पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय

श्री धर्मेंद्र प्रधान ने फरीदाबाद में इंडियन ऑयल के अनुसंधान एवं विकास परिसर का उद्घाटन किया

अनुसंधान एवं विकास आत्म-निर्भर भारत का एक प्रमुख तत्व: धर्मेंद्र प्रधान

‘हम हरियाणा को देश का अग्रणी अनुसंधान एवं विकास केंद्र बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं’

Posted On: 29 JUN 2020 1:31PM by PIB Delhi

पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने आज हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के साथ आईएमटी, सेक्टर- 67, फरीदाबाद में दूसरे अनुसंधान एवं विकास (आर एंड डी) परिसर के रूप में इंडियन ऑयल के अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी विकास और परिनियोजन (तैनाती) केंद्र का उद्घाटन किया। 2282 करोड़ रुपये के निवेश से तैयार यह नया केंद्र लगभग 59 एकड़ जमीन पर बना है। इस नए परिसर में इंडियन ऑयल के अनुसंधान एवं विकास (आर एंड डी) द्वारा विकसित विभिन्न प्रौद्योगिकियों के प्रदर्शन और उनकी तैनाती पर मुख्य तौर पर ध्यान दिया जाएगा और यह सेक्टर -13, फरीदाबाद में मौजूदा परिसर के साथ मिलकर काम करेगा।

नए परिसर में अनुसंधान के बुनियादी ढांचे में वैकल्पिक एवं नवीकरणीय ऊर्जा जैसे- ईंधन सेल, हाइड्रोजन, गैसीकरण एवं सौर ऊर्जा अनुसंधान, अर्ध-वाणिज्यिक नैनो-सामग्री उत्पादन इकाई, पेट्रो-रसायन में स्केल-अप/प्रायोगिक प्लांट, उत्प्रेरक जैव प्रौद्योगिकी  आदि के अत्याधुनिक प्रयोगशालाएं और प्रायोगिक प्लांट शामिल हैं। इंडियन ऑयल के अनुसंधान एवं विकास केंद्र के इस परिसर में पारंपरिक ऊर्जा के साथ ही गैर-पारंपरिक ऊर्जा क्षेत्रों पर भी ध्यान केंद्रित किया जाएगा। इस नये केंद्र का उद्देश्य कई फ्रंटलाइन और पेट्रो-रसायन, बैटरी / ऊर्जा भंडारण उपकरण, जैव-ऊर्जा- ग्रीनहाउस गैस (CO2) पर कब्जा, उत्प्रेरक या ईंधन कोशिकाओं के लिए नॉवेल नैनो सामग्री, गतिशीलता और स्थिर अनुप्रयोगों के लिए हाइड्रोजन उत्पादन के तरीके और ईंधन सेल जैसी सनराइज प्रौद्योगिकियों का स्वदेशीकरण करना है।

पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने इस अवसर पर कहा कि इंडियन ऑयल का अनुसंधान एवं विकास केंद्र वर्षों की अनवरत कोशिश से पेट्रोलियम अनुसंधान एवं विकास के लिए एक अत्याधुनिक शोध संस्थान के रूप में विकसित हुआ है जो भारतीय परिस्थितियों के अनुकूल प्रौद्योगिकियों और प्रक्रियाओं के स्वदेशीकरण पर पर ध्यान देता रहा है। उन्होंने कहा कि इंडियन ऑयल के आर एंड डी केंद्र ने माननीय प्रधान मंत्री के आत्म-निर्भर भारत के सपने को साकार करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। श्री प्रधान ने कहा कि इंडियन ऑयल का यह आर एंड डी केंद्र वैकल्पिक, स्वच्छ और स्वदेशी ऊर्जा समाधानों के लिए एक प्रयोगशाला होगा और यह भारत को ऊर्जा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लक्ष्य को साकार करने और माननीय प्रधानमंत्री के आत्म-निर्भर भारत के सपने को भी पूरा करने की दिशा में एक बड़ा कदम है।

हरियाणा राज्य में पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय की गतिविधियों में मदद प्रदान करने के लिए हरियाणा सरकार का आभार जताते हुए श्री धर्मेंद्र प्रधान ने हरियाणा को केरोसिन मुक्त राज्य बनाने के लिए मुख्यमंत्री को बधाई दी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार कृषि-अवशेषों को स्वच्छ ऊर्जा में परिवर्तित करने में अग्रणी भूमिका निभा सकता है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के नेतृत्व में प्रदेश के सामाजिक-आर्थिक और विकास मापदंडों में जबरदस्त सुधार हुआ है। उन्होंने कहा कि हम हरियाणा को देश का  एक अग्रणी अनुसंधान एवं विकास केंद्र बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। अनुसंधान एवं विकास (आरएंडडी) को आत्म-निर्भर भारत अभियान का प्रमुख तत्व बताते हुए उन्होंने इंडियन ऑयल से राज्य में अपशिष्ट-से-ऊर्जा कार्यक्रमों को और गति प्रदान करने का आग्रह किया और राज्य को वैकल्पिक ऊर्जा समाधान में वैश्विक मॉडल बनाने के लिए काम करने को कहा है। उन्होंने कहा कि कचरे को ऊर्जा में बदलने के लिए इसको अलग करने का समुदाय-आधारित मॉडल सभी के लिए जीत की स्थिति होगी। श्री प्रधान ने कहा कि राज्य में ऊर्जा के वैकल्पिक स्रोतों का दोहन करने की बड़ी क्षमता है।

पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि कोरोना संकट के दौरान भारत ने दुनिया को दवाओं की आपूर्ति करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि देश में पेट्रो-रसायन की मांग बढ़ रही है और हमें पेट्रोलियम उत्पादों का आयात कम करना होगा। उन्होंने उद्योग से भारत को पेट्रोरसायन का केंद्र बनाने की दिशा में काम करने और देश को आत्म-निर्भर बनाने का आह्वान किया।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अपने संबोधन में कहा कि कोरोना महामारी के दौरान प्रदेश ने इस संकट से प्रभावी तरीके से निपटते हुए और इससे प्रभावित श्रमिकों को राहत प्रदान करकते हुए विकास किया है। इंडियन ऑयल की नई अनुसंधान इकाई की स्थापना करने के लिए हरियाणा का चयन करने के लिए आभार व्यक्त करते हुए श्री खट्टर ने कहा कि राज्य न केवल कृषि क्षेत्र में अग्रणी है, बल्कि यह स्पोर्ट्स हब और ऑटोमोबाइल क्षेत्र में भी एक प्रमुख खिलाड़ी के रूप में विकसित हो रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार ने राज्य को केरोसिन मुक्त बनाने में एक सक्रिय भूमिका निभाई, क्योंकि यह पता चला था कि कुछ असामाजिक तत्व मिलावट के उद्देश्यों के लिए इसका उपयोग कर रहे थे और इसीलिए इसे लागू किए जाने पर किसी ने कोई विरोध नहीं किया। मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि सभी घरों में रसोई गैस के कनेक्शन दिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य निश्चित रूप से एलएनजी और कृषि-उद्योग क्षेत्रों में आगे बढ़ेगा।

*************

एसजी/एएम/एके



(Release ID: 1635114) Visitor Counter : 205


Read this release in: English , Urdu , Marathi , Assamese , Bengali , Manipuri , Punjabi , Odia , Tamil , Telugu