मानव संसाधन विकास मंत्रालय

केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री और केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने संयुक्त रूप से ड्रग डिस्क्वरी हैकथॉन 2020(डीडीएच 2020)की शुरूआत की

ड्रग डिस्कऔवरी हैकथॉन दवाओं की खोज प्रक्रिया को प्रोत्साऑहित करने के लिए अपनी तरह की पहली राष्ट्री य पहल है – श्री रमेश पोखरियाल निशंक

हैकथॉन अंतर्राष्ट्री य प्रतिभाओं को आकर्षित करने के लिए दुनिया भर के प्रतिभागियों के लिए खुली है -- श्री रमेश पोखरियाल निशंक

अभिकलनात्मऔक (कम्प्यूटेशनल) पद्धतियों जैसे मशीन लर्निंग,एआई और बिग डेटा का उपयोग करने वाली इन-सिलिको ड्रग डिस्कवरी इस प्रक्रिया को तेज करने में मदद करेगी- डॉ. हर्षवर्धन

Posted On: 02 JUL 2020 5:03PM by PIB Delhi

केन्‍द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री रमेश पोखरियाल निशंक’,और,केन्‍द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण और विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने आज राज्‍य मंत्री श्री संजय धोत्रे की उपस्थिति में ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से ड्रग डिस्कवरी हैकथॉन का शुभारंभ किया। यह ड्रग डिस्कवरी हैकथॉन एमएचआरडी,एआईसीटीई और सीएसआईआर की एक संयुक्त पहल है और इसे सीडीएसी,मायगोव, श्रोडिंगर और केमएक्सॉन जैसे भागीदारों का समर्थन प्राप्‍त है। ऑनलाइन लॉन्‍च कार्यक्रम के दौरान प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार,प्रो. विजय राघवन,एआईसीटीई के अध्यक्ष प्रो. अनिल सहस्रबुद्धे,सीएसआईआर महानिदेशक डॉ. शेखर मंडे,एआईसीटीई डीजी सचिव डॉ. राजीव कुमार,फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्‍यक्ष प्रोफेसर बी. सुरेश और मानव संसाधन विकास मंत्रालय में मुख्‍य नवाचार अधिकारी डॉ. अभय जेरे भी मौजूद थे।

इस अवसर पर श्री पोखरियाल ने कहा कि यह हैकथॉन दवा की खोज प्रक्रिया को प्रोत्‍साहित करने के लिए अपनी तरह की पहली राष्ट्रीय पहल है। श्री निशंक ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय प्रतिभाओं को आकर्षित करने के लिए हैकथॉन दुनिया भर के,कंप्यूटर विज्ञान,रसायन विज्ञान,फार्मेसी,चिकित्सा विज्ञान,बुनियादी विज्ञान और जैव प्रौद्योगिकी जैसे विभिन्न क्षेत्रों के पेशेवरों,प्राध्‍यापकों,शोधकर्ताओं और छात्रों के लिए खुला रहेगा। उन्होंने आगे कहा कि हैकथॉन  के आयोजन में एमएचआरडी और एआईसीटीई के पास व्यापक अनुभव है लेकिन पहली बार,हम एक बहुत बड़ी वैज्ञानिक चुनौती से निपटने के लिए हैकथॉन मॉडल का उपयोग कर रहे हैं। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि यह पहल दुनिया भर के शोधकर्ताओं / संकायों के लिए खुली है क्योंकि हम अपने प्रयासों में अंतर्राष्ट्रीय प्रतिभाओं को शामिल करने और उनके समर्थन को आकर्षित करने के लिए उत्सुक हैं।

