शिक्षा मंत्रालय
azadi ka amrit mahotsav

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने इंडिया रैंकिंग 2021 जारी की

वैश्विक शैक्षिक परिदृश्य में योगदान देने के लिए भारतीय रैंकिंग फ्रेमवर्क- श्री धर्मेंद्र प्रधान

श्री धर्मेंद्र प्रधान ने क्षेत्रीय रैंकिंग फ्रेमवर्क का आह्वान किया

Posted On: 09 SEP 2021 4:13PM by PIB Delhi

केंद्रीय शिक्षा मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने आज नई दिल्ली में राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क द्वारा तैयार की गई इंडिया रैंकिंग 2021 जारी की। शिक्षा राज्य मंत्री श्रीमती अन्नपूर्णा देवी, डॉ. सुभाष सरकार, डॉ. राजकुमार रंजन सिंह, उच्च शिक्षा सचिव श्री अमित खरे, प्रो. डी.पी. सिंह, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के अध्यक्ष, अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के अध्यक्ष प्रो. अनिल सहस्रबुद्धे, राष्ट्रीय प्रत्यायन बोर्ड के अध्यक्ष प्रो. के.के. अग्रवाल, और राष्ट्रीय प्रत्यायन बोर्ड के सदस्य सचिव, डॉ. अनिल कुमार नासा भी इस कार्यक्रम में शामिल हुए।

इस अवसर पर श्री प्रधान ने कहा कि एक मजबूत और रोल मॉडल रैंकिंग फ्रेमवर्क वैश्विक शैक्षिक परिदृश्य में भारत के योगदान के रूप में काम करेगा, इसलिए, हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हमारा रैंकिंग फ्रेमवर्क न केवल देश में बल्कि विश्व स्तर पर भी, विशेष रूप से विकासशील अर्थव्यवस्थाओं के लिए एक बेंचमार्क के रूप में उभरे। उन्होंने क्षेत्रीय रैंकिंग फ्रेमवर्क को विकसित करने का भी आग्रह किया।

मंत्री महोदय ने जोर देकर कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति हमें अपनी शिक्षा प्रणाली का अंतर्राष्ट्रीयकरण करने का अवसर भी प्रदान करती है। हमें अपने रैंकिंग फ्रेमवर्क के अंतर्गत अधिक से अधिक संस्थानों को लाने और भारत को एक पसंदीदा वैश्विक अध्ययन केंद्र के रूप में स्थापित करने के लिए सामूहिक रूप से काम करना चाहिए। उन्होंने पूरे देश के सभी प्रमुख संस्थानों को बधाई दी जिन्होंने अपनी-अपनी श्रेणियों- कुल मिलाकर, विश्वविद्यालय, इंजीनियरिंग, प्रबंधन, कॉलेज, फार्मेसी, चिकित्सा, वास्तुकला, कानून, दंत चिकित्सा और अनुसंधान संस्थान की रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल किया।

भारत में एचईआई की इंडिया रैंकिंग का यह लगातार छठा संस्करण है। 2016 में अपने पहले वर्ष के दौरान, विश्वविद्यालय श्रेणी के साथ-साथ तीन विषय-विशिष्ट रैंकिंग, अर्थात् इंजीनियरिंग, प्रबंधन और फार्मेसी संस्थानों के लिए रैंकिंग की घोषणा की गई थी। छह वर्षों की अवधि में, तीन नई श्रेणियां और पांच नए विषय ज्ञान क्षेत्र में जोड़े गए, जिससे 2021 में कुल मिलाकर 4 श्रेणियां, अर्थात् विश्वविद्यालय, कॉलेज और अनुसंधान संस्थान और 7 विषय, अर्थात् इंजीनियरिंग, प्रबंधन, फार्मेसी, वास्तुकला, चिकित्सा, कानून और दंत चिकित्सा शामिल किए गए हैं। भारत रैंकिंग 2021 में पहली बार अनुसंधान संस्थानों को स्थान दिया गया है।

शिक्षा मंत्रालय द्वारा नवंबर 2015 में शुरू किए गए राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क (एनआईआरएफ) का उपयोग इस संस्करण के साथ-साथ 2016 से 2021 के लिए जारी इंडिया रैंकिंग के पिछले पांच संस्करणों के लिए किया गया था

क्रम संख्या

मापदंड

अंक

वेटेज

1

शिक्षण, सीखना और संसाधन

100

0.30

2

अनुसंधान और व्यावसायिक अभ्यास

100

0.30

3

स्नातक परिणाम

100

0.20

4

आउटरीच और समावेशिता

100

0.10

5

अनुभव

 

 

100

0.10

 

पैरामीटर्स और वेटेज की पांच व्यापक श्रेणियां

इन पांच मापदंडों में से प्रत्येक में 2 से 5 उप-मापदंड शामिल हैं। विभिन्न श्रेणियों और विषय ज्ञान क्षेत्र में एचईआई की रैंकिंग के लिए कुल 16 - 18 उप-मापदंड का उपयोग किया जाता है। मापदंडों के इन पांच व्यापक समूहों में से प्रत्येक के लिए आवंटित अंकों के कुल योग के आधार पर रैंक दी जाती है। समग्र श्रेणी के लिए उपयोग किए गए मापदंडों के अलावा, निम्नलिखित दो अतिरिक्त उप-मापदंड "शोध संस्थानों" के तहत रैंकिंग संस्थानों के लिए नए सिरे से विकसित कार्यप्रणाली में शामिल किए गए थे: i) जर्नल प्रशस्ति पत्र रिपोर्ट (जेसीआरक्यू 1) के पहले चतुर्थांश में शामिल पत्रिकाओं में प्रकाशित शोध पत्र ; और ii) एच इंडेक्स।

