PIB Headquarters

कोविड-19 पर पीआईबी का दैनिक बुलेटिन

Posted On: 21 AUG 2020 6:18PM by PIB Delhi

Coat of arms of India PNG images free download

(पिछले 24 घंटों में जारी कोविड-19 से संबंधित प्रेस विज्ञप्तियां, पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां और पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य शामिल हैं)

भारत ने कोविड-19 बीमारी से एक ही दिन में सबसे अधिक रोगियों के ठीक होने के साथ एक और नया रिकॉर्ड बनाया, पिछले 24 घंटों में कोविड-19 से 62,282 रोगी ठीक हुए।

कोविड-19 रोगियों के ठीक होने की संख्या 21.5 लाख से अधिक हुई; रोगियों के ठीक होने (रिकवरी) की दर बढ़कर 74 प्रतिशत तक पहुंची।

वर्तमान में सक्रिय मामले (6,92,028) हैं जो आज कुल कोविड-19 पॉजिटिव मामलों का 23.82 प्रतिशत हैं, पिछले 24 घंटों में इसमें और गिरावट दर्ज की गई।

पिछले 24 घंटों में 8,05,985 कोविड नमूनों की जांच की गई।

चुनाव आयोग ने कोविड-19 अवधि के दौरान आम चुनाव/उप-चुनाव करवाने को लेकर व्यापक दिशा-निर्देशों को मंजूरी दी।

भारत ने कोविड-19 बीमारी से एक ही दिन में सबसे अधिक रोगियों के ठीक होने के साथ एक और नया रिकॉर्ड बनाया, पिछले 24 घंटों में कोविड-19 से 62,282 रोगी ठीक हुए, सक्रिय मामलों की प्रतिशतता में कमी और इससे ठीक होने वाले लोगों की प्रतिशतता में वृद्धि हुई

भारत ने एक ही दिन में कोविड-19 के सर्वाधिक रोगियों के ठीक होने के साथ एक और शिखर को छू लिया है। पिछले 24 घंटों में कोविड-19 से 62,282 मरीज़ ठीक हुए हैं और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। अधिक रोगियों के ठीक होने और अस्पतालों व घरों पर आइसोलेशन (संक्रमण के हल्के और मध्यम मामलों में) से छुट्टी मिलने के साथ आज मरीज़ों के ठीक होने की संख्या (21,58,946) 21.5 लाख का आंकड़ा पार कर गई है। कोरोना संक्रमण से ठीक होने वाले लोगों और कोविड-19 के सक्रिय मामलों के बीच का अंतर आज बढ़कर 14,66,918 तक हो गया है। कोविड-19 मरीजों के अधिक संख्या में ठीक होने के बाद उनके ठीक होने की प्रतिशत दर में निरंतर वृद्धि हो रही है और इसी के साथ सक्रिय मामलों की प्रतिशतता में भी लगातार गिरावट जारी है। संक्रमण से ठीक होने वालों की बढ़ती संख्या के साथ भारत में इससे ठीक होने की दर आज 74 प्रतिशत (74.28%) तक पहुंच गई है जो यह सुनिश्चित करती है कि अधिक रोगी ठीक हो रहे हैं। 33 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में ठीक होने की दर 50 प्रतिशत से अधिक दर्ज की गई। वर्तमान में सक्रिय मामलों (6,92,028) का ही देश में वास्तविक केस लोड है। पिछले 24 घंटों में और गिरावट दर्ज करते हुए यह आज कुल कोविड-19 पॉजिटिव मामलों का 23.82 प्रतिशत है। ये सभी पॉजिटिव मामले सक्रिय चिकित्सा देख-रेख में हैं। भारत में कोविड-19 के मामलों में मृत्यु दर (सीएफआर) इसके वैश्विक औसत से नीचे बनी हुई है। इसमें निरंतर गिरावट दर्ज की जा रही है और अभी यह 1.89 प्रतिशत है। बीमारी की पहचान के लिए पिछले 24 घंटों में 8,05,985 कोविड नमूनों की जांच की गई। इसके साथ ही अब तक कुल 3,34,67,237 नमूनों की जांच की जा चुकी है। देश में परीक्षण प्रयोगशाला नेटवर्क को लगातार मजबूत किया जा रहा है। आज की तारीख में देश में 1504 प्रयोगशालाएं कार्यरत हैं जिनमें सरकारी क्षेत्र में 978 प्रयोगशालाएं और निजी क्षेत्र में 526 प्रयोगशालाएं हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1647569

