विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय
azadi ka amrit mahotsav g20-india-2023

केंद्रीय मंत्री डॉ जितेंद्र सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी बेहतरी के लिए पारंपरिक ज्ञान और भविष्य की प्रौद्योगिकी का मिश्रण के बारे में जानकारी साझा करने के लिए हमेशा प्रोत्साहित करते हैं


केंद्रीय मंत्री ने आज नई दिल्ली में ‘पारंपरिक ज्ञान का संचार और प्रसार पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन (सीडीटीके-2023)’  को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित किया

डॉ. सिंह ने आधुनिक उपकरणों और प्रौद्योगिकी का उपयोग करते हुए उन्नत वैज्ञानिक अनुसंधान के साथ मिलकर पारंपरिक ज्ञान का सर्वोत्तम मिश्रण और उपयोग करने का आह्वान किया

Posted On: 15 FEB 2023 5:36PM by PIB Delhi

केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी एवं पृथ्वी विज्ञान राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और पीएमओ, कार्मिक, लोक शिकायत, पेंशन, परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष राज्यमंत्री, डॉ जितेंद्र सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी बेहतरी के लिए पारंपरिक ज्ञान और भविष्य की प्रौद्योगिकी का मिश्रण के बारे में जानकारी साझा करने के लिए हमेशा प्रोत्साहित करते हैं।

केंद्रीय मंत्री ने आज नई दिल्ली में पारंपरिक ज्ञान का संचार और प्रसार पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन (सीडीटीके-2023)को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित करते हुए आधुनिक उपकरणों और प्रौद्योगिकी का उपयोग करते हुए उन्नत वैज्ञानिक अनुसंधान के साथ-साथ पारंपरिक ज्ञान के सर्वोत्तम मिश्रण का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि पारंपरिक ज्ञान डिजिटल लाइब्रेरी (डीजीटीएल) तक सभी की पहुंच प्रदान करना इस बात का संकेत है कि प्रौद्योगिकी के साथ ज्ञान का एकीकरण करने से आम लोगों को बहुत हद तक सहायता मिल सकती है।

केंद्रीय मंत्री ने स्वास्तीक (भारत का वैज्ञानिक रूप से मान्य सामाजिक पारंपरिक ज्ञान) ब्रोशर, लोकप्रिय विज्ञान पुस्तक और पारंपरिक ज्ञान की भारतीय पत्रिका आजादी का अमृत महोत्सव अंक भी जारी किया। दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन सीएसआईआर-राष्ट्रीय विज्ञान संचार एवं नीति अनुसंधान संस्थान (सीएसआईआर-एनआईएसपीआर), नई दिल्ली द्वारा आयोजित किया जा रहा है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0010UJS.jpg

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पिछले आठ वर्षों में, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में, महासागरों जैसे स्वदेशी संसाधनों को कई पहलों के माध्यम से अब सर्वोच्च प्राथमिकता प्रदान की जा रही है, जो पारंपरिक ज्ञान और आधुनिक वैज्ञानिक अनुसंधान को एकीकृत करने पर केंद्रित हैं। उन्होंने हिंद महासागर में डीप सी मिशन, बैंगनी क्रांति और नवीनतम तकनीक का उपयोग करके लैवेंडर की खेती को बढ़ावा देने का उदाहरण दिया, जिसके माध्यम से स्थानीय कश्मीरियों के लिए रोजगार के बड़े अवसर उत्पन्न हुए हैं।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002NBXO.jpg

डॉ. जितेंद्र सिंह ने सीएसआईआर-एनआईएससीसीपीआर को व्यापक स्तर पर और इस विषय पर पहले सम्मेलन की मेजबानी करने के लिए बधाई देते हुए कहा कि भारत के पास लिखित, मौखिक और अनुप्रयुक्त ज्ञान का सबसे बड़ा और समृद्ध भंडार है। उन्होंने कहा कि इसे साबित करते हुए हमारे पास सबसे बड़ी चुनौती यह है कि इस ज्ञान का सर्वोत्तम उपयोग किस प्रकार से किया जाए।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image00329NB.jpg

डॉ. सिंह ने कहा कि इसे दोनों के बीच एक सर्वोत्तम संतुलन बनाकर प्राप्त किया जा सकता है, जिसके लिए एकीकृत और विचारशील प्रक्रिया की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि भारत के लिए यह सबसे अच्छा समय है कि वह प्रधानमंत्री मोदी के अंतर्गत दुनिया में इस क्षेत्र का नेतृत्व करे क्योंकि, देश को विज्ञान, प्रौद्योगिकी और अनुसंधान के लिए ऐसा अवसर पहले कभी भी प्राप्त नहीं हुआ है।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भारत कोविड-19 के चार टीके विकसित करने में सक्षम हुआ, जबकि पूरी दुनिया एक भी टीका बनाने के लिए संघर्ष कर रही थी और देश ने 'वैक्सीन मैत्री' पहल के अंतर्गत कई देशों को टीका प्रदान करते हुए कोविड-19 के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में योगदान दिया, जो पारंपरिक और मानवीय मूल्यों में भारत के विश्वास को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि जब पारंपरिक ज्ञान दांव पर लगता है तो इसे बहुत तेजी से बढ़ावा दिया जाता है और एकीकरण के साथ संसाधनों को साथ रखना हमें आधुनिक समय की ओर लेकर जाता है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0040PEK.jpg

इस अवसर पर सीएसआईआर के महानिदेशक और डीएसआईआर के सचिव, डॉ. कलाईसेल्वी ने कहा कि हम एक स्वर्णिम दौर से गुजर रहे हैं और देश विज्ञान और वैज्ञानिक अनुसंधान का उत्सव मना रहा है जिसका श्रेय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को जाता है, जिन्होंने विभिन्न योजनाओं के माध्यम से स्टार्ट-अप और शोधकर्ताओं को प्रोत्साहित किया। इस दो दिवसीय सम्मेलन का आयोजन 14 और 15 फरवरी, 2023 को किया गया जिसमें देश के 22 राज्यों सहित अमेरिका, कनाडा, स्विट्जरलैंड, कतर और तुर्की जैसे देशों के 200 से ज्यादा प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया।

****

एमजी/एएम/एके/एजे



(Release ID: 1899743) Visitor Counter : 186


Read this release in: English , Urdu , Punjabi , Telugu