कोयला मंत्रालय

2025-26 तक कोयला आयात रोकने के सभी प्रयास जारी, 2030 तक भूमिगत खदानों से 100 मिलियन टन उत्पादन पर जोर : केंद्रीय मंत्री श्री प्रल्हाद जोशी


कोयला मंत्रालय ने वाणिज्यिक कोयला खदानों की नीलामी का 8वां चरण शुरू किया

झारखंड, ओडिशा, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल और बिहार की 39 खदानों की नीलामी होनी है

संरक्षित क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली खदानें, वन्यजीव अभयारण्य आदि को नीलामी से बाहर रखा गया है

Posted On: 15 NOV 2023 5:39PM by PIB Delhi

कोयला मंत्रालय ने आज यहां वाणिज्यिक कोयला खदानों की नीलामी प्रक्रिया के आठवें चरण की शुरुआत की। कुल 39 कोयला खदानें ऑफर पर हैं। वर्चुअल तौर पर नीलामी का शुभारंभ करते हुए, केंद्रीय कोयला, खान और संसदीय कार्य मंत्री श्री प्रल्हाद जोशी ने कहा कि 2025-26 तक कोयला आयात को रोकने के लिए सभी प्रयास जारी हैं। उन्होंने यह भी कहा कि बड़े पैमाने पर उत्पादन तकनीक का इस्तेमाल करके भूमिगत खदानों (यूजी) से कोयला उत्पादन को 2030 तक 100 मिलियन टन (एमटी) तक बढ़ाया जाएगा।

 

 

नीलाम की जा रही खदानें कोयला उत्पादक राज्यों झारखंड, ओडिशा, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल और बिहार में फैली हुई हैं। ये खदानें सीएमएसपी एक्ट और एमएमडीआर एक्ट के अंतर्गत आती हैं। 39 कोयला खदानों में से, चार खदानों को सीएमएसपी/एमएमडीआर अधिनियम के तहत 7वें चरण के दूसरे प्रयास के तहत ऑफर किया जा रहा है, जहां पहले प्रयास में एकल बोली प्राप्त हुई थी। 8वें चरण के तहत पेश की जा रही 35 कोयला खदानों में से 16 कोयला खदानें नई हैं और 19 खदानें पहले की किश्तों से ली जा रही हैं।

कोयला मंत्रालय ने यह सुनिश्चित करने के लिए कई सुधार किए हैं कि कोयला क्षेत्र तीव्र गति से बढ़े और देश की बढ़ती ऊर्जा मांग को पूरा करने में सक्षम हो। 8वें दौर के लिए भी, संरक्षित क्षेत्रों, वन्यजीव अभयारण्यों, महत्वपूर्ण आवासों, 40 प्रतिशत से अधिक वन क्षेत्र, भारी निर्मित क्षेत्र आदि के अंतर्गत आने वाली खदानों को बाहर रखा गया है। कुछ कोयला खदानों की ब्लॉक सीमाएं जहां घनी आबादी, उच्च हरित आवरण या महत्वपूर्ण बुनियादी ढाँचा आदि मौजूद था, कोयला खदान के प्रारंभिक विकास के लिए संशोधित किया गया है।

 

समारोह को संबोधित करते हुए कोयला मंत्रालय के सचिव श्री अमृत लाल मीणा ने कहा कि कैप्टिव/वाणिज्यिक कोयला खदानें समग्र उत्पादन में महत्वपूर्ण योगदान दे रही हैं। उन्होंने कहा कि 39 खदानों को नीलामी के लिए पेश करने से पहले व्यवस्थित सर्वेक्षण किया गया है। श्री मीणा ने कहा कि खदानों से कोयले की त्वरित निकासी के लिए रेल कनेक्टिविटी को बढ़ाया और बढ़ाया जा रहा है।

 

 

इससे पहले, मेहमानों और संभावित बोलीदाताओं का स्वागत करते हुए, मंत्रालय के अपर सचिव और नामित प्राधिकारी, श्री एम नागराजू ने घरेलू कोयला उत्पादन को और बढ़ाने की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि मंत्रालय द्वारा हाल ही में सुधारों की एक श्रृंखला शुरू की गई है। आने वाले दशकों में घरेलू कोयले की मांग भी बढ़ेगी। उन्होंने कहा, इसलिए कोयला क्षेत्र में निवेश से अच्छा रिटर्न मिलता है।

 

नीलामी के लिए निविदा दस्तावेज़ की बिक्री की शुरुआत आज यानी 15 नवंबर, 2023 से शुरू होगी। खदानों, नीलामी की शर्तों, समयसीमा आदि का विवरण एमएसटीसी नीलामी मंच पर देखा जा सकता है। नीलामी प्रतिशत राजस्व हिस्सेदारी के आधार पर पारदर्शी दो चरणीय प्रक्रिया के माध्यम से ऑनलाइन आयोजित की जाएगी।

वाणिज्यिक कोयला खदान की नीलामी के लिए कोयला मंत्रालय का एकमात्र लेनदेन सलाहकार एसबीआई कैपिटल मार्केट्स लिमिटेड नीलामी प्रक्रिया के संचालन में मंत्रालय की सहायता कर रहा है।

***

एमजी/एआर/आरपी/एसकेएस/एसके



(Release ID: 1977159) Visitor Counter : 493


Read this release in: Kannada , Punjabi , English , Urdu