युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय

केंद्रीय मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर 6 जनवरी 2023 को वाई-20 शिखर सम्मेलन के पूर्वावलोकन कार्यक्रम में वाई-20 की थीम, लोगो और वेबसाइट लॉन्च करेंगे


वाई-20 के हिस्से के रूप में चलाई जाने वाली गतिविधियां वैश्विक युवा नेतृत्व और साझेदारी पर केंद्रित होंगी

Posted On: 05 JAN 2023 12:26PM by PIB Delhi

मुख्य आकर्षण:

• अगले 8 महीनों के दौरान, मुख्य युवा-20 शिखर सम्मेलन के पूर्व देश के विभिन्न राज्यों के अलग-अलग विश्वविद्यालयों में विभिन्न परिचर्चाएं और संगोष्ठियां के साथ ही युवा-20 से संबंधित पांच विषयों पर कई सम्मेलन आयोजित किए जायेंगे।

• भारत का प्रमुख फोकस विश्व के युवा नेताओं को एक साथ लानेबेहतर भविष्य पर चर्चा करने तथा कार्रवाई के लिए एजेंडा तैयार करने पर है।

केंद्रीय युवा कार्यक्रम और खेल मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर 6 जनवरी 2023 को आकाशवाणी रंग भवन, नई दिल्ली में वाई-20 शिखर सम्मेलन के पूर्वावलोकन कार्यक्रम में वाई-20 की थीम, लोगो और वेबसाइट लॉन्च करेंगे। भारत पहली बार वाई-20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है।

6 जनवरी को आयोजित होने वाला कार्यक्रम दो सत्रों में विभाजित होगा। पहले सत्र में युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर लोगो लॉन्च, वेबसाइट और थीम लॉन्च करेंगे। दूसरे सत्र में पैनल चर्चा (युवा एचीवर्स) होगी। पैनल चर्चा में इस विषय पर विचार किया जाएगा कि भारत महाशक्ति बनने के लिए अपनी युवा आबादी का उपयोग कैसे कर सकता है और पैनल के सदस्यों की व्यक्तिगत सफलता की कहानियों पर चर्चा भी होगी।

युवा-20 इंगेजमेंट समूह में भारत का मुख्य फोकस विश्व के युवा नेताओं को एक साथ लाने, बेहतर भविष्य के लिए विचार-विमर्श करने तथा कार्रवाई एजेंडा तैयार करने पर है।

हमारी अध्यक्षता के दौरान वाई-20 की गतिविधियां वैश्विक युवा नेतृत्व और साझेदारी पर केंद्रित होंगी। अगले 8 महीनों के दौरान, मुख्य युवा-20 शिखर सम्मेलन से पहले वाई-20 से संबंधित पांच विषयों पर सम्मेलन होंगे और साथ ही देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों में विभिन्न परिचर्चाएं तथा संगोष्ठियां आयोजित की जायेंगी।

भारत की जी-20 की अध्यक्षता "अमृतकाल" के प्रारंभ का भी प्रतीक है। अमृतकाल 15 अगस्त 2022 को भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ से प्रारंभ होकर 25 साल की अवधि यानी स्वतंत्रता की शताब्दी तक मनाया जाएगा। यह एक भविष्यवादी, समृद्ध, समावेशी और विकसित समाज की ओर बढ़ने के लिए है जिसके मूल में मानव-केंद्रित दृष्टिकोण है। भारत वसुधैव कुटुम्बकम के विचार को मूर्त रूप देते हुए समग्र कल्याण सुनिश्चित करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर व्यावहारिक समाधान खोजने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

***

एमजी/एएम/एजी/सीएस/एसके



(Release ID: 1888845) Visitor Counter : 700