निर्वाचन आयोग

निर्वाचन आयोग ने वर्चुअल माध्यम से मुख्य निर्वाचन अधिकारियों का सम्मेलन आयोजित किया

मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने मतदाता केंद्रित सेवाओं को तेजी से और उचित रूप से उपलब्ध कराने पर जोर दिया

सम्मेलन के दौरान आम चुनाव 2019- एक एटलस जारी की गई

Posted On: 15 JUN 2021 6:56PM by PIB Delhi

भारत निर्वाचन आयोग ने आज वर्चुअल माध्यम से सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों का सम्मेलन आयोजित किया। सम्मेलन मुख्य रूप से सुचारू, कुशल और मतदाता के अनुकूल सेवाओं, मतदाता सूची के अद्यतन/ शुद्धता, आईटी अनुप्रयोगों के एकीकरण, व्यापक मतदाता सुलभ कार्यक्रम, मीडिया और संचार रणनीति, व्यय निगरानी, कानूनी मुद्दों, ईवीएम और वीवीपीएटी भंडारण संबंधित बुनियादी ढांचे और प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण जैसे प्रमुख विषयगत मुद्दों पर केंद्रित था।

 

 

मुख्य निर्वाचन अधिकारियो को संबोधित करते हुए मुख्य निर्वाचन आयुक्त श्री. सुशील चंद्रा ने बैक-एंड सिस्टम में सुधार के लिए इस तरह की आवधिक समीक्षा बैठकों के महत्व पर बल दिया ताकि प्राथमिकता के आधार पर मतदाता केंद्रित सेवाओं को तेजी से और उचित रूप से वितरित किया जा सके। श्री चंद्रा ने कहा कि ऐसी सीईओ बैठकें समीक्षा संस्थागत बनाई जाएंगी और ऐसी बैठकें अधिक बार आयोजित की जाएंगी। श्री चंद्रा ने इस बात पर जोर दिया कि सीईओ को मौजूदा मतदाताओं के लिए पंजीकरण और अन्य सेवाओं जैसे संशोधन, पते में बदलाव आदि और निर्वाचन आयोग के परेशानी मुक्त सुविधा मंच के बारे में जागरूकता के लिए नए मतदाताओं के साथ जुड़ने के लिए निरंतर प्रयास करना चाहिए। उन्होंने एक संशोधित और त्रुटि मुक्त मतदाता सूची के महत्व पर ज़ोर दिया। श्री चंद्रा ने सीईओ को भविष्य के चुनावों के लिए सीखने और अनुकूलन के लिए चुनाव वाले राज्यों द्वारा उठाए गए विभिन्न नवीन कदमों की सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने के लिए कहा।

 

 

निर्वाचन आयुक्त श्री राजीव कुमार ने अपने संबोधन में कहा कि हाल ही में सम्पन्न हुए चुनाव वाले राज्यों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों को अपनी सफल सर्वोत्तम प्रथाओं को बढ़ाने/एकीकृत करने के तरीकों जैसे अनुपस्थित मतदाताओं के लिए मोबाइल ऐप, आपराधिक इतिहास और मतदान/ पुलिस कर्मियों को एकाएक रूप से ड्यूटी के लिए चुनने का सुझाव देना चाहिए। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि ईवीएम के भंडारण और आवाजाही के लिए एसओपी के प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए और सीईओ द्वारा निगरानी की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि सीईओ ईवीएम भंडारण गोदामों का समय-समय पर भौतिक निरीक्षण सुनिश्चित करें। श्री कुमार ने यह भी कहा कि कोर कमेटी द्वारा जांच किए जा रहे चिन्हित कार्यक्षेत्रों में किए जाने वाले नए सुधारों के लिए सीईओ अपने सुझाव और विचार भेजें।

निर्वाचन आयुक्त श्री अनूप चंद्र पांडे ने सीईओ की उनके रचनात्मक सुझावों के लिए सराहना की। उन्होंने कहा कि गैर-चुनाव अवधि का उपयोग मुख्य कार्यकारी अधिकारियों द्वारा जनशक्ति संसाधनों और बुनियादी ढांचे के अंतराल को मजबूत करने और भरने, संचार और जागरूकता गतिविधियों की योजना बनाने और राज्य की विशिष्ट जरूरतों के अनुसार प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण को बढ़ाने के लिए किया जाना चाहिए।

महासचिव श्री उमेश सिन्हा ने सीईओ को याद दिलाया कि गैर-चुनाव अवधि के दौरान, मतदाता सूची को संशोधित करने, मतदाताओं की शिकायतों का निवारण, चुनावी साक्षरता क्लबों और अन्य एसवीईईपी उपायों, स्टाफिंग और बजट मामलों के माध्यम से युवा और भविष्य के मतदाताओं के साथ जुड़ने के लिए पहुंच बनाने वाली गतिविधियों का मुख्य कार्य, सीईओ कार्यालय टीमों का प्रशिक्षण का कार्य प्राथमिकता के आधार पर किया जाना चाहिए ताकि सीईओ कार्यालय आगामी चुनावों के लिए पूरी तरह से तैयार रहें।

वरिष्ठ डीईसी श्री धर्मेंद्र शर्मा, डीईसी श्री सुदीप जैन, श्री चंद्र भूषण कुमार और श्री नितेश व्यास ने भी अपने विशिष्ट विषयगत मुद्दों पर सीईओ के साथ बातचीत की।

सम्मेलन के दौरान, असम, केरल, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों ने महामारी के दौरान चुनाव कराने के अपने अनुभव और सबक साझा किए। गोवा, मणिपुर, पंजाब, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों ने विशेष रूप से आयोग को अपने-अपने राज्यों में आगामी विधानसभा चुनावों के लिए विभिन्न चुनौतियों, नवाचारों और सुझावों के बारे में जानकारी दी।

 

 

 

आयोग ने आज समीक्षा बैठक के दौरान 'आम चुनाव 2019 पर एटलस' का -लॉन्च भी किया। एटलस में इस स्मारकीय घटना के सभी डेटा और सांख्यिकीय आंकड़े शामिल हैं। इस एटलस में 42 विषयगत मानचित्र और चुनाव के विभिन्न पहलुओं को दर्शाने वाली 90 सारणी शामिल हैं। आम चुनाव 2019 एटलस एक सूचनात्मक और उदाहरण दस्तावेज के रूप में कार्य करता है जो भारतीय चुनावी प्रक्रिया की बारीकियों को उजागर करता है। देश की चुनावी विविधता की बेहतर समझ और सराहना के लिए मानचित्र और सारणी चित्रमय तरीके से जानकारी को प्रदर्शित करते हैं। एटलस उन 23 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के डेटा जैसी प्रमुख विशेषताओं को प्रदर्शित करता है जहां महिला मतदान प्रतिशत पुरुष मतदान प्रतिशत से अधिक था; मतदाताओं, उम्मीदवारों और अन्य मापदंडों के बीच राजनीतिक दलों के प्रदर्शन के मामले में सबसे बड़े संसदीय क्षेत्र के बारे में जानकारी। -एटलस https://eci.gov.in/ebooks/eci-atlas/index.html. पर उपलब्ध है। किसी भी तरह के सुझाव आयोग के ईडीएमडी डिवीजन के साथ साझा किए जा सकते हैं।

 

***

एमजी/एएम/एमकेएस/सीएस



(Release ID: 1727365) Visitor Counter : 65