नागरिक उड्डयन मंत्रालय

श्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया ने कानपुर और बेंगलुरु के बीच इंडिगो फ्लाइट का उद्घाटन किया

कानपुर से विमानों की आवाजाही प्रति सप्ताह 20 से बढ़कर 41 हो जाएगी

उड़ान योजना ने उड्डयन क्षेत्र का लोकतंत्रीकरण किया है ताकि आम नागरिक उड़ान भर सके: श्री सिंधिया

Posted On: 01 NOV 2021 2:52PM by PIB Delhi

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री श्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया ने आजकानपुर-बेंगलुरू के बीच इंडिगो फ्लाइट का उद्घाटन किया। कानपुर और मुंबई और हैदराबाद के बीच उड़ानें भी आज से शुरू हो गई हैं। ग्रामीण विकास राज्य मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति, नागरिक उड्डयन मंत्री, उत्तर प्रदेश श्री नंद गोपाल गुप्ता (नंदी), औद्योगिक विकास मंत्री श्री सतीश महाना, सांसद श्री सत्यदेव पचौरी और श्री देवेंद्र सिंह भोले भी इस वर्चुअल कार्यक्रम में उपस्थित थे। इस अवसर पर नागरिक उड्डयन मंत्रालय, उत्तर प्रदेश सरकार के अधिकारी और इंडिगो के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001CZIC.jpg

इस मौके पर बोलते हुए श्री सिंधिया ने कहा कि यह नया मार्ग न केवल कानपुर से और कानपुर के लिए संपर्क को बढ़ाएगा बल्कि इन क्षेत्रों के बीच व्यापार, वाणिज्य और पर्यटन को भी बढ़ावा देगा। उन्होंने कहा कि कानपुर न केवल देश का एक महत्वपूर्ण औद्योगिक केंद्र है, बल्कि इसका ऐतिहासिक और आध्यात्मिक महत्व भी है। इसने 1857 में भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इसके वस्त्र और चमड़ा उद्योग के कारण, कानपुर को पूर्व का मैनचेस्टर कहा जाता था। तीन प्रमुख शहरों के साथ शहर के जुड़ने से वहां से विमान की आवाजाही प्रति सप्ताह 20 से बढ़कर 41 हो जाएगी, जिससे औद्योगिक और व्यावसायिक गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा और रोजगार भी पैदा होगा। जहां तक ​​एविएशन के लिए बुनियादी ढांचे का सवाल है, 106 करोड़ रुपये की लागत से कानपुर शहर के लिए नया टर्मिनल जल्द ही निर्धारित समय के भीतर तैयार हो जाएगा।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002OIOJ.jpg

मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के ऐतिहासिक और दूरदर्शी दृष्टिकोण ने उड़ान योजना की शुरुआत की जिसने आम नागरिक को भी उड़ान भरने में सक्षम बनाया और इस क्षेत्र का लोकतंत्रीकरण किया। उन्होंने कहा कि हवाई किराए में काफी गिरावट आई हैऔर हवाई किराए अब लंबी दूरी की ट्रेनों से कम हो गए हैं। योजना के तहत 100 नए हवाई अड्डे बनाए जाएंगे और 1000 नए रूट शुरू होंगे।

श्री सिंधिया ने कहा कि देश में पहले सिर्फ 75 हवाई अड्डे थे लेकिन पिछले 7 वर्षों में 62 और हवाई अड्डे बनाए गए हैं। उत्तर प्रदेश के बारे में उन्होंने कहा कि राज्य में 2 हवाईअड्डे चालू थे, लेकिन अब यह संख्या 9 हो गई है, जो 80 गंतव्यों को कवर करती है। जल्द ही राज्य में परिचालन हवाईअड्डों की संख्या बढ़कर 15 हो जाएगी। उत्तर प्रदेश में केवल दो अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे थे, और तीसरा हाल ही में कुशीनगर में जोड़ा गया था, और जल्द ही अयोध्या और जेवर में दो और हवाईअड्डे आने वाले हैं।

***

एमजी/एएम/पीके/एसएस



(Release ID: 1768558) Visitor Counter : 199


Read this release in: English , Urdu , Telugu