रक्षा मंत्रालय

नौसेना प्रमुख ने समुद्र में परिचालन तैयारियों का जायजा लिया

Posted On: 22 OCT 2020 7:41PM by PIB Delhi

 नौसेना प्रमुख (सीएनएस) एडमिरल करमबीर सिंह ने 22 अक्टूबर 2020 को भारतीय नौसेना के प्रमुख लड़ाकू पोतों की परिचालन और युद्ध तैयारियों की समीक्षा की।

नौसेना प्रमुख फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ वेस्टर्न नेवल कमांड एडमिरल अजीत कुमार के साथ करवार नेवल बेस पर पहुंचे, जहां उन्होंने जवानों के साथ बातचीत की और पोतों की देखरेख, मरम्मत, रखरखाव, पुर्जों और युद्ध लड़ने की क्षमता को लेकर ऑप-लॉजिस्टिक्स के प्रमुख मुद्दों पर चर्चा की। उन्होंने साइबर-सुरक्षा के पहलुओं को लेकर भी अपनी बात दोहराई। इसके अलावा उन्होंने आतंकवादी हमलों के खिलाफ सुरक्षा बल और सभी कर्मियों को उच्चतम स्तर की सतर्कता बनाए रखने के लिए प्रेरित किया।

इसके बाद एडमिरल करमबीर सिंह हेलिकॉप्टर से प्रस्थान कर गए, जहां वह कैरियर बैटल ग्रुप, विक्रमादित्य, विध्वंसक, करवत्ती को बेड़े में शामिल करने के कार्यक्रम में शामिल हुए। हेलिकॉप्टर से लैस फ्लीट सपोर्ट पोत स्वदेशी गाइडेड-मिसाइल विध्वंसक चेन्नई के पोतारोहण के अवसर पर फ्लीट कमांडर ने उसकी तैयारियों के बारे में उन्हें अवगत कराया। इसके बाद फायरिंग, हवा से हवा में मारने की क्षमता, पनडुब्बी रोधी, बेड़े के युद्धाभ्यास का परीक्षण किया। इसके बाद नौसेना प्रमुख ने जहाज के चालक दल के साथ बातचीत की और फ्लीट सपोर्ट शिप दीपक का पोतारोहण किया, इसके बाद विमान वाहक विक्रमादित्य ने भी उड़ान भरी, जहां उन्होंने अभिन्न बेड़े की हवाई रक्षा और कैरियर बैटल ग्रुप की क्षमताओं का अवलोकन किया।

विक्रमादित्य से प्रसारित कैरियर बैरियर ग्रुप के लड़ाकों को संबोधित करते हुए नौसेना प्रमुख ने कोविड-19 संबंधित चुनौतियों के बावजूद पिछले महीनों में चरम युद्ध की तैयारी और संचालन के उच्च गति को बनाए रखने के लिए उनकी सराहना की। भारतीय नौसेना देश की समुद्री सुरक्षा को बनाए रखने की दिशा में मानसून अवधि के दौरान किसी न किसी समुद्र के माध्यम से आईओआर में मिशन-तैनाती और युद्ध के लिए मुस्तैद है। उन्होंने आईओआर देशों से संकट में फंसे नागरिकों को लाने के लिए और ‘मिशन सागर के हिस्से के रूप में आईओआर में सहयोगी पड़ोसियों को चिकित्सा और रसद सहायता प्रदान करने की दिशा में ओप समुद्र सेतुमें नौसेना के ‘मिशन सागर’ के योगदान के लिए सराहना की। उन्होंने प्रेरणा के उच्च स्तरों पर संतोष व्यक्त किया और दोहराया कि भारतीय नौसेना के पास सबसे अच्छा मानव संसाधन है जो प्रेरित करता है।

मौजूदा सुरक्षा स्थिति का अवलोकन करते हुए उन्होंने कहा कि नौसेना आने वाले महीनों में उच्च गति के संचालन को जारी रखेगी। उन्होंने कैरियर बैरियर ग्रुप और उसके लड़ाकों को सटीक और प्रभावी हथियार फायरिंग के लिए बधाई दी, जिससे किसी भी आकस्मिकताओं को पूरा करने के लिए नौसेना की तत्परता के बारे में कोई संदेह नहीं रह गया है। नौसेना प्रमुख ने कहा कि त्रि-सेवा तालमेल और समन्वय सैन्य मामलों के विभाग की स्थापना की है जैसा कि हालिया घटनाओं के लिए तीन सेवाओं की संयुक्त प्रतिक्रिया में दिखाई दिया था। कोविड-19 महामारी के संबंध में नौसेना प्रमुख ने नौसेना कर्मियों और उनके परिवारों द्वारा प्रोटोकॉल का पालन जारी रखने की सलाह दी।

नौसेना प्रमुख समुद्री गतिविधियों का अवलोकन पूरा करने के बाद गोवा लौटे और नौसेना के विमान यार्ड का दौरा किया। उसके बाद उन्होंने नई दिल्ली के लिए प्रस्थान किया, जहां उन्हें फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ वेस्टर्न नेवल कमांड ने विदा किया।

पश्चिमी समुद्र तट पर युद्ध की तैयारियों का जायजा लेने के साथ, भारतीय नौसेना की पनडुब्बी रोधी युद्ध क्षमता (एएसडब्लयू) कवरत्ती को विशाखापत्तनम में थल सेनाध्यक्ष जनरल मनोज नरवणे द्वारा कमीशन्ड किया गया।

इस पोत को भारतीय नौसेना द्वारा डिज़ाइन किया गया है और गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स लिमिटेड, कोलकाता में इसे बनाया गया है। यह पोत आत्मानिर्भर भारत का एक बेहतरीन उदाहरण है।

भारतीय नौसेना कोविड-19 महामारी के बावजूद युद्धपोतों, पनडुब्बियों और विमान स्क्वाड्रनों और ठिकानों पर कड़े प्रोटोकॉलों का पालन करते हुए उच्च गति के संचालन और युद्ध-तत्परता को बनाए हुए है। यह समुद्री क्षेत्र में चुनौतियों से निपटने के लिए समन्वय के पूरी तरह से तैयार है।

****

एमजी/एएम/वीएस/डीसी 



(Release ID: 1667014) Visitor Counter : 19