प्रधानमंत्री कार्यालय

मालदीव के राष्ट्रपति के भारत की राजकीय यात्रा के दौरान भारत-मालदीव संयुक्त घोषणा-पत्र

Posted On: 02 AUG 2022 10:18PM by PIB Delhi

1. मालदीव गणराज्य के राष्ट्रपति महामहिम श्री इब्राहीम मोहम्मद सोलेह, भारत गणराज्य के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के निमंत्रण पर भारत की राजकीय यात्रा पर हैं।

2. 2018 को कार्यभार संभालने के बाद उनकी यह तीसरी भारत यात्रा है। उनके साथ अधिकारियों का एक उच्चस्तरीय शिष्टमंडल भी आया है, जिसमें वित्तमंत्री महामहिम श्री इब्राहीम अमीर, आर्थिक विकास मंत्री महामहिम श्री फय्याज इसमाइल, लैंगिक मामलों, परिवार और सामाजिक सेवा मंत्री श्री ऐशाथ मोहम्मद दीदी तथा एक व्यापार शिष्टमंडल भी शामिल है।

3. यात्रा के दौरान राष्ट्रपति सोलेह ने नई दिल्ली में प्रधानमंत्री श्री मोदी के साथ और शिष्टमंडल स्तरीय वार्ता की। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने राष्ट्रपति सोलेह और उनके साथ आये शिष्टमंडल के लिये आधिकारिक भोज की मेजबानी की।

4. राष्ट्रपति सोलेह ने भारत गणराज्य की राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मु के साथ भी अपनी भारत-यात्रा के दौरान मुलाकात की तथा भारत का 15वां राष्ट्रपति बनने पर उन्हें बधाई दी। विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर भी राष्ट्रपति श्री सोलेह से मिले। मुम्बई दौरे के समय महाराष्ट्र के राज्यपाल श्री भगत सिंह कोश्यारी ने उनसे भेंट की।
5. भारत-मालदीव द्विपक्षीय साझेदारी भौगोलिक नजदीकी, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक सम्बंध और साझा मूल्यों पर आधारित है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी हमेशा रेखांकित करते हैं कि मालदीव हर भारतीय के हृदय में विशेष स्थान रखता है और भारत की पड़ोस प्रथम नीति में भी उसका विशेष स्थान है। राष्ट्रपति श्री सोलेह ने अपनी सरकार की भारत प्रथम नीति पर दोबारा बल दिया। दोनों नेताओं ने हाल के वर्षों में द्विपक्षीय साझेदारी में होने वाले तेज विस्तार पर संतोष व्यक्त किया, जिसकी वजह से दोनों देशों के नागरिक लाभान्वित हुये हैं। दोनों नेताओं ने आपसी लाभ वाली इस व्यापाक साझेदारी को और मजबूत तथा प्रगाढ़ बनाने के लिये अपनी प्रतिबद्धता दोहराई।

6. राष्ट्रपति सोलेह ने प्रधानमंत्री श्री मोदी और भारत सरकार को धन्यवाद दिया कि वे कोविड-19 महामारी के दौरान मालदीव और वहां के निवासियों के साथ खड़े रहे। भारत की चिकित्सिय और वित्तीय सहायता ने महामारी के कारण उत्पन्न स्वास्थ्य व आर्थिक दिक्कतों को दूर करने में मदद की। भारत मालदीव का पहला साझीदार था, जिसने कोविड-19 वैक्सीन मालदीव को दी। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने राष्ट्रपति श्री  सोलेह और मालदीव वासियों को उनकी हर स्थिति का सामना करने की क्षमता, सफल टीकाकरण अभियान तथा महामारी के बाद आर्थिक संकट से उबरने के लिये बधाई दी।

7. प्रधानमंत्री श्री मोदी और राष्ट्रपति श्री सोलेह रक्षा व सुरक्षा, निवेश प्रोत्साहन, मानव संसाधन विकास, जलवायु व ऊर्जा सहित अवसंरचना विकास के क्षेत्रों में सहयोग के लिये संस्थागत संपर्क को आगे और बढ़ाने पर सहमति व्यक्त की।

