पर्यटन मंत्रालय

वर्षांत समीक्षा: पर्यटन मंत्रालय


भारत के 55 स्‍थानों पर 200 से अधिक जी20 बैठकों की मेजबानी करने की उम्मीद

पर्यटन मंत्रालय ने 28 नए पर्यटन हवाई मार्गों को शामिल करने की सैद्धांतिक मंजूरी दी, पर्यटन आरसीएस हवाई मार्गों की कुल संख्या अब 59

राष्ट्रीय डिजिटल पर्यटन मिशन का उद्देश्य राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की तर्ज पर पर्यटन इको-सिस्टम से हितधारकों को डिजिटल रूप से जोड़ना

पर्यटन मंत्रालय ने 'आजादी का अमृत महोत्सव' समारोहों के तहत 'युवा पर्यटन क्लब' की स्थापना की पहल की

विश्‍व के लोकप्रिय पर्यटन स्थलों के रूप में देश के विभिन्न क्षेत्रों को बढ़ावा देने के उद्देश्‍य से भारत के त्योहारों, कार्यक्रमों और लाइव दर्शन दिखाने के लिए उत्सव पोर्टल की शुरुआत

पर्यटन मंत्रालय ने समान पर्यटक पुलिस योजना के कार्यान्वयन के संबंध में सभी राज्यों/संघ शासित प्रदेशों के पुलिस विभाग के महानिदेशकों/महानिरीक्षकों का एक राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया

देश में पर्यटन के विकास से जुड़े मुद्दों पर चर्चा के लिए हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में राज्य पर्यटन मंत्रियों का राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया गया

विदेश स्थित अपने कार्यालयों के जरिये, मंत्रालय ने अरेबियन ट्रैवल मार्ट, दुबई एंड वर्ल्ड ट्रैवल मार्केट, लंदन जैसी प्रमुख अंतरराष्ट्रीय यात्रा प्रदर्शनियों में हिस्‍सा लिया

Posted On: 22 DEC 2022 3:22PM by PIB Delhi

कैलेंडर वर्ष 2022 के लिए पर्यटन मंत्रालय की प्रमुख उपलब्धियां इस प्रकार हैं:

1 दिसम्‍बर 2022 को, भारत ने जी20 समूह के देशों की अध्यक्षता एक वर्ष के लिए अपने हाथ में ले ली। अध्यक्षता अवधि के दौरान, जो 30 नवम्‍बर 2023 को समाप्त हो रही है, देश के 55 स्थानों पर 200 से अधिक बैठकों की मेजबानी करने की उम्मीद है। इनमें से 4 बैठकें पर्यटन मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा आयोजित की जा रही हैं। इसके अलावा, पर्यटन मंत्रालय अपने विभिन्न घरेलू कार्यालयों और आईटीडीसी के माध्यम से टैक्सी/कैब चालकों, पर्यटन परिवहन चालकों, होटल फ्रंटलाइन कर्मचारियों, टूरिस्‍ट गाइड सहित पर्यटन हितधारकों के लिए कौशल प्रशिक्षण और संवेदीकरण कार्यक्रम आयोजित कर रहा है। सॉफ्ट स्किल प्रशिक्षण कार्यक्रमों में अन्‍य बातों के अलावा शिष्टाचार, कार्यस्थल और व्यक्तिगत स्वच्छता, कोविड प्रोटोकॉल, विदेशी भाषा आदि शामिल हैं। अखिल भारतीय आधार पर जी 20 बैठकों के स्थानों पर अब तक 2000 से अधिक कर्मियों को प्रशिक्षित किया जा चुका है, अगले कुछ महीनों में कुछ और प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0011U74.jpg

 

  • पर्यटन मंत्रालय ने गृह मंत्रालय और पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो (बीपीआरएंडडी) के सहयोग से समान पर्यटक पुलिस योजना के कार्यान्वयन के संबंध में सभी राज्यों/संघ शासित प्रदेशों के पुलिस विभाग के महानिदेशकों/महानिरीक्षकों (डीजी/आईजी) का 19 अक्टूबर, 2022 को विज्ञान भवन, नई दिल्ली में एक राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया। पर्यटक पुलिस योजना पर राष्ट्रीय सम्मेलन का उद्देश्य पर्यटन मंत्रालय को गृह मंत्रालय, पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के साथ राज्य सरकारों/संघ शासित प्रशासनों को एक मंच पर लाना है, ताकि वे राज्य/संघ शासित पुलिस विभाग के साथ मिलकर काम कर सकें और अखिल भारतीय स्तर पर समान पर्यटक पुलिस योजना के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए विदेशी और घरेलू पर्यटकों की विशिष्ट आवश्यकताओं के बारे में संवेदनशील बन सकें।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002LEBN.jpg

