सूचना और प्रसारण मंत्रालय

सभी निर्माताओं ने भारी मुनाफे पर ओटीटी को कंटेंट बेचा है: अजीत अंधारे, सीओओ, वायाकॉम 18 स्टूडियो

ओटीटी, बड़े स्क्रीन की तरह उमंग पैदा नहीं कर सकते: फिल्म वितरक अक्षय राठी

ओटीटी पर हर फिल्म सफल है, यह निर्माताओं के लिए एक आकर्षक स्थिति: जी स्टूडियो के मुख्य व्यवसाय अधिकारी, शरिक पटेल

सिंगल स्क्रीन को बचाना समय की जरूरत, कस्बों और गांवों के अनुरूप कंटेंट बनाने की आवश्यकता है: कपिल अग्रवाल, यूएफओ मूवीज़

'भारत में सिनेमा का भविष्य' पर सिद्धार्थ रॉय कपूर के साथ बातचीत

Posted On: 22 JAN 2021 2:35PM by PIB Delhi

वायकॉम 18 स्टूडियो के मुख्य परिचालन अधिकारी अजीत अंधारे ने कहा कि सभी निर्माताओं ने भारी मुनाफे पर ओटीटी को कंटेंट बेचा है और ओटीटी के आने से सिंगल स्क्रीन ने अपनी प्रासंगिकता खो दी है। ज़ी स्टूडियो के मुख्य व्यवसाय अधिकारी, शरिक पटेल ने कहा कि इस प्लेटफॉर्म के आने के बाद से भारी लाभ पर और विशेषकर कोविड -19 लॉकडाउन के दौरान ओटीटी को बेची जाने वाली कंटेंट की मात्रा काफी अधिक रही है। इस पृष्ठभूमि में, सीआईआई के सह-अध्यक्ष और यूएफओ मूवीज़ के संयुक्त अध्यक्ष कपिल अग्रवाल महसूस करते हैं कि सिंगल स्क्रीन को बचाना समय की आवश्यकता है। इस पर फिल्म वितरक अक्षय राठी ने सहमति व्यक्त करते हुए कहा, "इसमें कोई संदेह नहीं है कि सिंगल स्क्रीन को फिर से जीवित करने की आवश्यकता है। फिल्म प्रदर्शकों (एक्सिबिटर) में से कोई भी अब कुछ भी कमा नहीं पा रहा है।"https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/1ITZY.jpg 

 

51 वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) के दौरान 'भारत में सिनेमा का भविष्य: अवसर और चुनौती' विषय पर आयोजित एक वर्चुअल 'इन-कन्वर्सेशन' सत्र में ये विचार रखे गए। सत्र का संचालन फिल्म निर्माता सिद्धार्थ रॉय कपूर ने किया, जो रॉय कपूर फिल्म्स के प्रबंध निदेशक और सीआईआई नेशनल कमेटी ऑन मीडिया एंड एंटरटेनमेंट के सह-अध्यक्ष हैं।

 

निर्माताओं के लिए ओटीटी सुविधाजनक

 

ओटीटी पर कंटेंट और दर्शकों की संख्या में वृद्धि के बारे में अंधारे ने कहा: हम ओटीटी प्लेटफार्मों पर कहानी कहने के संदर्भ में पुनर्जागरण देख रहे हैं। सिंगल  स्क्रीन से राजस्व का अनुपात ओटीटी के कारण कम हो गया है। ओटीटी की सदस्यता में भारी उछाल देखा जा रहा है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/2RN7E.jpg

वह क्या है, जो निर्माताओं को ओटीटी के लिए प्रेरित करता है? "निर्माता और वितरक ओटीटी प्लेटफॉर्म पर कोई नुकसान नहीं उठाते हैं। ओटीटी पर अपना कंटेंट बेचने वाले सभी ने 10 से 100 प्रतिशत तक का मुनाफा कमाया है।"

 

पटेल सहमत हैं: ओटीटी पर हर फिल्म सफल है, जो निर्माताओं के लिए एक आकर्षक स्थिति है। कोई प्रतिस्पर्धा  या फ्लॉप का भय नहीं है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/3JTC8.jpg

