इलेक्ट्रानिक्स एवं आईटी मंत्रालय

नेशनल ई-गवर्नेंस डिविजन और सीएससी ई-गवर्नेंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड के बीच 3.75 लाख सीएससीएस के नेटवर्क के माध्यम से नागरिकों को उमंग ऐप पर सेवाऐं उपलब्ध कराने के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

सीएससी ऑपरेटर्स वीएलईएस उमंग ऐप के माध्यम से नागरिकों को 140 विभागों की ई-गवर्नेंस सेवाओं का लाभ उठाने के लिए नागरिकों को सक्षम बनाएगें

Posted On: 26 AUG 2020 6:58PM by PIB Delhi

डिजिटल इंडिया की पावर टू एम्पॉवरपरिकल्पना को साकार करने और संपूर्ण भारत के हर भाग को डिजिटल समावेश के तौर पर सक्षम बनाने के उद्देश्य से, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस डिविजन (एनईजीडी) और सीएससी(कॉमन सर्विस सेंटर) ई-गवर्नेंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड के बीच 3.75 लाख सीएससीएस के नेटवर्क के माध्यम से नागरिकों को उमंग ऐप पर सेवाऐं उपलब्ध कराने के लिए 26 अगस्त, 2020 को एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। सीएससी ऑपरेटर्स, ग्रामीण स्तर के उद्यमी (वीएलई) उमंग ऐप के माध्यम से नागरिकों को 140 विभागों की ई-गवर्नेंस सेवाओं का लाभ उठाने के लिए नागरिकों को सक्षम बनाएगें। इससे उन नागरिकों को लाभ मिलेगा जिनके पास या तो स्मार्टफोन नहीं है या वह स्वयं ऐप आधारित ई-सेवाओं तक पहुंचने में समर्थ नहीं हैं। यह न केवल जनता के लिए सरकारी सेवाओं तक उनकी पहुंच बढ़ाएगा, बल्कि वीएलई द्वारा नागरिकों को प्रदान की जाने वाली सेवाओं में विस्तार भी करेगा, जिससे उनकी आय और व्यवहार्यता में वृद्धि होगी। इन सभी उमंग सेवाओं को सीएससी पर बिना किसी अतिरिक्त लागत के सक्षम बनाया जा रहा है और एनईजीडी सीएससी को शून्य लागत पर सभी सेवाएँ उपलब्ध करा रहा है।

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की सीएससी योजना के तहत कॉमन सर्विसेज सेंटर या सीएससी की स्थापना भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में महत्वपूर्ण रूप से पहुँच बनाने की दिशा में विभिन्न इलेक्ट्रॉनिक सेवाओं के विस्तार के लिए डिजिटल इंडिया कार्यक्रम की एक महत्वपूर्ण आधारशिला है। उमंग (यूनिफाइड मोबाइल एप्लिकेशन फॉर न्यू-एज गवर्नेंस) मोबाइल प्लेटफॉर्म के माध्यम से विभिन्न सरकारी विभागों की सेवाओं के वितरण के लिए एक सामान्य एकीकृत मंच है। उमंग और सीएससी के बीच हुआ यह समन्वय, उमंग प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से 140 विभागों की 1000 से अधिक सेवाओं को सीएससी को उपलब्ध कराएगा। उमंग प्लेटफ़ॉर्म से जुड़े 140 विभागों के लिए भी यह बहुत लाभदायक होगा, क्योंकि बिना किसी व्यय के उनकी सेवाएं अब एक ही बार में सहायक रूप में प्रदान की जा सकेंगी।

उमंग को इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस डिविजन (एनईजीडी) द्वारा विकसित किया गया था। हमारे माननीय प्रधानमंत्री द्वारा 23 नवंबर, 2017 को इसे राष्ट्र को समर्पित किया गया था। इसके सफल कार्यान्वयन के कुछ ही समय के भीतर, इस मोबाइल ऐप को यूएई के दुबई में फरवरी 2018 को आयोजित छठे विश्व शासन शिखर सम्मेलन में 'सर्वश्रेष्ठ एम-सरकार सेवा' पुरस्कार सहित चार शानदार पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। सरकार का उमंग ऐप को विकसित करने का उद्देश्य एक मोबाइल ऐप के माध्यम से नागरिकों तक सभी प्रमुख सरकारी सेवाओं को आसानी से प्रदान करना है।

उमंग मोबाइल ऐप एंड्रॉयड, आईओएस, सभी वेब ब्राउज़र प्लेटफार्मों के अलावा केएआईओएस की 57 सेवाओं (जिओ फीचर फोन) पर उपलब्ध है। ऐप को 97183-97183 पर मिस्ड कॉल देकर या https://web.umang.gov.in/uaw/i/v/ref पर क्लिक करके डाउनलोड किया जा सकता है। 100 हजार से अधिक उपयोगकर्ताओं के साथ ~4 की औसत प्ले स्टोर रेटिंग बनाए रखते हुए उमंग के 2.05 करोड़ पंजीकृत उपयोगकर्ता हैं और इसे 3.12 करोड़ से अधिक लोगों ने डाउनलोड किया हैं। वर्तमान में 70 केंद्रीय विभागों और 26 राज्यों के 71 राज्य विभागों से 1,011 सेवाएं (केंद्र से 294, राज्य विभागों से 441, बिल भुगतान से 276) उमंग पर उपलब्ध हैं और यह संख्या निरंतर बढ़ रही है। उमंग के माध्यम से अब तक लगभग 100 करोड़ का सेवा लेनदेन और लगभग 200 करोड़ हिट हुए हैं।

उमंग और सीएससी का यह महत्वपूर्ण गठबंधन विशेष रूप से इन अभूतपूर्व समय के दौरान आसानी, सुविधा और सुरक्षा को सुनिश्चित करते हुए हमारे देश के लाखों नागरिकों को सशक्त बनाएगा।

****

एमजी/एएम/एसएस/एसएस



(Release ID: 1648892) Visitor Counter : 82