जल शक्ति मंत्रालय

आजादी का अमृत महोत्सव के तहत देश भर में 15 सितंबर से 2 अक्टूबर, 2021 तक स्वच्छता ही सेवा समारोह का आयोजन किया गया


एसएचएस 2021 के तहत 1.5 लाख श्रमदान गतिविधियों के जरिये 60 लाख से अधिक लोगों ने स्वच्छता श्रमदान में योगदान किया, 43,000 ग्राम सभाओं ने एकल उपयोग वाले प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव पारित किया और देश भर में 783 स्वच्छता रथों को झंडी दिखाकर रवाना किया गया

एसएचएस 2021 के दौरान 15,951 व्यक्तिगत और 7,216 सामुदायिक सोख्ता गड्ढों का निर्माण किया गया

Posted On: 02 OCT 2021 7:43PM by PIB Delhi

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी के प्रेरक नेतृत्व में भारत सरकार देश की आजादी के 75 साल पूरे होने पर और अपने लोगों के गौरवशाली इतिहास, संस्कृति एवं उपलब्धियों का जश्‍न मनाने के लिए लोगों को एकजुट करने की पहल आजादी का अमृत महोत्सव (एकेएएम) मना रही है। प्रमुख अभियान एकेएएम के तहत जल शक्ति मंत्रालय के अंतर्गत पेयजल एवं स्वच्छता विभाग (डीडीडब्‍ल्‍यूएस) ने स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण (एसबीएमजी) चरण 2 के तहत ओडीएफ प्लस गतिविधियों में तेजी लाने और ग्रामीण इलाकों में खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) उपलब्धियों को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण गतिविधियों का आयोजन किया।

  • सत्याग्रह से स्वच्छाग्रह रथ यात्रा: 15 सितंबर से 2 अक्टूबर 2021
  • स्वच्छता ही सेवा: 15 सितंबर से 2 अक्टूबर 2021
  • स्वच्छता संवाद: 15 अगस्त 2021 से 15 अगस्त 2022
  • स्थायित्‍व एवं सुजलाम अभियान (100 दिवसीय अभियान): 25 अगस्त 2021 से जारी

एसएचएस 2021 पखवाड़े के दौरान विभिन्‍न समुदायों को एकजुट करने के लिए कई गतिविधियों का आयोजन किया गया। इनमें स्वच्छता रथों को झंडी दिखाकर रवाना करना, स्वच्छता श्रमदान, स्वच्छता जागृति यात्रा (रैली), स्वच्छता चैंपियन की पहचान एवं पुरस्‍कार, एकल उपयोग वाले प्लास्टिक (एसयूपी) पर प्रतिबंध लगाने के लिए ग्राम सभाओं में प्रस्‍ताव, ग्राम पंचायतों के निर्वाचित प्रतिनिधियों (ग्राम प्रधानों/ सरपंचों) आदि के साथ स्वच्छता संवाद आदि शामिल हैं। एचएसएस अभियान का समापन आज यानी 2 अक्टूबर, 2021 को देश भर के राज्यों और जिलों द्वारा स्वच्छ भारत दिवस के उत्सव के साथ हुआ।

 

एसएचएस 2021 पखवाड़े के दौरान स्वच्छता श्रमदान में 60 लाख से अधिक लोगों ने भाग लिया और अपना योगदान दिया। इस दौरान 1.5 लाख से अधिक श्रमदान गतिविधियों का आयोजन किया गया। एसयूपी पर प्रतिबंध लगाने के प्रस्ताव पारित करने के लिए 43,000 से अधिक ग्राम सभाओं का आयोजन किया गया और लगभग 783 स्वच्छता रथों को देश भर के जिलों एवं राज्यों में झंडी दिखाकर रवाना किया गया। पखवाड़े के दौरान तरल अपशिष्ट प्रबंधन बुनियादी ढांचा गतिविधियों के भी महत्वपूर्ण परिणाम देखने को मिले। इस अवधि के दौरान लगभग 15,951 व्यक्तिगत और 7,216 सामुदायिक सोख्ता गड्ढों का निर्माण किया गया।

