शिक्षा मंत्रालय
azadi ka amrit mahotsav g20-india-2023

शिक्षा मंत्रालय अग्निवीरों द्वारा सेवा के दौरान प्राप्त कौशल प्रशिक्षण को स्नातक उपाधि के लिए मान्यता देगा


इग्नू द्वारा विशेष रूप से तैयार स्नातक कार्यक्रम के तहत सेवाकालीन प्रशिक्षण को 50 प्रतिशत क्रेडिट दिया जाएगा जबिक शेष 50 प्रतिशत क्रेडिट पसंद-आधारित पाठ्यक्रमों से आएगा

हर स्तर पर उचित प्रमाणीकरण के साथ बहुस्तरीय प्रवेश-निकास बिंदुओं को उपलब्ध कराने का कार्यक्रम

रोजगार और शिक्षा के लिए भारत और विदेशों में मान्यता प्राप्त डिग्री इग्नू द्वारा प्रदान की जाएगी

यह कार्यक्रम अग्निवीरों को असैनिक क्षेत्र में अपनी पसंद के करियर को आगे बढ़ाने के अवसर प्रदान करेगा

Posted On: 15 JUN 2022 2:34PM by PIB Delhi

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 14 जून 2022 को देश के युवाओं के लिए सशस्त्र बलों में सेवा करने के लिए अग्निपथ नामक एक आकर्षक भर्ती योजना को मंजूरी दी। इस योजना को अग्निवीर के रूप में जाना जाएगा। अग्निपथ योजना सशस्त्र बलों में चार साल की अवधि के लिए सेवा करने हेतु देशभक्त युवाओं को प्रेरित करेगी। अग्निपथ योजना को सशस्त्र बलों के युवा प्रोफाइल को सक्षम बनाने के लिए तैयार किया गया है।

हमारे अग्निवीरों की भावी करियर संभावनाओं को आगे बढ़ाने के लिए और उन्हें असैनिक क्षेत्र में विभिन्न नौकरियों के लिए सक्षम बनाने के उद्देश्य से शिक्षा मंत्रालय, रक्षा कर्मियों की सेवा के लिए एक विशेष तीन वर्षीय कौशल आधारित स्नातक डिग्री कार्यक्रम शुरू कर रहा है जो रक्षा प्रतिष्ठानों में अग्निवीरों द्वारा अपने कार्यकाल के दौरान प्राप्त किए गए कौशल प्रशिक्षण को मान्यता देगा।

इग्नू द्वारा तैयार और निष्पादित किए जाने वाले इस कार्यक्रम के तहत स्नातक उपाधि के लिए आवश्यक 50 प्रतिशत क्रेडिट कौशल प्रशिक्षण से मिलेगा जिसमे अग्निवीर द्वारा प्राप्त तकनीकी और गैर-तकनीकी दोनों प्रशिक्षण शामिल हैं और शेष 50 प्रतिशत क्रेडिट विभिन्न पाठ्यक्रमों से आएगा जिसमें भाषा, अर्थशास्त्र, इतिहास, राजनीति विज्ञान, लोक प्रशासन, समाजशास्त्र, गणित, शिक्षा, वाणिज्य, पर्यटन, व्यावसायिक अध्ययन, कृषि और ज्योतिष जैसे विषयों की व्यापक विविधता शामिल है। इसके अलावा इसमें पर्यावरण अध्ययन और संचार कौशल के बारे में अंग्रेजी भाषा में क्षमता वृद्धि करने वाले पाठ्यक्रम भी शामिल हैं।

यह स्नातक डिग्री कार्यक्रम विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के मानदंडों व राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के तहत अनिवार्य रूप से राष्ट्रीय क्रेडिट फ्रेमवर्क/राष्ट्रीय कौशल योग्यता फ्रेमवर्क (एनएसक्यूएफ) के अनुरूप है। इसमें कई निकास बिंदुओं का भी प्रावधान है - प्रथम वर्ष के पाठ्यक्रमों के सफल समापन पर अवर स्नातक सर्टिफिकेट (प्रमाणपत्र), प्रथम और द्वितीय वर्ष के पाठ्यक्रमों के सफल समापन पर अवर स्नातक डिप्लोमाऔर तीन वर्ष की समय सीमा में सभी पाठ्यक्रमों के पूरा होने पर डिग्री प्रदान की जाएगी।

कार्यक्रम की रूपरेखा को संबंधित नियामक निकायों- अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) और राष्ट्रीय व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण परिषद (एनसीवीईटी) और यूजीसी द्वारा विधिवत मान्यता दी गई है। डिग्री यूजीसी नामकरण के अनुसार इग्नू द्वारा प्रदान की जाएगी। इसमें (बीए; बी कॉम; बीए (व्यावसायिक); बीए (पर्यटन प्रबंधन)) की शामिल है। इन्हें जिसे रोजगार और आगे की पढ़ाई के लिए भारत और विदेश दोनों में मान्यता प्राप्त होगी।

योजना के कार्यान्वयन के लिए सेना, नौसेना और वायु सेना इग्नू के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर करेंगी।

***

एमजी/एमए/आईपीएस/ओपी



(Release ID: 1834557) Visitor Counter : 187