स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय

डा. हर्षवर्धन ने फिक्‍की द्वारा आयोजित एमएएससीआरएडीई 2021 का उद्घाटन किया

”तस्करी और फर्जी व्यापार, प्रगति को रोकते हैं, अर्थव्यवस्था की सेहत प्रभावित करते हैं और उपभोक्ताओं के लिए सुरक्षा खतरे पैदा करते हैं ”

अवैध व्यापार के खिलाफ हमारी लड़ाई में ‘वोकल फॉर लोकल' एक अत्यंत शक्तिशाली उपकरण होगा- डॉ. हर्षवर्धन

Posted On: 21 JAN 2021 4:38PM by PIB Delhi

केन्‍द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने आज फिक्की कास्केड द्वारा तस्‍करी किए गए और फर्जी व्‍यापार के खिलाफ आंदोलन विषय पर आयोजित “एमएएससीआरएडीई 2021” के 7 वें संस्करण का उद्घाटन किया ।

अपने संबोधन में, केन्‍द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने खुशी जताई कि एमएएससीआरएडीई के 7 वें संस्करण में अभिनव नीति समाधानों पर चर्चा की जाएगी, जो फर्जी, तस्करी किए गए और नकली उत्पादों की बढ़ती लहर को उलट सकते हैं।

उन्होंने कोविड 19 महामारी और दवाओं का अवैध धंधा करने वालों से जुड़ी चुनौतियों पर जोर दिया और कहा, “जैसा कि हम सभी जानते हैं, कोविड -19 महामारी से उत्‍पन्‍न अव्‍यवस्‍था और इसे फैलने से रोकने के लिए तैयार की गई विभिन्न नीति प्रतिक्रियाओं के बीच, गैर कानूनी तरीके से काम कर रहे लोगों ने अपनी नापाक गतिविधियों को बढ़ाने के एक अवसर के रूप में महामारी का उपयोग किया, जिससे देश की अर्थव्‍यवस्‍था, दुनिया भर में लोगों के स्वास्थ्य और सुरक्षा को काफी नुकसान पहुंचा है। ”

डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, “एमएएससीआरएडीई 2021 का उद्देश्य विशेष रूप से कोविड युग के बाद जालसाजी और तस्करी की चुनौतियों को कम करने के लिए नई और व्यावहारिक रणनीतियों पर एक स्वस्थ चर्चा को बढ़ावा देना है। उनमें जागरूकता पैदा करने पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए। कोविड 19 महामारी ने हमारी स्वास्थ्य प्रणाली के लिए अभूतपूर्व जिज्ञासा खड़ी कर दी है। स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता स्वास्थ्य सेवा को रोगी के करीब लाने के लिए मौजूदा डिलीवरी मॉडल को फिर से मजबूत कर रहे हैं। "

नकली दवाओं के खतरे की जाँच करने के लिए सरकार द्वारा किए गए प्रयासों की सराहना करते हुए उन्‍होंने कहा, “भारत सरकार ने नकली दवाओं के खतरे की जाँच करने के लिए कई उपाय किए हैं। ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट, 1940 में ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स अमेंडमेंट एक्ट 2008 के तहत संशोधन किया गया था। इस कानून के अनुसार, अगर किसी भी दवा को मिलावटी या नकली माना जाता है, तो अपराधी या उत्तरदायी व्यक्ति को ऐसे शब्द के लिए कारावास का सामना करना पड़ सकता है जो 10 वर्ष से कम नहीं होगा लेकिन जो आजीवन कारावास में बदल सकता है। शीघ्र निपटान के लिए ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट के तहत अपराधों की सुनवाई के लिए विशेष न्यायालयों की स्थापना की गई है। अच्छी तरह से विकसित कानूनी ढांचा और महत्वपूर्ण शिक्षा प्रयासों के साथ सरकार ने खतरनाक जालसाजी और तस्करी से उपभोक्ताओं की स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए कदम उठाए हैं। । ”