डॉ. हर्षवर्धन ने कोविड से जुड़े उपयुक्त व्यवहार को बढ़ावा देने के लिए एक इंटरैक्टिव गेम और आईईसी सामग्री की शुरुआत की

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कल कोविड-19 से जुड़ा अपनी तरह का पहला एक इंटरैक्टिव गेम, द कोरोना फाइटर्स (www.thecoronafighters.in), और कोविड संबंधी उपयुक्त अहम व्यवहारों का पालन करने का आग्रह करने वाले दो नए वीडियो की शुरुआत की। विशिष्ट रूप से डिजाइन किए गए इस गेम की शुरुआत पर अपनी खुशी व्यक्त करते हुए डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि यह गेम "लोगों को कोविड-19 महामारी से लड़ने के लिए सही उपकरण एवं व्यवहार सिखाने का एक नया एवं बेहद रचनात्मक तरीका प्रस्तुत करता है।" उन्होंने आगे कहा कि दो प्रचार वीडियो के साथ यह गेम "बस व्यापक जनता तक एक गंभीर संदेश को पहुंचाने का एक सरल रूप से डिजाइन किया हुआ एवं मजेदार माध्यम है।" डॉ. हर्षवर्धन ने इस अवसर पर पोलियो अभियान के अपने अनुभवों को भी याद किया, जोकि जन भागदारी (लोगों की भागीदारी) और फिल्म उद्योग के कई पेशेवरों के समर्थन एवं योगदान के माध्यम से एक सामाजिक आंदोलन में बदल गया था। इसी किस्म के प्रयासों से, मसलन लॉकडाउन और उसके बाद अनलॉकिंग के चरणों के दौरान कोविड से जुड़े उचित व्यवहारों को कॉलर ट्यून और अन्य माध्यमों के जरिए प्रचारित करके कोविड को नियंत्रित किया जा सकता है।उन्होंने कहा कि जब तक हमें कोविड-19 से लड़ने के लिए एक टीका नहीं मिल जाता, तब तक कोविड से जुड़ा उचित व्यवहार ही एक शक्तिशाली सामाजिक टीके के रूप में काम करेगा और हमें संरक्षित एवं सुरक्षित रखेगा।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1647586

कोविड-19 के दौरान आम चुनाव/उप-चुनाव को संचालित करने के लिए दिशा-निर्देश

भारत के चुनाव आयोग ने कोविड-19 अवधि के दौरान आम चुनाव/उप-चुनाव करवाने को लेकर व्यापक दिशा-निर्देशों को मंजूरी दी है। आयोग ने नामांकन के समय उम्मीदवार के साथ आने वाले व्यक्तियों व गाड़ियों की संख्या के नियमों में संशोधन किया है। साथ ही, नामांकन-पत्र और शपथ-पत्र ऑनलाइन भरने और उसके बाद उसका प्रिंट लेकर संबंधित निर्वाचन अधिकारी (आरओ) के समक्ष जमा करने की वैकल्पिक सुविधा तैयार की गई है। पहली बार, उम्मीदवारों के पास चुनाव में उम्मीदवारी के लिए जमानत राशि जमा कराने का ऑनलाइन विकल्प होगा। कंटेनमेंट दिशा-निर्देशों को ध्यान में रखते हुए आयोग ने उम्मीदवार के घर-घर जाकर चुनाव प्रचार करने के लिए पांच लोगों की सीमा तय की है। गृह मंत्रालय/राज्य सरकार द्वारा जारी किए गए कंटेनमेंट निर्देशों के अनुसार ही जनसभा और रोड शो करने की अनुमति होगी। चुनाव प्रक्रिया के दौरान फेस मास्क, सैनिटाइजर, थर्मल स्कैनर, दस्ताने, फेस शील्ड और पीपीई किट का उपयोग सोशल डेस्टेंसिंग को सुनिश्चित करने के लिए किया जायेगा। सभी मतदाताओं को वोटर रजिस्टर पर हस्ताक्षर करने और वोट करने के लिए ईवीएम के बटन दबाने के लिए हाथ के दस्ताने प्रदान किए जाएंगे। 

