सूक्ष्‍म, लघु एवं मध्‍यम उद्यम मंत्रालय

सौर ऊर्जा का उपयोग लागत प्रभावी : एमएसएमई से गडकरी

मंत्रालय विश्व बैंक के साथ एक क्रेडिट गारंटी कार्यक्रम पर काम कर रहा है जिससे अनरेटेड एमएसएमई के लिए वित्तपोषण को सुलभ बनाया जा सके

Posted On: 02 MAR 2021 8:49PM by PIB Delhi

केंद्रीय सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम और सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री श्री नितिन गडकरी ने एमएसएमई को व्यापार दक्षता के लिए रूफटॉप सोलर स्थापित करने के लिए रियायती ऋण का लाभ उठाने के लिए आमंत्रित किया है। उन्होंने कहा कि रूफटॉप सोलर बिजली की खपत की लागत में काफी कमी लाकर सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) को एक उत्कृष्ट मूल्य प्रतिज्ञप्ति प्रदान करता है जो औसतन उनकी संचालन लागत का पांचवां हिस्सा है।

आज सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) के बीच रूफटॉप सोलर (आरटीएस) के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देने वाले कार्यक्रम को संबोधित करते हुए श्री गडकरी ने कहा, "मेरा मानना है कि सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) के लिए रूफटॉप सोलर स्थापित करने और लागत-प्रतिस्पर्धा हासिल करने के लिए महत्वपूर्ण बचत प्राप्त करने का एक अच्छा कारोबारी अवसर है। मुझे विश्वास है कि सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) अपनी छतों का उपयोग करके सौर ऊर्जा के उत्पादन और उपभोग में एक साथ खड़े होंगे।“

मंत्री द्वारा वर्चुअल रूप से उद्घाटन किए गए इस कार्यक्रम का आयोजन सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय के सचिव श्री बी बी स्वेन, श्री इंदु शेखर चतुर्वेदी, सचिव, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय; श्री जुनैद अहमद, कंट्री डायरेक्टर इंडिया, वर्ल्ड बैंक; और श्री दिनेश कुमार खड़का, अध्यक्ष, भारतीय स्टेट बैंक की उपस्थिति में किया गया।

श्री गडकरी ने आगे कहा कि “बिजली की खपत के लिए सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) द्वारा बड़ी राशि (औसत 8 रुपये और हर यूनिट के साथ अधिक) का भुगतान किया जा रहा है, जो समग्र उत्पादन लागत का पांचवां हिस्सा है। रूफटॉप सौर परियोजनाओं को लागू करने में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) की सहायता करने के लिए मंत्रालय विश्व बैंक के साथ एक क्रेडिट गारंटी कार्यक्रम पर काम कर रहा है ताकि वित्तपोषण को अनरेटेड सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) के लिए सुलभ बनाया जा सके। बड़े युटिलिटी पावर प्लांट्स से सौर ऊर्जा की दरों को ध्यान में रखते हुए 1.99 रुपये प्रति वर्ष की दर से रिकॉर्ड 1.99/kWh पर आ गया है, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) को अपने ऊर्जा खर्चों को कम करने के लिए इस अवसर का लाभ उठाना चाहिए।“ मंत्री महोदय ने यह भी रेखांकित किया कि रूफटॉप सोलर आर्थिक सुधार में योगदान देता है क्योंकि यह किसी अन्य नवीकरणीय ऊर्जा की तुलना में अधिक लोगों को रोज़गार प्रदान करता है।

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) के लिए रूफटॉप सोलर हेतु जागरूकता और बड़े पैमाने पर इसको अपनाने के महत्व पर जोर देते हुए सचिव श्री बी बी स्वेन ने कहा “पहले से कहीं अधिक एमएसएमई को अपनी उत्पादन लागत को अनुकूलित करने, कोविड 19 के कारण होने वाले नुकसान को संभालने और राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय बाजारों में प्रतिस्पर्धी बने रहने के लिए कम लागत वाली बिजली की जरूरत है। कम लागत वाली सौर ऊर्जा की खरीद और रूफटॉप सौर से अभियोक्ता के रूप में सौर ऊर्जा का उत्पादन सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) के लिए दोगुना और लाभकारी विकल्प है। मंत्रालय ने सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) को सशक्त बनाने के उपायों की सुविधा को तैयार किया है ताकि इसे एक लचीला भारत की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक बन सकें।

