विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय
azadi ka amrit mahotsav g20-india-2023

अंत: विषयी साइबर भौतिक प्रणालियों (इंटरडिसिप्लिनरी साइबर फिजिकल सिस्टम्स -एनएम–आईसीपीएस) पर राष्ट्रीय मिशन एनएम– आईसीपीएस मिशन पूरे देश में फैले प्रौद्योगिकी नवाचार केन्द्रों (टीआईएचएस) के माध्यम से प्रौद्योगिकी के अनुप्रयोग और उसके व्यावसायीकरण में तेजी ला सकता है: विशेषज्ञ

Posted On: 08 APR 2023 12:12AM by PIB Delhi

विशेषज्ञों ने साइबर भौतिक प्रणालियों (साइबर- फिजिकल सिस्टम्स) में प्रौद्योगिकी नवाचार (टीआईपीएस) पर आयोजित एक कार्यशाला में विघटनकारी तकनीकों, प्रभावी अनुप्रयोगों और प्रौद्योगिकियों के व्यावसायीकरण की सहायता से अंत: विषयी साइबर भौतिक प्रणालियों (इंटरडिसिप्लिनरी साइबर फिजिकल सिस्टम्स-एनएम–आईसीपीएस) पर राष्ट्रीय मिशन को सुदृढ़  करने के तरीकों पर विचार-विमर्श किया है जिससे कि यह राष्ट्रीय स्तर पर देश के आर्थिक विकास का एक प्रमुख चालक बन सके।

नीति आयोग में सदस्य (विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी) डॉ. वी. के, सारस्वत ने दूसरी टिप्स कार्यशाला में कहा कि "साइबर भौतिक प्रणालियाँ (साइबर फिजिकल सिस्टम्स – सीपीएस) भविष्य में स्वास्थ्य और चिकित्सा, बुद्धिमान परिवहन के साथ ही स्मार्ट निर्माण जैसे क्षेत्रों में एक प्रमुख भूमिका निभाएंगी। इस तरह की भूमिका के लिए कृत्रिम बुद्धिमत्ता (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एआई), आईओटी और रोबोटिक्स जैसी नई तकनीकों की शुरुआत के माध्यम से सीपीएस के प्रक्षेपवक्र (ट्रेजेक्टरी) में ऐसे परिवर्तनों की आवश्यकता है जो सीपीएस के भविष्य के संचालक होंगे।  

उन्होंने 2018 में शुरू किए गए अंतर -विषयी साइबर भौतिक प्रणालियां (इंटर-डिसिप्लिनरी साइबर फिजिकल सिस्टम्स - एनएम – आईसीपीएस) मिशन द्वारा बनाई गई खिड़की (विंडो) की पहचान करने और विश्व स्तर पर बढ़ते साइबर भौतिकी प्रणाली (सीपीएस) बाजार में प्रतिभागी बनने के लिए भारत को तैयार करने के लिए किए गए मूल्यवर्धन की मात्रा का निर्धारण करने पर भी जोर दिया।

MD4A4510

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने अंत: विषयी साइबर भौतिक प्रणालियों पर राष्ट्रीय मिशन (इंटरडिसिप्लिनरी साइबर फिजिकल सिस्टम्स - एनएम – आईसीपीएस) को दिसंबर, 2018 में विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) द्वारा लागू किए जाने वाले पांच वर्षों की अवधि के लिए कुल 3660 करोड़ रुपये के परिव्यय पर अपनी स्वीकृति प्रदान की थी। मिशन कार्यान्वयन के एक  हिस्से के रूप में, देश भर के प्रतिष्ठित संस्थानों में उन्नत तकनीकों में 25 प्रौद्योगिकी नवाचार केंद्र (टेक्नोलॉजी इनोवेशन हब्स – टीआईएचएस) स्थापित किए गए हैं। ये प्रौद्योगिकी नवाचार केंद्र प्रौद्योगिकी विकास और उनके अनुप्रयोगों, मानव संसाधन तथा कौशल विकास, उद्यमिता और स्टार्ट-अप विकास एवं अंतर्राष्ट्रीय सहयोगी अनुसंधान पर ध्यान केंद्रित करते हैं। मिशन के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए और प्रौद्योगिकी नवाचार केंद्र (टेक्नोलॉजी इनोवेशन हब्स – टीआईएचएस) द्वारा अनिवार्य गतिविधियों को पूरा करने के लिए, मिशन कार्यालय एवं इसकी विशेषज्ञ समिति के सदस्यों और टीआईएच के बीच सीधे संपर्क के लिए कार्यशालाओं की एक श्रृंखला आयोजित की जा रही है।

एक्सिलर वेंचर्स के अध्यक्ष बेंगलुरु और एनएम – आईसीपीएस के शासी निकाय अध्यक्ष डॉ. क्रिस गोपालकृष्णन, ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) दिल्ली में 6- 8 अप्रैल, 2023 के दौरान साइबर भौतिक प्रणालियों (टीआईपीएस) में प्रौद्योगिकी नवाचार पर आयोजित दूसरी राष्ट्रीय कार्यशाला में अनुसंधान और प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग में वृद्धि तथा उद्योग एवं अन्य स्रोतों से बढ़ी हुई धनराशि का उपयोग करने के लिए प्रणाली में क्षमता विकसित करने की आवश्यकता पर बल दियाI