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://pib.gov.in/PressReleseDetail.aspx?PRID=1647624

औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, बेरहमपुर ने कोविड-19 संबंधित नवोन्मेषणों के लिए तीन पेटेंट दायर किए

कोविड-19 के प्रसार को नियंत्रित करने में मदद करने के लिए अपनी तकनीकी विशेषज्ञता का उपयोग करने के वर्तमान में जारी प्रयास में, औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई), बेरहमपुर ने नोवेल कोरोना वायरस से लड़ने के लिए विकसित अपने तीन नवोन्मेषी उत्पादों का पंजीकरण कराया है और किसी भी चुनौती के समक्ष खरे उतरने की अपनी अंतर्निहित क्षमता को प्रमाणित किया है। यह संस्थान को अन्वेषण के ऊपर प्राथमिकता का अधिकार प्रदान करेगा। संस्थान के तीन नवाचारों में मोबाइल स्वैब कलेक्शन कियोस्क, यूवीसी सोल सैनिटाइजर और यूवीसी रोबो योद्धा शामिल हैं। आईटीआई के प्रयासों की सराहना करते हुए, कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्री डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय ने कहा, ‘मुझे भरोसा है कि ऐसे नवोन्मेषण बड़े स्तर पर समाज की आवश्यकताओं की पूर्ति करते हुए आत्मनिर्भरता और अनुसंधान स्पिन ऑफ को प्रोत्साहित करेंगे और अधिक से अधिक आईटीआई को वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए नवोन्मेषी समाधानों के लिए आगे आने के लिए प्रेरित करेंगे।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1647726

ग्रामीण क्षेत्रों में कम कठोर स्थितियों में भंडारण के लिए उपयुक्त किफायती कोविड-19 डिटेक्शन किट के लिए अध्ययन की पहल की गई

कोविड-19 महामारी ने सुदूर क्षेत्रों में, जहां पर्याप्त बुनियादी ढांचा नहीं है, त्वरित नैदानिकी सुविधाओं के निर्माण की नई चुनौती पैदा कर दी है। इसके लिए ऐसे किफायती उपकरणों की आवश्यकता है जिन्हें बहुत सख्त भंडारण सुविधाएं अपेक्षित न हों। वैज्ञानिकों ने इस त्वरित आवश्यकता की पूर्ति के लिए एक अनुसंधान योजना तैयार की है। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के तहत एक सांविधिक निकाय साईंस एंड इंजीनियरिंग रिसर्च बोर्ड (एसईआरबी) के सहयोग से रांची स्थित मेसरा के बिरला प्रौद्योगिकी संस्थान ने बायोइंफार्मेटिक्स टूल, जिसके विरुद्ध डायग्नोस्टिक किट का विकास किया जाना है, का उपयोग करते हुए टार्गेट प्रोटीन का पता लगाने के साथ एक अनुसंधान की शुरुआत की है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1647605

ईएसआईसी की अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना के तहत पात्रता मानदंड में छूट एवं बेरोजगारी लाभ के भुगतान में वृद्धि

