वाणिज्‍य एवं उद्योग मंत्रालय

भारत का कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि की तुलना में चालू वित्त वर्ष (2022-23) की दूसरी तिमाही में 25 प्रतिशत बढ़कर 13771 मिलियन डॉलर तक पहुंचा


फलों और सब्जियों, अनाजों, पशुधन तथा प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों के निर्यात में चालू वित्त वर्ष के दौरान तेजी देखी गई

प्रसंस्कृत फलों और सब्जियों के निर्यात में पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि की तुलना में चालू वित्त वर्ष के छह महीनों में 42 प्रतिशत की बढोतरी हुई

Posted On: 02 NOV 2022 2:45PM by PIB Delhi

कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों के निर्यात में पिछले वित्त वर्ष (2021-22) की समान अवधि की तुलना में चालू वित्त वर्ष (2022-23) के छह महीनों (अप्रैल - सितंबर) के दौरान 25 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। वाणिज्यिक आसूचना तथा सांख्यिकी महानिदेशालय (डीजीसीआईएंडएस) द्वारा जारी अनंतिम आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल - सितंबर 2022 के दौरान कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों के समग्र निर्यात ने 25 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज कराई है। 

कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीडा) का समग्र उत्पाद निर्यात अप्रैल - सितंबर 2022 के दौरान पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि के 11056 मिलियन डॉलर की तुलना में बढ़कर 13771 मिलियन डॉलर तक पहुंच गया। 

एपीडा के माध्यम से वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा की गई पहलों ने देश को चालू वित्त वर्ष के छह महीनों के भीतर ही वित्त वर्ष 2022-23 के लिए निर्धारित कुल निर्यात लक्ष्य का 58 प्रतिशत अर्जित करने में सहायता की है।

वित्त वर्ष 2022-23 के लिए एपीडा द्वारा कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद बास्केट 23.56 बिलियन डॉलर का निर्यात लक्ष्य निर्धारित किया गया है तथा चालू वित्त वर्ष के पहले छह महीनों के दौरान पहले ही 13.77 बिलियन डॉलर का निर्यात अर्जित कर लिया गया है।

डीजीसीआईएंडएस के अनंतिम आंकड़ों के अनुसार, प्रसंस्कृत फलों और सब्जियों के निर्यात ने 42.42 प्रतिशत (अप्रैल - सितंबर 2022 के दौरान) की उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज कराई जबकि ताजे फलों ने पिछले वर्ष की समान अवधि के मुकाबले 4 प्रतिशत की बढोतरी दर्ज कराई।

इसके अतिरिक्त, अनाज तथा विविध प्रसंस्कृत मदों जैसे प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों ने पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में 29.36 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज कराई।

अप्रैल - सितंबर 2021 के दौरान, 301 मिलियन डॉलर के बराबर के ताजे फलों का निर्यात किया गया था जो चालू वित्त वर्ष की समान अवधि के दौरान बढ़कर 313 मिलियन डॉलर तक पहुंच गया। प्रसंस्कृत फलों और सब्जियों का निर्यात चालू वित्त वर्ष के छह महीनों के दौरान तेजी से बढ़कर 1024 मिलियन डॉलर तक पहुंच गया जबकि पिछले वर्ष की समान अवधि के दौरान यह 719 मिलियन डॉलर रहा था।

दलहन के निर्यात में पिछले वित्त वर्ष के इन्हीं महीनों की तुलना में चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के दौरान 144 प्रतिशत की बढोतरी देखी गई जबकि मसूर दाल का निर्यात अप्रैल - सितंबर 2021-22 के 135 मिलियन डॉलर की तुलना में अप्रैल - सितंबर 2022-23 के दौरान 330 मिलियन डॉलर तक पहुंच गया।

वित्त वर्ष 2022-23 के छह महीनों के दौरान बासमती चावल के निर्यात में 37.36 प्रतिशत की बढोतरी दर्ज की गई जो अप्रैल - सितंबर 2021-22 के 1660 मिलियन डॉलर की तुलना में  अप्रैल - सितंबर 2022-23 के दौरान 2280 मिलियन डॉलर तक पहुंच गया। गैर बासमती चावल के निर्यात में चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के दौरान 8 प्रतिशत की बढोतरी रही। इसका निर्यात चालू वित्त वर्ष के छह महीनों में 3207 मिलियन डॉलर रहा जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि के दौरान यह 2969 मिलियन डॉलर रहा था।

