पर्यटन मंत्रालय

पर्यटन मंत्रालय ने देखो अपना देश श्रृंखला के तहत 'सैलानियों के लिए पूर्वोत्तर भारत' विषय पर वेबिनार आयोजित किया

देखो अपना देश वेबिनार श्रृंखला देश के विभिन्न हिस्सों का वर्चुअल यात्रा के जरिये एक भारत, श्रेष्ठ भारत को बढ़ावा दे रही है

Posted On: 29 MAY 2020 12:46PM by PIB Delhi

घरेलू और विदेशी सैलानियों के लिए अभी तक अछूता रहा भारत के पूर्वोत्तर क्षेत्र से परिचित कराने को लेकर 28 मई 2020 को पर्यटन मंत्रालय ने देखो अपना देश के तहत सैलानियों के लिए पूर्वोत्तर भारत विषय पर वेबीनार का आयोजन किया। इस दौरान चार पूर्वोत्तर राज्यों नगालैंड, अरुणाचल प्रदेश, असम और सिक्किम के वर्चुअल दौरे की पेशकश की गई। कोविड-19 जैसे कठिन समय में देखो अपना देश वेबिनार श्रृंखला देश के विभिन्न हिस्सों का वर्चुअल यात्रा के जरिये एक भारत, श्रेष्ठ भारत की भावना को बढ़ावा दे रही है।

28 मई 2020 को देखो अपना देश वेबिनार श्रृंखला के 25वें सत्र को कर्टन कॉल एडवेंचर्स की जूली कागती, ट्रैवलर इन चीफ, इंडिया ट्रेल के डेविड अंगामी,  Ourguest.in के सह-संस्थापक देवराज बरूआ, सह-संस्थापक मोनिउल गैदरिंग और सह-संस्थापक पिंट्सो ग्यात्सो ने प्रस्तुत किया।

प्रस्तुतकर्ताओं ने पूर्वोत्तर भारत के स्थानीय गंतव्यों, जनजातियों, त्योहारों, शिल्प, संस्कृति के बारे में बताया। उन्होंने यह भी बताया कि उत्तर पूर्व की विशेषता केवल पहाड़ियों नहीं हैं,  बल्कि यहां जानने-समझने और देखने के लिए और भी बहुत कुछ है।

कुछ ऐसे अनुभव जो उत्तर पूर्व भारत के यात्रियों को देखने मिलेंगे, जिन्हें वेबिनार के इस सत्र में प्रदर्शित किया गया। इसमें मणिपुर और नगालैंड के बीच स्थित दज़ुकौ घाटी शामिल है, जो एक विलुप्त ज्वालामुखी का प्रमाण है और सबसे बड़ी बात कि सबसे प्रसिद्ध ज़ुकोउली इस क्षेत्र में ही पाया जाता है। कोहिमा में हरेक साल 1 दिसंबर से 10 दिसंबर तक मनाया जाने वाला हॉर्नबिल त्योहार नागालैंड में घरेलू और विदेशी पर्यटकों के लिए एक बड़ा आकर्षण बन गया है।

सैलानियों के लिए उत्तर पूर्व का सबसे बड़ा राज्य अरुणाचल प्रदेश पर्यटन का बड़ा विकल्प है। इस राज्य के बारे में प्रस्तुतकर्ताओं ने अच्छे तरीके से बताया। 70 फीसदी वनों से घिरा और 26 प्रमुख जनजातियों के साथ यह राज्य सैलानियों को हर कुछ किलोमीटर के बाद नई संस्कृति, परंपरा और बोलियों का अनुभव करने का अवसर देता है। तवांग की सुंदरता, संगति घाटी जो आगंतुकों को परी-कथा के दृश्यों और लोसार त्योहार का अनुभव कराने का मौका देती है। लोसार त्योहार फरवरी में मनाया जाता है।

वेबिनार में असम की महिला केंद्रित कपड़ा क्षेत्र और स्थानीय लोगों के बारे में विस्तार से बताया गया।

स्थायी पर्यटन प्रथाओं को अपनाने में सिक्किम की सफलता और पर्यावरण पर्यटन का पालन करके पर्यावरणीय पारिस्थितिकी की देखभाल पर भी प्रकाश डाला गया:

पर्यावरण संरक्षण

स्थायी बिजनेस मॉडल

स्वदेशी संस्कृतियों की संवेदनशीलता और प्रशंसा

सामाजिक समानता

देखो अपना देश वेबिनार श्रृंखला 14 अप्रैल 2020 को शुरू की गई थी। अब तक इसके 25 सत्र आयोजित किए गए हैं। इसमें विभिन्न पर्यटन उत्पादों और अनुभवों के बारे में बताया गया।

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा बनाए गए राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस डिवीजन की एक पेशेवर टीम के तकनीकी सहयोग से देखो अपना देश वेबिनार का संचालन मुमकिन हो पा रहा है। इससे वेबिनार में नागरिक और हितधारक जुड़कर अपना अनुभव साझा कर रहे हैं।

वेबिनार के सत्र को https://www.youtube.com/channel/UCbzIbBmMvtvH7d6Zo_ZEHDA/ देखा जा सकता है और पर्यटन मंत्रालय के सोशल हैंडल पर इसका लाभ लिया जा सकता है।

देखो अपना देश वेबिनार का अगला चरण 30 मई 2020 को दिन में 11 से 12 बजे आयोजित किया जाएगा। 'कच्छ का अस्तित्व-प्रेरणादायक कहानी' विषय पर अगल वेबिनार आयोजित किया जाएगा। इसके लिए यहां https://bit.ly/KutchDAD रजिस्टर करें।

 

*******

एसजी/एएम/वीएस



(Release ID: 1627663) Visitor Counter : 221