राष्ट्रीय डिजिटल पर्यटन मिशन (एनडीटीएम) का उद्देश्य राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की तर्ज पर पर्यटन इको-सिस्टम में हितधारकों को डिजिटल रूप से जोड़ना है। पर्यटन गतिविधियों को एक एकीकृत प्रणाली के तहत लाने के लिए डिजिटलीकरण महत्वपूर्ण है और इस तरह आतिथ्य और पर्यटन क्षेत्र की प्रतिस्पर्धात्मकता को बढ़ाता है। निधि+ को एनडीटीएम के एक महत्वपूर्ण भाग के रूप में रखा गया है।

आरसीएस उड़ान-3 पर्यटन के तहत पर्यटन मंत्रालय ने कनेक्टिविटी को और बेहतर बनाने के उद्देश्य से नागर विमानन मंत्रालय से संपर्क किया और प्रतिष्ठित स्थलों सहित महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों की बेहतर कनेक्टिविटी के लिए पर्यटन मार्गों को शामिल किया। अब तक, 31 पर्यटन मार्गों को चालू किया जा चुका है। इसके अलावा, पर्यटन मंत्रालय ने 28 नए पर्यटन मार्गों को शामिल करने के लिए सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है, इसलिए स्वीकृत पर्यटन आरसीएस हवाई मार्गों की कुल संख्या अब 59 हो गई है।

पर्यटन मंत्रालय ने घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत के पूर्वोत्‍तर राज्यों की पर्यटन संभावना को प्रदर्शित करने के लिए उन राज्‍यों में अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन मार्ट का आयोजन किया। मिजोरम सरकार के सहयोग से मिजोरम की राजधानी आइजोल में 17 से 19 नवम्‍बर 2022 तक पूर्वोत्तर क्षेत्र के 10वें अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन मार्ट (आईटीएम) का आयोजन किया गया। मार्ट आठ पूर्वोत्तर राज्यों की पर्यटन व्यवसाय बिरादरी और उद्यमियों को एक साझा मंच पर लाया। आईटीएम मिजोरम और अन्य पूर्वोत्‍तर राज्यों के पर्यटन हितधारकों को क्षेत्र के अज्ञात यात्रा स्थलों को प्रदर्शित करने का एक अवसर प्रदान करता है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image004LVS5.jpg

पर्यटन मंत्रालय ने देश में पर्यटन के विकास से संबंधित मुद्दों पर चर्चा करने के लिए हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में 18 से 20 सितम्‍बर 2022 तक राज्य के पर्यटन मंत्रियों का राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया। सम्मेलन में विभिन्न राज्यों के पर्यटन मंत्रियों के साथ-साथ केंद्रीय मंत्रालयों, पर्यटन और आतिथ्य संघों, मीडिया आदि ने भाग लिया। सम्मेलन का उद्देश्य पर्यटन विकास और वृद्धि पर भारत के सभी राज्यों और संघ शासित प्रदेशों के विविध दृष्टिकोणों को सामने लाना और भारत में समग्र पर्यटन सुधार के लिए राष्ट्रीय स्तर पर योजनाओं, नीतियों और उठाए जा रहे कदमों पर राज्यों के साथ सीधा संवाद कायम करना था। सम्मेलन के दौरान, पर्यटन क्षेत्र में देश भर से सर्वश्रेष्‍ठ कार्य प्रणालियों, सफल परियोजनाओं और पर्यटन उत्पाद के अवसरों को प्रतिनिधियों और मीडिया के साथ साझा किया गया। सम्मेलन में मंत्रालय की विभिन्न नीतियों और कार्यक्रमों पर भी ध्यान केन्‍द्रित किया गया, जिसमें पर्यटन बुनियादी ढांचे का विकास, सांस्कृतिक, विरासत और आध्यात्मिक पर्यटन, हिमालयी राज्यों में पर्यटन, जिम्मेदार और दीघर्कालिक पर्यटन और जी-20 बैठकों से जुड़े पर्यटन संबंधी पहलू शामिल हैं।

