इलेक्ट्रानिक्स एवं आईटी मंत्रालय

महिलाओं के नेतृत्व में 6 स्टार्ट अप्स ने कोविड-19 श्री शक्ति चैलेंज में जीत दर्ज की, इस प्रतियोगिता को माई गॉव ने संयुक्त राष्ट्र महिला के सहयोग से आयोजित किया

Posted On: 03 NOV 2020 6:25PM by PIB Delhi

महिलाओं के नेतृत्व में छह स्टार्ट अप्स ने संयुक्त राष्ट्र महिला के सहयोग से माई गॉव द्वारा आयोजित कोविड-19 श्री शक्ति चैलेंज प्रतियोगिता में जीत दर्ज की है। महिलाओं को स्टार्टअप समाधान के लिए प्रोत्साहित करने और उन्हें शामिल करने के उद्देश्य से, अभिनव समाधानों के साथ कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में मदद कर सकते हैं या उन समस्याओं को हल कर सकते हैं जो बड़ी संख्या में महिलाओं को प्रभावित करती हैं। माई गॉव ने संयुक्त राष्ट्र महिलाओं के साथ मिलकर कोविड-19 श्री शक्ति चैलेंज अप्रैल 2020 में शुरू किया था।

यह माई गॉव के नवाचार मंच पर शुरू की गई एक अनूठी चुनौती थी जिसने महिलाओं के नेतृत्व में स्टार्ट अप्स के साथ-साथ ऐसे स्टार्ट अप्स के भी आवेदन मांगे, जिनके पास ऐसे समाधान हैं जो बड़ी संख्या में महिलाओं द्वारा सामना किए जाने वाले मुद्दों को हल करते हैं।

चैलेंज दो चरणों में लागू किया गया था: विचार मंच और अवधारणा के प्रमाण (पीओसी) स्टेज।

इस चुनौती को देश भर से कुल 1265 प्रविष्टियों के साथ ज़बर्दस्त प्रतिक्रिया मिली।

पूरी तरह से परीक्षण के बाद, 25 स्टार्टअप्स को निर्णायक समिति के सामने प्रस्तुति के लिए चुना गया। निर्णायक समिति में नैस्कॉम की अध्यक्ष देबजानी घोष, माइक्रोसॉफ्ट इंडिया की नेशनल टेक्नोलॉजी ऑफिसर (सीटीओ) रोहिणी श्रीवत्स, अटल इनोवेशन मिशन के प्रबंध निदेशक डॉ. आर. रमणन, संयुक्त राष्ट्र महिला भारत की उप राष्ट्र प्रतिनिधि निष्ठा सत्यम और माई गॉव के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अभिषेक सिंह शामिल थे।

सभी 25 चयनित स्टार्ट अप्स ने निर्णायक समिति के सामने अपने समाधान प्रस्तुत किए। निर्णायक समिति ने स्टार्ट अप्स द्वारा प्रस्तावित समाधानों का मूल्यांकन किया, जिसमें नवाचार, प्रयोज्यता, प्रासंगिकता और समाज पर उनके विचारो का प्रभाव शामिल था। गहन समीक्षा के बाद 11 फाइनलिस्ट को अगले चरण के लिए चुना गया। सभी 11 चयनित स्टार्ट अप्स को अपने विचारों को और विकसित करने के लिए प्रत्येक को 75000 रुपये की पुरस्कार राशि प्रदान की गई।

विचारों के प्रमाण की क्रमिक वृद्धि को सक्षम बनाने के लिए परामर्शदाता सत्रों का आयोजन किया गया है। इन सत्रों में जो विषय शामिल थे उनमें बिजनेस मॉडलिंग, वित्तीय मॉडलिंग, कानूनी प्रमाणन, डिजिटल मार्केटिंग, उत्पाद डिजाइन और पिच बनाने की कला। इन सत्रों का आयोजन कोशिकीय और आणविक जीव विज्ञान केंद्र में नैसकॉम, उद्योग विशेषज्ञों और अटल इनक्यूबेशन केंद्र के सहयोग से किया गया।

समाधानों को विकसित करने के लिए 11 स्टार्टअप्स को समय देने के बाद, 27 अक्टूबर 2020 को निर्णायक मंडल को फिर से अंतिम प्रस्तुति पेश की गईं। प्रस्तुत किए गए समाधानों की गुणवत्ता उत्कृष्ट थी और निर्णायक मंडल को उनका मूल्यांकन करने में काफी कठिनाई का सामना करना पडा। गहन विचार-विमर्श और विवेचना के बाद, निर्णायक मंडल द्वारा 3 प्रविष्टियाँ विजेता के रूप में चुनी गई। प्रस्तुत किए गए समाधानों की उच्च गुणवत्ता को देखने के बाद 3 अतिरिक्त प्रविष्टियों को होनहार समाधान’ के रूप में मान्यता देने का निर्णय लिया गया। शीर्ष 3 विजेताओं के लिए पहले घोषित 5 लाख रुपये के पुरस्कार के अलावा, संयुक्त राष्ट्र महिला ने काफी उदारता दिखाते हुए होनहार समाधानों के लिए चुने गए 3 स्टार्टअप्स को 2-2 लाख रुपये का इनाम देने की सहमति दी।

