PIB Headquarters

कोविड-19 पर पीआईबी का दैनिक बुलेटिन

Posted On: 29 JUL 2020 6:26PM by PIB Delhi

 (पिछले 24 घंटों में जारी कोविड-19 से संबंधित प्रेस विज्ञप्तियां, पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां और पीआईबी द्वारा जांचे गए तथ्य शामिल हैं)

  भारत में कोविड-19 के मामलों में मृत्यु दर (सीएफआर) 1 अप्रैल के बाद से आज सबसे कम 2.23 प्रतिशत है।

कोविड से ठीक होने वालों की संख्या दस लाख के करीब पहुंचने वाली है; पिछले 24 घंटों में 35,000 से अधिक लोग ठीक हुए।

कोविड-19 मरीजों के बीच ठीक होने (रिकवरी) की दर एक नई ऊंचाई 64.51 प्रतिशत पर पहुंच गई है।

सक्रिय मामले की संख्या 5,09,447 हैं और सभी मामले चिकित्सकीय देख-रेख में हैं।

पिछले 24 घंटों के दौरान 4.08 लाख नमूनों की जांच की गई है जिससे प्रति दस लाख पर जांच (टीपीएम) की संख्या बढ़कर 12,858 तक पहुंच गई है और कुल जांच का आंकड़ा 1.77 करोड़ से अधिक हो गया।

भारत में कोविड-19 के मामलों में मृत्यु दर (सीएफआर) 1 अप्रैल के बाद से आज सबसे कम 2.23 प्रतिशत है; कोविड से ठीक होने वालों की संख्या दस लाख के करीब पहुंचने वाली है; पिछले 24 घंटों में 35,000 से अधिक लोग ठीक हुए

केंद्र और राज्य/केंद्र शासित प्रदेश सरकारों द्वारा टेस्ट, ट्रैक, ट्रीटयानी परीक्षण, पता लगाना और उपचारकी रणनीति के प्रभावी रूप से समन्वित कार्यान्वयन ने वैश्विक परिदृश्य की तुलना में भारत में कोरोना के मामलों में मृत्यु दर को (सीएफआर) निम्न स्तर पर बनाए रखना सुनिश्चित किया है और यह लगातार घटती जा रही है। कोविड-19 के मामलों में मृत्यु दर (केस फैटलिटी रेट) आज 2.23 प्रतिशत है और यह 1 अप्रैल, 2020 के बाद सबसे कम है। लगातार छठे दिन भी प्रति दिन 30,000 से अधिक लोगों के ठीक होने का सिलसिला जारी है। कोविड-19 से ठीक होने वाले लोगों की कुल संख्या दस लाख के करीब पहुंचने वाली है। पिछले 24 घंटों में 35,286 रोगियों को अस्पताल से छुट्टी मिलने के साथ ही अब तक ठीक होने वाले लोगों की कुल संख्या 9,88,029 हो गई है। कोविड-19 मरीजों के बीच ठीक होने की दर एक नई ऊंचाई 64.51 प्रतिशत पर पहुंच गई है। कोविड से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या में इस तरह की लगातार वृद्धि के साथ ठीक होने वाले लोगों और कोविड-19 के सक्रिय मामलों के बीच अंतर वर्तमान में 4,78,582 है। सक्रिय मामले (5,09,447) चिकित्सकीय देख-रेख में हैं।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

भारत में कुल जांच का आंकड़ा 1.77 करोड़ से अधिक हुआ; प्रति दस लाख पर जांच की संख्या बढ़कर 12,858 हुई