ईएसआई कॉरपोरेशन ने अपने सेवा प्रदायगी तंत्र में बेहतरी लाने एवं कोविड-19 महामारी द्वारा प्रभावित श्रमिकों को राहत प्रदान करने के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं। ईएसआईसी अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना का कार्यान्वयन कर रहा है जिसके तहत ईएसआई स्कीम के तहत कवर होने वाले श्रमिकों को बेरोजगारी लाभ का भुगतान किया जाता है। ईएसआई कॉरपोरेशन ने इस स्कीम को एक और वर्ष की अवधि 30 जून 2021 तक के लिए विस्तारित करने का निर्णय लिया है। जिन श्रमिकों ने कोविड-19 महामारी की अवधि के दौरान अपने रोजगार खो दिए हैं, उन्हें विद्यमान शर्तों एवं राहत की राशि में छूट देने का निर्णय लिया गया है। कोविड-19 महामारी के बीच ईएसआईसी अस्पतालों में आईसीयू/एचडीयू सेवाओं को सुदृढ़ बनाने के विचार से, सभी ईएसआईसी अस्पतालों में कुल कमीशंड बेडों के 10 प्रतिशत तक पर आईसीयू/एचडीयू सेवाओं की स्थापना करने का निर्णय लिया गया है। अभी तक भारत भर में लगभग 2600 आइसोलेशन बेडों एवं लगभग 1350 क्वारांटाइन बेडों के साथ 23 ईएसआईसी अस्पताल क्षेत्र के आम लोगों के लिए विशिष्ट रूप से कोविड चिकित्सा सेवाएं प्रदान करने के लिए कोविड-19 समर्पित अस्पतालों के रूप में काम कर रहे हैं। इसके अतिरिक्त, देश भर में शेष ईएसआईसी अस्पतालों में लगभग 961 कोविड आइसोलेशन बेड उपलब्ध हैं जिसे मिलाकर विभिन्न ईएसआईसी अस्पतालों में कुल 3597 कोविड आइसोलेशन बेडों की उपलब्धता है। इसके अतिरिक्त, इन अस्पतालों में 213 वेंटिलेटरों के साथ कुल 555 आईसीयू/एचडीयू बेड उपलब्ध हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1647560

2020 में पीएमईजीपी परियोजनाओं के कार्यान्वयन ने रिकॉर्ड 44 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की

कोविड-19 लॉकडाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था को लगे भारी झटके के बावजूद भी, खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) द्वारा कार्यान्वित प्रमुख प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (पीएमईजीपी) ने काफी तीव्र गति से वृद्धि की है। इस वित्तीय वर्ष के पहले पांच महीनों के दौरान अर्थात 1 अप्रैल, 2020 से 18 अगस्त, 2020 तक परियोजनाओं की मंजूरी में 44 प्रतिशत की जबरदस्त वृद्धि दर्ज की गई। खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) ने पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 71,556 परियोजनाओं की तुलना में बैंकों से वित्तपोषण के लिए 1.03 लाख परियोजना के आवेदनों को मंजूरी और इन्हें अग्रेषित करते हुए 44 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है। वर्ष 2020 में अप्रैल से अगस्त की अवधि के दौरान, वित्तपोषित बैंकों ने 11,191 परियोजनाओं को मंजूरी दी और 345.43 करोड़ मार्जिन मनी आवेदकों को वितरित की गई, जबकि इसकी तुलना में, पिछले वर्ष अर्थात 2019 के पहले पांच महीनों में 9161 परियोजनाओं के लिए 276.09 करोड़ रुपये ही वितरित किए गए थे।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1647553

वित्त वर्ष 2021 की पहली तिमाही में 8 लाख से अधिक शुद्ध ग्राहक जुड़े: ईपीएफओ पेरोल डेटा

ईपीएफओ द्वारा 20 अगस्त 2020 को प्रकाशित अनंतिम पेरोल डेटा से पता चलता है कि वित्त वर्ष 2021 की पहली तिमाही के दौरान ईपीएफओ के ग्राहक आधार में लगभग 8.47 लाख सदस्यों का इजाफा हुआ है। कोविड-19 वैश्विक महामारी के प्रकोप ने अप्रैल और मई 2020 में पंजीकरण पर प्रतिकूल प्रभाव डाला था। लॉकडाउन के बावजूद अप्रैल और मई 2020 के महीने में ईपीएफओ की सामाजिक सुरक्षा योजनाओं में क्रमश: लगभग 0.20 लाख और 1.72 लाख शुद्ध नए ग्राहक जोड़े गए। जून में 6.55 लाख शुद्ध ग्राहकों के साथ तेजी से सुधार हुआ और महीने के दौरान 280 प्रतिशत की उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की गई। ग्राहक आधार में वृद्धि की मुख्य वजह नए ग्राहकों की संख्या में बढ़ोतरी, ग्राहकों की कमजोर निकासी और बाहर होने वाले सदस्यों की दोबारा वापसी रही। जून 2020 में नए ग्राहकों की संख्या लगभग 64 प्रतिशत बढ़कर 4.98 लाख हो गई जो मई में 3.03 लाख थी। इसके अलावा ईपीएफओ के ग्राहक आधार में लगभग 33 प्रतिशत की कमी आई और वह जून 2020 में घटकर 2.96 लाख रह गई जो मई 2020 में 4.45 लाख थी।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1647522