आर्थिक सहयोग और लोगों के बीच मेल-मिलाप

8. दोनों नेताओं ने वीजा-मुक्त यात्रा, बेहतर हवाई संपर्क,  आदान-प्रदान कार्यक्रमों और बढ़ते सांस्कृतिक और आर्थिक संबंधों के कार्यान्वयन के माध्यम से लोगों से लोगों के बीच संबंधों में वृद्धि का स्वागत किया। मालदीव पर्यटन बाजार के लिए भारत शीर्ष स्रोत के रूप में उभरा है, जो आर्थिक लचीलेपन में योगदान कर रहा है। नेताओं ने पर्यटन संबंधों के विस्तार में महामारी के दौरान निर्मित द्विपक्षीय एयर ट्रैवल बबल की भूमिका को स्वीकार किया। दोनों नेताओं ने मालदीव में रुपे कार्ड के उपयोग को चालू करने के लिए चल रहे काम का स्वागत किया और द्विपक्षीय यात्रा और पर्यटन और आर्थिक संपर्कों को बढ़ावा देने के लिए और उपायों पर विचार करने पर सहमति व्यक्त की। दोनों नेताओं ने मालदीव में भारतीय शिक्षकों, नर्सों, चिकित्साकर्मियों, डॉक्टरों, श्रमिकों और पेशेवरों के बहुमूल्य योगदान को भी स्वीकार किया। उन्होंने मालदीव में हाल ही में राष्ट्रीय ज्ञान नेटवर्क के शुभारंभ का स्वागत किया और अधिकारियों को देश के भीतर इसकी पहुंच बढ़ाने की दिशा में काम करने का निर्देश दिया।

9. दोनों नेताओं ने यात्रा के दौरान दोनों देशों के व्यापारिक हस्तियों के बीच संलग्नता का स्वागत किया। मत्स्य पालन, बुनियादी ढांचा, नवीकरणीय ऊर्जा, पर्यटन, स्वास्थ्य और आईटी अन्य क्षेत्रों में सीमा पार निवेश के माध्यम से दोनों देशों के बीच अधिक आर्थिक संबंधों को ध्यान में रखते हुये, दोनों नेताओं ने साफ्टा के तहत मालदीव के टूना मछली उत्पादों के लिए एक अग्रणी बाजार के रूप में भारत की क्षमता को स्वीकार किया। कुल मिलाकर, दोनों नेताओं ने 2019 के बाद से द्विपक्षीय व्यापार में वृद्धि पर संतोष व्यक्त किया। प्रधानमंत्री श्री मोदी और राष्ट्रपति श्री सोलेह ने सितंबर 2020 से भारत और मालदीव के बीच सीधी मालवाहक पोत सेवा के संचालन का संज्ञान लिया और इच्छा व्यक्त की कि यह सेवा बढ़े हुए द्विपक्षीय व्यापार का मार्ग प्रशस्त करे।

विकासात्मक साझेदारी

10. प्रधानमंत्री श्री मोदी और राष्ट्रपति श्री सोलेह ने कोविड-19 महामारी और अन्य वैश्विक आर्थिक चुनौतियों के बावजूद विकास साझेदारी के क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रगति की समीक्षा की। भारत-मालदीव विकास साझेदारी ने हाल के वर्षों में तेजी से विकास देखा है और इसमें बड़ी अवसंरचना परियोजनायें, सामुदायिक स्तर की अनुदान परियोजनायें और क्षमता निर्माण कार्यक्रम शामिल हैं, जो पूरी तरह से मालदीव की आवश्यकताओं पर आधारित हैं तथा उन्हें पारदर्शी प्रक्रियाओं के माध्यम से और दोनों सरकारों ने सहयोग की भावना से लागू किया गया है। 11. दोनों नेताओं ने भारत से अनुदान और रियायती ऋण सहायता के तहत बनाई जा रही 500 मिलियन अमरीकी डालर की ग्रेटर माले कनेक्टिविटी परियोजना के वर्चुअल "शिलान्यास" समारोह में भाग लिया। दोनों नेताओं ने अधिकारियों को इस सबसे बड़े ऐतिहासिक बुनियादी ढांचे को समय पर पूरा करने का निर्देश दिया। मालदीव में परियोजना - जो माले,  विलिंगिली, गुल्हिफाल्हू और थिलाफुशी द्वीपों के बीच गतिशीलता को बढ़ाएगी,  लॉजिस्टिक लागत में कटौती करेगी और जन-केंद्रित आर्थिक विकास को बढ़ावा देगी - जो दोनों देशों के बीच स्थायी मित्रता का प्रतीक होगा।

