रक्षा मंत्रालय

वर्तमान कोविड-19 वैश्विक महामारी में एक वरदान   :रक्षा अनुसन्धान एवं विकास संगठन द्वारा  एसपीओ2 (SpO2) आधारित पूरक ऑक्सीजन वितरण प्रणाली का विकास

Posted On: 19 APR 2021 4:32PM by PIB Delhi

 रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने दुर्गम पहाड़ियों में  अत्यधिक ऊंचाई वाले इलाकों पर तैनात सैनिकों के लिए  एसपीओ2 (SpO2- ब्लड ऑक्सीजन सैचुरेशन) आधारित पूरक ऑक्सीजन वितरण प्रणाली विकसित की है  डीआरडीओ की डिफेन्स बायो-इंजीनियरिंग एंड इलेक्ट्रो मेडिकल लैबोरेट्री (डीईबीईएल),  बेंगलुरु द्वारा  एसपीओ2- स्तरों पर विकसित यह प्रणाली अतिरिक्त मात्रा में ऑक्सीजन आपूर्ति करती है और व्यक्ति को ऐसी बेहोशी- हाईपोक्सिया में जाने से बचाती है जो कई स्थितियों में घातक सिद्ध होती है यह स्वचालित प्रणाली वर्तमान समय में फैली हुई वैश्विक महामारी कोविड-19 परिस्थितियों में भी एक वरदान सिद्ध हो सकती है

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/118BA.jpg

मेडिकल ग्रेड सिलैंडर मॉडल सं. एसीई -10 एल-152

हाईपोक्सिया वह स्थिति है जब शरीर के ऊतकों में पहुँच रही ऑक्सीजन की मात्रा शरीर की आवश्यकता पूरी करने के लिए अपर्याप्त हो, ठीक ऐसी ही स्थिति वायरस संक्रमण से ग्रस्त कोविड रोगियों में दिखती है और इस समय चल रही संकटपूर्ण स्थिति  का प्रमुख कारण भी है

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/21KI7.jpg

इस प्रणाली का इलेक्ट्रोनिक हार्डवेयर अत्यधिक ऊंचाई  वाले पहाड़ी स्थानों  के कम बैरोमेट्रीक दवाब, कम तापमान और आर्द्रता वाली स्थितियों में काम कर सकने के लिए बनाया गया है इसमें लगाए गए सॉफ्टवेयर सिक्योरिटी चेक्स (अवरोधक) जमीनी परिस्थितियों में इस प्रणाली की कार्यात्मक विश्वसनीयता को सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक रूप से महत्वपूर्ण हैं

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/3Z6UQ.jpg

ऑक्सीजन रेगुलेटर

यह प्रणाली  हाथ की कलाई में पहने जाने वाले वायरलेस इंटरफेस के माध्यम से पल्स ऑक्सीमीटर मौड्यूल का उपयोग करके रोगी का  एसपीओ2 स्तर देख लेते हैं और ऑक्सीजन आपूर्ति को सुचारू बनाने वाले एक प्रोपोर्शनल सोलेनोयेड वाल्व को नियंत्रित करती है ऑक्सीजन की आपूर्ति एक पोर्टेबल कम भार वाले ऑक्सीजन सिलेंडर से नाक में की जाती है यह प्रणाली एक लीटर से एक किलोग्राम भार वाले सिलेंडर जिसमें 10 लीटर से 150 लीटर तक की ऑक्सीजन आपूर्ति से लेकर 10 लीटर एवं 10 किलोग्राम भार  वाले 1,500 लीटर की ऑक्सीजन को दो लीटर प्रति मिनट (एलपीएम) की दर से 750 मिनट तक ऑक्सीजन की आपूर्ति करने में सक्षम है

चूँकि यह प्रणाली क्षेत्रीय स्थितियों में काम करने के लिए स्वदेश में ही विकसित की गयी है इसलिए इसका मजबूत, दुरुस्त और कम लागत वाला होना इसकी विशेषता है इसका उद्योग जगत पहले से ही बड़ी मात्रा में उत्पादन भी कर रहा है

वर्तमान वैश्विक महामारी की परिस्थितियों में यह प्रणाली एक वरदान ही है क्योंकि  2/5/7/10 एलपीएम के नियंत्रित ऑक्सीजन बहाव के साथ इसे मध्यम श्रेणी के  कोविड रोगियों को उनके घरों में ही ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए प्रयोग किया जा सकता है इसका स्वचालित होना ही घरों में सबसे अधिक लाभकारी है क्योंकि एसपीओ2 स्तर कम होते ही इसका  ऑक्सीमीटर  चेतावनी (अलार्म ) देने लगता है एसपीओ2 सेटिंग पर आधारित इसका प्रवाह स्वयं ही ऑक्सीजन की मात्रा को घटा/ बढ़ा सकता हैऔर इसे 2,5, 7, 10 एलपीएम दर पर एडजस्ट किया जा सकता है सर्वश्रेष्ठ ऑक्सीजन (O2) प्रवाह शरीर में ऑक्सीजन के स्रोत/ प्रबंधन को सुरक्षित रखता है और व्यक्ति की सहन शक्ति को बहुत बढ़ा देता है

इसकी उपलब्धता और जन सामान्य द्वारा इसके आसानी से इस्तेमाल की सुविधा के कारण यह प्रणाली रोगियों के एसपीओ2 स्तर की निगरानी कर रहे स्वास्थ्य कर्मियों और चिकित्सकों के काम का बोझ एकदम से कम करने के साथ-साथ उन्हे संक्रमण से भी बचाएगी कम ऑक्सीजन स्तर (यूजर्स प्री-सेट, <90%, <80%)  एक कैलिब्रेटेड फ्लो कंट्रोल वाल्व (पीएफसीवी) के माध्यम से स्वचालित कैलिब्रेटेड परिवर्तनीय प्रवाह नियन्त्रण किए जाने से ऑक्सीजन की कम लागत पर उचित आपूर्ति   (  ±0.5 एलपीएम  के साथ 1-10 एलपीएम ) हो सकेगी एक  मध्यम श्रेणी के  कोविड रोगी को 10 लीटर/ 150 बार्- 10 किग्रा-1500 लीटर ऑक्सीजन की लम्बे समय तक नियंत्रित आपूर्ति की आवश्यकता होती है जो 750 मिनट तक चल  सके

इस स्वचालित आसानी से प्रयोग की जा सकने वाली ऑक्सीजन आपूर्ति प्रणाली का ऐसे संकट के समय उपलब्ध हो जाना किसी वरदान जैसा ही है जब उपलब्ध चिकित्सीय संसाधनों का उनकी अधिकतम सीमा तक उपयोग कर लिया गया हो इसकी उपलब्धता को बढाने से  देशभर में  बहुत बड़ी संख्या में सामने आ रहे कोविड रोगियों के उपचार का प्रबन्धन करने में आ रही कठिनाइयों से निजात मिल सकेगी

*****

एमजी/एएम/एसटी



(Release ID: 1712732) Visitor Counter : 128