संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय

 ट्राई ने टीसीसीसीपीआर 2018 के तहत आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग आधारित यूसीसी_डिटेक्ट सिस्टम लगाने का निर्देश जारी किया

Posted On: 13 JUN 2023 7:39PM by PIB Delhi

ट्राई ने सभी एक्सेस प्रदाताओं को ऐसे वाणिज्यिक संचार के प्रेषकों का पता लगाने, उनकी पहचान करने और उनके खिलाफ कार्रवाई करने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग आधारित यूसीसी_डिटेक्ट सिस्टम तैनात करने का निर्देश दिया है, जो दूरसंचार वाणिज्यिक संचार ग्राहक वरीयता विनियम, 2018 (टीसीसीसीपीआर-2018) के प्रावधानों के अनुसार पंजीकृत नहीं हैं। वे संस्थाएँ जो एक्सेस प्रोवाइडर्स के साथ पंजीकृत नहीं होती हैं और संदेशों या कॉल के माध्यम से वाणिज्यिक संचार भेजने के लिए 10 अंकों के मोबाइल नंबरों का उपयोग करती हैं, उन्हें अपंजीकृत टेलीमार्केटर्स (यूटीएम) कहा जाता है।

ट्राई अवांछित वाणिज्यिक संचार (यूसीसी) को रोकने के लिए कई कदम उठा रहा है जो जनता के लिए असुविधा का एक प्रमुख कारण है।  इसके परिणामस्वरूप, पंजीकृत टेलीमार्केटर्स (आरटीएम) के खिलाफ शिकायतों में कमी आई है।  टीएसपी द्वारा किए गए उपायों के बावजूद अपंजीकृत टेलीमार्केटर्स (यूटीएम) द्वारा यूसीसी अभी भी जारी है। कई बार ये यूटीएम फर्जी लिंक और टेलीफोन नंबर वाले संदेशों के माध्यम से ग्राहकों को अपनी महत्वपूर्ण जानकारी साझा करने के लिए फंसाते हैं जिससे ग्राहकों को वित्तीय नुकसान होता है।

ऐसे सभी अपंजीकृत टेलीमार्केटर्स (यूटीएम) का पता लगाने, उनकी पहचान करने और उनके खिलाफ कार्रवाई करने के लिए ट्राई एक्सेस सर्विस प्रोवाइडर्स पर ट्राई के टेलीकॉम कमर्शियल कम्युनिकेशन कस्टमर प्रेफरेंस रेगुलेशंस 2018 (टीसीसीसीपीआर-2018) के ढांचे के भीतर अपेक्षित कार्यात्मकताओं के साथ यूसीसी_डिटेक्ट सिस्टम लागू करने पर जोर दे रहा है। एक्सेस सेवा प्रदाताओं ने अपनी उपयुक्तता और व्यवहार्यता के अनुसार ऐसी पहचान प्रणाली लागू की है।  चूंकि यूटीएम अवांछित संचार भेजने के लिए लगातार नई तकनीकों का विकास कर रहे हैं, इसलिए एक्सेस सेवा प्रदाताओं द्वारा तैनात वर्तमान यूसीसी डिटेक्ट सिस्टम ऐसे यूसीसी का पता लगाने में पूरी तरह से सक्षम नहीं हैं।

इसलिए, यूसीसी_डिटेक्ट सिस्टम कार्यान्वयन की एकरूपता के लिए ट्राई ने सभी एक्सेस प्रदाताओं को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग आधारित यूसीसी_डिटेक्ट सिस्टम को तैनात करने का निर्देश दिया है जो यूटीएम द्वारा उपयोग किए जाने वाले नए हस्ताक्षर, नए पैटर्न और नई तकनीकों से निपटने के लिए लगातार विकसित होने में सक्षम है। एक्सेस प्रदाताओं को डीएलटी प्लेटफॉर्म का उपयोग करने वाले अन्य एक्सेस प्रदाताओं के साथ खुफिया जानकारी साझा करने के लिए भी निर्देशित किया गया है। एक्सेस प्रदाताओं को यह सुनिश्चित करने के लिए निर्देश दिया गया है कि ऐसे यूसीसी_डिटेक्ट सिस्टम प्रेषकों का पता लगाएंगे जो थोक में अवांछित वाणिज्यिक संचार भेज रहे हैं और नियमों के प्रावधानों का पालन नहीं कर रहे हैं। सभी एक्सेस प्रदाताओं को निर्देश दिया जाता है कि वे उपरोक्त निर्देशों का पालन करें और तीस दिनों के भीतर की गई कार्रवाई की अद्यतन स्थिति अग्रेषित करें।

किसी भी स्पष्टीकरण/जानकारी के लिए श्री जयपाल सिंह तोमर, सलाहकार (क्यूओएस) ट्राई से इस दूरभाष नंबर पर संपर्क किया जा सकता है: 011-23230404

 ******

एमजी/एमएस/आरपी/केके/एजे



(Release ID: 1932159) Visitor Counter : 262


Read this release in: English , Urdu , Marathi , Bengali