12. प्रधानमंत्री श्री मोदी ने मालदीव में बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के वित्तपोषण के लिए 100 मिलियन अमरीकी डालर की भारत सरकार की नई लाइन ऑफ क्रेडिट की पेशकश की घोषणा की। राष्ट्रपति सोलेह ने इस प्रस्ताव के लिए भारत सरकार को धन्यवाद दिया और विश्वास व्यक्त किया कि यह अतिरिक्त निधि कई बड़ी बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को लागू करने में सक्षम होगी जो चर्चा के विभिन्न चरणों में हैं।

13. दोनों नेताओं ने एक्जिम बैंक ऑफ इंडिया के बायर्स क्रेडिट फाइनेंसिंग के तहत ग्रेटर माले में बनाई जा रही 4,000 जन आवास इकाइयों के विकास में हुई प्रगति की समीक्षा की। ये आवास इकाइयां अपने नागरिकों के लिए किफायती आवास उपलब्ध कराने के मालदीव सरकार के कार्यक्रम के अनुरूप हैं।

14. दोनों नेताओं ने ग्रेटर माले में एक और 2000 जन आवास इकाइयों के निर्माण के लिए 119 मिलियन अमरीकी डालर की एक्ज़िम बैंक ऑफ इंडिया बायर्स क्रेडिट फंडिंग की मंजूरी और एक्ज़िम बैंक ऑफ इंडिया और मालदीव सरकार के बीच इस सम्बंध में एक आशय-पत्र के आदान-प्रदान का स्वागत किया। राष्ट्रपति श्री सोलेह ने अतिरिक्त आवास इकाइयों के लिए उदार सहायता के लिए भारत सरकार की सराहना की।

15.  दोनों नेताओं ने अड्डू रोड परियोजना, 34 द्वीपों पर पानी और सीवरेज सुविधाओं का प्रावधान और हुकुरु मिस्की (शुक्रवार मस्जिद) की मरम्मत सहित अन्य भारतीय वित्त पोषित परियोजनाओं में हुई प्रगति पर संतोष व्यक्त किया। दोनों नेताओं ने गुल्हिफाल्हू बंदरगाह परियोजना की संशोधित डीपीआर की मंजूरी का स्वागत किया और अधिकारियों को जल्द से जल्द कार्यान्वयन शुरू करने का निर्देश दिया। उल्लेखनीय है कि यह ग्रेटर माले के लिए मौजूदा बंदरगाह की जगह और माले शहर से सुविधाओं के स्थानांतरण के लिए विश्व स्तरीय बंदरगाह सुविधा प्रदान करेगा। दोनों नेताओं ने हनीमाधू हवाईअड्डा विकास परियोजना ईपीसी अनुबंध पर हस्ताक्षर करने के लिए भारतीय पक्ष की अंतिम मंजूरी का भी स्वागत किया और खुशी व्यक्त की कि कार्यान्वयन शीघ्र ही शुरू हो जाएगा। दोनों नेताओं ने लामू में कैंसर अस्पताल निर्माण परियोजना की व्यवहार्यता रिपोर्ट को अंतिम रूप देने और भारत सरकार की ऋण सहायता के माध्यम से इसके अंतिम वित्तीय हिसाब-किताब पर संतोष व्यक्त किया।