स्टार्ट-अप परिवेश में विस्तार करने के लिए अटल इनोवेशन मिशन ने इंडिया स्वीडन हेल्थकेयर इनोवेशन सेंटर के साथ साझेदारी की

देश में नवाचार की संस्कृति को बढ़ावा देने के एक साझा दृष्टिकोण के अनुरूप भारतीय उद्यमियों की नवोन्मेषी क्षमता को बढ़ावा देने और देश में एक जीवंत स्टार्टअप परिवेश को मजबूती देने के लिए अटल इनोवेशन मिशन (एआईएम), नीति आयोग और इंडिया स्वीडन हेल्थकेयर इनोवेशन सेंटर की ओर से बिजनेस स्वीडन ने साझेदारी की है। इसी क्रम में एआईएम और इंडिया स्वीडन हेल्थकेयर इनोवेशन सेंटर ने कल यानी 20 अगस्त,2020 को एक वर्चुअल स्टेटमेंट ऑफ इंटेंट पर हस्ताक्षर किए। इंडिया-स्वीडन हेल्थकेयर इनोवेशन सेंटर एम्स दिल्ली, एम्स जोधपुर और बिजनेस स्वीडन का एक साझा प्ले-टफॉर्म है। इस नवाचार केंद्र का उद्देश्य खुले नवाचार का एक परिवेश तैयार करना है और इसे भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर), स्वीडन के स्वास्थ्य एवं सामाजिक मामलों के मंत्रालय और भारत में स्वीडन के दूतावास के रणनीतिक मार्गदर्शन में तैयार किया गया है। इसके पास परिवेश साझेदारों- इन्वेस्ट इंडिया, एजीएनआईआई, स्टार्टअप इंडिया और ज्ञान साझेदारों- एस्ट्राजेनेका, नैसकॉम एवं वीआईएनएनओवीए का एक मजबूत नेटवर्क है। इस नवाचार केंद्र ने भारत के स्वास्थ्य सेवा डिलीवरी क्षेत्र की समस्याओं को निपटाने में मदद करने के लिए हाल में अपनी पहली स्वास्थ्य सेवा नवाचार चुनौती शुरू की है ताकि इनोवेशन सेंटर प्लेटफॉर्म पर विभिन्ना भागीदारों के साथ सहयोग किया जा सके।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1647554

पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां

महाराष्ट्र: बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने मुंबई में 50 वर्ष से अधिक आयु के सभी कोविड-19 संक्रमित मरीजों के लिए, चाहे उनमें संक्रमण के कोई भी लक्षण हों या नहीं, संस्थागत आइसोलेशन को अनिवार्य बनाने हेतु कोविड दिशा-निर्देशों को फिर से संशोधित किया है। बीएमसी का कहना है कि अधिक उम्र वाले संक्रमित मरीजों में बढ़ती मृत्यु दर के कारण दिशा-निर्देशों में बदलाव आवश्यक हो गया है। महाराष्ट्र में 326 मरीजों की मौत हुई, जिसके बाद मृतकों की संख्या 21,359 हो गई है। राज्य में 1.62 लाख सक्रिय कोविड के मामले हैं।

गुजरात: पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के 1175 नए संक्रमित मरीजों का पता चला है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, राज्य में स्वस्थ होने वालों की दर में सुधार हुआ है और यह 79.21 प्रतिशत तक पहुंच गई है। राज्य में अब तक 15 लाख 47 हजार से अधिक परीक्षण किए गए हैं। कल 68,581 परीक्षण किए गए। अब राज्य में 14,454 सक्रिय मामले हैं।

राजस्थान: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोविड देखभाल अस्पतालों में काम करने वाले चिकित्सकों और नर्सिंग कर्मचारियों को अतिरिक्त मानदेय देने की घोषणा की है। दर्ज किए गए 66,619 मामलों में से, राजस्थान में अब तक 51,190 मरीजों के स्वस्थ होने के बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।