इसके अलावा, जहां भी संभव हो, आवेदक संस्थानों से विभिन्न मानकों पर डेटा सोर्सिंग, डेटा के तीसरे पक्ष के स्रोतों का भी उपयोग किया गया है। स्कोपस (एल्सेवियर साइंस) और वेब ऑफ साइंस (क्लारिवेट एनालिटिक्स) का उपयोग प्रकाशनों और उद्धरण डेटा को पुनः प्राप्त करने के लिए किया गया था। डर्वेंट इनोवेशन का उपयोग पेटेंट पर डेटा प्राप्त करने के लिए किया गया था। इन स्रोतों से प्राप्त आंकड़ों को उनके इनपुट देने के प्रावधान के साथ पारदर्शिता के लिए संस्थानों के साथ साझा किया गया था।

कुल 4,030 अद्वितीय संस्थानों ने भारत रैंकिंग 2021 के लिए "समग्र", श्रेणी-विशिष्ट और / या ज्ञान क्षेत्र-विशिष्ट रैंकिंग के तहत रैंकिंग के लिए दावा पेश किया था। रैंकिंग के लिए कुल मिलाकर, 6,272 आवेदन इन 4,030 विशिष्ट आवेदक संस्थानों द्वारा विभिन्न श्रेणियों के तहत प्राप्त हुए थे। ज्ञान क्षेत्र में सभी श्रेणी के लिए 1657, इंजीनियरिंग में 1143, प्रबंधन में 659, फार्मेसी में 351, कानून में 120, मेडिकल में 111, आर्किटेक्चर में 78 और सामान्य डिग्री कॉलेजों में 1802 आवेदक शामिल हैं। इस वर्ष रैंकिंग प्रक्रिया में संस्थागत भागीदारी में उल्लेखनीय वृद्धि भारत में उच्च शिक्षा संस्थानों के बीच एक निष्पक्ष और पारदर्शी रैंकिंग प्रक्रिया के रूप में इसकी मान्यता को दर्शाती है। भारत रैंकिंग के लिए विशिष्ट आवेदकों की संख्या 2016 में 2,426 से 2021 में बढ़कर 4,030 हो गई है, जबकि विभिन्न श्रेणियों में रैंकिंग के लिए आवेदनों की कुल संख्या 2016 में 3,565 से 2021 में बढ़कर 6,272 हो गई है। विशिष्ट संस्थानों में कुल 1604 (66 प्रतिशत वृद्धि) और कुल आवेदकों में 2707 (76 प्रतिशत वृद्धि) की कुल वृद्धि दर्ज की गई है।

2016 से 2021 तक इंडिया रैंकिंग के लिए आवेदकों की संख्या में वृद्धि

प्रक्रिया के रूप में, 200 संस्थानों को इंजीनियरिंग संकाय में रैंकिंग दी गई है जिनमें से कुल मिलाकर, विश्वविद्यालय और कॉलेज श्रेणियों में प्रत्येक में 100, प्रबंधन और फार्मेसी, प्रत्येक में 75, चिकित्सा और अनुसंधान संस्थानों में प्रत्येक में 50, दंत चिकित्सा में 40, कानून में 30 और वास्तुकला में 25 संस्थानों को स्थान दिया गया है। विश्वविद्यालय और कॉलेज के मामले में 101-150 और 151-200 के रैंक बैंड में और इंजीनियरिंग के मामले में 201-250 और 251-300 के लिए अतिरिक्त रैंकिंग उपयुक्त रूप से तैयार की गई है।

इंडिया रैंकिंग 2021 की मुख्य विशेषताएं:

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास ने लगातार तीसरे वर्ष सभी श्रेणी के साथ-साथ इंजीनियरिंग में पहला स्थान बरकरार रखा है।

भारतीय विज्ञान संस्थान, बेंगलुरु ने पहली बार इंडिया रैंकिंग 2021 में शुरू की गई विश्वविद्यालय के साथ-साथ अनुसंधान संस्थान श्रेणी में शीर्ष स्थान हासिल किया है।

प्रबंधन विषय में भारतीय प्रबंधन संस्थान, अहमदाबाद शीर्ष पर है और अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, नई दिल्ली लगातार चौथे वर्ष चिकित्सा क्षेत्र में शीर्ष स्थान पर है।

जामिया हमदर्द फार्मेसी विषय में लगातार तीसरे साल सूची में सबसे ऊपर है।

मिरांडा कॉलेज ने लगातार पांचवें साल कॉलेजों में पहला स्थान बरकरार रखा है।

वास्तुकला विषय में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-आईआईटी खड़गपुर को पीछे छोड़ते हुए आईआईटी रुड़की पहली बार शीर्ष स्थान पर है।

नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी, बैंगलोर ने लगातार चौथे वर्ष विधि के लिए अपना पहला स्थान बरकरार रखा है।

कॉलेजों की रैंकिंग में दिल्ली के कॉलेज हावी हैं, पहले 10 कॉलेजों में से दिल्ली के पांच कॉलेजों जगह बनाई है।

मणिपाल कॉलेज ऑफ डेंटल साइंसेज, मणिपाल ने "दंत चिकित्सा" श्रेणी में पहला स्थान हासिल किया।

 भारत रैंकिंग 2021 देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें:

*****

एमजी/एएम/एमकेए/एसके



(Release ID: 1753606) Visitor Counter : 993