स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय
azadi ka amrit mahotsav

स्वास्थ्य मंत्रालय ने मीडिया में ‘हर घर दस्तक’ अभियान के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया

Posted On: 12 NOV 2021 7:51PM by PIB Delhi

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा आज महीने भर चलने वाले हर घर दस्तक अभियान के बारे में मीडिया में जागरूकता को और बढ़ाने के लिए राष्ट्रीय मेलजोल वेबिनार का आयोजन किया गया। वेबिनार का उद्देश्य सभी व्यस्क आबादी को कोविड वैक्सीन की पहली खुराक देना और साथ ही दूसरी खुराक लेने के लिए लोगों को प्रेरित करना था।

‘हर घर दस्तक’ अभियान का उद्देश्य पहली खुराक नहीं लेने वाले या कुछ कारणों से दूसरी खुराक नहीं लेने वाले वाली पात्र आबादी तक पहुंचना है। इसके अंतर्गत स्वास्थ्य कार्यकर्ता देश भर में योग्य लोगों का घर-घर जाकर टीकाकरण करेंगे। इसमें उन जिलों पर खास ध्यान दिया जाएगा जिनमे 50 फीसदी से कम योग्य आबादी का टीकाकरण हुआ है।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अपर सचिव डॉ.मनोहर अगनानी ने इंटरैक्टिव वेबिनार को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि 16 जनवरी 2021 को दुनिया का सबसे बड़ा व्यस्क टीकाकरण कार्यक्रम शुरू किया गया था उसमें वर्तमान गति को देखते हुए हम विश्वासपूर्ण दावा कर सकते हैं कि यह कार्यक्रम शुरू से सुचारू रूप से चल रहा है। कोविड-19 के खिलाफ अब तक 79 पात्र प्रतिशत जनसंख्या को पहली खुराक दी जा चुकी है जबकि 38 फीसदी लोगों को दोनों खुराक दी जा चुकी हैं। कई राज्यों में 100 फीसदी व्यस्क आबादी को टीके की पहली खुराक लग चुकी है।उन्होंने विश्वास व्यक्त करते हुए कहा कि भारत की वर्तमान टीका वितरण क्षमता को देखते हुए लगता है कि पूरी व्यस्क आबादी का टीकाकरण जल्दी ही पूरा हो जाएगा।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002Y4RO.png

जिस तरह टीकों के लिए उत्साह तेजी से बढ़ रहा है, वहीं अंतिम छोर तक पहुंचने के लिए अनूठी चुनौतियां भी हैं। कुछ लोगों के टीका न लेने के कई कारण हो सकते हैं जिसमे दूर-दराज के क्षेत्रों तक पहुंच का मुद्दा हो सकता है, कुछ लोगों में दुष्परिणाम का निरंतर डर और कुछ समुदायों की हिचकिचाहट भी कारण है। डॉ. अगनानी ने अवलोकन किया कि इस अभियान के माध्यम से देश के अग्रिम पंक्ति के स्वास्थ्य कार्यकर्ता ऐसे मुद्दों को जमीनी स्तर पर संबोधित कर रहे हैं, जिससे लोग टीकाकरण से बच रहे हैं।

इस अभियान में स्थानीय धार्मिक और समुदाय के नेताओं और अन्य एजेंसियों और संगठनो जैसे केन्द्रीय सांख्यिकी कार्यालय(सीएसओ), गैर सरकारी संगठनो, एनएसएस आदि के साथ सहयोग कर उन लोगों को भी प्रेरित किया जा सकता है, जिन्होंने अभी तक टीका नहीं लगवाया है। टीका विरोधी दुष्प्रचार का मुकाबला करने के लिए मल्टीमीडिया सूचना, शिक्षा और संचार अभियान तैयार किया जाएगा और राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के भीतर उच्च कवरेज वाले जिलों द्वारा अपनाए जाने वाले नए नजरियों और प्रथाओं को अपनाया जाएगा।

मीडियाकर्मियों के प्रश्नों के उत्तर देते हुए डॉ. अगनानी ने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लेने पर महत्व दिया। उन्होंने मीडियाकर्मियों से भी लोगों को सकारात्मक समाचारों के माध्यम से लोगों को प्रोत्साहित करने का आग्रह किया। उन्होंने मीडिया के लगातार समर्थन के लिए धन्यवाद दिया साथ ही उन्होंने देश के कुछ हिस्सों में लोगों में जो हिचकिचाहट है, उससे लड़ने का भी आग्रह किया।

इस वेबिनार में देश भर के पत्र सूचना कार्यालय, दूरदर्शन, आकाशवाणी, क्षेत्रीय आउटरीज ब्यूरो, यूनिसेफ राज्य कार्यालयों के अधिकारियों तथा निजी एफएम रेडियो, सामुदायिक रेडियो स्टेशनों, ऑनलाइन और प्रिंट मीडिया के प्रतिनिधियों ने भागीदारी की।

****

एमजी/एएम/आरवी

 

 



(Release ID: 1771579) Visitor Counter : 97


Read this release in: English , Urdu , Marathi , Manipuri