पिछले 24 घंटों के दौरान 4,08,855 नमूनों की जांच की गई है जिससे प्रति दस लाख पर जांच (टीपीएम) की संख्या बढ़कर 12,858 तक पहुंच गई है तथा कुल जांच का आंकड़ा 1.77 करोड़ से अधिक हो गया है। देश में 1,316 प्रयोगशालाओं के साथ टेस्टिंग लैब नेटवर्क को लगातार मजबूत किया जा रहा है जिसमें सरकारी क्षेत्र की 906 प्रयोगशालाएं तथा निजी क्षेत्र की 410 प्रयोगशालाएं शामिल हैं। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने कोविड-19 महामारी और भारत में तम्बाकू का उपयोगशीर्षक से एक दस्तावेज जारी किया।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

डॉ. हर्षवर्धन ने मादक पदार्थों के सेवन से उपजे विकार एवं व्यवहारगत समस्याओं के लिए मानक उपचार के दिशा-निर्देशों के बारे में एक पुस्तिका जारी की

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने "स्टैंडर्ड ट्रीटमेंट गाइडलाइन्स फॉर द मैनेजमेंट ऑफ सब्सटेंस यूज डिसऑर्डर एंड बिहेवियरल एडिक्शंस" नामक शीर्षक वाली ई-पुस्तिका का विमोचन किया, जिसका उद्देश्य देश में मादक पदार्थों के सेवन और व्यवहारगत समस्याओं से निपटना है। कोविड-19 के दौरान नशे की लत की चुनौतियों का समाधान करने के महत्व पर, डॉ. हर्षवर्धन ने आगाह किया कि विश्व ड्रग रिपोर्ट 2020 बताती है कि कोविड-19 के कारण एक अन्य गिरावट देखी जा सकती है जैसा कि पहले आर्थिक संकट के कारण हुआ था- उपयोगकर्ता सस्ते सिंथेटिक पदार्थों की मांग कर सकते हैं; उनका झुकाव अधिक इंजेक्शन लगाने की ओर बढ़ सकता; आर्थिक मंदी के कारण गरीब और वंचित लोग नशीली दवाओं के उपयोग की दिशा में मुड़ सकते हैं और उन्हें इसका परिणाम भुगतना पड़ सकता है। उन्होंने इस संदर्भ में भी विस्तार से बताया कि धूम्रपान करने से कोविड-19 का खतरा बढ़ जाता है और साथ ही वायरस से संक्रमित होने वाले लोगों के परिणाम पर भी असर पड़ता है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने एशियन इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स की 5वीं वार्षिक बैठक में भाग लिया

केन्द्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने कल नई दिल्ली में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से एशियन इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक (एआईआईबी) के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स की 5वीं वार्षिक बैठक में भाग लिया। बैठक में होने वाले विचार-विमर्श में एआईआईबी के अध्यक्ष के चुनाव सहित कई आधिकारिक कार्य और एआईआईबी 2030- एशिया के विकास में सहायक अगला एक दशकविषय वस्तु पर होने वाली राउंडटेबल विचार-विमर्श जैसे मुद्दे शामिल थे। श्रीमती सीतारमण को राउंडटेबल विचार-विमर्श के लिए मुख्य वक्ता के रूप में चुना गया। श्रीमती सीतारमण ने कोविड-19 महामारी से मुकाबले के लिए भारत सहित अपने सदस्य देशों को त्वरित रूप से लगभग 10 अरब डॉलर की वित्तीय सहायता देने की दिशा में एआईआईबी के प्रयासों की सराहना की। श्रीमती सीतारमण ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की सार्क देशों के लिए कोविड-19 आपात कोष बनाने की पहल और कोविड-19 से पार पाने में प्रमुख मेडिकल हेल्थ किट्स की आपूर्ति की दिशा में भारत के प्रयासों का उल्लेख किया। भारत अब कोविड-19 वैक्सीन के परीक्षण के वैश्विक प्रयासों में भी सहयोग कर रहा है। इसके अलावा, वित्त मंत्री ने जी-20 डेट सर्विस सस्पेंशन इनीशिएटिवमें भारत की भागीदारी पर प्रकाश डाला। श्रीमती सीतारमण ने कोविड-19 से मुकाबले के लिए 23 अरब डॉलर की प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (पीएमजीकेवाई) और 295 अरब डॉलर का आत्मनिर्भर भारत पैकेज सहित भारत सरकार द्वारा उठाए गए विभिन्न कदमों का उल्लेख किया, जिनका उद्देश्य अर्थव्यवस्था के सभी सेक्टरों और तबकों को सुरक्षा देना है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