16. दोनों नेताओं ने भारत से अनुदान सहायता के माध्यम से कार्यान्वित की जा रही 45 सामुदायिक विकास परियोजनाओं से द्वीपीय समुदायों में किये जाने वाले रचनात्मक योगदान का स्वागत किया।

17. प्रधानमंत्री श्री मोदी और राष्ट्रपति श्री सोलेह ने संतोष के साथ कहा कि क्षमता निर्माण और प्रशिक्षण पिछले कुछ वर्षों में द्विपक्षीय साझेदारी के एक प्रमुख स्तंभ के रूप में उभरा है। आटीईसी प्रशिक्षण योजना के साथ, सैकड़ों मालदीव निवासी भारत में विशेष रूप से तैयार किये गये प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं, जो सिविल सेवाओं, सीमा शुल्क सेवाओं, संसद, न्यायपालिकाओं, मीडिया, स्वास्थ्य और शिक्षा संस्थानों और रक्षा और सुरक्षा संगठनों के बीच संस्थागत संबंधों द्वारा सुगम है। दोनों नेताओं ने मालदीव के स्थानीय सरकारी प्राधिकरण और भारत के राष्ट्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज संस्थान के बीच हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन का स्वागत किया जो मालदीव में स्थानीय सरकारी संस्थानों की क्षमताओं को मजबूत करेगा।
रक्षा और सुरक्षा

18. भारत-मालदीव रक्षा और सुरक्षा साझेदारी समय की कसौटी पर खरी उतरी है और अंतरराष्ट्रीय अपराधों और आपदा राहत के क्षेत्रों में क्षेत्रीय सहयोग की बड़ी मिसाल है। यह साझेदारी हिंद महासागर क्षेत्र में स्थिरता की शक्ति है। यह स्वीकार करते हुए कि भारत और मालदीव की सुरक्षा आपस में जुड़ी हुई है, दोनों नेताओं ने क्षेत्र की सुरक्षा और स्थिरता पर एक-दूसरे की चिंताओं के प्रति सचेत रहने का आश्वासन दोहराया; और अपने-अपने क्षेत्रों को दूसरे के विरुद्ध किसी भी गतिविधि के लिए उपयोग करने की अनुमति नहीं देने के लिए प्रतिबद्धता व्यक्त की।

19. दोनों नेताओं ने चल रही परियोजनाओं और क्षमता निर्माण पहलों के कार्यान्वयन के माध्यम से समुद्री सुरक्षा और संरक्षा, समुद्री क्षेत्रीय जागरूकता, और मानवीय सहायता तथा आपदा राहत में सहयोग को सक्रिय करने पर सहमति व्यक्त की। प्रधानमंत्री मोदी ने क्षेत्र में सभी के लिए भारत की सुरक्षा और विकास (सागर) के दृष्टिकोण के अनुरूप सहयोग को मजबूत करने के लिए भारत की प्रतिबद्धता दोहराई।

20. दोनों नेताओं ने सिफावारू में तटरक्षक बंदरगाह की निर्माणाधीन गतिविधियों में तेज प्रगति पर संतोष व्यक्त किया। यह परियोजना मालदीव के राष्ट्रीय रक्षा बल (एमएनडीएफ) की क्षमता को बढ़ाने और अपने ईईजेड और प्रवाल-द्वीपों की समुद्री निगरानी करने में मालदीव सरकार की सहायता करेगी। दोनों नेताओं ने अधिकारियों को इस परियोजना को समय पर पूरा करना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

21. प्रधानमंत्री श्री मोदी ने मालदीव सरकार को मालदीव राष्ट्रीय रक्षा बल के लिए भारत सरकार से पहले प्रदान किए गए सीजीएस हुरवी के लिए दूसरे लैंडिंग असॉल्ट क्राफ्ट (एलसीए) और एक वैकल्पिक जहाज की आपूर्ति की घोषणा की। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने मालदीव राष्ट्रीय रक्षा बल को भारत सरकार की ओर से 24 यूटीलिटी वाहन देने की भी घोषणा की। राष्ट्रपति श्री सोलेह ने अनुदान सहायता और रक्षा परियोजनाओं के लिए 50 मिलियन अमरीकी डालर की ऋण सुविधा के माध्यम से एमएनडीएफ बुनियादी ढांचे और उपकरणों के आधुनिकीकरण के लिए भारत के निरंतर समर्थन के लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी को धन्यवाद दिया।

