संस्‍कृति मंत्रालय

संस्कृति मंत्रालय ने इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस पर आजादी का अमृत महोत्सव मनाने के लिए एक विशिष्ट कार्यक्रम शुरू किया

राष्ट्रगान गाएं, अपना वीडियो रिकॉर्ड करें और उसे 'राष्ट्रगानडॉटइन’ (RASHTRAGAAN.IN) पर अपलोड करें

Posted On: 02 AUG 2021 3:55PM by PIB Delhi

मुख्य बिंदु:

-“मैंने अपना वीडियो रिकॉर्ड और उसे अपलोड कर दिया है। क्या आपने भी किया है?”: श्री जी किशन रेड्डी

WWW.RASHTRAGAAN.IN पर क्लिक करें, अपना वीडियो अपलोड करें और आजादी का अमृत महोत्सव (एकेएएम) का हिस्सा बनें।

- राष्ट्रगान का संकलन 15 अगस्त 2021 को लाइव दिखाया जाएगा।

- आजादी का अमृत महोत्सव भारत की आजादी की 75वें वर्ष का जश्न मनाने के उपलक्ष्य में की गयी एक विशिष्ट पहल है।

 

आजादी का अमृत महोत्सव भारत की आजादी की 75वां वर्ष मनाने के उपलक्ष्य में पूरे देश में मनाया जा रहा है। इस महोत्सव के तहत जन भागीदारी बढ़ाने के लिए कई कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। संस्कृति मंत्रालय द्वारा इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए राष्ट्रगान से जुड़ी ऐसी ही एक अनूठी पहल शुरू की गई है ताकि सभी भारतीयों में गर्व और एकता की भावना भरी जाए। इसमें लोगों को राष्ट्रगान गाने और वेबसाइट www.RASHTRAGAAN.IN पर वीडियो अपलोड करने के लिए आमंत्रित किया गया है। राष्ट्रगान का संकलन 15 अगस्त, 2021 को लाइव दिखाया जाएगा।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने गत 25 जुलाई को ‘मन की बात’कार्यक्रम में आजादी का अमृत महोत्सव के एक भाग के रूप में इस पहल की घोषणा की थी। प्रधानमंत्री ने कहा, “संस्कृति मंत्रालय की ओर से यह प्रयास है कि अधिक से अधिक संख्या में भारतीय एक साथ राष्ट्रगान गाएं। इसके लिए एक वेबसाइट भी बनाई गई है- राष्ट्रगानडॉटइन (Rashtragan.in)। इस वेबसाइट की मदद से आप राष्ट्रगान को प्रस्तुत कर सकते हैं और इसे रिकॉर्ड कर सकते हैं, और इस अभियान से जुड़ सकते हैं। मुझे उम्मीद है कि आप इस नई पहल से खुद को जोड़ेंगे।"

केंद्रीय संस्कृति, पर्यटन और पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास (डोनर) मंत्री श्री जी किशन रेड्डी ने आजादी के 75वें वर्ष का जश्न मनाने के लिए लोगों से राष्ट्रगान गाने और रिकॉर्ड करने का आह्वान करते हुए, आज राष्ट्रगान गाते हुए अपना एक वीडियो रिकॉर्ड किया।

उन्होंने ट्विटर पर लिखा, "जैसा कि हम भारत की आजादी के 75वें वर्ष का जश्न मना रहे हैं, आइए एक साथ मिलकर राष्ट्रगान गाएं और इसका जश्न मनाएं! मैंने अपना वीडियो रिकॉर्ड और उसे अपलोड कर दिया है। क्या आपने भी किया है?

मैं सभी नागरिकों से अपना वीडियो रिकॉर्ड करने और उसे http://rashtragaan.in पर अपलोड करके अपना योगदान देने का आह्वान करता हूं। #अमृतमहोत्सव

 

केंद्रीय मंत्री ने आशा व्यक्त की कि दुनिया भर में बसे भारतीय इस आयोजन में भाग ले सकेंगे और उन्होंने युवाओं से अधिक से अधिक भागीदारी करने का भी आह्वान किया। राष्ट्रगान के अपलोड किए गए वीडियो का संकलन 15 अगस्त, 2021 को लाइव दिखाया जाएगा।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001P7IL.jpg

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002C9H5.jpg

 

साथ ही मंत्री ने आज स्वतंत्रता सेनानी पिंगली वेंकैया की जयंती के अवसर पर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

उन्होंने कहा, "एक शिक्षाविद्, एक महान स्वतंत्रता सेनानी और लाखों भारतीयों के दिलों में गर्व और देशभक्ति का भाव जगाने वाले भारतीय राष्ट्रीय ध्वज के डिजाइनर श्री पिंगली वैंकेया गारू को उनकी जयंती पर मेरी श्रद्धांजलि।"

वर्ष 1916 में, पिंगली वेंकैया ने विभिन्न देशों के झंडों का वर्णन करते हुए "अ नेशनल फ्लैग फोर इंडिया” (भारत के लिए एक राष्ट्रीय ध्वज) नाम की एक किताब प्रकाशित की थी और भारतीय राष्ट्रीय ध्वज को लेकर अपने विचार भी दिए थे।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने आशा व्यक्त की है कि आजादी का अमृत महोत्सव के माध्यम से हमारी आजादी का 75वां वर्ष एक जन आंदोलन बने। संस्कृति मंत्रालय इस तरह के कार्यक्रमों की पहचान के लिए विभिन्न मंत्रालयों के साथ काम कर रहा है और इसे इस अवसर के लिहाज से उपयुक्त उत्सव बनाने के लिए जमीनी स्तर पर समुदायों के साथ काम कर रहा है।

आजादी का अमृत महोत्सव इस साल 12 मार्च को महात्मा गांधी के साबरमती आश्रम से 15 अगस्त, 2022 को देश की आजादी की 75वीं वर्षगांठ से जुड़ी 75 सप्ताह की उलटी गिनती के साथ शुरू किया गया था। तब से, जम्मू-कश्मीर से लेकर पुडुचेरी और गुजरात से लेकर पूर्वोत्तर तक पूरे देश में अमृत महोत्सव से जुड़े कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0034QM1.jpg

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image004RLMW.jpg

 

****

एमजी/एएम/पीके/सीएस



(Release ID: 1741576) Visitor Counter : 9230