आयुष मंत्री ने एआईआईए में कोविड केंद्र में स्थापित व्यवस्थाओं की समीक्षा की

आयुष राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), श्रीपद येस्सो नाईक ने कल नई दिल्ली के सरिता विहार स्थित अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान (एआईआईए) में कोविड-19 स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) का दौरा किया। मंत्री ने कोविड-19 रोगियों के इलाज के लिए केंद्र में स्थापित व्यवस्थाओं की समीक्षा की। उन्होंने डॉक्टरों की टीम से बातचीत की और केंद्र में रोगियों की सुख-सुविधा के विषय में भी जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कोविड-19 स्वास्थ्य केंद्र में उपलब्ध सुविधाओं और आयुर्वेदिक दवाओं के माध्यम से होने वाले इलाजों के परिणामों के संदर्भ में भी उनसे प्रतिक्रिया मांगी। मंत्री ने कोविड-19 महामारी के आलोक में एआईआईए द्वारा प्रदान की जा रही सेवाओं के प्रति संतोष व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि एआईआईए, पूरे भारत में कोविड-19 के रोगियों के लिए, व्यक्तिगत आयुर्वेद चिकित्सा, आहार, योग और तनावमुक्त तकनीकों के माध्यम से समग्र रूप से देखभाल प्रदान करने की दिशा में अनुकरणीय भूमिका निभा रहा है। उन्होंने कहा कि भारत की पारंपरिक प्रणाली- आयुर्वेद में, इस महामारी का निदान करने और उपचारात्मक स्वास्थ्य देखभाल प्रदान करने की अपार संभावनाएं मौजूद हैं। सीएचसी में भर्ती किए गए अधिकांश रोगियों को आहार और योग सहित आयुर्वेद उपचार के प्रोटोकॉल का पालन कराया गया। मंत्री ने एआईआईए में निःशुल्क कोविड-19 परीक्षण केंद्र का भी दौरा किया। एआईआईए को, दिल्ली सरकार द्वारा कोविड-19 परीक्षण केंद्र (आरटी-पीसीआर और रैपिड एंटीजन परीक्षण) के रूप में घोषित किया गया है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री रमेश पोखरियाल निशंकने भारत की डिजिटल शिक्षा-2020रिपोर्ट जारी की

केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री रमेश पोखरियाल निशंकने कल भारत की डिजिटल शिक्षा-2020 रिपोर्ट जारी की। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि यह रिपोर्ट मानव संसाधन विकास मंत्रालय, राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के शिक्षा विभागों द्वारा घर पर बच्चों के लिए सुलभ और समावेशी शिक्षा सुनिश्चित करने और उनके सीखने के क्रम में आने वाली बाधाओं को दूर करने के लिए अपनाए गए अभिनव तरीकों की विस्तृत व्याख्या करती है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने शिक्षकों, विद्वानों और छात्रों को सीखने की उनकी ललक में मदद करने के लिए कई परियोजनाएं शुरू की हैं, जैसे कि दीक्षा मंच”, “स्वयं प्रभा टीवी चैनल”, ऑनलाइन एमओओसी पाठ्यक्रम, ऑन एयर– “शिक्षा वाणी”, दिव्यांगों के लिए एनआईओएस द्वारा विकसित डेजी, ई-पाठशाला”,  “ओपन एजुकेशनल रिसोर्सेज (एनआरओईआर) की राष्ट्रीय रिपोजिटरी”, टीवी चैनल, ई-लर्निंग पोर्टल, वेबिनार, चैट समूह और पुस्तकों के वितरण सहित राज्य/केन्द्र शासित सरकारों के साथ अन्य डिजिटल पहल। डिजिटल शिक्षा पहल भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए मददगार बन रही है। गोवा ने राज्य में प्रवेश परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए एम्बाइब, एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) सीखने, अभ्यास और परीक्षण के लिए ऑनलाइन मंच के साथ साझेदारी की है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना-II के तहत खाद्यान्नों का वितरण शुरू; राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा अब तक कुल 33.40 एलएमटी खाद्यान्न उठाया गया