छत्तीसगढ़: छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य विभाग ने निर्देश दिया है कि कोविड के लक्षण जैसे सर्दी, खांसी, बुखार, सांस की तकलीफ वाले सभी मरीजों को 24 घंटों के भीतर कोविड का परीक्षण कराना चाहिए। विभाग ने पहले ही कोविड-19 के संभावित मरीजों की पहचान करने के लिए सभी जिलों में गहन सक्रिय निगरानी करने का निर्देश दिया है।

अरुणाचल प्रदेश: अरुणाचल प्रदेश में, पिछले 24 घंटों के दौरान 116 नए कोविड-19 संक्रमित मरीजों की पुष्टि हुई है,  71 मरीज स्वस्थ हुए हैं और अब 968 सक्रिय मामले रह गए हैं।

असम: असम में, 1735 से अधिक मरीजों में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि हुई है और 2772 मरीज स्वस्थ हुए हैं। कुल मामले 86,052, स्वस्थ होने वाले कुल मरीज 63,120, सक्रिय मरीज 22,708 और 221 मरीजों की मौत अब तक हो चुकी है।

मणिपुर: मणिपुर में, 49 नए मरीजों में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि हुई है, 117 मरीज स्वस्थ हुए हैं, कुल सक्रिय मामले 1905 हैं और स्वस्थ होने की दर 60 प्रतिशत पहुंच गई है।

मेघालय: मेघालय सरकार ने आगामी सितंबर 2020 से शुरू होने वाले महीने से अगले 3 महीनों में प्रत्येक महीने पहले एक सप्ताह के लिए राज्य के सभी प्रवेश बिंदुओं को बंद करने का निर्णय लिया है। यह हमारे स्वास्थ्य, अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं और संबंधित जिला प्रशासन को कोविड-19 मरीजों के लिए गहन निगरानी हेतु किया जा रहा है।

मिजोरम: मिजोरम में, आज 15 नए कोविड-19 मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई, कुल मामले 895 और सक्रिय मामले 478 हैं। राज्य के आइजोल में पूर्ण लॉकडाउन को 24 अगस्त तक बढ़ा दिया गया है।

नागालैंड: नागालैंड में, कोहिमा में तीन और कॉलोनियों में कोविड-19 के नए संक्रमित मरीजों का पता लगने के बाद सील कर दिया गया है। वे ऊपरी एजी, मध्य एजी और नए मंत्रियों के पहाड़ी उपनिवेश वाले इलाके हैं। नागालैंड में, मोन जिला प्रशासन ने असम से जिले में दाखिल होने वाले सभी वाहनों के प्रवेश, माल और आवश्यक वस्तुओं के परिवहन आदि पर 20 अगस्त से अगले आदेश तक प्रतिबंध लगा दिया है।

सिक्किम: राज्य में 46 नए मरीजों में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि हुई है, अब तक 834 मरीज को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई हैं और अब 498 सक्रिय मरीज रह गए हैं।

केरल: राज्य में आज चार और कोविड मरीजों की मौत हो गई, जिसके बाद मृतकों का आंकड़ा 195 पहुंच गया है। केरल उच्च न्यायालय ने आज विपक्षी नेता रमेश चेन्निथला द्वारा कोविड-19 मरीजों के कॉल डिटेल रिकॉर्ड एकत्र करने के राज्य सरकार के कदम के खिलाफ दायर याचिका को खारिज कर दिया। उच्च न्यायालय ने सरकार के इस रुख को स्वीकार कर लिया कि वह केवल कोविड मरीजों की टॉवर लोकेशन को एकत्र करेगा और कुछ नहीं तथा याचिका को खारिज कर दिया। राज्य के स्वास्थ्य विभाग को वांछित परिणाम देने में विफल रहने के बाद इस महामारी से निपटने के लिए पुलिस को कार्यभार सौंप दिया गया है, साथ ही उन्हें कोविड-19 मानदंडों को लागू करने की जिम्मेवारी भी दी गई है। पुलिस को 3 अगस्त से दो सप्ताह के लिए कोविड-19 मानदंडों को लागू करने हेतु व्यापक अधिकार दिए गए थे। राज्य में कल 1,968 नए कोविड-19 मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई। 18,123 मरीजों का अभी भी इलाज चल रहा है और 1,73,189 लोगों को विभिन्न जिलों में निगरानी में रखा गया है।

