कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय

कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्रालय के सचिव श्री ए.के. तिवारी ने नई दिल्ली में भारत की सबसे बड़ी कौशल प्रतियोगिता का उद्घाटन किया

इंडियास्किल्स 2024 सिर्फ एक प्रतियोगिता नहीं है, बल्कि यह कौशल, नवाचार और दृढ़ संकल्प का उत्सव है- श्री अतुल कुमार तिवारी

देश भर से 900 से अधिक उम्मीदवार 61 कौशलों में भाग लेंगे

Posted On: 15 MAY 2024 7:30PM by PIB Bhopal

कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय के सचिव श्री अतुल कुमार तिवारी ने आज इंडियास्किल्स प्रतियोगिता 2024 का उद्घाटन किया। यह देश की सबसे बड़ी कौशल प्रतियोगिता है, जिसे कौशल के उच्चतम मानकों को प्रदर्शित करने के लिए डिजाइन किया गया है।

कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय (एमएसडीई) ने नई दिल्ली के द्वारका स्थित यशोभूमि में एक उद्घाटन समारोह आयोजित किया, जिसमें 30 से अधिक राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के 900 से अधिक छात्रों और 400 से अधिक उद्योग विशेषज्ञों ने भागीदारी दर्ज की।

उद्घाटन समारोह में कौशल कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्रालय के वरिष्ठ आर्थिक सलाहकार श्री नीलांबुज शरण, कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्रालय की महानिदेशक प्रशिक्षण श्रीमती त्रिशालजीत सेठी, कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्रालय की संयुक्त सचिव श्रीमती सोनल मिश्रा, कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्रालय की संयुक्त सचिव श्रीमती हेना उस्मान, और राष्ट्रीय कौशल विकास निगम के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री वेद मणि तिवारी उपस्थित थे। भागीदारी करने वाले सभी राज्यों ने अपनी टीमों और सांस्कृतिक समुदायों का भी प्रदर्शन किया। इसके बाद एक सांस्कृतिक कार्यक्रम हुआ जहां दर्शकों ने देश भर के विभिन्न नृत्य कलाओं को देखा।

श्री अतुल कुमार तिवारी ने उद्घाटन समारोह में अपने संबोधन में कहा कि इंडियास्किल्स 2024 सिर्फ एक प्रतियोगिता नहीं है बल्कि कौशल, नवाचार और दृढ़ संकल्प का उत्सव है। उन्होंने कहा कि यह युवाओं की असीम क्षमता और राष्ट्र के भविष्य को साकार करने की उनकी क्षमता का प्रमाण है। उन्होंने यह भी कहा कि यह एक ऐसा मंच है जहां सपने साकार होते हैं और आकांक्षाएं पोषित होती हैं। उन्होंने आगे कहा कि उन्हें उम्मीदवारों की क्षमताओं पर पूरा भरोसा है और उन्हें आशा है कि वे वर्ल्ड स्किल्स 2024 में उत्कृष्ट प्रदर्शन करेंगे।

प्रतिभागी अगले तीन दिनों तक, निर्माण और भवन प्रौद्योगिकी, रचनात्मक कला और फैशन से लेकर सूचना और संचार प्रौद्योगिकी, विनिर्माण व इंजीनियरिंग प्रौद्योगिकी तथा परिवहन और लॉजिस्टिक्स तक विभिन्न प्रकार के कौशल में प्रतिस्पर्धा करेंगे। इस कार्यक्रम का समापन 19 मई को एक भव्य समापन समारोह के साथ होगा।

श्री वेद मणि तिवारी ने इस अवसर पर अपने संबोधन में कहा कि इंडियास्किल्स एक ऐसा मंच है जो आकांक्षाओं को प्रोत्साहित किया जाता है और रचनात्मकता को प्रोत्साहन प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि इस आयोजन को लागू करके राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (एनएसडीसी) न केवल देश को अग्रणी स्थिति में लाएगा बल्कि एक अधिक समावेशी समाज का मार्ग भी प्रशस्त करेगा। श्री तिवारी ने यह भी कहा कि वर्ल्ड स्किल्स प्रतियोगिताओं के साथ-साथ इंडिया स्किल्स, उम्मीदवारों, उद्योग जगत के प्रतिनिधियों, शिक्षा जगत के भागीदारों, सरकारों और भागीदार देशों के साथ जुड़ने के अवसर पैदा करके समान समाज के निर्माण में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