मांस, डेयरी तथा पोल्ट्री उत्पादों का निर्यात 10.29 प्रतिशत रहा और अन्य अनाजों के निर्यात में चालू वित्त वर्ष के छह महीनों के दौरान 12.29 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। केवल पोल्ट्री उत्पादों ने ही 83 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज कराई जिसका निर्यात चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही के भीतर 57 मिलियन डॉलर तक पहुंच गया जबकि पिछले वित्त के छह महीनों के दौरान यह महज 31 मिलियन डॉलर रहा था।

इसी प्रकार, डेयरी उत्पादों ने 58 प्रतिशत की बढोतरी दर्ज कराई जिसका निर्यात चालू वित्त की दूसरी छमाही में 342 मिलियन डॉलर रहा जबकि पिछले वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में यह 216 मिलियन डॉलर रहा था।

गेहूं के निर्यात ने चालू वित्त की दूसरी छमाही में 136 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज कराई। गेहूं का निर्यात अप्रैल- सितंबर 2022-23 में बढ़कर 1487 मिलियन डॉलर  हो गया जबकि पिछले वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में यह 630 मिलियन डॉलर रहा था।

अन्य अनाजों का निर्यात अप्रैल- सितंबर 2021-22 के दौरान 467 मिलियन डॉलर का रहा था जबकि अप्रैल- सितंबर 2022-23 के दौरान यह बढ़कर 525 मिलियन डॉलर तक जा पहुंचा। पशुधन उत्‍पादों का निर्यात अप्रैल- सितंबर 2021-22 के दौरान 1903 मिलियन डॉलर का रहा था जबकि अप्रैल- सितंबर 2022-23 के दौरान यह बढ़कर 2099 मिलियन डॉलर तक जा पहुंचा।

इस उपलब्धि पर टिप्पणी करते हुए, एपीडा के अध्यक्ष श्री एम अंगमुथु ने कहा, ‘‘हम यह सुनिश्चित करने के लिए कि देश से गुणवत्तापूर्ण कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों का निर्यात हो, किसानों, निर्यातकों, तथा प्रसंस्कर्ताओं सहित सभी हितधारकों के साथ मिल कर काम कर रहे हैं।''

डीजीसीआईएंडएस डाटा के अनुसार, देश का कृषि उत्पाद निर्यात 2022 के नवीनतम वित्त वर्ष में 19.92 प्रतिशत बढ़कर 50.21 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया। यह वृद्धि दर उल्लेखनीय है क्योंकि यह पिछले वित्त वर्ष 2020-21 में अर्जित 41.87 बिलियन डॉलर की 17.66 प्रतिशत की वृद्धि से अधिक है और उच्च माल ढुलाई दरों, कंटेनरों की कमी आदि के रूप में अभूतपूर्व लॉजिस्टिक संबंधी चुनौतियों के बावजूद अर्जित की गई है।

एपीडा ने वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान 25.6 बिलियन डॉलर के बराबर के कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों का निर्यात कर एक नया इतिहास रचा था जोकि भारत के कुल 50 बिलियन डॉलर से अधिक के कृषि वस्तुओं के निर्यात का लगभग 51 प्रतिशत था।

श्री एम अंगमुथु ने कहा, ‘‘कृषि निर्यात मूल्य श्रृंखलाओं में प्रमुख हितधारकों के सहयोग के साथ साथ निर्यात के लिए आवश्यक परितंत्र का सृजन करने के माध्यम से, हम चालू वित्त वर्ष के दौरान भी भारत के कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों के निर्यात में वृद्धि की गति को बनाये रखने का लक्ष्य निर्धारित कर रहे हैं।''

कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों के निर्यात में वृद्धि कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न देशों में बी2बी प्रदर्शनियों का आयोजन, भारतीय दूतावासों की सक्रिय सहभागिता के द्वारा उत्पाद विशिष्ट एवं सामान्य विपणन अभियानों के माध्यम से नए संभावित बाजारों की खोज करने जैसी केंद्र सरकार की पहलों का परिणाम है।