शीर्ष 3 विजेता इस प्रकार हैं:-

  1. डॉ. पी. गायत्री हेला बेंगलुरु स्थित रेसाडा जीवन विज्ञान प्राइवेट लिमिटेड के संस्थापक हैं जो कृत्रिम रसायनों के बजाय पौधे के अर्क का उपयोग करके घर और कृषि-आधारित उत्पादों को डिजाइन और विकसित करते हैं। गायत्री के अनुसार, रोगाणु और अन्य बैक्टीरिया / वायरस समय के साथ रसायनों के विरुद्ध प्रतिरोधी हो जाते हैं, जबकि प्रकृति में हमेशा इन जीवों के खिलाफ लड़ने का एक तरीका है। श्री शक्ति चैलेंज के लिए, गायत्री द्वारा प्रस्तुत किए गए उत्पाद जो एक अल्कोहल रहित हैंड सेनिटाइज़र है जो न केवल कोविड-19 के लिए बल्कि अन्य संक्रमणों से बचाव के लिए भी उपयोगी है। इसका विचार उनके मन में 2017 में आया था, जब वह अपनी एक वर्षीय बेटी के साथ सार्स (एसएआरएस) महामारी से जूझ रही थी।

  2. कैंसर की बीमारी से उबरी रोमिता घोष, शिमला स्थित आई हील हेल्थटेक प्राइवेट लिमिटेड की संस्थापक हैं। यह कंपनी एक हेल्थकेयर स्टार्ट-अप है जो कोविड ​​के खिलाफ लड़ाई में सबसे आगे रही है और अस्पतालों को पीपीई किट प्रदान कर रही है। रोमिता ने पीपीई किट और मास्क के सुरक्षित दोबारा उपयोग के लिए एक भारत में निर्मित पराबैंगनी कीटाणु नाशक बॉक्स भी बनाया है जो अस्पतालों और अन्य सेवा प्रदाताओं के लिए लागत को कम करने में मदद कर सकता है।

  3. डॉ. अंजना रामकुमार और डॉ. अनुष्का अशोकन केरल स्थित थन्मात्रा नवाचार प्राइवेट लिमिटेड के उत्पाद प्रबंधक और सह-संस्थापक हैं। उन्होने एक एंटी-माइक्रोबियल मिश्रण को अभिनव समाधान के रूप में प्रस्तुत किया है। इस मिश्रण का इस्तेमाल रूमाल या दुपट्टे पर छिड़क कर सुरक्षित फेस मास्क के रूप में उपयोग में लाया जा सकता है। इससे बच्चों की सुरक्षा करना भी आसान हो गया। उनका नवाचार सरल और साधारण है। इस अनूठे नवाचार से कपड़े के किसी भी टुकड़े को छिड़काव और सुखाने की एक सरल प्रक्रिया द्वारा मिनटों में एंटी-वायरल मास्क में बदलने में मदद कर सकता है।

शीर्ष 3 स्टार्टअप्स की होनहार समाधानों के रूप में पहचान की गई:

  1. वसंती पलनीवेल, बेंगलुरु स्थित सेरागन बायोथेरप्यूटिक्स प्राइवेट लिमिटेड की मुख्य कार्यकारी अधिकारी और सह-संस्थापक हैं। एक वैज्ञानिक और शोधकर्ता के रूप में उन्होंने वायरस के लक्षणों और प्रभावों का अध्ययन किया। उन्होंने महसूस किया कि फेफड़े कोविड महामारी से सबसे अधिक संक्रमित अंगों में से एक है। उन्होने कोविड-19 के कारण श्वसन संकट के इलाज के लिए एक प्लाज्मा समाधान विकसित किया है।

  2. शिवी कपिल बेंगलुरु स्थित एम्पैथी डिज़ाइन लैब्स की सह-संस्थापक हैं, जो स्वास्थ्य सेवा पर ध्यान केंद्रित करती हैं। उन्होंने कोविड महामारी को गर्भवती महिलाओं के लिए समाधान के अवसर के रूप में लिया जो संक्रमण के जोखिम के कारण अस्पताल नहीं जा सकती। उन्होंने गर्भावस्था की दैनिक निगरानी के लिए पहनने योग्य उपकरण, 'क्रिया' को डिज़ाइन किया है। भविष्य में माता-पिता बनने वाले लोगों के लिये यह उपकरण समय पर कार्रवाई के लिए चेतावनी और सुझाव प्रदान करता है।

  3. जया पाराशर और अंकिता पाराशर - एक माँ बेटी की जोड़ी, एसटीआरईएएम माइंड्स की संस्थापक और सह-संस्थापक हैं। यह एक शिक्षा-प्रौद्योगिकी कंपनी है जो पूरे भारत में स्कूली शिक्षा, प्रौद्योगिकी, पठन / लेखन, कला और गणित शिक्षा को बढ़ावा देने का काम करती है। उन्होंने पूरी तरह से स्वचालित रोबोट डिजाइन किया है, जिसका नाम 'डोबॉट’ है। यह रोबोट अस्पतालों और हेल्थकेयर क्लीनिकों को कोविड-19 के खतरों से सुरक्षित बनाने के लिए इन-हाउस डिलीवरी सहायक के रूप में कार्य करता है।

माई गॉव ने श्री शक्ति चैलेंज के विजेताओं को बधाई दी और कहा कि उन्हें आशा है कि विजेताओं द्वारा विकसित समाधान पूर्ण विकसित उत्पादों का रूप लेंगे और बड़े पैमाने पर मजबूत समाधान साबित हो सकते हैं जो कोविड-19 के खिलाफ हमारी लड़ाई में मदद करते हैं। निश्चित रूप से यह समाधान महिलाओं की चुनौतियों का सामना करने में मदद करेंगे। श्री शक्ति चैलेंज के सभी विजेता और प्रतिभागी भारत में मौजूद प्रतिभाओं की सच्ची गवाही हैं और यह चुनौती भारत में महिला उद्यमिता को बढ़ावा देने में एक लंबा सफर तय करेगी।

***

एमजी/एएम/एमकेएस/डीसी



(Release ID: 1669947) Visitor Counter : 76