चार दिवसीय इंडिया स्किल्स प्रतिभागियों को एक राष्ट्रीय मंच पर पारंपरिक शिल्प से लेकर अत्याधुनिक प्रौद्योगिकियों तक 61 कौशलों में अपने विविध कौशल और प्रतिभा का प्रदर्शन करने का अवसर प्रदान करेगा। कुल 47 कौशल प्रतियोगिताएं इसी आयोजन स्थल पर आयोजित की जाएंगी, जबकि उपलब्ध सर्वोत्तम बुनियादी ढांचे को ध्यान में रखते हुए 14 प्रतियोगिताएं कर्नाटक, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और गुजरात में इस आयोजन से अलग आयोजित की जाएंगी।

प्रतिभागी ड्रोन-फिल्म निर्माण, वस्त्र बुनकरी, चमड़े से जूते बनाना और प्रोस्थेटिक्स-मेकअप जैसे 9 प्रदर्शनी कौशल में भी भाग लेंगे।

राष्ट्रीय स्तर की इस प्रतियोगिता में भाग लेने वाले छात्रों को आईटीआई, एनएसटीआई, पॉलिटेक्निक, इंजीनियरिंग संस्थान, नर्सिंग संस्थान और जैव प्रौद्योगिकी संस्थानों में प्रशिक्षण दिया गया है। यह मौजूदा कौशल नेटवर्क में भारतीय युवाओं को मिल रहे अंतर्राष्ट्रीय मानक प्रशिक्षण का प्रमाण है।

सर्वश्रेष्ठ उद्योग प्रशिक्षकों की मदद से इंडियास्किल्स के विजेता सितंबर 2024 में फ्रांस के ल्योन में होने वाली वर्ल्डस्किल्स प्रतियोगिता के लिए तैयारी करेंगे। इसमें 70 से अधिक देशों के 1,500 प्रतियोगी शामिल होंगे।

इस वर्ष प्रतिभागियों को राष्ट्रीय क्रेडिट फ्रेमवर्क के अंतर्गत क्रेडिट अर्जित करने का अवसर मिलेगा। वर्ल्डस्किल्स और इंडियास्किल्स दोनों प्रतियोगिताओं में प्रदर्शित सभी कौशलों को राष्ट्रीय कौशल योग्यता फ्रेमवर्क (एनएसक्यूएफ) के साथ जोड़ा गया है। यह प्रतिभागियों को अपने सीखने के परिणामों को श्रेय देने और अपने चुने हुए क्षेत्रों में एक समृद्ध करियर बनाने के लिए सशक्त बनाता है। यह भी पहली बार है कि इंडियास्किल्स ने क्यूरेन्सिया नामक एक प्रतिस्पर्धा सूचना प्रणाली को शामिल किया है।

स्किल इंडिया डिजिटल हब (एसआईडीएच) पोर्टल पर प्रतिस्पर्धा के लिए लगभग 2.5 लाख उम्मीदवारों ने पंजीकरण कराया था, जिनमें से 26,000 को प्री-स्क्रीनिंग की प्रक्रिया के जरिए चुना गया था। ये आंकड़ा राज्य और जिला-स्तरीय प्रतियोगिता आयोजित करने के लिए राज्यों के साथ साझा किया गया था, जिसमें से 900 से अधिक छात्रों को इंडिया स्किल्स नेशनल प्रतिस्पर्धा के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया था।

चयन की ये पूरी प्रक्रिया न केवल प्रतिभागियों के बीच प्रतिस्पर्धा की भावना पैदा करती है बल्कि युवाओं के बीच कौशल विकास और व्यावसायिक प्रशिक्षण की आकांक्षाएं पैदा करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। अलग-अलग अवसरों को दिखलाकर और एक प्रतिस्पर्धी लेकिन सहयोग भरा माहौल बनाकर, राज्य/केंद्र शासित प्रदेश, उद्योग, शिक्षा जगत की सक्रिय भागीदारी के साथ ऐसी कौशल प्रतिस्पर्धा एक कुशल कार्यबल के लिए एक मजबूत आधार तैयार करती है, जो देश की तरक्की और नवाचार को आगे बढ़ा सकती है।

**

एमजी/एआर/एसकेएस/एमकेएस/एके/जीबी/एसके



(Release ID: 2020764) Visitor Counter : 27