स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय

कोविड-19 अपडेट

स्‍वास्‍थ्‍य सचिव ने उन 5 राज्‍यों से बातचीत की जहां घर लौटने वाले प्रवासी श्रमिकों की संख्‍या में बढ़ोतरी देखने को मिली है

Posted On: 26 MAY 2020 2:02PM by PIB Delhi

स्वास्थ्य सचिव सुश्री प्रीति सूदन, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय में ओएसडी श्री राजेश भूषण और मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों ने उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश के मुख्य सचिवों, स्वास्थ्य सचिवों और एनएचएम निदेशकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की। लॉकडाउन नियमों में ढील दिए जाने और अंतरराज्यीय पलायन की इजाजत दिए जाने के बाद इन राज्यों में पिछले तीन सप्ताह में कोविड-19 के मामलों में बढ़ोत्तरी देखने को मिली है।

राज्यों को अलग-अलग मामले में मृत्यु दर, दोहरीकरण समय, प्रति मिलियन जांच और पुष्टि प्रतिशत के संबंध में जानकारी दी गई। प्रभावी नियंत्रण रणनीति के लिए जिन कारकों पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है, परिधि नियंत्रण, विशेष निगरानी टीमों के माध्यम से घर-घर सर्वेक्षण, जांच, सक्रिय संपर्क का पता लगाना और प्रभावी नैदानिक प्रबंधन जैसे विषयों पर प्रकाश डाला गया। इस बात पर भी जोर दिया गया कि दिशा तय करने और सूक्ष्म योजनाओं के उचित निर्माण और कार्यान्वयन के जरिए नियमों में सुधार करने के उपायों को अपनाने के लिए प्रत्येक नियंत्रण क्षेत्र का विश्लेषण किया जाएगा। बफ़र ज़ोन के भीतर की गतिविधियों को भी दोहराया गया था।

यह दोहराया गया कि राज्यों को क्वारंटाइन केन्द्रों, आईसीयू / वेंटीलेटर / ऑक्सीजन बेड आदि के साथ मौजूदा उपलब्ध स्वास्थ्य ढांचे के आकलन पर ध्यान देने की जरूरत है, और अगले दो महीनों की जरूरत को ध्यान में रखते हुए इसे मजबूत करने की आवश्यकता है। आरोग्य सेतु से निकलने वाले डेटा का उपयोग भी भाग लेने वाले राज्यों को इंगित किया गया था।

गैर-कोविड आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं के संबंध में, राज्यों को याद दिलाया गया कि टीबी, कुष्ठ रोग, सीओपीडी, गैर-संचारी रोगों जैसे उच्च रक्तचाप, मधुमेह, चोटों के लिए उपचार और दुर्घटनाओं के कारण ट्रॉमा के लिए तत्काल उपाय करने की आवश्यकता है।

यह सलाह दी गई थी कि मोबाइल मेडिकल यूनिट (एमएमयू) क्वारंटाइन केन्द्रों पर लगाई जा सकती है। मौजूदा भवनों में अस्थायी उप-स्वास्थ्य केन्द्र स्थापित किए जा सकते हैं और आरबीएसके जैसी टीमों के अग्रिम पंक्ति के अतिरिक्त श्रमिकों का उपयोग किया जा सकता है। इसे आयुष्मान भारत के साथ जोड़ने की सलाह दी गई थी - स्वास्थ्य और तंदुरुस्ती केंद्रों को स्थापित करने की आवश्यकता है ताकि तत्काल स्वास्थ्य जांच की व्यवस्था की जा सके। इन केन्द्रों से टेली मेडिसिन सेवाओं को चालू किया जा सकता है। स्वास्थ्य कर्मियों की अतिरिक्त तैनाती के साथ मौजूदा उप स्वास्थ्य केंद्रों को मौजूदा भवनों में भी संचालित किया जा सकता है।

अपने गृह राज्य आने वाले प्रवासी श्रमिकों की संख्या में वृद्धि से निपटने के लिए आशा और एएनएम को अतिरिक्त प्रोत्साहन दिया जा सकता है। राज्यों को सलाह दी गई कि वे आगे बढ़कर काम करने वाली टीमों के संबंध में पीपीई दिशानिर्देशों का कार्यान्वयन सुनिश्चित करें। राज्य अपनी ताकत बढ़ाने के लिए एनओजी, एसएचजी, निजी अस्पतालों, स्वयंसेवी समूहों आदि को अपने साथ लें। राज्यों को सलाह दी गई कि वे गर्भवती महिलाओं जैसे 5 साल से कम उम्र के बच्चों, बुजुर्गों, सह-रुग्णताओं वाले कमजोर समूहों पर विशेष ध्यान दें और जिलों में आंगनवाड़ी कार्यबल को भी जुटाएं। यह जोर देकर कहा गया था कि पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों के बीच पोषण की जाँच की जानी चाहिए और उन्हें पोषण पुनर्वास केंद्रों (एनआरसी) में सिफारिश करनी चाहिए।

आज वीसी में आयोजित विस्तृत चर्चा और विचार-विमर्श के अनुसार राज्यों से अनुवर्ती कार्रवाई करने का अनुरोध किया गया।

COVID-19 संबंधित तकनीकी मुद्दों पर सभी प्रामाणिक और अद्यतन जानकारी के लिए, दिशा-निर्देश और सलाह नियमित रूप से देखें: https://www.mohfw.gov.in/ और @MoHFW_INDIA

COVID-19 से संबंधित तकनीकी प्रश्नों को totechnicalquery.covid19@gov.in और अन्य प्रश्नों को ncov2019@gov.in और @CovidIndiaSeva पर भेजा जा सकता है।

COVID-19 पर किसी भी प्रश्न के मामले में, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की हेल्पलाइन नं। : + 91-11-23978046 या 1075 (टोल-फ्री)। COVID-19 पर राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों के हेल्पलाइन नंबरों की सूची https://www.mohfw.gov.in/pdf/coronvavirushelplinenumber.pdf पर भी उपलब्ध है।

*****

एसजी/एएम/केपी/डीके



(Release ID: 1626909) Visitor Counter : 138