उन्होंने विभिन्न प्रकार के ऐसे सहयोग की आवश्यकता पर प्रकाश डाला, जिसके माध्यम से टेक्नोलॉजी इनोवेशन हब (टीआईच) विभिन्न प्रौद्योगिकियों को उच्च टीआरएल स्तरों तक ले जाने में मदद कर सकते हैं।

आईआईटी मद्रास से प्रो. अशोक झुनझुनवाला ने उन कदमों के बारे में विस्तार से बताया जो हब नवाचार और उद्यमिता को बढ़ावा देने और नवप्रवर्तकों को सफल बनाने के लिए उठाए जा  सकते हैं, जबकि आईआईटी दिल्ली के पूर्व निदेशक प्रो. वी. रामगोपाल राव ने इस बात पर ध्यान केंद्रित किया कि कैसे नवाचार केंद्र उत्पाद के साथ अकादमिक अनुसंधान और विकास के बीच अंतर को पाट सकते हैं।

विज्ञान और इंजीनियरिंग अनुसन्धान बोर्ड (एसईआरबी) के सचिव एवं विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के वरिष्ठ सलाहकार डॉ. अखिलेश गुप्ता ने बताया कि प्रौद्योगिकी के अनुवाद और व्यावसायीकरण के लिए उद्योग के साथ समन्वयन में शासी निकाय और वैज्ञानिक सलाहकार समिति के साथ हब कैसे काम करेंगे, जबकि आईआईटी दिल्ली के निदेशक प्रोफेसर रंगन बैनर्जी ने दिल्ली में केंद्र (हब) की कुछ उपलब्धियों को रेखांकित किया।

प्रत्येक हब एक धारा- 8 कंपनी है, जो अपने गृह संस्थान के भीतर एक स्वतंत्र संस्था है, और इसे कृत्रिम बुद्धिमत्ता और मशीन लर्निंग; इंटरनेट ऑफ थिंग्स और इंटरनेट ऑफ एवरीथिंग के लिए प्रौद्योगिकियां; डेटा बैंक और डेटा सेवाएँ, डेटा विश्लेषण; रोबोटिक्स और स्वायत्त प्रणाली; भौतिक अवसंरचना के लिए साइबर सुरक्षा और साइबर सुरक्षा; क्वांटम प्रौद्योगिकियां, आदि जैसी उन्नत तकनीकों के क्षेत्रों में एक तकनीकी कार्यक्षेत्र सौंपा गया है। एनएम – आईसीपीएस मिशन का उद्देश्य अनुसंधान और विकास, अनुवाद अनुसंधान, उत्पाद विकास, स्टार्ट-अप्स का ऊष्मायन (इनक्यूबेटिंग) और समर्थन तथा व्यावसायीकरण करने के लिए प्रौद्योगिकी प्लेटफॉर्म विकसित करना है।

अंत: विषयी साइबर भौतिक प्रणालियों पर राष्ट्रीय मिशन (इंटरडिसिप्लिनरी साइबर फिजिकल सिस्टम्स - एनएम – आईसीपीएस) एक व्यापक मिशन है जो शिक्षा, उद्योग, सरकार और अंतरराष्ट्रीय संगठनों में  उद्यमशीलता को बढ़ावा देता है और इसने एक ऐसा इकोसिस्‍टम निर्मित किया है जो अगली पीढ़ी के कुशल जनशक्ति का विकास करने का साथ ही ट्रांसलेशनल रिसर्च को उत्प्रेरित करता है, और सीपीएस प्रौद्योगिकियों के व्यावसायीकरण को बढ़ावा देता है।

प्रौद्योगिकी विकास, उद्यमिता विकास, मानव संसाधन विकास और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के तहत सभी प्रौद्योगिकी नवाचार केन्द्रों (टीआईएचएस) की उपक्रम गतिविधियों के साथ इस मिशन को लागू किया जा रहा है। इसका उद्देश्य प्रौद्योगिकी विकास, साइबर फिजिकल सिस्टम्स (सीपीएस) और संबंधित प्रौद्योगिकियों में अनुप्रयोगी अनुसंधान (ट्रांसलेशनल रिसर्च) और व्यावसायीकरण, भारत के विशिष्ट राष्ट्रीय और क्षेत्रीय मुद्दों का हल निकालने के लिए सीपीएस प्रौद्योगिकियों को अपनाना, अगली पीढ़ी की कुशल जनशक्ति का निर्माण, अनुप्रयोगी (ट्रांसलेशनल) रिसर्च को उत्प्रेरित करना, उद्यमिता में तेजी लाना और उसकी शुरुआत करने के साथ ही साइबर भौतिक प्रणाली प्रौद्योगिकियों में इकोसिस्‍टम का विकास, सीपीएस प्रौद्योगिकियों में उन्नत अनुसंधान और विज्ञान, प्रौद्योगिकी और इंजीनियरिंग विषयों में उच्च शिक्षा को प्रोत्साहन देना और भारत को अन्य उन्नत देशों के समकक्ष  लाना  है। ऐसा करके  भारतीय अर्थव्यवस्था के प्रमुख क्षेत्रों जैसे स्वास्थ्य सेवा, परिवहन, शिक्षा, बुनियादी ढाँचे आदि को बदला जा सकता है और भारत को अन्य उन्नत देशों के बराबर रखने के लिए उन्हें अधिक कुशल, सुरक्षित और टिकाऊ बनाया जा सकता है।

*****

एमजी/एमएस/एसटी/एसएस  



(Release ID: 1914798) Visitor Counter : 277


Read this release in: English , Urdu , Marathi , Tamil