलों में 1.49 लाख लोग निगरानी में भी रखे गए हैं।

तमिलनाडु: पुडुचेरी में 276 नए मरीजों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई और दो मरीजों की मौत हो गई। केन्द्र शासित प्रदेश में अब कुल मामले 5,900 हैं, सक्रिय मामले 2,277 हैं और मृतकों का आंकड़ा 91 है। पुडुचेरी सरकार ने कोविड-19 का मुकाबला करने के लिए केंद्र सरकार से 25 करोड़ रुपये की मांग की है। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में कोविड-19 से स्वस्थ होने की दर बढ़कर 80.8 प्रतिशत हो गई है, वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से प्रधानमंत्री के साथ बातचीत के दौरान किए जा रहे उपायों और राहत कार्यों के बारे में विस्तार से चर्चा की। राज्य में कल 5,914 नए मामले, 6,037 स्वस्थ होने वाले और 114 मौतें दर्ज की गईं। कुल कोविड मामले: 3,02,815; सक्रिय मामले: 53,099; मृतक: 5,041; स्वस्थ होने वाले: 2,44,675; चेन्नई में सक्रिय मामले: 11,328.

कर्नाटक: चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. के. सुधाकर ने राज्य के कोविड प्रबंधन के बारे में प्रधानमंत्री को जानकारी दी - क्योंकि मुख्यमंत्री कोविड -19 से स्वस्थ होने के बाद अभी भी होम आइशोलेशन में ही हैं यह जानकारी प्रधानमंत्री की सभी राज्यों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान दी। मंत्री डॉ. सुधाकर ने किए जाने वाले परीक्षणों की वृद्धि के बारे में भी बताया और कहा कि राज्य में अब प्रति दिन 20,000 के बजाय 50,000 परीक्षण किए जा रहे हैं। आरटीपीसीआर और रैपिड एंटीजन परीक्षणों के साथ इसे 75,000 तक बढ़ाने की योजना है। राज्य में 1,82,354 कुल मामलों में से 79,908 सक्रिय मामले हैं, राज्य 1.14 लाख कोविड केयर सेंटर बिस्तरों के साथ किसी भी स्थिति से निपटने में सक्षम है, 20,000 सामान्य बिस्तर, 8,000 ऑक्सीजन युक्त बिस्तर, 3,000 आईसीयू बिस्तर और 1,500 वेंटिलेटर सहित आईसीयू बिस्तर के साथ राज्य पूरी तरह तैयार है। कल राज्य में 4,267 नए मामले सामने आए, 5218 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई और 114 मौतें दर्ज की गईं।

आंध्र प्रदेश: सरकार कोविड-19 मामलों के परीक्षण और मामलों का पता लगाने पर ध्यान केंद्रित कर रही है, जिससे मृत्यु दर में कमी आ रही है, ये बातें मुख्यमंत्री श्री वाई. एस. जगन मोहन रेड्डी ने प्रधानमंत्री श्री मोदी के साथ बातचीत के दौरान कही तथा साथ ही राज्य में चिकित्सा बुनियादी ढांचे को बनाए रखने के लिए केंद्र का समर्थन मांगा। यह बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से संपन्न हुई। राज्य ने फैसला किया है कि सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी), जो ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक देखभाल की रीढ़ हैं, अब 24 घंटे काम करेंगे। कल राज्य में 7,665 नए मामले सामने आए, 6,924 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई और 80 मरीजों की मौत हुईं। कुल मामले: 2,35,525; सक्रिय मामले: 87,773; मृतक: 2,116; अस्पताल से छुट्टी दे दी गई: 1,45,636.

तेलंगाना: राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, सरकारी अस्पतालों और निजी शिक्षण अस्पतालों में कोविड-19 मरीजों के लिए 17,767 बिस्तर उपलब्ध हैं। पिछले 24 घंटों में 1,896 नए मामले दर्ज किए गए, 1788 स्वस्थ हुए और 8 मरीजों की मौत हुई; 1,896 मामलों में से, 338 मामले जीएचएमसी में दर्ज किए गए। कुल मामले: 82,647; सक्रिय मामले: 22,628;  मृतक: 645; अस्पताल से छुट्टी दे दी गई: 59,374।

पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य

Description: C:\Users\VARUN\Desktop\001.jpg

Description: C:\Users\VARUN\Desktop\002.jpg

Description: C:\Users\VARUN\Desktop\003.png

Description: C:\Users\VARUN\Desktop\004.png

Description: Image

Description: https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image00923E0.jpg

***

एमजी/एएम/एसके/पीकेपी



(Release ID: 1645366) Visitor Counter : 34