22. राष्ट्रपति श्री सोलेह ने अड्डू शहर में नेशनल कॉलेज फॉर पुलिसिंग एंड लॉ एनफोर्समेंट (एनसीपीएलई) की स्थापना में सहायता के लिए प्रधानमंत्री मोदी को धन्यवाद दिया, जिसका उद्घाटन मार्च 2022 में किया गया था।

23. दोनों नेताओं ने मालदीव में 61 पुलिस बुनियादी ढांचे के डिजाइन और निर्माण के लिए क्रेता ऋण समझौते के आदान-प्रदान का स्वागत किया, जो पुलिस को चाक-चौबंद बनाने में योगदान करेगा और द्वीपों में समुदायों की सुरक्षा और सुरक्षा सुनिश्चित करेगा।

24. दोनों नेताओं ने क्षेत्रीय और बहुपक्षीय पहलों के प्रारूप के भीतर इन क्षेत्रों में हुई प्रगति का भी स्वागत किया। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने मार्च 2022 में माले में आयोजित कोलंबो सुरक्षा सम्मेलन की 5वीं बैठक की सफल मेजबानी के लिए राष्ट्रपति श्री सोलेह को बधाई दी, जिसमें सदस्यता विस्तार के साथ-साथ एक नया स्तंभ – मानीय सहायता तथा आपदा राहत को जोड़ गया।

25. दोनों नेताओं ने पिछले महीने कोच्चि में आयोजित कोलंबो सुरक्षा सम्मेलन के सदस्य देशों की छठी उप-राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बैठक की सफलता का उल्लेख किया और विश्वास व्यक्त किया कि मालदीव द्वारा आयोजित की जाने वाली 7वीं उप-राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बैठक से रचनात्मक परिणाम प्राप्त होंगे।

26. दोनों नेताओं ने आपदा प्रबंधन और साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में सहयोग को मजबूत करने पर समझौता ज्ञापनों के आदान-प्रदान का स्वागत किया।

27. दोनों नेताओं ने आतंकवाद के सभी रूपों की निंदा की और कट्टरपंथ, हिंसक उग्रवाद, आतंकवाद और मादक पदार्थों की तस्करी को विफल करने के लिए दोनों देशों की सुरक्षा एजेंसियों के बीच बेहतर समन्वय का आह्वान किया। अप्रैल 2021 में आयोजित आतंकवाद विरोधी संयुक्त कार्य समूह की पहली बैठक के बाद से प्रगति का हवाला देते हुये, दोनों नेताओं ने अधिकारियों को साइबर सुरक्षा सहित विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग को और मजबूत करने का निर्देश दिया।

सहयोग के उभरते हुए महत्‍वपूर्ण पड़ाव

28. पर्यावरण और नवीकरणीय ऊर्जा – दोनों नेताओं ने जलवायु परिवर्तन से उत्पन्न होने वाली बढ़ती चुनौतियों की निशानदेही की और द्विपक्षीय रूप से शमन और अनुकूलन की दिशा में सहयोग को मजबूत करने के साथ-साथ बहुपक्षीय पहलों के ढांचे में - अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन और आपदा प्रतिरोधी बुनियादी ढांचे के लिए गठबंधन पर सहमति व्यक्त की। भारत सरकार की रियायती लाइन ऑफ क्रेडिट के तहत 34 द्वीपों में पेयजल और स्वच्छता के बुनियादी ढांचे का विकास मालदीव में अंतरराष्ट्रीय सहायता से शुरू की जा रही सबसे बड़ी जलवायु अनुकूलन परियोजना है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने मालदीव द्वारा 2030 तक नेट जीरो बनने के महत्वाकांक्षी लक्ष्य की सराहना की और पूर्ण समर्थन का आश्वासन दिया। इस संदर्भ में दोनों नेताओं ने अपने अधिकारियों से अक्षय ऊर्जा और ग्रिड इंटर-कनेक्टिविटी के क्षेत्र में सहयोग को मजबूत करने का आह्वान किया।