डॉ. हर्षवर्धन ने जालसाजी और तस्करी के बढ़ते खतरों को दूर करने के लिए साथ आने पर अधिक ध्यान देने का आह्वान किया। इस संबंध में, उन्होंने कहा, “व्यवसाय और उद्योग को एक साथ आना चाहिए और उपभोक्ताओं को सुरक्षित रखने के अंतिम लक्ष्य के साथ इस बढ़ते खतरे से लड़ने के लिए सरकार की ताकत बनना चाहिए। उन्होंने कहा, वितरण चैनल में जिन तरीकों से नकली, गलत नाम वाली और मिलावटी दवाएं प्रवेश कर गई हैं, वे तेजी से जटिल हो गए हैं। दवा उत्पादों की वितरण प्रक्रियाओं में कमजोर बिंदु आपूर्ति श्रृंखला में ऐसे उत्पादों के प्रवेश के लिए एक अवसर प्रदान करते हैं। यह एक ऐसा मुद्दा है जहां उद्योग से जुड़े लोग इन खामियों को पहचानने और उन्हें दूर करने में मदद करने के लिए एक सक्रिय भूमिका निभा सकते हैं। 

माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा 'वोकल फॉर लोकल'  के स्पष्ट आह्वान को दोहराते हुए, उन्होंने कहा, " आत्‍मनिर्भर भारत और वोकल फॉर लोकल वास्तव में हमारे सामने आने वाली चुनौतियों का समाधान प्रदान कर सकती है। जहां भारत ने मजबूत घरेलू ब्रांडों का उत्पादन शुरू कर दिया है और धीरे-धीरे विदेशी उत्पादों पर इसकी निर्भरता कम हो रही है, तस्करों और जालसाजों द्वारा मुनाफाखोरी के रास्ते जल्द ही सीमित हो जाएंगे। कानून प्रवर्तन नकली माल की पहचान और नकली सामान के उत्पादकों पर मुकदमा चलाने के लिए भी अधिक प्रभावी हो जाएगा। इसलिए ' वोकल फॉर लोकल' अवैध व्यापार के खिलाफ हमारी लड़ाई में एक अत्यंत शक्तिशाली उपकरण होगा। "

उन क्षेत्रों पर प्रकाश डालते हुए जिन पर ध्‍यान देने की आवश्‍यकता है, डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, “सुरक्षा बलों और प्रवर्तन एजेंसियों की सहायता के लिए नवीनतम तकनीक का उपयोग कर तस्करी, जालसाजी और समुद्री डकैती, अपराध करने वालों के लिए दंड को बढ़ाना और अधिक वित्तीय और मानव संसाधन आवंटन करने से संबंधित मौजूदा नियमों की समीक्षा करना है। ”

केन्‍द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने फिक्की एमएएससीआरएडीई के प्रयासों की सराहना की और कहा, “मैं कानून प्रवर्तन एजेंसियों के काम को मान्यता देने और जालसाजी और तस्करी, और प्रवर्तन की रोकथाम में उत्कृष्ट उपलब्धि और तस्करी विरोधी और जालसाजी विरोधी कानून लागू करने के लिए के लिए हर साल सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले अधिकारियों को सम्मानित करने के लिए फिक्की एमएएससीआरएडीई की सराहना करता हूं।

इस अवसर पर जम्‍मू कश्‍मीर उच्‍च न्‍यायालय के पूर्व न्‍यायाधीश सेवानिवृत्‍त न्यायमूर्ति श्री मनमोहन सरीन, वर्ल्ड कस्टम्स ऑर्गनाइजेशन के महासचिव श्री कुनियो मिकुरिया, फिक्की के अध्यक्ष श्री उदय शंकर और अन्य गणमान्‍य लोग उपस्थित थे।

 

****

एमजी/एएम/केपी



(Release ID: 1690991) Visitor Counter : 179