 

एसएचएस 2021 अभियान की शुरुआत 15 सितंबर को राज्य और जिला स्तर पर प्रभारी राज्य मंत्री (ग्रामीण स्वच्छता), राज्य एसबीएमजी मिशन के निदेशकों, विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों और जिला कलेक्टरों/ जिला परिषद के सीईओ और जिला स्‍तर के अन्‍य अधिकारियों व निर्वाचित प्रतिनिधियों एवं ग्रामीण समुदाय के सदस्‍यों द्वारा की गई थी। केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय के माननीय राज्य मंत्री श्री प्रह्लाद सिंह पटेल ने ओडीएफ प्लस अथवा आईईसी रथों के जरिये व्यापक स्वच्छता पर जन जागरूकता पैदा करने के लिए 17 सितंबर, 2021 को मध्‍य प्रदेश के दमोह जिले के जरारुधाम जीपी में स्वच्छता रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना करते हुए एसएचएस अभियान में भाग लिया। उन्‍होंने सभा को भी संबोधित किया और मध्‍य प्रदेश के राज्य मंत्री (राजस्व एवं परिवहन) के साथ स्वच्छता संगोष्ठी में भाग लिया। माननीय केंद्रीय राज्य मंत्री ने भी समुदाय के सदस्यों को प्रेरित किया और प्रभावी एसएलडब्ल्यूएम यानी ग्रे वाटर मैनेजमेंट (जीडब्ल्यूएम), बायोडिग्रेडेबल वेस्ट मैनेजमेंट (बीडब्ल्यूएम), प्लास्टिक वेस्ट मैनेजमेंट (पीडब्लूएम), फेसियल वेस्ट मैनेजमेंट (एफएसएम) और गोवर्धन के लिए प्रमुख ओडीएफ प्लस घटकों पर उपयुक्त व्यवहार एवं गतिविधियों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया।

 

15 सितंबर और 17 सितंबर, 2021: असम में एसएचएस 2021 अभियान का नेतृत्व असम सरकार में माननीय पीएचई मंत्री श्री रंजीत कुमार दास ने किया। उन्‍होंने ओडीएफ स्थिरता और ओडीएफ प्लस के प्रमुख घटकों पर जन जागरूकता पैदा करने के लिए 15 सितंबर, 2021 को सत्याग्रह से स्वच्छता रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। गुजरात के माननीय मुख्यमंत्री श्री भूपेन्‍द्र पटेल ने राज्य भर में दीवार पेंटिंग, संवाद, स्लोगन लेखन जैसी जागरूकता गतिविधियों के साथ-साथ तरल अपशिष्ट प्रबंधन के लिए व्यक्तिगत/ सामुदायिक सोख्ता गड्ढों और शौचालयों के पुनर्निर्माण को प्रोत्‍साहित करने के लिए 100 दिनों के अभियान की शुरुआत की। गोवा के माननीय मुख्यमंत्री श्री प्रमोद सावंत ने 17 सितंबर, 2021 को राज्य विधानसभा अध्यक्ष श्री राजेश पाटनेकर के साथ स्वच्छता रथों को हरी झंडी दिखाकर रवाना करते हुए एसएचएस अभियान में भाग लिया।  हिमाचल प्रदेश में शहरी विकास मंत्री श्री सुरेश भारद्वाज ने स्वच्छता रथों को झंडी दिखाकर रवाना करते हुए एसएचएस अभियान का शुभारंभ किया। ओडीएफ प्‍लस के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए इन रथों को ग्राम पंचायतों तक भेजा गया। झारखंड में एसएचएस 2021 का उद्घाटन समारोह 15 सितंबर, 2021 को रांची जिले के गांव नागरी, ग्राम पंचायत नागरी, ब्लॉक नागरी में आयोजित किया गया था। इसमें राज्य मिशन निदेशक, जल सहिया, स्वच्छग्राही, पंचायती राज प्रतिनिधियों, स्वसहायता समूहों (एसएचजी), युवा समूह और एसबीएमजी झारखंड के सलाहकार शामिल हुए। इसी तरह, सभी राज्यों ने गांवों में व्यापक स्वच्छता हासिल करने और जन आंदोलन को मजबूत करने के लिए पखवाड़े के दौरान कई एसएचएस गतिविधियों का आयोजन किया।

