नीति आयोग

राष्‍ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर, अटल नवोन्‍मेष मिशन ने अटल टिंकरिंग लैब पुस्तिका के नये संस्‍करण की शुरूआत की

Posted On: 12 JAN 2021 7:16PM by PIB Delhi

अटल नवोन्‍मेष मिशन, नीति आयोगने आज अटल टिंकरिंग लैब पुस्तिका के नये संस्करण की शुरूआत की, जो अटल टिंकरिंग लैब्स की विस्तृत स्थापना और परिचालन प्रक्रियाओं को सुदृढ़ बनाता है और एक अभिनव ‘आत्मनिर्भर भारत’ की ओर ले जाता है।

यह प्रकाशन स्वामी विवेकानंद की जयंती के अवसर पर शुरू किया गया है, स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन को आदर देते हुए राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में भी मनाया जाता है जिन्होंने अपने पूरे जीवन में एक मजबूत राष्ट्र के निर्माण में युवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका बताई।

‘द अटल टिंकरिंग लैब हैंडबुक 2.0’नामक यह पुस्तिका एआईएम के प्रमुख एटीएल कार्यक्रम के संरचनात्मक, चयन, स्थापना और उत्सव के पहलुओं पर एक व्यावहारिक मार्गदर्शन को रेखांकित करती है।

यह पुस्तिका, जो एआईएम की आधिकारिक वेबसाइट पर ऑनलाइन उपलब्ध है, देश भर के स्कूलों के लिए एटीएल के जरियेजमीनी स्‍तर के नवोन्‍मेष के उद्देश्‍य से तकनीकी रूप से मजबूत कार्य प्रणाली बनाने के लिए एक विस्तृत मार्गदर्शन प्रदान करती है।

एक विशेष वीडियो संदेश के माध्यम से इस अवसर की शोभा बढ़ाते हुए नीति आयोग के उपाध्‍यक्ष डॉ. राजीव कुमार ने कहा, “आज, विवेकानंद जयंती के अवसर पर, हमने एटीएल पुस्तिका के दूसरे संस्करण को जारी किया है, जिसमें एटीएल पहल के 4 प्रमुख स्तंभों- चयन, स्थापना, सक्षमता और उत्सव का उपयोग करते हुए एक संरचना में एआईएम टीम द्वारा 3 वर्ष में किया गया जमीनी कार्य शामिल है। यह पुस्तिका गुणवत्तापूर्ण नीतिगत कार्य करने के नीति आयोग के भंडारमें एक और महत्वपूर्ण वृद्धि है, और इसमें जमीनी स्तर के अनुभवों और हस्तक्षेपों की सर्वोत्तम कार्य प्रणाली निहित है। "

एआईएम के मिशन निदेशक और नीति आयोग के अपर सचिव श्री आर. रमणन ने पुस्तिका के वर्चुअल रिलीज में एआईएम यानी अटल अटल टिंकरिंग लैब्स के सबसे महत्वाकांक्षी कार्यक्रमों में से एक के उद्देश्यों के बारे में बात की और प्रतिभागियों को इसके लाभों के बारे में बताया।

“यह पुस्तक अटल टिंकरिंग लैब के विभिन्न पहलुओं को जानने और उसका लाभ उठाने के लिए सभी स्कूलों, परामर्शदाताओं और नये अविष्‍कार करने वालों के लिए एक ऐसी संदर्भ पुस्तिका होगी कि उन्‍हें कहीं और जाना नहीं पड़ेगा। हमने इस पुस्तक को उपयोग में सरल बनाया है और इसमें क्यूआर कोड शामिल हैं जो कार्यक्रम के विभिन्न पहलुओं के बारे में अधिक विस्तृत लिंक की ओर ले जाते हैं।

मिशन उच्‍च स्‍तरीय समिति (एमएचएलसी) बोर्ड के सदस्य, एआईएम, नीति आयोग डॉ. विजय चौथाईवाले ने छात्रों को अपने संबोधन में स्वामी विवेकानंद को उद्धृत किया और उन्हें उच्च शिक्षा प्राप्त करने और निडर होकर लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए उनकी शिक्षाओं को अपनाने की सलाह दी।

“अटल इनोवेशन मिशन के माध्यम से देश के युवाओं के दिमाग में कैसे इनोवेशन इकोसिस्टम बिठाया जा रहा है, इस बात के गवाह के रूप में एटीएल हम सभी के लिए सीखने का अनुभव रहा है। मैं सभी विद्यालयों और छात्रों को सलाह दूंगा कि वे इस प्रकाशन का पूरी तरह से उपयोग करें। उन्होंने दावा किया, मैं इस बात पर जोर देना चाहता हूं कि सभी छात्रों को जोखिम उठाने में सक्षम होना चाहिए और असफलताओं से डरना नहीं चाहिए।

पुस्तिका की प्रति तक पहुंचा जा सकता है और उसे डाउनलोड किया जा सकता है

https://aim.gov.in/pdf/ATL_Handbook_2021.pdf

एटीएलके बारे में:

अटल टिंकरिंग लैब एक मेकरस्पेस ( ऐसा स्‍थान जहां टेक्‍नोलॉजी या कम्‍प्‍यूटिंग के साझा हितों से जुडे लोग विचारों, उपकरणों और ज्ञान का आदान-प्रदान कर परियोजनाओं पर काम करते हैं) प्रदान करता है जहां युवा दिमाग अपने विचारों को स्‍वयं अपने हाथों से आकार दे सकते हैं; और नवाचार कौशल सीखते हैं। उद्यमिता और नवोन्‍मेष को बढ़ावा देने के लिए अटल इनोवेशन मिशन, नीति आयोगने देश भर में 7000 से अधिक एटीएलकी स्थापना की है, जो अब तक कक्षा VIसे कक्षा XII तक के3 लाख + से अधिक छात्रों को समस्या का समाधान निकालने, संवारने और नवोन्‍मेषी दिमाग का उपयोग करने के लिए सक्षम बना चुका है।

******

एमजी/एएम/केपी



(Release ID: 1691808) Visitor Counter : 14