http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image001F3ND.jpg

प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए,विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा,“हमें अपने देश में कम्प्यूटेशनल दवा खोज की संस्कृति को स्थापित करने की आवश्यकता है। इस पहल में,हैकथॉन के माध्यम से एमएचआरडी के नवोन्‍मेष प्रकोष्‍ठ और एआईसीटीई संभावित दवा अणुओं की पहचान करने पर अपना ध्यान केन्‍द्रित करेंगे,जबकि सीएसआईआर इन पहचाने गए अणुओं को प्रभावोत्‍पादकता,विषाक्तता, संवेदनशीलता और विशिष्टता के लिए संश्लेषण और प्रयोगशाला परीक्षण के लिए आगे ले जाएगा।" उन्होंने कहा,"इसका उद्देश्य हैकॉथन के माध्यम से इन-सिलिको ड्रग खोज द्वारा सार्ससीओवी-2 के खिलाफ दवा परीक्षण करने वाले की पहचान करना और उसके बाद रासायनिक संश्लेषण और जैविक परीक्षण करना है।"  यह कहते हुए कि दवा की खोज एक जटिल,महंगी और कठिन प्रक्रिया है,एक नई दवा विकसित करने में 10 साल से अधिक का समय लगता है,डॉ. हर्षवर्धन ने कहा,“हांलाकि हम कोविड -19 के लिए कुछ अलग उद्देश्‍य में इस्‍तेमाल के लिए अपनाई जाने वाली दवाओं के नैदानिक परीक्षणों को आगे बढ़ा रहे हैं, क्योंकि वे तेज हैं और उन्‍हें जल्दी से लॉन्च किया जा सकता है,यह भी महत्वपूर्ण है कि हम कोविड -19 के इलाज के लिए विशिष्ट दवाओं को विकसित करने के लिए अन्य उपयुक्त दवाओं और नई दवा की खोज कर रहे हैं।उन्होंने कहा,"कम्प्यूटेशनल पद्धतियों का इस्‍तेमाल करने वाली इन-सिलिको ड्रग खोज जो मशीन लर्निंग,एआई और बिग डेटा का उपयोग करती है,इस प्रक्रिया को तेज करने में मदद करेगी"।

मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री श्री संजय धोत्रे ने भी इस अवधारणा की सराहना की और कहा कि सरकार ने इस देश में हैकथॉन संस्कृति को शुरू किया है,जो हमारे देश के सामने मौजूद कुछ कठिन समस्याओं को हल करने के लिए हमारे युवाओं को चुनौती देने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

भारत सरकार के पीएसए और आयोजन समिति के अध्यक्ष प्रो. के. विजयराघवन,पीएसए,सरकार भारत  ने कहा कि यह हैकथॉन दवा की खोज प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए भारत को नए मॉडल स्थापित करने में मदद करेगा। इसमें प्रत्येक महीने के तीन चरण होंगे और अप्रैल-मई 2021 तक पूरी कवायद पूरा होने का अनुमान है। प्रत्येक चरण के अंत में सफल टीमों को पुरस्कृत किया जाएगा। चरण 3 के अंत में पहचाने गए 3 लीड यौगिकों को सीएसआईआर और अन्य इच्छुक संगठनों में प्रायोगिक स्तर के लिए आगे ले जाया जाएगा।

हैकथॉन  मुख्य रूप से दवा की खोज के कम्प्यूटेशनल पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करेगा और इसमें तीन ट्रैक्स होंगे। ट्रैक -1 ड्रग डिज़ाइन के लिए कम्प्यूटेशनल मॉडलिंग या मौजूदा डेटाबेस से'लीड'यौगिकों की पहचान करने से संबंधित होगा,जिसमें सार्स-सीओवी-2  को रोकने की क्षमता हो सकती है,जबकि ट्रैक -2 प्रतिभागियों को न्यूनतम विषाक्तता और अधिकतम विशिष्टता और चयनात्मकता के साथ दवा जैसे यौगिकों की भविष्यवाणी के लिए डेटा एनालिटिक्स और एआई/एमएल का उपयोग करके नए टूल और एल्गोरिदम विकसित करने के लिए प्रोत्साहित करेगा। तीसरा ट्रैक,जिसका नाम ट्रैक 3 है एक मून-शॉट दृष्टिकोण है जो  इस क्षेत्र में केवल अनोखे और असाधारण रूप से लाभदायक विचारों से निपटेगा।

