रक्षा मंत्रालय
azadi ka amrit mahotsav

भारतीय सेना ने गोला-बारूद स्टॉक की रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) का कार्य शुरू किया

Posted On: 09 FEB 2022 8:19PM by PIB Delhi

भारतीय सेना ने आज अपने गोला-बारूद की रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) टैगिंग का कार्यान्वयन शुरू किया। आरएफआईडी टैग किए हुए गोला बारूद की पहली खेप, जिसमें 5.56 मिमी गोला बारूद के तीन लॉट शामिल थे, को एम्युनिशन फैक्ट्री खड़की से सेंट्रल एम्युनिशन डिपो (सीएडी) पुलगांव भेजा गया। कार्यक्रम को महानिदेशक आयुध सेवा ने झंडी दिखाकर रवाना किया।

आरएफआईडी कार्यान्वयन को भारतीय सेना के आयुध सेवा निदेशालय द्वारा संचालित किया गया है, जो कि आयुध निर्माणी बोर्ड के निगमीकरण के बाद नव निर्मित इकाई, म्यूनिशन ऑफ इंडिया लिमिटेड, पुणे के साथ किया गया है।

आरएफआईडी टैगिंग वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय द्वारा स्थापित एक वैश्विक मानक संगठन जीएस-1 इंडिया के परामर्श से वैश्विक मानकों के अनुरूप है। आयुध सेवा निदेशालय के कम्प्यूटरीकृत इन्वेंटरी कंट्रोल ग्रुप (सीआईसीजी) द्वारा संचालित एंटरप्राइज रिसोर्स एप्लिकेशन द्वारा आरएफआईडी टैग की व्याख्या और ट्रैकिंग के लिए उपयोग किया जाएगा।

गोला-बारूद संपत्ति के आरएफआईडी कार्यान्वयन से गोला-बारूद के प्रबंधन में बदलाव आएगा और गोला-बारूद प्रबंधन और ट्रैकिंग क्षमता में बड़ा सुधार होगा। यह प्रयास सैनिकों द्वारा गोला-बारूद के भंडारण और उपयोग को सुरक्षित बनाएगा और इससे फील्ड आर्मी को अधिक सुविधा प्राप्त होगी। कार्यान्वयन से गोला बारूद डिपो में की जाने वाली सभी तकनीकी गतिविधियों में दक्षता में वृद्धि होगी और इन्वेंट्री संबंधित लागत में कमी आएगी।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/RFID1XD7I.jpeg

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/RFID24ZFG.jpeg

****

एमजी/एएम/एबी



(Release ID: 1797444) Visitor Counter : 115


This link will take you to a webpage outside this websiteinteractive page. Click OK to continue.Click Cancel to stop :  
Read this release in: English , Urdu , Marathi