कॉरपोरेट कार्य मंत्रालय

आईईपीएफए और आईसीएसआई ने आजादी का अमृत महोत्सव मनाने के लिए निवेशकों को सशक्त बनाने पर सेमिनार का आयोजन किया


केंद्रीय कॉरपोरेट कार्य राज्य मंत्री श्री राव इंद्रजीत सिंह ने 55,000 से अधिक निवेशक जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने के लिए आईईपीएफए की सराहना की

एमसीए सचिव: आईईपीएफए ने लगभग रु. 1,000 करोड़ रुपये के मार्केट मूल्य के डिविडेंड और शेयर रिफंड किया

Posted On: 07 SEP 2021 3:08PM by PIB Delhi

आजादी का अमृत महोत्सव (एकेएएम), विनिधानकर्ता शिक्षा और संरक्षण निधि प्राधिकरण (आईईपीएफए) और भारतीय कंपनी सचिव संस्थान (आईसीएसआई) के साथ भारतीय स्वतंत्रता के 75 साल का जश्न मनाने के लिए 'निवेशक को सशक्त बनाना' विषय पर एक राष्ट्रीय वेबिनार “आईईपीएफए, जर्नी ऑफ 5 इयर्स एंड वे फॉरवर्ड' का आयोजन किया वेबिनार के दौरान आईईपीएफए ने निवेशकों को शिक्षा और जागरूकता प्रदान करने की अपनी 5 वर्षों की यात्रा को लोगों के बीच साझा किया।

सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) योजना मंत्रालय और केंद्रीय कॉरपोरेट कार्य राज्य मंत्री श्री राव इंद्रजीत सिंह इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे।

आईईपीएफए को दिए गए कार्यों को सफलतापूर्वक पूरा करने के लिए बधाई देते हुए, श्री सिंह ने कहा, "यह उल्लेखनीय बात है कि आईईपीएफए द्वारा आईसीएसआई, आईसीएआई, सीएससी और ई-गवर्नेंस जैसे विभिन्न संगठनों के सहयोग से 55 हजार से अधिक निवेशक जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं। आईईपीएफए ने डायरेक्ट निवेशक जागरूकता कार्यक्रमों, मीडिया अभियानों, लघु फिल्मों और अन्य हितधारकों के साथ जुड़कर ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में घरेलू निवेशकों, गृहिणियों, पेशेवरों आदि दूसरे संबंधित पक्षों को संवेदनशील बनाने के लिए एक समग्र दृष्टिकोण अपनाया है।

“कोविड-19 महामारी की वजह से लगे राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन और प्रतिबंधों के बावजूद, आईईपीएफए ने सोशल मीडिया, मास मीडिया, रेडियो, इग्नू ज्ञानदर्शन चैनल जैसे विभिन्न डिजिटल माध्यमों के माध्यम से वित्तीय शिक्षा का प्रसार जारी रखा। मैं आईईपीएफए से निवेशक जागरूकता और संरक्षण के तहत मौजूदा और आने वाले क्षेत्रों में अपने अच्छे कार्यों को जारी रखने की अपील करता हूं।

कॉरपोरेट कार्य मंत्रालय के सचिव श्री राजेश वर्मा ने अपने संबोधन में आईईपीएफए की 5 वर्षों की यात्रा को साझा किया और कहा, “आईईपीएफए ने इस दौरान लगभग रु. 1,000 करोड़ रुपये के मार्केट मूल्य के डिविडेंड और शेयर निवेशकों को रिफंड किए हैं। इसके अलावा निवेशकों की सुविधा और जनता तक पहुंचने के लिए कई प्रौद्योगिकी आधारित और नागरिक केंद्रित पहल की है। आईईपीएफए मोबाइल ऐप का शुभारंभ, आईईपीएफ पोर्टल में सुधार, हेल्पलाइन नंबर और कॉल सेंटर निवेशकों की शिक्षा और जागरूकता की दिशा में कुछ ऐसे ही कदम हैं।

श्री वर्मा ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि वित्तीय साक्षरता और शिक्षा समावेशी विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। और आईईपीएफ प्राधिकरण द्वारा आईसीएसआई, आईसीएआई, आईसीओएआई, सीएससी ई-गवर्नेंस सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड, आईपीपीबी, एनवाईकेएस आदि जैसे विभिन्न सहयोगी संस्थानों के साथ सहयोग करने पर खुशी जाहिर की है।

आईसीएसआई के अध्यक्ष सीएस नागेंद्र डी. राव ने भारत सरकार की इस बड़ी पहल का हिस्सा बनने की के लिए विनम्रता के कॉरपोरेट कार्य मंत्रालय और आईईपीएफ प्राधिकरण को धन्यवाद दिया। सीएस राव ने कहा कि "आईईपीएफए के साथ सहयोग राष्ट्र निर्माण के उद्देश्य से भारत सरकार की सभी पहलों के लिए आईसीएसआई के अटूट समर्थन का प्रमाण है। संस्थान एक आत्म-निर्भर भारत बनाने की ओर चलने के हर कदम पर चलने का वचन देता है। ”

इस अवसर पर मंत्री द्वारा प्राधिकरण की पहल और उपलब्धियों को शामिल करते हुए आईईपीएफए के ई-न्यूजलेटर (यहां क्लिक करें) का उद्घाटन संस्करण भी लॉन्च किया गया।

आईईपीएफए के राष्ट्रीय वेबिनार में दो महत्वपूर्ण तकनीकी सत्र भी थे, जैसे पिछले 5 वर्षों में निवेशकों को सशक्त बनाना और निवेशक शिक्षा और जागरूकता प्रदान करना और 2047 तक निवेशक जागरूकता और संरक्षण के लिए रोड मैप। इन सत्र में आईईपीएफ प्राधिकरण के सदस्यों, अनुसंधान अध्यक्षों सहित प्रसिद्ध पैनलिस्टों ने भाग लिया। इसके अलावा आईआईसीए और एनसीईएआर और आईईपीएफ प्राधिकरण और आईसीएसआई के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे।

 

****

एमजी/एएम/पीएस



(Release ID: 1753041) Visitor Counter : 478