तीन चरण की प्रतियोगिता का पहला चरण आज शुरू किया जा रहा है। हैकथॉन में ऐसी चुनौतियाँ शामिल हैं जिन्हें विषय के संक्षिप्‍त विवरणों के रूप में पोस्ट किया जाता है और,विशिष्ट दवा खोज विषयों पर आधारित होते हैं,जो प्रतिभागियों के हल करने के लिए खुले रहते हैं। प्रतियोगिता भारत और विदेशों के सभी भारतीय छात्रों और शोधकर्ताओं के लिए खुली है। आशा है कि प्रतियोगिता में हजारों छात्र भाग लेंगे। यह एक ऑनलाइन प्रतियोगिता है और देश या दुनिया में कहीं भी कोई भी भाग ले सकता है। विजेताओं को पुरस्कार दिए जाएंगे और प्रतियोगिता के चरण 2 में सर्वश्रेष्ठ प्रविष्टियां ली जाएंगी। स्टेज 2 का सर्वश्रेष्ठ चरण 3 में जाएगा। योजना यह है कि चरण 3 के अंत में ड्रग अणुओं या ड्रग टारगेट जैसे सर्वोत्तम समाधानों को प्रायोगिक स्तर पर ले जाया जाएगा और सीएसआईआर प्रयोगशालाओं या स्टार्ट-अप द्वारा या उनके पूर्वानुमानों के लिए मान्य किया जाएगा।

लॉन्च समारोह के दौरान,मुख्य नवाचार अधिकारी,डॉ. अभय जेरे ने ड्रग डिस्कवरी हैकथॉन की अवधारणा को समझाया,जबकि प्रो. अनिल सहस्रबुद्धे ने एआईसीटीई की तरफ से प्रोत्‍साहित किया और सभी तकनीकी संस्थानों से इस पहल में बड़ी संख्या में भाग लेने की अपील की। प्रो. सहस्रबुद्धे ने किसी भी विषय के संक्षिप्‍त विवरण के लिए सभी विशेषज्ञों का आभार व्यक्त किया।

 

हैकथॉन की पृष्ठभूमि और कार्यप्रणालीकी जानकारी:

हैकथॉन में ऐसी चुनौतियाँ शामिल हैं जिन्हें विषय के संक्षिप्त विवरण के रूप में पोस्ट किया जाता है और यह विशिष्ट दवा खोज विषयों पर आधारित हैं, जो प्रतिभागियों के हल करने के लिए खुले हैं।

• माईगव पोर्टल का उपयोग किया जा रहा है और कोई भी भारतीय छात्र भाग ले सकता है।

• दुनिया के किसी भी हिस्से से पेशेवर और शोधकर्ता भाग ले सकते हैं।

• दो तरह की चुनौतियां विषय का संक्षिप्‍त विवरण (पीएस) पेश की जा रही हैं और कुल 29 की पहचान की गई है।

• ट्रैक 1 मुख्य रूप से एंटी- कोविड​​-19 हिट / लीड जनरेशन के लिए ड्रग डिज़ाइन का काम देखेगा: यह आणविक मॉडलिंग, फार्माकोफोर ऑप्टिमाइज़ेशन, आणविक डॉकिंग, हिट / लीड ऑप्टिमाइज़ेशन, आदि जैसे उपकरणों का उपयोग करके किया जाता है।

• ट्रैक 2 नए उपकरणों और एल्गोरिदम के डिजाइन / अनुकूलन के साथ काम करेगा, जिसका सिलिका ड्रग की खोज की प्रक्रिया में तेजी लाने पर प्रभाव पड़ेगा।

• "मून शॉट" नामक एक तीसरा ट्रैक भी है जो उन समस्याओं पर काम करने की अनुमति देता है जो अनोखी और असाधारण प्रकृति की हैं।

ड्रग डिस्‍कवरी हैकथॉन 2020 के बारे में ओर जानकारी के लिए https://innovateindia.mygov.in/ddh2020/ लिंक पर क्लिक करें ।

*****

एसजी/एएम/केपी/डीए



(Release ID: 1635985) Visitor Counter : 165


Read this release in: English , Urdu , Marathi , Bengali , Punjabi , Odia , Tamil , Telugu