29. खेल और युवा विकास - दोनों नेताओं ने भारत में मालदीव के एथलीटों के उपकरण और प्रशिक्षण के माध्यम से खेल संबंधों के विस्तार को स्वीकार किया। उन्होंने अधिकारियों को खेल अवसंरचना विकास के लिए रियायती 40 मिलियन अमरीकी डालर की ऋण सुविधा के माध्यम से मालदीव में खेल के बुनियादी ढांचे के विकास के लिए परियोजनाओं को आगे बढ़ाने का निर्देश दिया। उन्होंने मालदीव में कार्यान्वित की जा रही अनुदान वित्तपोषित परियोजनाओं के बीच कई खेल विकास परियोजनाओं को शामिल करने पर भी ध्यान दिया। दोनों नेताओं ने 2020 में हस्ताक्षरित खेल और युवा मामलों में सहयोग पर समझौता-ज्ञापन के तहत दोनों पक्षों के युवाओं के बीच बढ़ते आदान-प्रदान का स्वागत किया।

बहुपक्षीय मंचों में सहयोग

30. दोनों नेताओं ने संयुक्त राष्ट्र निकायों, विशेष रूप से सुरक्षा परिषद में तत्काल सुधार की आवश्यकता पर सहमति व्यक्त की। इस संबंध में, प्रधानमंत्री श्री मोदी ने विस्तारित और संशोधित संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता के लिए भारत की उम्मीदवारी के लिए मालदीव के समर्थन की सराहना की। राष्ट्रपति श्री सोलेह ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र की अध्यक्षता के लिए मालदीव की उम्मीदवारी के समर्थन के लिए भारत को धन्यवाद दिया। दोनों नेताओं ने संयुक्त राष्ट्र और अन्य अंतरराष्ट्रीय मंचों पर साझा हितों के बहुपक्षीय मुद्दों पर काम करना जारी रखने पर भी सहमति व्यक्त की।

समझौते/समझौता-ज्ञापन
31. राष्ट्रपति श्री सोलेह की भारत-यात्रा के दौरान दोनों नेताओं की मौजूदगी में निम्नलिखित क्षेत्रों में समझौता-ज्ञापनों/समझौतों का आदान-प्रदान किया गयाः

  • मछली पकड़ने के समुद्री क्षेत्र के बारे में मौसम का पूर्वानुमान लगाने की क्षमता निर्माण पर सहयोग।
  • साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में सहयोग
  • मालदीव की महिला विकास समितियों और स्थानीय सरकारी प्राधिकरणों का क्षमता निर्माण
  • आपदा प्रबंधन में सहयोग
  • पुलिस अवसंरचना के निर्माण के लिए यूएसडी 41 मिलियन क्रेता ऋण समझौता
  • 2000  जन आवास इकाइयों के क्रेता ऋण वित्तपोषण के लिए आशय पत्र

32. राष्ट्रपति सोलेह ने अपनी यात्रा के दौरान उन्हें और उनके प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों के प्रगाढ़, सौहार्दपूर्ण और शानदार आतिथ्य के लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी को धन्यवाद दिया।
33. राष्ट्रपति श्री सोलेह ने मालदीव की राजकीय यात्रा करने के लिए भारत के राष्ट्रपति को फिर से आमंत्रित किया। राष्ट्रपति सोलेह ने भारत के प्रधानमंत्री को भी मालदीव की यात्रा के लिए आमंत्रित किया।


******

एमजी/एएम/एकेपी/एसएस



(Release ID: 1861934) Visitor Counter : 191