प्रधानमंत्री कार्यालय

प्रधानमंत्री ने अंतर्राष्ट्रीय भारती महोत्सव 2020 को संबोधित किया

सरकार की महिलाओं के नेतृत्व में सशक्तिकरण की नीतियां सुब्रमण्यम भारती के दृष्टिकोण को श्रद्धांजलि है: प्रधानमंत्री


भरतियार ने हमें सिखाया है कि हम एकजुट रहें और हर एक व्यक्ति के सशक्तिकरण के लिए प्रतिबद्ध रहें, विशेष रूप से, गरीब और हाशिए पर मौजूद लोगों के लिये : प्रधानमंत्री

Posted On: 11 DEC 2020 5:42PM by PIB Delhi

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय भारती महोत्सव 2020 को संबोधित किया और भरतियार को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की। महाकवि सुब्रमण्यम भारती की 138वीं जयंती मनाने के लिए वनविल सांस्कृतिक केंद्र द्वारा उत्सव का आयोजन किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने इस वर्ष के लिए भारती पुरस्कार प्राप्त करने वाले विद्वान श्री सीनी विश्वनाथन को बधाई दी, जिन्हें इस कार्यक्रम के दौरान पुरस्कार प्रदान किया गया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सुब्रमण्यम भारती का वर्णन करना बहुत कठिन है। श्री मोदी ने कहा कि भरतियार को किसी एक पेशे या आयाम से नहीं जोड़ा जा सकता है। वे कवि, लेखक, संपादक, पत्रकार, समाज सुधारक, स्वतंत्रता सेनानी, मानवतावादी और बहुत कुछ थे।

प्रधानमंत्री ने टिप्पणी की कि कोई भी महान कवि, अपनी कविताओं, दर्शन और अपने जीवन के कार्य के रूप में चमत्कार कर सकता है। श्री मोदी ने वाराणसी के साथ महाकवि की निकटता को याद किया। भारती की प्रशंसा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि 39 साल के छोटे से जीवन में उन्होंने बहुत कुछ लिखा, बहुत कुछ किया और इतने में उत्कृष्टता प्राप्त की। उनका लेखन एक गौरवशाली भविष्य की ओर हमारा मार्गदर्शन करता है।

 प्रधानमंत्री ने टिप्पणी की कि सुब्रमण्यम भारती से आज का युवा बहुत कुछ सीख सकता है। उन्होंने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण साहसी होना है। सुब्रमण्यम भारती के लिए डर अज्ञात था। भारती को उद्धृत करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, “डर मुझे नहीं लगता, मुझे डर नहीं है, भले ही सारी दुनिया मेरा विरोध करे।” प्रधानमंत्री ने कहा कि वह आज यंग इंडिया में इस भावना को देखते हैं जब वे नवाचार और उत्कृष्टता के मामले में सबसे आगे हैं। उन्होंने कहा कि भारत का स्टार्ट-अप क्षेत्र निडर युवाओं से भरा है जो मानवता को कुछ नया दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा 'कर सकता है' की भावना हमारे देश और हमारे ग्रह के लिए आश्चर्यजनक परिणाम प्रदान करेगी।

 प्रधानमंत्री ने कहा कि भरतियार प्राचीन और आधुनिकता के बीच एक स्वस्थ मिश्रण में विश्वास करते थे। उन्होंने कहा कि भारती ने ज्ञान को हमारी जड़ों से जुड़े रहने के साथ-साथ भविष्य की ओर देखा और तमिल भाषा और मातृभूमि भारत को अपनी दो आंखें माना। भारती ने प्राचीन भारत की महानता, वेदों और उपनिषदों की महानता, हमारी संस्कृति, परंपरा और हमारे गौरवशाली अतीत के गीत गाए। लेकिन साथ ही उन्होंने हमें चेतावनी भी दी कि केवल अतीत के गौरव में जीना पर्याप्त नहीं है। श्री मोदी ने एक वैज्ञानिक स्वभाव विकसित करने, जांच की भावना और प्रगति की ओर अग्रसर होने की आवश्यकता पर जोर दिया।

 प्रधानमंत्री ने कहा कि महाकवि भरतियार की प्रगति की परिभाषा में महिलाओं की केंद्रीय भूमिका थी। उनकी सबसे महत्वपूर्ण दृष्टि स्वतंत्र और सशक्त महिलाओं की थी। महाकवि भरतियार ने लिखा है कि महिलाओं को अपना सिर उठा कर चलना चाहिए, जबकि लोगों को उनकी आंखों में देखना चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार इस दृष्टिकोण से प्रेरित है और महिलाओं के नेतृत्व वाले सशक्तिकरण को सुनिश्चित करने के लिए काम कर रही है। श्री मोदी ने कहा कि सरकार के कामकाज के हर क्षेत्र में महिलाओं की गरिमा को महत्व दिया गया है। उन्होंने कहा कि आज, 15 करोड़ से अधिक महिला उद्यमी मुद्रा योजना जैसी योजनाओं से वित्त पोषित हैं। आज स्थायी कमीशन के साथ महिलाएं हमारे सशस्त्र बलों का हिस्सा बन रही हैं। आज, सबसे गरीब महिलाएं जो सुरक्षित स्वच्छता की कमी की समस्याओं का सामना करती थीं, उन्हें 10 करोड़ से अधिक सुरक्षित और स्वच्छ शौचालयों से लाभान्वित किया जाता है। उन्हें और परेशानियों का सामना न करना पड़े। “यह न्यू इंडिया की नारी शक्ति का युग है। वे बाधाओं को तोड़ रही हैं और अपना प्रभाव स्थापित कर रही हैं। यह सुब्रमण्यम भारती की श्रद्धांजलि है।"

 प्रधानमंत्री ने टिप्पणी करते हुए कहा कि महाकवि भरतियार समझ गए थे कि कोई भी समाज जो विभाजित है वह सफल नहीं हो सकेगा। साथ ही, उन्होंने राजनीतिक स्वतंत्रता के खालीपन के बारे में भी लिखा जो सामाजिक असमानताओं का ध्यान नहीं करता है और सामाजिक कुरीतियो को समाप्त नहीं करता है। प्रधानमंत्री ने भारती को उद्धृत करते हुए कहा, "अब हम एक नियम बनाएंगे, और इसे कभी न कभी लागू करेंगे, अगर कभी एक आदमी को भुखमरी का सामना करना पड़ता है, तो दुनिया को विनाश के दर्द का सामना करना पड़ता है।" प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी शिक्षाएं हमें एकजुट रहने और प्रतिबद्ध रहने के लिए एक मजबूत अनुस्मारक हैं। हर एक व्यक्ति विशेषकर गरीबों और हाशिए पर रहने वाले लोगों का सशक्तिकरण किया जाना चाहिये।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारे युवाओं को भारती से सीखने के लिये बहुत कुछ है। हमारे देश में हर कोई उनके कामों को पढ़े और उनसे प्रेरित हो। उन्होंने भरतियार के संदेश को फैलाने में उनके अद्भुत काम के लिए वनविल संस्कृति केंद्र की प्रशंसा की। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि इस महोत्सव में रचनात्मक विचार-विमर्श होगा जो भारत का एक नया भविष्य बनाने में मदद करेगा।

****

एमजी/एएम/एमकेएस/एसके



(Release ID: 1680081) Visitor Counter : 93