विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय

संसद ने अनुसंधान नेशनल रिसर्च फाउंडेशन (एनआरएफ) विधेयक, 2023 को मंजूरी दी, विधेयक राज्यसभा से भी ध्वनि मत से पारित


"अनुसंधान नेशनल रिसर्च फाउंडेशन" 2047 में भारत का कद परिभाषित करेगा; केन्‍द्रीय मंत्री डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने कहा, अनुसंधान कानून भारत के विकसित देशों की चुनिंदा लीग में शामिल होने का मार्ग प्रशस्त करेगा

प्रधानमंत्री मोदी द्वारा परिकल्पित एनआरएफ हमें नए क्षेत्रों में नए शोध की अगुवाई करने वाले विकसित देशों की श्रेणी में पहुंचा देगा: डॉ. जितेन्‍द्र सिंह

डॉ. जितेन्‍द्र सिंह का कहना है कि विधेयक राज्यों के लिए विशेष रूप से अलग आवंटन करता है जिससे राज्य विश्वविद्यालयों और संस्थानों के भीतर एक अलग प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा मिलता है  

Posted On: 09 AUG 2023 7:40PM by PIB Delhi

केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने आज यहां कहा कि "अनुसंधान नेशनल रिसर्च फाउंडेशन" 2047 में भारत का कद परिभाषित करेगा।

राज्यसभा में "अनुसंधान नेशनल रिसर्च फाउंडेशन (एनआरएफ) विधेयक, 2023" पर चर्चा का उत्‍तर देते हुए डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, अनुसंधान कानून भारत के विकसित देशों की चुनिंदा लीग में शामिल होने का मार्ग प्रशस्त करेगा।

सदन ने बाद में विधेयक को ध्वनि मत से पारित कर दिया। लोक सभा इसे पहले ही 07 अगस्‍त 2023 को पारित कर चुकी है।

उन्होंने कहा, "यह एक ऐसा विधेयक है जिसका दीर्घकालिक प्रभाव, दीर्घकालिक परिणाम होने वाला है और हम सभी, भारत के प्रत्येक नागरिक, जिसमें दूसरी तरफ बैठे लोग भी शामिल हैं, हितधारक बनने जा रहे हैं। संभवत: यह इतिहास बनने जा रहा है।" .

 

यह विधेयक गणितीय विज्ञान, इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी, पर्यावरण और पृथ्वी विज्ञान, स्वास्थ्य और कृषि सहित प्राकृतिक विज्ञान के क्षेत्र में अनुसंधान, नवाचार और उद्यमिता के लिए एक उच्चस्तरीय रणनीतिक दिशा प्रदान करेगा।

मंत्री ने कहा, यह कानून मानविकी और सामाजिक विज्ञान के वैज्ञानिक और तकनीकी परस्‍पर मेल को बढ़ावा देगा ताकि ऐसे अनुसंधान और उससे जुड़े आकस्मिक मामलों को बढ़ावा दिया जा सके, निगरानी की जा सके और आवश्यकतानुसार सहायता प्रदान की जा सके।

डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने कहा कि विधेयक से देश में अनुसंधान एवं विकास खर्च में बढ़ोतरी होगी। एनआरएफ की कार्यकारी परिषद को न केवल विभिन्न परियोजनाओं की प्रगति की निगरानी करने का काम सौंपा गया है, बल्कि विभिन्न स्तरों पर फंडिंग की जवाबदेही का विश्लेषण करने का भी काम सौंपा गया है।

उन्‍होंने कहा, इसमें पाँच वर्षों के लिए 50,000 करोड़ रुपये (खर्च करने की परिकल्पना की गई है), जिसमें से 36,000 करोड़ रुपये, लगभग 80 प्रतिशत, गैर-सरकारी स्रोतों से, उद्योग और परोपकारी लोगों से, घरेलू और साथ ही बाहरी स्रोतों से आने वाले हैं।"

यह स्पष्ट करते हुए कि विधेयक राज्य विश्वविद्यालयों और संस्थानों के लिए अलग-अलग धनराशि निर्धारित करके उन्‍हें सुरक्षित रखता है, डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने कहा कि विधेयक राज्य विश्वविद्यालयों और संस्थानों के भीतर विशेष रूप से अलग आवंटन के साथ अलग प्रतिस्पर्धा की परिकल्पना करता है।

डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने कहा कि पीएम मोदी द्वारा परिकल्पित एनआरएफ हमें नए क्षेत्रों में नए शोध का नेतृत्व करने वाले विकसित देशों की लीग में शामिल कर देगा।