अप्रैल से जून, 2020 तक प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएमजीकेएवाई) के सफल कार्यान्वयन के बाद भारत सरकार ने इस योजना को जुलाई से नवंबर 2020 तक 5 महीने के लिए और बढ़ा दिया है। इस योजना के अंतर्गत राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (एनएफएसए) और अंत्योदय अन्न योजना (एएवाई) में शामिल लगभग 81 करोड़ लाभार्थियों को 5 किलोग्राम चावल/गेहूं मुफ्त प्रदान किया जा रहा है। जुलाई से नवंबर,2020 तक पीएमजीकेएवाई-II के लिए कुल आवंटन 200.19 एलएमटी खाद्यान्न (91.33 एलएमटी गेहूं और 109.96 एलएमटी चावल) है। इस योजना को 08 जुलाई 2020 को शुरू किया गया और 27 जुलाई 2020 तक 33.40 एलएमटी खाद्यान्न (13.42 एलएमटी गेहूं और 19.98 एलएमटी चावल) लाभार्थियों के बीच वितरण के लिए राज्य सरकारों को सौंप दिया गया,जो जुलाई 2020 के पूरे महीने के लिए आवंटन का लगभग 83 प्रतिशत है। पीएमजीकेएवाई-II के लिए आवंटित 200.19 एलएमटी अतिरिक्त खाद्यान्न सहित भारत सरकार द्वारा 5 महीनों के दौरान समाज के कमजोर वर्गों को वितरित किए जाने वाले खाद्यान्न की कुल मात्रा लगभग 455 एलएमटी होगी। एफसीआई ने चालू सत्र के लिए खरीद का काम पहले ही पूरा कर लिया है और गेहूं तथा चावल दोनों की खरीद में नए रिकॉर्ड बनाए हैं। हाल ही में समाप्त फसल सीजन में एफसीआई ने कुल 389.76 एलएमटी गेहूं और 504.91 एलएमटी चावल की खरीद की है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह को नई दिल्ली में भारतीय योग संस्थान द्वारा पीएम केयर्स फंड में योगदान के रूप में एक डिमांड ड्राफ्ट तथा एक चेक सौंपा गया

केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अपील पर यूएनओ में अंतरराष्ट्रीय योग दिवसकी घोषणा के बाद योग ने पहले ही दुनिया भर में लोकप्रियता हासिल कर ली है। उन्होंने कहा कि बहरहाल, आज योग तेजी से लोगों के जीवन में स्थान बनाता जा रहा है और पिछले लगभग 12 सप्ताहों के दौरान स्वास्थ्य के बारे में जागरूकता अचानक कई गुना बढ़ गई है। भारतीय योग संस्थान द्वारा पीएम केयर्स फंड में योगदान के रूप में एक डिमांड ड्राफ्ट तथा एक चेक स्वीकार करते हुए डॉ. जितेंद्र सिंह ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के शब्दों का स्मरण किया कि हॉलीवुड से लेकर हरिद्वार तक लोगों ने कोरोना स्वास्थ्य संकट के दौरान योग को गंभीरता से लेना आरंभ कर दिया है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें-