पर्यटन मंत्रालय ने संयुक्त पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) और रिस्पॉन्सिबल टूरिज्म सोसाइटी ऑफ इंडिया (आरटीएसओआई) के साथ मिलकर नई दिल्ली में दीर्घकालिक और जिम्मेदार पर्यटन स्थलों के विकास पर राष्ट्रीय शिखर सम्मेलन का आयोजन किया। इस अवसर पर पर्यटन मंत्रालय ने दीघर्कालिक पर्यटन और जिम्मेदार यात्री अभियान की राष्ट्रीय रणनीति का शुभारंभ किया। रणनीति दस्तावेज में दीर्घकालिक पर्यटन के विकास के लिए पर्यावरणीय स्थिरता को बढ़ावा देने, जैव विविधता की रक्षा करने, आर्थिक स्थिरता को बढ़ावा देने, सामाजिक-सांस्कृतिक स्थिरता को बढ़ावा देने, दीर्घकालिक पर्यटन के प्रमाणन के लिए योजना, आईईसी और क्षमता निर्माण और शासन जैसे स्थायी पर्यटन के विकास के रणनीतिक स्तंभों की पहचान की गई है। अभियान की शुरुआत करते हुए, सचिव (पर्यटन) ने संकेत दिया कि स्वदेश दर्शन 2.0 के माध्यम से विभिन्न परियोजनाओं और पहलों में दीर्घकालिक और जिम्मेदार पर्यटन कार्य प्रणालियों को लागू किया जाएगा।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0054C56.jpg

मंत्रालय ने 21 जून, 2022 को परेड ग्राउंड, सिकंदराबाद, तेलंगाना में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस -2022 (आईडीवाई-2022) का आयोजन किया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भारत के तत्‍कालीन उपराष्ट्रपति, श्री एम. वेंकैया नायडु थे। पर्यटन, संस्कृति और उत्‍तर पूर्वी क्षेत्र विकास मंत्री श्री जी. किशन रेड्डी ने मशहूर हस्तियों, खिलाड़ियों, तेलंगाना सरकार और भारत सरकार के विभागों के प्रमुखों और पर्यटन मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ इस कार्यक्रम की अध्यक्षता की। लगभग 10,000 प्रतिभागियों ने कार्यक्रम में भाग लिया। मंत्रालय के घरेलू कार्यालयों ने भी देश के विभिन्न स्थानों पर आईडीवाई कार्यक्रमों का आयोजन कर इस अवसर का जश्न मनाया।

देश भर में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए पर्यटन मंत्रालय ने 17 फरवरी, 2022 को नई दिल्ली में मेसर्स एलायंस एयर एविएशन लिमिटेड (एएएएल) के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। मंत्रालय का भारत को पर्यटन के क्षेत्र में एक पसंदीदा बाजार स्‍थल के रूप में स्थापित करने का प्रयास है जबकि मैसर्स एलायंस एयर एविएशन लिमिटेड अपने विशाल घरेलू नेटवर्क के साथ भारत में पर्यटन को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। संयुक्त घरेलू प्रचार के सामान्य उद्देश्य को प्राप्त करने और पर्यटन बाजारों में एमओटी और एएएएल की गतिविधियों के तालमेल की आवश्यकता पर विचार करने के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए थे।

पर्यटन मंत्रालय ने विदेश में स्थित अपने कार्यालयों के माध्यम से अरेबियन ट्रैवल मार्ट, दुबई एंड वर्ल्ड ट्रैवल मार्केट, लंदन जैसी प्रमुख अंतरराष्ट्रीय यात्रा प्रदर्शनियों में भाग लिया, जिसमें अन्‍य लोगों के अलावा डीएमसी, इनबाउंड टूर ऑपरेटरों, होटल व्यावसायियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने हिस्‍सा लिया। इन प्रदर्शनियों में मंत्रालय की भागीदारी के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय यात्रा उद्योग के लिए भारत का 360 डिग्री के गंतव्य के रूप में प्रचार किया गया।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0069TY4.jpg

 

पर्यटन मंत्रालय ने 'आजादी का अमृत महोत्सव' समारोहों के तहत 'युवा पर्यटन क्लबों' की स्थापना की पहल की। ​​युवा पर्यटन क्लबों की परिकल्‍पना भारतीय पर्यटन के युवा राजदूतों को तैयार करना और उन्‍हें आगे बढ़ाना है जो भारत में पर्यटन की संभावनाओं से अवगत होंगे और हमारी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत की सराहना करेंगे और पर्यटन के लिए रुचि और जुनून विकसित करेंगे। ये युवा राजदूत भारत में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उत्प्रेरक का कार्य करेंगे। पर्यटन क्लबों में भागीदारी से टीमवर्क, प्रबंधन, नेतृत्व जैसे सॉफ्ट स्किल्स को विकसित करने के अलावा जिम्मेदार पर्यटन कार्य प्रणालियों को अपनाने और दीर्घकालिक पर्यटन में दिलचस्‍पी बढ़ने की भी उम्मीद है। केन्‍द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड पर्यटन मंत्रालय की पहल का समर्थन करने के लिए आगे आया है और सीबीएसई से संबद्ध सभी स्कूलों को युवा पर्यटन क्लबों के गठन के संबंध में निर्देश जारी किए हैं। युवा पर्यटन मंत्रालय ने 'पर्यटन क्लबों को चलाने के लिए स्कूलों के लिए विवरण पुस्तिका' भी तैयार की है। विवरण पुस्तिका विभिन्न गतिविधियों के संचालन के लिए विशिष्ट दिशानिर्देशों और सुझावों के साथ उद्देश्‍यों, परिचालन रणनीतियों को दोहराती है।