 ‘ओटीटी, बिग स्क्रीन की भव्यता का मुकाबला नहीं कर सकते हैं

फिल्म वितरक अक्षय राठी ने नए डिजिटल माध्यम की कमियों को उजागर किया। "ओटीटी सुविधा प्रदान करते हैं, लेकिन अनुभव नहीं। वे बड़ी स्क्रीन की तरह उत्साह व उमंग पैदा नहीं कर सकते हैं।" उन्होंने कहा कि ऐसे बहुत से  लोग हैं जो मल्टीप्लेक्स और बड़े स्क्रीन के फिर से शुरू होने की प्रतीक्षा कर रहे हैं। "सिनेमा की संस्कृति हमारे देश में बहुत गहरे रूप से जुडी है। लोग घर से बाहर जाकर सिनेमा देखने की प्रतीक्षा कर रहे हैं। एक बड़ी हिट फिल्म के साथ ही बड़ी संख्या में दर्शक सिनेमा हॉल का रूख करेंगे। लेकिन इसमें कोई शक नहीं है कि खासकर कोविड के बाद के समय में सिनेमा घरों को समर्थन देने की जरूरत है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/4WJ1W.jpg

सिंगल स्क्रीन को कैसे बचाएं

 

फिल्म थिएटर को समर्थन देने की जरूरत है, लेकिन कैसे? हम सिंगल स्क्रीन को कैसे बचा सकते हैं, जिस पर उद्योग का एक बड़ा हिस्सा अपनी आजीविका के लिए निर्भर है?

 

यूएफओ मूवीज़ के कपिल अग्रवाल ने जवाब में कहा: "सिनेमा हॉल के लिए  आदर्श रूप में राजस्व साझेदारी की प्रक्रिया शुरू करनी होगी। एक्सिबिसन इंडस्ट्री को भी जिम्मेदारी लेनी होगी और अधिक पारदर्शी बनना होगा।"

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/5OF9D.jpg

अग्रवाल ने दर्शकों के अनुरूप उचित कंटेंट के लिए काम करने का आह्वान किया। सिंगल स्क्रीन के लिए उपयुक्त कंटेंट की आवश्यकता है। वास्तविक भारत और दर्शकों का एक बड़ा हिस्सा 2,500 से अधिक छोटे शहरों में फैला हुआ है। इसलिए, निर्माताओं और कंटेंट निर्माताओं का ध्यान केवल बड़े शहर के मल्टीप्लेक्स दर्शकों पर नहीं होना चाहिए। कंटेंट को कस्बों और गांवों के  दर्शकों की रूचि के अनुरूप डिज़ाइन किया जाना चाहिए। हमें बड़ी आबादी को ध्यान में रखते हुए फिल्म बनाने की आवश्यकता है।

 

सिंगल स्क्रीन के लिए कुछ छिपी हुई क्षमता भी है। "एक बार फिर से खुलने पर भी,  हम अपनी क्षमता से कम स्तर पर होंगे। हालांकि, उन्होंने एक सकारात्मक बात कही कि यह परिवर्तन पहले ही शुरू हो चुका है। कंटेंट निर्माताओं ने छोटे शहरों के दर्शकों की मांग को पूरा करने का संकल्प लेना शुरू कर दिया है। इन कमियों को दूर करने के लिए मौजूदा सिनेमा के बुनियादी ढांचे को पुनर्जीवित करने की तत्काल आवश्यकता है।

भारत बनाम इंडिया?

सत्र संचालक सिद्धार्थ रॉय कपूर ने सवाल उठाया कि कंटेंट 'इंडिया' या 'भारत' किसकी ओर झुका हुआ है। अंधारे ने जवाब दिया: "रचनात्मक लोगों के रूप में,  हम मल्टीप्लेक्स और ओटीटी पर ध्यान देते हैं,  हम 'भारत' की कहानियों के बजाय 'इंडिया' की कहानियां बनाने के लिए अधिक उत्साहित हैं।"

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/6KQN6.jpg

हमें सभी प्लेटफार्मों की आवश्यकता है

अंधारे ने कहा कि सभी प्लेटफार्मों का अस्तित्व होना चाहिए। "इसके लिए, फिल्म उद्योग के सभी हितधारकों (मल्टीप्लेक्स मालिकों और सेवा प्रदाताओं सहित) को एक साथ बैठने, एक-दूसरे के दर्द को समझने और साथ मिलकर रास्ता निकालने की ज़रूरत है।"

                                                                        ****

एमजी/ एएम/ जेके  



(Release ID: 1691408) Visitor Counter : 22