पीआईबी के क्षेत्रीय कार्यालयों से मिली जानकारियां

चंडीगढ़: केन्द्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ के प्रशासक ने कोविड जागरूकता वैनका उद्घाटन किया, जिसमें एलईडी स्क्रीन भी लगाई गई है। इस वाहन का उपयोग कोविड-19 के बारे में सार्वजनिक स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता पैदा करने के लिए किया जाएगा। शहर में कोरोना-वायरस के मामलों की बढ़ती संख्या से चिंतित चंडीगढ़ प्रशासन के जनसंपर्क विभाग ने चंडीगढ़ के निवासियों में आईईसी गतिविधियों के तहत कोविड-19 के बारे में जागरूकता पैदा करने की योजना बनाई है।

पंजाब: राज्य में कोविड मामलों की बढ़ती संख्या के बीच, पंजाब सरकार ने अमृतसर और पटियाला में युवा आईएएस अधिकारियों को दो सरकारी चिकित्सा महाविद्यालयों में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के प्रभावी प्रबंधन करने के लिए नियुक्त किया है, साथ ही उन्हें निजी अस्पतालों से भी समन्वय स्थापित कर कार्य करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। मुख्य सचिव ने सभी जिलाधिकारियों (डीसी) को अपने-अपने जिलों में तेजतर्रार युवा अधिकारियों की पहचान कर प्रत्येक कोविड रोगी का पता लगाने और उनके उपचार तथा देखभाल का समन्वय करने और समय पर स्वास्थ्य सुविधाओं की पहुंच सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है।

केरल:  राज्य में आज तीन कोविड-19 मरीजों की मौत हुई है। इनमें दो कोझिकोड में और एक मलप्पुरम में हुआ। इसके साथ ही राज्य में अब तक 70 लोग इस जानलेवा वायरस के शिकार हो चुके हैं। इस बीच, राज्य की राजधानी में ढील के साथ लॉकडाउन (पूर्णंबंदी) जारी हैयह ढील अधिक संक्रमित कंटेनमेंट क्षेत्रों में लागू नहीं होगी। कोविड के आंकड़ों के अनुसारतिरुवनंतपुरम में प्रत्येक 18 परीक्षणों (जांच) में से एक संक्रमित मामला मिल रहा है। राज्य के विभिन्न हिस्सों में हो रही भारी बारिश के कारण कोविड की रोकथाम कार्यों में बाधा उत्पन्न हो गई है। आज से राज्य में कोविड-19 प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने वालों को मौके पर ही जुर्माना अदा करना होगा। वर्तमान में, 10,093 कोविड संक्रमित मरीजों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है और करीब 1.5 लाख लोगों को विभिन्न जिलों में निगरानी में रखा गया है।

तमिलनाडु: पुडुचेरी में अब तक के सबसे ज्यादा 166 मामले एक दिन में दर्ज किए गए; लक्षण रहित मरीजों को घर में भी अलग रहने की सलाह दी गई है। तमिलनाडु के राज्यपाल ने राजभवन में 3 और कोविड मरीज मिलने के बाद अपने आप को एक सप्ताह के लिए सभी से अलग कर लिया है। रानीपेट जिला प्रशासन ने अनुमान व्यक्त किया है कि 4 अगस्त तक जिले में कोविड मरीजों का आंकड़ा 8 हजार को पार कर जाएगा, इसको ध्यान में रखते हुए प्रशासन ने युद्धस्तर पर तैयारियां शुरू कर दी हैं। कल राज्य में 6,972 नए संक्रमितों की पुष्टि हुई, 4707 मरीज स्वस्थ हुए तथा 88 मरीजों की मौत हुई। वहीं चेन्नई में 1,107 नए मामले सामने आए। कुल मामले: 2,27,688; सक्रिय मामले: 57,073; मृतक: 3,659; स्वस्थ होने वाले: 1,66,956; चेन्नई में सक्रिय मामले: 12,852.