निधि +: पर्यटन मंत्रालय ने आतिथ्य उद्योग के राष्ट्रीय एकीकृत डेटाबेस (या निधि) की स्थापना की है, जो एक प्रौद्योगिकी संचालित प्रणाली है, जो माननीय प्रधानमंत्री की "आत्मनिर्भर भारत" की परिकल्‍पना से जुड़ी है, जो डिजिटलीकरण की सुविधा देती है और आतिथ्य और पर्यटन क्षेत्र के लिए व्यवसाय सुगम बनाने को बढ़ावा देती है। यह आतिथ्य और पर्यटन क्षेत्र के भौगोलिक प्रसार, इसके आकार, संरचना और मौजूदा क्षमता पर स्पष्ट तस्वीर प्रदान करती है ताकि उद्योग को महत्‍वपूर्ण सेवाओं जैसे प्रदर्शन मंजूषा, स्टार वर्गीकरण आदि की पेशकश की जा सके। निधि पोर्टल विभिन्न गंतव्यों पर उपलब्ध सुविधाओं, कुशल मानव संसाधनों की आवश्यकताओं और विभिन्न स्थलों पर पर्यटन के प्रचार/विकास के लिए नीतियों और रणनीतियों को तैयार करने में मदद करेगा। इस पहल को निधि के रूप में अपग्रेड किया गया है ताकि न केवल आवास इकाइयों, बल्कि ट्रैवल एजेंटों, टूर ऑपरेटरों, पर्यटक परिवहन ऑपरेटरों, खाद्य और पेय इकाइयों, ऑनलाइन यात्रा एग्रीगेटर्स कन्वेंशन केन्‍द्रों और टूरिस्ट फैसिलिटेटरों के मामले में अधिक समावेशी दृष्टिकोण अपनाया जा सके। नई प्रणाली में हमारे उद्योग संघों और अन्य हितधारकों के अलावा राज्य सरकारों और संघ शासित प्रदेशों की एक बड़ी भूमिका की भी परिकल्पना की गई है। पोर्टल तक https://nidhi.tourism.gov.in पर पहुंचा जा सकता है। निधि+ को राष्ट्रीय डिजिटल पर्यटन मिशन की परिकल्‍पना के साथ जोड़कर एक तकनीकी-संचालित प्लेटफ़ॉर्म पर बनाया जा रहा है, और एक स्केलेबल और स्थिर इकोसिस्‍टम प्राप्त करने के लिए वृद्धिशील उन्नयन की अनुमति देगा।

कोविड-19 महामारी के कारण, पर्यटन क्षेत्र से जुड़े लोगों की देनदारियों को पूरा करने और प्रभावित व्यवसायों को फिर से शुरू करने के लिए कोविड प्रभावित पर्यटन सेवा क्षेत्र (एलजीएससीएटीएसएस) के लिए ऋण गारंटी योजना के तहत कार्यशील पूंजी/व्यक्तिगत ऋण प्रदान किया जाएगा। इस योजना में पर्यटन मंत्रालय द्वारा मान्यता प्राप्त 10,700 क्षेत्रीय स्तर के टूरिस्ट गाइड और राज्य सरकारों/संघ शासित प्रशासन द्वारा मान्यता प्राप्त टूरिस्ट गाइड और पर्यटन मंत्रालय द्वारा मान्यता प्राप्त लगभग 1,000 यात्रा और पर्यटन हितधारक (टीटीएस) शामिल होंगे। प्रत्‍येक टीटीएस 10 लाख रुपये तक का, जबकि प्रत्‍येक पर्यटक गाइड 1 लाख रुपये तक के गारंटी मुक्‍त ऋण का लाभ उठा सकते हैं। कोई प्रसंस्करण शुल्क नहीं लगेगा, ऋण उगाही/पूर्व भुगतान न होने पर शुल्क की छूट होगी और अतिरिक्त गारंटर की कोई आवश्यकता नहीं होगी। योजना को पर्यटन मंत्रालय द्वारा नेशनल क्रेडिट गारंटी ट्रस्टी कंपनी (एनसीजीटीसी) के माध्यम से प्रभाव में लाया जाएगा।