विस्तृत अनुलग्नक देखने के लिए यहां क्लिक करें

 

20 सितंबर, 2021: एसएचएस 2021 कैलेंडर के तहत देश भर की ग्राम पंचायतों ने अपने गांवों में एकल उपयोग प्लास्टिक (एसयूपी) पर प्रस्ताव पारित करने और तत्काल प्रभाव से वैकल्पिक बायोडिग्रेडेबल/ जैविक पैकेजिंग सामग्री के उपयोग के लिए में काफी उत्साह दिखाया। इस संबंध में प्रस्ताव पारित करने के लिए इस दिन लगभग 42,514 ग्राम सभाएं आयोजित की गईं।

 

25 सितंबर, 2021: जल शक्ति मंत्रालय के अंतर्गत पेयजल एवं स्वच्छता विभाग ने नई दिल्‍ली के सीजीओ कॉम्प्लेक्स के डीडीडब्ल्यूएस परिसर में सरपंच संवाद का आयोजन किया। इसकी अध्यक्षता माननीय केंद्रीय जल शक्ति राज्य मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने की। इसमें डीडीडब्ल्यूएस में सचिव श्री पंकज कुमार, विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों और मध्य प्रदेश के 3 जिलों (मंडला, बालाघाट और सिवनी) के चयनित सरपंचों ने वर्चुअल तरीके से भाग लिया। अब तक विभिन्‍न राज्‍यों  और जिलों में 700 से अधिक सरपंच संवाद आयोजित किए जा चुके हैं जिनमें 57,000 से अधिक सरपंचों ने भाग लिया है। इसी तरह के सरपंच संवाद देश भर में आयोजित किए गए और 80,000 से अधिक निर्वाचित पंचायत सदस्यों/ ग्राम प्रधानों/ सरपंचों/ मुखियाओं ने इनमें भाग लिया।

 

एसएचएस 2021 अभियान ने पूरे देश को एक बार फिर से उत्साहित किया और ओडीएफ प्लस लक्ष्य को हासिल करने के लिए ग्रामीण भारत में व्यापक स्वच्छता/ संपूर्ण स्वच्छता के लिए जन आंदोलन को मजबूत किया।

एचएचएस 2021 फिल्‍म: https://www.youtube.com/watch?v=dOn3MQ2mJFU

एसएचएस गतिविधि डेटा देखने के लिए यहां क्लिक करें

 

अनुलग्नक: एसएचएस गतिविधि डेटा

क्रम संख्‍या

प्रमुख संकेतक

कुल प्रगति

1

श्रमदान में भाग लेने वाले लोगों की संख्या

6,068,737

2

श्रमदान गतिविधियों की संख्या

1,508,630

3

स्वच्छता जागृति यात्रा की संख्या

37,507

4

एसयूपी पर प्रतिबंध के लिए जीपी में पारित प्रस्तावों की संख्‍या

43,613

5

संवाद में भाग लेने वाले सरपंचों की संख्या

87,323

6

100 दिवसीय अभियान के तहत निर्मित सामुदायिक सोख्ता गड्ढों की संख्या

7,216

7

100 दिवसीय अभियान के तहत निर्मित घरेलू स्तर के सोख्ता गड्ढों की संख्या

15,951

8

ओडीएफ प्लस पर वॉल पेंटिंग की संख्या

9,401

9

स्वच्छता रथों की संख्या

783


*******

 

एमजी/एएम/एसकेसी



(Release ID: 1760614) Visitor Counter : 499


Read this release in: English , Urdu , Marathi , Tamil