सरकार ने संयुक्त अरब अमीरात के साथ कृषि एवं खाद्य उत्पादों तथा अमेरिका के साथ हस्तशिल्प सहित जीआई उत्पादों पर वर्चुअल क्रेता- विक्रेता बैठकों का आयोजन कर भारत में पंजीकृत भौगोलिक संकेतों (जीआई) वाले उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए भी कई अभिनव कदम उठाये हैं।

भारतीय शराब के निर्यात को बढ़ावा देने के लिए, एपीडा ने 7-9 जून, 2022 के बीच लंदन वाइन मेले में 10 वाइन निर्यातकों की सहभागिता को भी सुगम बनाया।

केंद्र सरकार ने एपीडा के माध्यम से अभी हाल ही में असम के गुवाहाटी में पूर्वात्तर राज्यों से प्राकृतिक, जैविक तथा जीआई- कृषि उत्पादों की निर्यात क्षमता को बढ़ावा देने पर एक सम्मेलन का आयोजन किया। इस सम्मेलन का उद्वेश्य अंतरराष्ट्रीय बाजार लिंकेज का सृजन कर असम तथा पड़ोसी राज्यों में उगाये जाने वाले प्राकृतिक, जैविक तथा जीआई- कृषि उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देना था।

केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के सहयोग से, एपीडा ने एक अंतरराष्ट्रीय क्रेता- विक्रेता बैठक का आयोजन किया जिसका उद्देश्‍य लद्दाख से खुबानी तथा अन्य कृषि उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देना था। केंद्रशासित प्रदेश लद्दाख, जम्मू एवं कश्मीर के 18 उद्यमियों ने खुबानी तथा अन्य कृषि उत्पादों की एक श्रृंखला प्रदर्शित की। भारत, अमेरिका, बांग्लादेश, ओमान तथा दुबई के 20 खरीदारों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया।

एपीडा ने 13 जून को बहरीन में आठ दिनों तक चलने वाले आम महोत्सव का शुभारंभ किया। इस प्रदर्शनी में, पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड तथा ओडिशा सहित पूर्वी राज्यों के आमों की 34 किस्मों को बहरीन के अल जजीरा ग्रुप सुपरमार्केट में प्रदर्शित किया गया।

बहरीन का मैंगो शो ‘आम महोत्सव 2022' के तहत भारतीय आमों के लिए अंतरराष्ट्रीय बाजारों की खोज करने के लिए एपीडा की नई पहलों का एक हिस्सा है। यह भारतीय आमों के लिए एक वैश्विक मंच उपलब्ध कराने की एपीडा की प्रतिबद्धता का परिणाम है। उल्लेखनीय है कि पहली बार पूर्वी राज्यों से आमों की 34 किस्मों को बहरीन में प्रदर्शित किया गया है। इससे पहले अल्फांसों, केसर, बंगनपल्ली आदि जैसे दक्षिणी राज्यों के आमों की किस्मों को अधिकांश वैश्विक शो में प्रदर्शित किया जाता रहा है।

निर्यात किए जाने वाले उत्पादों का निर्बाधित गुणवत्ता प्रमाणन सुनिश्चित करने के लिए, एपीडा ने देश भर में 220 प्रयोगशालाओं को मान्यता दी है जिससे कि उत्पादों एवं निर्यातकों की एक व्यापक श्रृंखला को परीक्षण की सेवाएं उपलब्ध कराई जा सके।

 

भारत का निर्यात तुलनात्मक विवरण : एपीडा उत्पाद

 

उत्पाद शीर्ष

अप्रैल- सितंबर, 2021

अप्रैल- सितंबर, 2022

  प्रतिशत बदलाव ( अप्रैल-सितंबर, 2022 ) 

              मिलियन डॉलर

फल

 

301

313

4.04

अनाज तैयारियां एवं विविध प्रसंस्कृत मदें

 

1632

2111

29.36

मांस, डेयरी एवं पोल्ट्री उत्पाद

 

1903

2099

10.29

बासमती चावल

 

1660

2280

37.36

गैर बासमती चावल

 

2969

3207

8.03

अन्य उत्पाद

 

2591

3761

45.16

कुल

 

11056

13771

24.55

स्रोत : डीजीसीआईएस प्रमुख कमोडिटी डाटा अप्रैल- सितंबर, 2022 ( अनंतिम डाटा )

**********

एमजी/एएम/एसकेज/वाईबी  



(Release ID: 1873196) Visitor Counter : 572