पत्तन, पोत परिवहन और जलमार्ग मंत्रालय'

केंद्रीय मंत्री श्री मनसुख मंडाविया ने कच्छ के रामबाग में राज्य सरकार के अस्पताल में कॉपर पाइपिंग नेटवर्क के साथ मेडिकल ऑक्सीजन जनरेटर इकाई का उद्घाटन किया

यह संयंत्र अस्पताल के सभी बिस्तरों और वार्डों में सुचारू और निरंतर ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करेगा: श्री मंडाविया

Posted On: 07 JUL 2021 5:19PM by PIB Delhi

केंद्रीय पत्तन, पोत परिवहन और जलमार्ग राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री मनसुख मंडाविया ने आज कच्छ (गुजरात) के रामबाग में राज्य सरकार के अस्पताल में कॉपर पाइपिंग नेटवर्क के साथ मेडिकल ऑक्सीजन जेनरेटर इकाई का उद्घाटन किया। दीनदयाल पोर्ट ने लगभग 50 लाख रुपए की कुल लागत की इस सुविधा को स्थापति किया है जिससे अस्पताल में मरीजों के इलाज की जरूरतें पूरी होंगी।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image00178CM.jpg

इस अवसर पर बोलते हुए, श्री मंडाविया ने एक महीने के भीतर दूसरी ऑक्सीजन योजना स्थापित करने के लिए पोर्ट टीम और सभी हितधारकों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि यह संयंत्र अस्पताल के सभी बिस्तरों और वार्डों में सुचारू और निरंतर ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए शीघ्र ऑक्सीजन रिफिलिंग सुनिश्चित करेगा। श्री मंडाविया ने कहा कि सभी बंदरगाह अपनी सीएसआर गतिविधियों के माध्यम से कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में अपना योगदान दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि आसपास के इलाकों में रहने वाले लोगों को बेहतर सुविधाएं मुहैया कराना बंदरगाहों की जिम्मेदारी है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002G2KF.jpg

रामबाग, गांधीधाम के सरकारी अस्पताल में स्थापित इस ऑक्सीजन जनरेटर की क्षमता 5-6 बार-प्रेशर के साथ 20,000 लीटर/घंटा की है। इसका उपयोग कोवि़ड के साथ साथ अन्य स्थानीय मरीजों के इलाज में किया जा सकता है। यह प्रणाली मरीजों के इलाज के लिए बार-बार सिलेंडर भरने की कठिनाई को खत्म करेगी और अस्पताल को सुचारू और निरंतर ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करेगी।

 

ट्वीट लगा दें

 

इससे पहले, 2 जून 2021 को कच्छ के गांधीधाम में गोपालपुरी में बंदरगाह के अस्पताल में मंत्री ने 20 क्यूबिक मीटर प्रति घंटा की क्षमता वाली ऑक्सीजन जनरेटर इकाई का भी उद्घाटन किया था। इस सुविधा के साथ  ही मेडिकल ऑक्सीजन कॉपर पाइपिंग नेटवर्क और संबंधित सुबिधाएं जैसे अग्निशमन प्रणाली और स्वचालित ऑक्सीजन स्रोत परिवर्तन प्रणाली की भी शुरुआत की गई थी। दीनदयाल पोर्ट सभी प्रमुख बंदरगाहों में से पहली बंदरगाह थी जिसने महामारी के परिदृश्य में ऐसी ऑक्सीजन उत्पादन इकाई को स्थापित और चालू किया था। डीपीटी ने कोविड से लड़ने के लिए कई पहल की हैं जो इस प्रकार हैं :

  • डीपीटी अस्पताल, गोपालपुरी में कोविड केयर सेंटर को 14 अप्रैल 2021 से चालू कर दिया गया है। यहां 50 कोविड मरीजों के इलाज की व्यवस्था है जो मौजूदा मेडिकल अफसरों और स्टाफ द्वारा संचालित की जा रही है और अस्पताल की ओपीडी परामर्श सुविधाओं को जारी रखा गया है।
  • डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ की 24 घंटे उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए 7 मेडिकल अफसरों और पैरामेडिकल स्टाफ को कॉन्ट्रैक्ट पर जोड़ा गया है।
  • ऑक्सीजन की पर्याप्त आपूर्ति के लिए 200 जंबो सिलिंडर, 3 वेंटिलेटर्स, 5 ऑक्सीजन कॉन्सेनट्रेटर्स खरीदे गए हैं।
  • डीपीटी अस्पताल में कोविड टीका न सिर्फ इस अस्पताल के लाभार्थियों के लिए बल्कि आम जनता के लिए भी उपलब्ध कराया जा रहा है।
  • डीपीटी अस्पताल में कोविड जांच के लिए रैपिड एंटीजन टेस्ट की सुविधा मुहैया कराई जा रही है।
  • लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंद लोगों को 10 हजार राशन किट बांटी गईं।
  • आईसीयू और पीआईसीयू की सुविधा तैयार करने के लिए भी कई कदम उठाए गए हैं।
  • लॉकडाउन के दौरान मजदूरों के लिए मुफ्त राशन का प्रावधान किया गया है।

गुजरात सरकार के पर्यटन, सामाजिक और शैक्षिक रूप से पिछड़े वर्गों के कल्याण राज्य मंत्री श्री वासनभाई अहीर, सांसद श्री विनोद चावड़ा और पत्तन, पोत परिवहन और जलमार्ग मंत्रालय सचिव डॉ संजीव रंजन मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ इस अवसर पर उपस्थित थे।

****

एमजी/एएम/पीके/सीएस



(Release ID: 1733460) Visitor Counter : 139