पर्यटन क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए, भारत सरकार ने विदेशी नागरिकों के भारत आने के लिए पहले 5 लाख पर्यटक वीजा की घोषणा की गई थी, जो 31.03.2022 तक या 5 लाख मुफ्त वीजा जारी होने तक, जो भी पहले हो, लागू थी। लाभ प्रति पर्यटक केवल एक बार उपलब्ध था।

पर्यटन मंत्रालय ने अंतरराष्ट्रीय वाणिज्यिक उड़ानों के फिर से शुरू होने के बाद देश में विदेशी पर्यटकों के स्वागत के लिए नई अतुल्य भारत ब्रांड फिल्में तैयार की हैं। इन ब्रांड फिल्मों को प्रचार और विपणन उद्देश्यों के लिए व्यापक उपयोग हेतु घरेलू यात्रा उद्योग के भीतर व्यापक रूप से घुमाया गया है।

पर्यटन मंत्रालय ने 27 सितम्‍बर 2022 को भारतीय यात्रा उद्योग में उपलब्धि हासिल करने वालों के लिए राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार समारोह का आयोजन किया। 2018-19 में उद्योग की उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुए इस वर्ष 81 पुरस्कार दिए गए। माननीय उपराष्ट्रपति श्री जगदीप धनखड़ ने यह पुरस्कार प्रदान किए।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image007F5KR.jpg

 

पर्यटन मंत्रालय ने उत्सव पोर्टल की शुरुआत की है, जो पर्यटन मंत्रालय द्वारा शुरू की गई एक डिजिटल पहल है, जिसका उद्देश्य दुनिया भर में लोकप्रिय पर्यटन स्थलों के रूप में देश के विभिन्न क्षेत्रों को बढ़ावा देने के लिए भारत भर के त्योहारों, कार्यक्रमों और लाइव दर्शनों को प्रदर्शित करना है। इसका उद्देश्य वैश्विक मंच पर भारत के कार्यक्रमों और त्योहारों के विभिन्न तत्वों, तारीखों और विवरणों को प्रदर्शित करना और पर्यटकों को प्रासंगिक डिजिटल अनुभव प्रदान करके कार्यक्रमों के माध्‍यम से आकर्षक तस्वीरों और चित्रों के रूप में पर्यटन जागरूकता, आकर्षण और अवसरों को बढ़ाना है। इसके अतिरिक्त, इसका उद्देश्य भक्तों और यात्रियों को लाइव दर्शन के रूप में भारत के कुछ प्रसिद्ध धार्मिक तीर्थस्थलों का अनुभव कराना और उन्‍हें दिखाना है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image008J0MW.jpg

देश के विकास में तेजी लाने की संभावना रखने वाले महत्वपूर्ण क्षेत्रों के रूप में चिकित्सा मूल्य पर्यटन और स्‍वास्‍थ्‍य पर्यटन को मान्यता देते हुए, पर्यटन मंत्रालय ने भारत को चिकित्सा और स्‍वास्‍थ्‍य पर्यटन गंतव्य के रूप में बढ़ावा देने के लिए अनेक कदम उठाए हैं। इस उद्देश्‍य की ओर बढ़ते हुए, मंत्रालय ने चिकित्सा और स्‍वास्‍थ्‍य पर्यटन के लिए राष्‍ट्रीय रणनीति और रोडमैप तैयार किया है। इसी तर्ज पर वैश्विक स्तर पर भारत को साहसिक पर्यटन के एक पसंदीदा गंतव्य के रूप में स्थान दिलाने के लिए भी मंत्रालय ने भी एक राष्‍ट्रीय रणनीति तैयार की है। साहसिक पर्यटन के विकास के लिए रणनीति दस्तावेज़ में पहचाने गए रणनीतिक स्तंभों में राज्य मूल्यांकन, रैंकिंग और रणनीति, कौशल, क्षमता निर्माण और प्रमाणन, विपणन और प्रचार, साहसिक पर्यटन सुरक्षा प्रबंधन ढांचे को मजबूत करना, राष्ट्रीय और राज्य-स्तरीय बचाव और संचार ग्रिड, गंतव्य और उत्पाद विकास और शासन तथा संस्थागत ढांचा शामिल हैं।

सम्बंधित सम्‍पर्क :

https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1869257

https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1877003

https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1860161

https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1860974

https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1824684

 

*******

एमजी/एएम/केपी/एसएस



(Release ID: 1885859) Visitor Counter : 509