कर्नाटक: कर्नाटक के उप-मुख्यमंत्री ने कहा कि छात्रों को घबराने की जरूरत नहीं है, कोविड-19 के प्रसार के बावजूद सरकार सीईटी के लिए व्यवस्था कर रही है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. के. सुधाकर ने कहा कि लक्षण रहित, लक्षण वाले और हल्के लक्षणों वाले व्यक्तियों को वर्गीकृत करने और मामलों की गंभीरता के आधार पर उपचार की सिफारिश करने के लिए एक केंद्रीकृत प्रणाली बनायी जाएगी। उन्होंने कहा कि कोविड से संबंधित विभिन्न मौजूदा ऐप्स को तेजी से जानकारी प्राप्त करने के लिए एक प्लेटफार्म के तहत लाया जाएगा, जो जरूरतमंदों को अस्पतालों/बिस्तरों के के बारे में जानकारी उपलब्ध कराएगा। कल 5,536 नए मामले, 2,819 रोगियों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई और 102 मरीजों की मौत हो गई; बेंगलुरु शहर में 1,898 नए मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई। कुल मामले: 1,07,001; सक्रिय मामले: 64,434; मृतक: 2,055.

आंध्र प्रदेश: राज्य के चिकित्सा और स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि राज्य की लचर वित्तीय स्थिति के बावजूद कोरोना पीड़ितों को बेहतर चिकित्सा सुविधा प्रदान की जा रही है, राज्य सरकार ने इस महामारी से निपटने के लिए और अधिक धनराशि का आवंटन किया है। उन्होंने सरकारी आदेशों की अवहेलना करने वाले तथा कोरोना मरीजों के इलाज से इन्कार करने वाले निजी अस्पतालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की भी चेतावनी दी है। राज्य में डॉक्टरों सहित 17 हजार मेडिकल कर्मचारियों की भर्ती की जा रही है, ताकि इस महामारी से निपटने में तेजी लाई जा सके। राज्य में कल 7,948 नए मामले सामने आए, 3,064 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई और 58 मरीजों की मौत हो गई। कुल मामले:1,10,297; सक्रिय मामले: 56,527; मृतक:1,148; स्वस्थ होने वाले: 52,622.

तेलंगाना: बुधवार को राज्य में कोविड-19 के 1,764 नए मामले दर्ज किए गए, राज्य में एक ही दिन में अब तक के सबसे ज्यादा 18,858 नमूनों का परीक्षण किया गया और इसके बाद नमूनों के परीक्षण (जांच) की संचयी संख्या 4 लाख के करीब पहुंच गई। राज्य के कई जिलों में कोविड-19 मामलों में निरंतर वृद्धि के साथ-पिछले एक सप्ताह में 50 से अधिक मामले दर्ज किए गए - स्वास्थ्य का बुनियादी ढांचा अब एक महत्वपूर्ण बिंदु पर पहुंच गया है। पिछले 24 घंटे में 1,764 नए मामले सामने आए, 842 मरीज स्वस्थ हुए और 12 मरीजों के मौत हुई है। इस 1764 नए मामलों में से 509 मामले सिर्फ जीएचएमसी में दर्ज किए गए। कुल मामले:58,906; सक्रिय मामले:14,663; मृतक: 492; स्वस्थ होने वाले: 43,751.

अरुणाचल प्रदेश: अरुणाचल प्रदेश में रैपिड रिस्पांस एंटीजन टेस्ट राजधानी ईटानगर सहित राज्य के विभिन्न हिस्सों में तेजी से किए जा रहे हैं। ईटानगर में, 1,664 ऐसे परीक्षण पिछले चौबीस घंटों के दौरान किए गए, जिसमें 26 लोगों में संक्रमण का पता चला।

मणिपुर: मणिपुर में कोविड-19 से पहली मौत हुई है। थौबल जिले के 56 वर्षीय मरीज को गुर्दे की समस्या (डायलिसिस) के कारण इंफाल के आरआईएमएस अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

नागालैंड: नागालैंड में कोविड-19 के 53 नए मामलों का पता चला है। दीमापुर में 29, कोहिमा में 19 और मोन में 5.