विश्व बैंक - एसबीआई के 625 मिलियन डॉलर ने भारत के महत्वपूर्ण रूफटॉप सोलर योजना में सहभागीता की है। भारत में विश्व बैंक के कंट्री डायरेक्टर श्री जुनैद अहमद ने संबोधित करते हुए कहा कि, "विश्व बैंक सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) के इस कार्य के लिए प्रतिबद्ध है और इस उद्योग में निवेश से भारत के 'आत्मनिर्भर' बनने के लक्ष्य में सहायता मिलेगी। सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) को अपनी बिजली खपत को टिकाऊ तरीके से डीकार्बोनेट करने की सुविधा देकर भारत अर्थव्यवस्था को बेहतर बनाने और एमएसएमई का उत्थान करने के दोहरे उद्देश्य को प्राप्त कर सकता है ताकि वह अपनी बिजली लागत को कम करके अत्यधिक प्रतिस्पर्धी बन सके।"

भारतीय स्टेट बैंक के अध्यक्ष श्री दिनेश कुमार खड़का ने कहा, "यह विचार वास्तव में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) को सौर छत को अपनाने और लागत प्रतिस्पर्धा हासिल करने के फायदे के बारे में शिक्षित करना है। हम इस पहल को तेज करने और भारत की नवीकरणीय ऊर्जा यात्रा में निवेश करने में विश्व बैंक के आभारी हैं। यह अर्थव्यवस्था के निर्माण के लिए एक निवेश है और हम जितना अधिक निवेश करेंगे उतना ही हम फायदा उठाएंगे। जब छोटे टिकट ऋणों की बात आती है तो सह-ऋण शायद आगे का रास्ता है और इस तरह हम अपने छोटे एसएमई का साथ देना चाहेंगे।"

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) सेक्टर एसबीआई के वर्तमान रूफटॉप सोलर (आरटीएस) लेंडिंग पोर्टफोलियो के माध्यम से रियायती ऋण का लाभ उठा सकता है और रूफटॉप सौर के बड़े पैमाने पर कार्यान्वयन के लिए भारत के महत्वाकांक्षी लक्ष्य को पूरा कर सकता है। विश्व बैंक सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय के साथ मिलकर उन सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) को ऋण देने के लिए एक ऋण गारंटी तंत्र लाने पर काम कर रहा है जो रूफटॉप सोलर में निवेश करके लंबी अवधि में अपने ऊर्जा खर्चों को कम करना चाहते हैं।

पृष्ठभूमि - 2016 में विश्व बैंक ने भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) द्वारा ऋण पक्ष के मुद्दों को हल करने और इस क्षेत्र को प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से 'सोलर रूफटॉप फाइनेंसिंग प्रोग्राम' शुरू किया, एसबीआई ने अपनी तयशुदा शाखाओं के माध्यम से देश भर में आरटीएस परियोजनाओं के वित्तपोषण के लिए विशेष रूप से विश्व बैंक से $ 625 मिलियन लाइन ऑफ क्रेडिट का लाभ उठाया है । एसबीआई द्वारा एक देशव्यापी अनुकूलित वित्तीय उत्पाद विकसित किया गया है जिसमें चुकौती अवधि, स्थगन और सुरक्षा जैसी अन्य अनुकूल शर्तों के साथ परियोजना वित्तपोषण आवश्यकता का 75 प्रतिशत शामिल है ।

 

>>>>>>>>>>>>>>>

एमजी/एएम/एबी/डीवी



(Release ID: 1702101) Visitor Counter : 42


Read this release in: English , Urdu , Marathi