उन्होंने कहा,जब से प्रधानमंत्री मोदी ने 2014 में सत्ता संभाली है, उन्होंने एक के बाद एक, कई पथप्रदर्शक निर्णय लिए हैं, भारत को उन स्व-निर्मित बाधाओं से मुक्त करने के लिए अतीत की अनेक पाबंदियों को तोड़ा है ताकि हम एक वैश्विक भूमिका निभा सकें। और उन्होंने हमारे लिए अगले 25 वर्षों में अमृत काल की परिकल्पना की। जाहिर तौर पर हमें वैश्विक मापदंडों पर खरा उतरना होगा और यह तभी संभव है जब हमारे पास अन्य देशों के समान प्रतिस्पर्धात्मकता होगी

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने साबित कर दिया है कि कैसे साइलो को तोड़ा जाता है और अपने अप्रयुक्त संसाधनों की विशाल क्षमता को खोलकर निजी क्षेत्र के साथ मिलकर काम किया जा सकता है।

उन्होंने कहा, " प्रधानमंत्री मोदी ने अंतरिक्ष क्षेत्र को खोला, आज हमारे पास चंद्रयान है, निजी क्षेत्र के 160 स्टार्टअप हैं, 2014 में पीएम मोदी ने एक फैसले में परमाणु ऊर्जा अधिनियम में संशोधन किया और संयुक्त उद्यमों की अनुमति दी, आज हरियाणा के गोरखपुर में परमाणु ऊर्जा संयंत्र बन रहा है।"

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि एनआरएफ आजीविका के नए रास्ते भी खोलेगा।

उन्होंने कहा "प्रधानमंत्री मोदी ने लाल किले की प्राचीर से स्टार्टअप इंडिया और स्टैंडअप इंडिया की बात की थी और केवल 350 स्टार्टअप से, आज हमारे पास एक लाख से अधिक स्‍टार्ट अप हैं। हमने पहला (किफायती) कोविड वैक्सीन विकसित किया; और जैव प्रौद्योगिकी में 2014 में सिर्फ 50 स्टार्टअप थे जो आज 66,000 तक पहुंच चुके हैं" "उन्होंने हमें एहसास कराया कि रोज़गार का अर्थ सरकारी नौकरी नहीं है और हमें उस मानसिकता से बाहर लाने में मदद की।"

यह कानून एनआरएफ की स्थापना का मार्ग प्रशस्त करेगा जो अनुसंधान और विकास (आर एंड डी) को बढ़ावा देगा, बढ़ावा देगा और भारत के विश्वविद्यालयों, कॉलेजों, अनुसंधान संस्थानों और आर एंड डी प्रयोगशालाओं में अनुसंधान और नवाचार की संस्कृति को बढ़ावा देगा।

कानून एनआरएफ की स्थापना करेगा, जो राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) की सिफारिशों के अनुसार देश में वैज्ञानिक अनुसंधान की उच्च-स्तरीय रणनीतिक दिशा प्रदान करने के लिए एक शीर्ष निकाय है, जिसकी कुल अनुमानित लागत पांच वर्ष (2023-28) के दौरान 50,000 करोड़ रुपये है)

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) एनआरएफ का प्रशासनिक विभाग होगा जो एक गवर्निंग बोर्ड द्वारा शासित होगा जिसमें विभिन्न विषयों के प्रतिष्ठित शोधकर्ता और पेशेवर शामिल होंगे। चूंकि एनआरएफ का दायरा व्यापक है - सभी मंत्रालयों को प्रभावित करता है - प्रधानमंत्री बोर्ड के पदेन अध्यक्ष होंगे और केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री और केंद्रीय शिक्षा मंत्री पदेन उपाध्यक्ष होंगे। एनआरएफ का कामकाज भारत सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार की अध्यक्षता में एक कार्यकारी परिषद द्वारा शासित होगा।

एनआरएफ उद्योग, शिक्षा, और सरकारी विभागों और अनुसंधान संस्थानों के बीच सहयोग स्थापित करेगा, और वैज्ञानिक और संबंधित मंत्रालयों के अलावा उद्योगों और राज्य सरकारों की भागीदारी और योगदान के लिए परस्‍पर तालमेल का एक तंत्र तैयार करेगा। यह एक नीतिगत ढांचा बनाने और नियामक प्रक्रियाओं को स्थापित करने पर ध्यान केंद्रित करेगा जो अनुसंधान एवं विकास पर उद्योग द्वारा सहयोग और बढ़े हुए खर्च को प्रोत्साहित कर सके।

यह कानून 2008 के कानून द्वारा स्थापित विज्ञान और इंजीनियरिंग अनुसंधान बोर्ड (एसईआरबी) को भी निरस्त कर देगा और इसे एनआरएफ में शामिल कर देगा, जिसमें एक विस्तारित जनादेश है और एसईआरबी की गतिविधियों के अलावा अन्य गतिविधियों को भी शामिल करता है।

<><><><><>

एमजी/एमएस/आरपी/केपी/एजे



(Release ID: 1947285) Visitor Counter : 698


Read this release in: English , Urdu , Marathi , Punjabi