सूचना और प्रसारण मंत्रालय

52 वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में, हमारे पर्यावरण को संरक्षित करने की आवश्यकता पर एक धीमी गति के व्यंग्य पर आधारित फिल्म 'बबलू बेबीलोन से', दिखाई गई

Posted On: 23 NOV 2021 3:25PM by PIB Delhi

कुछ लोग आये है  पेड काटने मेरे गांव में

अभी धूप है तो बैठे है उसके छांव में

(कुछ लोग मेरे गांव में पेड़ काटने आए हैं, चूंकि वहां गर्मी है, वे उसी पेड़ की छाया के नीचे प्रतीक्षा कर रहे हैं)

बबलू बेबीलोन से फिल्म यही संदेश देना चाहती है। फिल्म को भारतीय पैनोरमा गैर-फीचर श्रेणी में दिखाया गया है और इसके निर्देशक अभिजीत सारथी ने आज पणजी, गोवा में 52वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में मीडिया से बातचीत की।

फिल्म बनाने की अपनी प्रेरणा के बारे में बताते हुए, अभिजीत ने कहा, "फिल्म के माध्यम से मैं यह कहने की कोशिश कर रहा हूं कि जब हम किसी का पक्ष नहीं लेते हैं और तटस्थ रहते हैं, तब भी इसके दुष्परिणाम होते हैं।"

लोग संदेश लेने के लिए तैयार हैं लेकिन उन्हें उस दिशा में निर्देशित किया जाना है। उन्होंने कहा, "मैं चाहता हूं कि दर्शक थोड़ी देर रुकें और सोचें कि वे कहां जा रहे हैं।"

फिल्मांकन के बाद फिल्म ने अपना अंतिम आकार कैसे लिया, इस बारे में जानकारी साझा करते हुए, अभिजीत ने कहा कि उन्होंने 22 पृष्ठों में पटकथा लिखी थी, लेकिन शूटिंग के बाद उन्हें एहसास हुआ कि वह फिल्म को धीमी गति से दिखाना चाहते हैं। "फिल्म में ऐसे कई शॉट हैं जिन्हें कहानी को प्रभावित किए बिना हटाया जा सकता था, हालांकि मैं चाहता था कि ये विराम, सांस लेने की जगह फिल्म में बनी रहे, ताकि फिल्म अपने मूड में आगे बढ़ सके। मैं चाहता हूं कि फिल्म कुछ समय के लिए जनता के दिमाग में रहे और लोगों को इसके अच्छे अनुभव से रूबरू कराया जाए।”

नायक के बारे में बताते हुए निर्देशक ने कहा, "फिल्म एक सहयोगी प्रयास थी, मनोज पाहवा जी ने इस फिल्म में अभिनय के लिए मुझसे कोई शुल्क नहीं लिया। इंडस्ट्री में इतने साल काम करने के बाद भी उनमें रिहर्सल के लिए उनका जुनून काबिले तारीफ है। वह शूटिंग से पहले बहुत विस्तृत नोट्स के साथ तैयार होकर आते थे। यह हमारे लिए सीखने का अनुभव था।"

फिल्म के बारे में:

फिल्म एक समानांतर दुनिया को चित्रित करती है। बबलू एक अकेला बूढ़ा आदमी है जो 'बेबीलोन' के लिए काम करता है। बेबीलोन एक ऐसी कंपनी है जिसके पास सभी पेड़-पौधे हैं। जब बबलू को उसके नियोक्ता द्वारा उसके अंतिम कार्य पर भेजा जाता है, तो वह गलती से एक विद्रोही समूह से मिलता है जो 'बाबुल' के खिलाफ एक गुप्त अभियान की योजना बना रहा है।

 निर्देशक के बारे में

सत्यजीत रे फिल्म और टेलीविजन संस्थान, कोलकाता के पूर्व छात्र अभिजीत सारथी निर्देशन और पटकथा लेखन में पारंगत हैं। उन्होंने कुछ लघु फिल्में बनाई हैं और पंकज त्रिपाठी अभिनीत एक लघु फिल्म का सह-लेखन भी किया है। वह ऑन द रॉक्स के लेखक और निर्देशक भी हैं, जो सिंगल स्क्रीन सिनेमा हॉल पर एक लघु वृत्तचित्र है।

* * *

एमजी/एएम/एमकेएस/डीए



(Release ID: 1774293) Visitor Counter : 101