महाराष्ट्र: मुंबई में किए गए एक सीरो-सर्वेक्षण से पता चला है कि झुग्गियों (स्लम्स) में रहने वाले आधे से अधिक लोगों या 57 प्रतिशत और आवासीय इलाकों में रहने वाले 16 प्रतिशत लोगों में प्रतिरक्षा क्षमता विकसित हो गई थी यानि कई लोग कोरोना से प्रभावित हुए थे।  रहने की जगह की कमी के कारण शारीरीक दूरी बनाए रखने में कठिनाई होती है, सामान्य शौचालय सुविधाओं का उपयोग संक्रमण के उच्च प्रसार का मुख्य कारण कहा जाता है। मंगलवार को 8 हजार से अधिक परीक्षण किए जाने के बावजूद, मुंबई में 717 नए संक्रमित मरीज सामने आए यानि गिरावट दर्ज की गई। जुलाई की शुरुआत में, शहर में रोजाना नियमित रूप से 5-6 हजार के परीक्षणों के साथ एक हजार 5 सौ से अधिक मामले देखे जा रहे थे, जो यह दर्शाता है कि वित्तीय राजधानी में कोविड-19 का प्रसार धीरे-धीरे कम हो रहा है। मंगलवार को पूरे महाराष्ट्र में 7,717 नए संक्रमित मरीज सामने आए। अब सक्रिय मामलों की संख्या 1,44,696 है।

गुजरात: गुजरात सरकार ने राज्य भर के निजी अस्पतालों में कोविड-19 के उपचार की शुल्क सीमा तय कर दी है। यह कदम निजी अस्पतालों के खिलाफ कोविड के मरीजों से अत्यधिक शुल्क वसूलने की शिकायतों के सामने आने के बाद लिया गया है। सरकार ने स्पष्ट किया है कि नई दरें राज्य भर में कोविड उपचार प्रदान करने वाले सभी निजी अस्पतालों पर लागू होंगी। ये दरें अहमदाबाद, वडोदरा, राजकोट, सूरत और भावनगर नगर निगम में स्थित निजी अस्पतालों पर लागू नहीं होगी क्योंकि यहां शुल्क पहले ही तय किए जा चुके हैं। गैर-आईसीयू वार्डों में कोविड मरीजों के लिए प्रति दिन 5700 रुपये से अधिक नहीं लिया जा सकता, जबकि आईसीयू सुविधाओं के लिए मरीजों से प्रति दिन 6000 रुपये से अधिक शुल्क नहीं लिया जा सकता है। गुजरात में पिछले 24 घंटों में 1,108  नए लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है वहीं मृतकों की संख्या 24 है। कुल मामले बढ़कर 57,982 हो गए हैं। इसमें 13,198 सक्रिय मामले, 42,412 स्वस्थ होने वाले और 2,372 मृतक शामिल हैं।

राजस्थान: आज सुबह 328 नए मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई। राज्य में कोविड-19 का आंकड़ा बढ़कर 38,964 हो गया है। वहीं, स्वस्थ होने वालों की कुल संख्या 27,569 हो गई है। अधिकतम नए मरीजों में 154 अलवर जिले से हैं, इसके बाद जयपुर में 61 और फिर अजमेर में 47 मरीज हैं।

मध्य प्रदेश: मंगलवार को राज्य में 628 नए संक्रमित मरीजों की पुष्टि हुई। जिसके बाद राज्य में कोविड-19 मरीजों की संख्या बढ़कर 29,217 हो गई है। जबकि 8 हजार 44 अभी सक्रिय मरीज हैं; वहीं 20,343 मरीज अब तक स्वस्थ हो चुके हैं और मृतकों की कुल संख्या 830 हो गई है। 

***

एसजी/एएम/एसके/पीकेपी



(Release ID: 1642297) Visitor Counter : 52