तमिलनाडु: पुडुचेरी में 313 नए मरीजों में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि, छह मरीजों की मौत, 300 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई, अब केन्द्र शासित प्रदेश में कुल मामले 9,594 तक हो गए हैं, 143 की मौत हुई है और 3,517 अभी सक्रिय मामले हैं। मद्रास उच्च न्यायालय ने विनायक चतुर्थी के दौरान व्यक्तियों द्वारा मूर्तियों के विसर्जन की अनुमति दी। कल तमिलनाडु में 5,986 नए मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई, 5742 मरीज स्वस्थ हुए और 116 मरीजों की मौत हुई। तमिलनाडु में कुल मामले: 3,61,435; सक्रिय मामले: 53,283; मृतक: 6,239; मरीज को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई: 3,01,913; चेन्नई में सक्रिय मामले: 12,287.

कर्नाटक: राज्य सरकार के कंटेनमेंट क्षेत्रों पर संशोधित दिशा-निर्देशों के अनुसार, बीबीएमपी ने निर्णय लिया है कि कंटेनमेंट क्षेत्रों में अधिक कठोर-अवरोधक नहीं होंगे। इस बीच राज्य सरकार ने कोविड-19 की स्थिति का अनुमान लगाने के लिए सभी जिलों में सर्वेक्षण करवाने की योजना बनाई है। राज्य ने गुरुवार को 2.5 लाख कोविड मामलों का आंकड़ा पार कर लिया है। कल 7,385 नए मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई, 6,231 मरीज को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई और 102 मरीजों की मौत हुई। कुल मामले: 2,56,975; सक्रिय मामले: 82,149; मृतक:4,429; डिस्चार्ज किए गए मरीजों की संख्या: 1,70,381.

आंध्र प्रदेश: मुख्यमंत्री श्री जगन मोहन रेड्डी ने कहा कि राज्य में कोविड-19 अस्पतालों की संख्या 138 से बढ़कर 287 हो गई है। आज कोविड-19 पर आयोजित एक समीक्षा बैठक के दौरान, मुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को आदेश दिया कि मरीजों को सर्वोत्तम सेवाएं प्रदान करने के लिए सभी कोविड-19 अस्पतालों में जल्द से जल्द विशेषज्ञ और चिकित्सक उपलब्ध कराए जाएं। उन्होंने अधिकरियों को समय-समय पर सत्यापन करके बुनियादी ढांचे और कर्मचारियों की कमी की किसी भी समस्या तुरंत दूर करने के लिए भी कहा। उन्होंने स्वच्छता कर्मियों के वेतन में वृद्धि करने का आदेश दिया, जिन्हें कोविड-19 सेवाओं के लिए अस्थायी रूप से भर्ती किया गया था। कल 9,393 नए मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई, 8,846 मरीज स्वस्थ हुए और 95 मरीजों की मौत हुई। कुल मामले: 3,25,396; सक्रिय मामले: 87,177; मृतक:3,001.

तेलंगाना: राज्य में पिछले 24 घंटों में 1967 नए मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई, 1781 मरीज स्वस्थ हुए और 8 मरीज की मौत हुई; 1967 संक्रमितों में से, 473 जीएचएमसी में दर्ज किए गए। कुल मामले: 99,391; सक्रिय मामले: 21,687; मृतक: 737; स्वस्थ होने वाले: 76,967। नए कोविड-19 संक्रमण के साथ मौसमी बीमारियों में अपेक्षित वृद्धि का मुकाबला करने के लिए, राज्य सरकार ने वृहत हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) के तहत सभी बस्ती दवाखाना में शाम 4 बजे से 7 बजे तक क्लीनिक संचालित करने का निर्णय लिया है।

 

पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य

***

एमजी/एएम/एसके/पीकेपी

 



(Release ID: 1647881) Visitor Counter : 33